सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

9 नेचुरल सुपरफूड फार हेल्दी वेजाइना । 9 natural superfood for healthy vagina in hindi

9 natural superfood for healthy vagina in hindi


वेजाइना स्त्री शरीर का महत्वपूर्ण अंग है जो शरीर का उत्सर्जन अंग होने के साथ बच्चों को जन्म देने जैसा महत्वपूर्ण कार्य संपादित करती हैं।

 मेडिकल साइंस के मुताबिक पुरुषों के विपरीत वेजाइना यूटेरस तक एक खुली संरचना होती हैं ।  इस खुली संरचना और यूरेथ्रा,एनस और यूटेरस पास पास होने के कारण है कि पुरुष योनजनित रोगों की अपेक्षा स्त्री योनजनित रोग बहुत अधिक होते हैं। लेकिन कुछ नेचुरल सुपरफूड है जो वेजाइनल हेल्थ के लिए बहुत लाभदायक होते हैं । आईए जानते है ऐसे ही 9 नेचुरल सुपरफूड फार हेल्दी वेजाइना के बारें में

Natural superfood for vagina,योनि स्वास्थ,


1.हल्दी 

हल्दी भारतीय रसोई का अभिन्न अंग है लेकिन वेजाइनल हेल्थ को बनाए रखने में इसकी भूमिका के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। इसमें मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण Vaginitis यानि योनिशोथ को तुरंत दूर कर योनि में दर्द को दूर करते हैं । हल्दी योनि के सामान्य शेप को उम्र के प्रभाव से बिगड़ने नहीं देती हैं इस तरह ये योनि को सुन्दर बनाए रखती है। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन नामक तत्व गर्भाशय ग्रीवा से योनि के क्लोटरिस की त्वचा को वायरस, बेक्टेरिया और फंगस के संक्रमण से बचाकर रखता है।


2.लहसुन 

लहसुन में पाया जाने वाला सेलेनियम योनि में ढीलापन कम कर कसावट और उत्तेजना प्रदान करता हैं । लहसुन में मोजूद गंधक योनि की खुजली को कम कर खुजली से पैदा हुई जलन और लालिमा को खत्म कर देता हैं।

• महिलाओं की कामेच्छा बढ़ाने के आसान घरेलू उपाय

3.अदरक

अदरक का भारतीय घरों में सर्दी, खांसी के उपचार हेतु बहुतायत से किया जाता हैं किंतु बहुत कम लोग जानते हैं कि यह मासिक धर्म के समय होने वाले पेटदर्द Dysmenorrhea  को बहुत तेजी से बंद कर देता हैं। 

अदरक में मौजूद gingerol नामक बायोएक्टिव तत्व पेडू के आसपास की मांसपेशियों के तनाव को कम कर मासिक धर्म के दर्द में आराम पहुंचाता है।  

5.तुलसी

तुलसी में मौजूद एक वाष्पशील तेल ईथर योनि में मौजूद नुकसानदायक बेक्टेरिया और फंगस को समाप्त करने का गुण रखता है। जिससे ल्यूकोरिया (Leucorrhea) में बहुत तेजी से आराम मिलता हैं।

6.दूध  

दूध वेजाइनल हेल्थ को बनाए रखने वाला एक नेचुरल सुपरफूड है जो योनि से संबंधित सभी बीमारियों को दूर रखने का काम करता है । दूध में मौजूद विटामिन, मिनरल रक्त प्रदर (metrorrhagia) को नियंत्रित करते हैं। दूध वेजाइनल ल्यूब्रिकेंट यानि योनि के गीलेपन के अतिरिक्त बहाव को कम कर उसे सामान्य स्तर पर बनाए रखता है, जिससे सहवास के दौरान योनि न तो बहुत अधिक गीली और ना ही बहुत अधिक योनि में सुखापन होता है।

✓दूध पीने के फायदे

7.इलाइची

इलायची में linoline,Cevinine नामक बायोएक्टिव तत्व मौजूद होते हैं जो योनि की जलन को मिटाकर खुलकर पेशाब लाते हैं। इलायची योनि की बढ़ी हुई अम्लीयता (acidity) को कम उसे सामान्य कर देती हैं। 


8.आंवला

आंवला विटामिन, मिनरल, बायोकेमिकल,फ्लूनाइड और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर फल है जो गर्भाशय कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। 


9.सौंफ

Vagina ki Ph value 4 से 5 के बीच होती हैं,यह ph value योनि को स्वस्थ रखने का काम करती हैं यदि किसी कारणवश योनि की pH value कम हो जाती हैं तो योनिमार्ग में संक्रमण हो सकता है । यदि योनि का ph value कम हो जाता हैं तो सौंफ खाने से योनि का  ph value बढ़ जाता हैं क्योंकि सौंफ का ph value 7.4 के लगभग होता हैं । 

• दही खाने के फायदे

• बबूल के औषधीय गुण

• आलू में पाए जाने वाले पौषक तत्व

• शादी से पहले के मेडिकल टेस्ट

• फिटनेस के लिए सतरंगी खानपान

• जीवनसाथी के साथ नंगा होकर सोना चाहिए या नहीं

• सिंघाड़े के फायदे

• अमरूद के फायदे

• चवनप्राश में कोंन से पदार्थ डालें जातें हैं

• ग्रीन टी के फायदे

• गेंदे के औषधीय गुण

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी