सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

NUTRELA WEIGHT GAIN PATANJALI KE FAYDE, NUKSAN AUR REVIEW

NUTRELA WEIGHT GAIN PATANJALI KE FAYDE NUKSAN AUR REVIEW Nutrela weight gain patanjali इस श्रृंखला में आज हम NUTRELA WEIGHT GAIN KE FAYDE AUR NUKSAN की चर्चा करेंगे 1.NUTRELA WEIGHT GAIN  पतंजलि आयुर्वेद का न्यूट्रेला वेट गेन दुबले पतले लोगों और बाडी बिल्डिंग के इच्छुक ऐसे व्यक्तियों को ध्यान में रखकर बनाया गया हैं जो पूर्णतः शाकाहारी तरीके से वजन बढ़ाना और बाडी बिल्डिंग करना चाहते हैं। न्यूट्रेला वेट गेन 2.NUTRELA WEIGHT GAIN INGREDIENTS  1.Soya protein isolate ke fayde न्यूट्रेला वेट गेन पावडर में सोया प्रोटीन आइसोलेट होता हैं यह प्रोटीन सोयाबीन से निकाला जाता हैं पूर्णतः शाकाहारी होता हैं और सबसे उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन होता हैं। सोया प्रोटीन न्यूट्रेला वेट गेन में क्यों मिला होता हैं यदि इसके स्वास्थ्य लाभ की बात करें तो पता चलता है कि • रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार सोया प्रोटीन हड्डियों को मजबूत बनाता हैं जिससे मांसपेशियां मजबूत होकर लम्बे समय तक मजबूत बनी रहती हैं। • सोया प्रोटीन शरीर के हार्मोन संतुलन को सही रखने के साथ शरीर के क्रियाकलाप को व्यवस्थित रखता हैं। • सोया प्रोटीन में

PATANJALI DANT KANTI VS VICCO VAJRADANTI | पतंजलि दंत कांति फायदेमंद है या विको वज्रदंती

  पतंजलि दंत कांति और विको वज्रदंती दोनों आयुर्वेदिक उत्पाद हैं और दोनों प्रतिष्ठित कंपनियों के उत्पाद हैं किन्तु उपभोक्ता पतंजलि दंत कांति ले या विको वज्रदंती ले इस विषय पर विस्तृत विश्लेषण करने वाले हैं। पतंजलि दंत कांति के फायदे पतंजलि दंत कांति पूर्णतः स्वदेशी और आयुर्वेदिक औषधि की श्रेणी का उत्पाद हैं जिसमें निम्नलिखित तत्व मौजूद होते हैं और इन तत्वों के फायदे नुकसान भी जानिए 1.अकरकरा  Anacyclus Pyrethrum  पतंजलि दंत कांति के प्रति 10 ग्राम टूथपेस्ट में 20 मिली ग्राम अकरकरा की जड़ का रस मिला होता हैं। • आयुर्वेद चिकित्सा में अकरकरा वर्षों से दांतों की समस्या और गले के संक्रमण को दूर करने के लिए प्रयोग किया जाता रहा हैं। • अकरकरा में N - alkylamides नामक एल्कलॉइड होता हैं यह तत्व दांतों के दर्द, मसूड़ों की सूजन और मुंह से दुर्गंध दूर करता हैं। • N- alkylamides जिसे Pellitorin भी कहते हैं खून का थक्का बनने में मदद करता अतः दंत कांति में मौजूद अकरकरा पायरिया के कारण मसूड़ों से निकलने वाले खून का रिसाव नियंत्रित करता हैं। 2.नीम Azadirachta indica  पतंजलि दंत कांति में दांतों के आयुर्व

Green Tea ke Fayde aur Nuksaan – ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

Green Tea ke Fayde aur Nuksaan – ग्रीन टी के फायदे और नुकसान ग्रीन टी के फायदे को देखते हुए पूरी दुनिया के लोग इसे अपनी रोज की दिनचर्या में शामिल कर रहें हैं। डाक्टर भी ग्रीन टी पीने की सलाह अपने मरीज को दे रहें हैं।  सबसे बढ़िया ग्रीन टी Camellia sinensis या चाय के पौधे के सबसे ऊपरी भाग से तोड़कर बनाई जाती हैं। ग्रीन टी का इतिहास ग्रीन टी पीने और इसे बनाने का सबसे पहले वर्णन चीन में मिलता हैं। लगभग 3000 बीसी पूर्व तुंग डायनेस्टी के एक व्यक्ति लू यू (733 -803) ने अपनी किताब The classic of या Tea Sutra में चाय बनाने की विधि, उसमें उपयोग होने वाले बर्तनों के बारे में लिखा था। लू यू को दुनिया में चाय संस्कृति का जन्मदाता माना जाता हैं।  तो आईए जानतें हैं ग्रीन टी पीने के फायदे के बारें में ग्रीन टी में पाए जानें वाले तत्व और उनके फायदे 1. केटेचिन्स Catechins ke fayde ग्रीन टी में प्राकृतिक पाया जानें वाला यह एक पालिफिनोल, प्राकृतिक एंटी आक्सीडेंट हैं। Catechins सबसे पहले कत्था पेड़ से निकाला गया था‌।  ग्रीन टी में Catechins 15 प्रतिशत तक होता हैं Catechins ग्रीन टी को कत्थई रंग प्रदान करत

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के फायदे और रिव्यू

PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाले शेम्पू उत्पाद में से एक हैं जो कि पतंजलि आयुर्वेद के सबसे महत्वपूर्ण उत्पादों में से एक हैं। केश कांति शेम्पू पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू आयुर्वेदिक औषधि हैं किन्तु यह बिना किसी चिकित्सकीय परामर्श के खरीदा जानें वाला उत्पाद हैं। तो आईए जानतें हैं पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के के फायदे और उसमें मौजूद तत्वों के फायदे के बारें में PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR SHAMPOO INGREDIENTS AUR PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO KE FAYDE 1.रीठा Sapindus trifoliatus  पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर शेम्पू के 10 ml शेम्पू में 5 मिली ग्राम रीठा फल होता हैं। • रीठा में में serotonin नामक एक नेचुरल न्यूरो ट्रांसमीटर तत्व पाया जाता हैं जो मस्तिष्क की कोशिकाओं की मालिश करता हैं। मस्तिष्क को शांत रखता है। • रीठा सिर की त्वचा में खुजली पैदा करने वाले तत्वों को नियंत्रित करता हैं। • रीठा में मौजूद Zymosan वर्षों से वैज्ञानिक शोधों में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण प्रदर्शित करने वाला स

Diabetes:कौंन से फल खानें चाहिए और कौंन से फल नहीं खानें चाहिए

जिन लोगों को  Diabetes हैं उन्हें फल खानें में हमेशा डर लगा रहता हैं कि कौंन से फल खानें चाहिए और कौंन से फल नहीं खानें चाहिए वे हमेशा यह चिंता प्रकट करते हैं कि कहीं फल खानें से उनका शुगर लेवल न बढ़ जाए। आज हम आपको पूरी तरह से प्रामाणिक जानकारी उपलब्ध कराएंगे कि किन फलों में कितनी शक्कर की मात्रा होती हैं और क्या Diabetes patient इन फलों को खा सकता हैं या नहीं। 1.आम [Mangoes] एक साधारण आकार के पूरी तरह से पके आम में 46 ग्राम शक्कर मोजूद होती हैं। भारत में आम की अलग अलग प्रजाति पाई जाती हैं इसमें शक्कर की मात्रा में अंतर हो सकता हैं। उदाहरण के लिए अल्फांसो आम,बादाम आम आदि में शक्कर की मात्रा अधिक होती हैं। देशी आम जो आकार में छोटे होते हैं में शक्कर की मात्रा कम होती हैं।  यदि आपको Diabetes हैं तो आप पूरी तरह से पके आम की बजाय अधपके या कच्चे आम का सेवन करें। अधपका आम विटामिन, मिनरल और फायबर का अच्छा स्त्रोत होता हैं। यदि पके आम का सेवन कर रहें हैं तो आपके शरीर में इंसुलिन की मात्रा के हिसाब से एक एक या दो पीस ही लें।   • आम की खेती समस्या और संभावना 2.अंगूर [Grapes] एक कप अंगूर में 23