सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आंवला औषधीय गुणो का खज़ाना

आंवला खाने के फायदे
 आंवला
  

आंवला 


स्कंद पुराण ,गरूड़ पुराण में आंवले की महिमा का विशद वर्णन मिलता हैं. महर्षि च्यवन ने पुन: युवा होनें के लिये आंवलें से बनायें गये च्यवनप्राश का प्रयोग किया था.

आंवला यूकोरबियेसी कुल का सदस्य हैं जिसे वनस्पति जगत में एमाब्लिका आफिलिनेलिस   के नाम से जाना जाता हैं.

अंग्रेजी में इसे इंडियन गुजबेरी और संस्कृत में आमलकी के नाम से जाना जाता हैं ।


आंवला में पाए जाने वाले पौषक तत्व



1.पानी :: 8.12%

2.कार्बोहाइड्रेट :: 14.1%

3.फायबर :: 3.4%


4.प्रोटीन ::0.5%


5.फैट ::0.1%


6.खनिज लवण :: 0.7%


7.विटामीन सी :: 121 मिली ग्राम


8.आयरन:: 12 मिली ग्राम


9.फास्फोरस ::20 मिली ग्राम


                                                    [प्रति 100 ग्राम ]


आंवले में सबसे अधिक मात्रा में विटामिन सी पाया जाता हैं,जो अन्य फलों जैसे नांरगी,निम्बू से  बीस गुना अधिक होता हैं.
इसके अलावा इसमें गैलिक एसिड़, ग्लूकोज,टैनिक एसिड़ एल्बयूमिन आदि तत्व भी पायें जाते हैं.


आंवला के फायदे


 आंवला त्रिदोषहर यानि वात, पित्त, कफ का शमन करनें वाला एक उत्तम फल हैं,

आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार आंवला 

विधादामलकेसवार्नरसान्लवणवर्जितान।स्वेदमेद:कफोत्क्लेदपित्तरोगविनाशनम्।।

अर्थात आँवला पाँच रसों लवण, मीठा,कडुआ ,कसैला,और चरपरा से युक्त होकर ,कफ विकारों,पित्त विकारो ,मोटापा,तथा अधिक पसीना आना जैसें दोषों को नष्ट कर देता हैं ।


१. स्कर्वी रोग में आंवले का सेवन रोग को जड़ से नष्ट करता हैं.


२.यह अस्थमा (Asthma)और फेफडों से संबधित रोगों में बहुत लाभदायक फल हैं यदि इसका सेवन कच्चा या रस निकाल कर किया जावें.


३.इसका रस आँखों में डालनें से नेत्र ज्योति बढाता हैं,और नेत्र सूजन को कम करता हैं.

४.स्वपनदोष में  दस ग्राम आंवला चूर्ण में बीस ग्राम चीनी मिलाकर सेवन करने पर बहुत लाभ मिलता हैं.

५. पेचिस,प्रवाहिका तथा खूनी बवासीर में सूखा आँवला चूर्ण बहुत फायदे करता हैं.

६.आंवला चूर्ण, सोंठ चूर्ण, तथा अश्वगंधा चूर्ण को क्रमश: १:२:४ में मिलाकर  एक-एक चम्मच सुबह शाम पानी के साथ सेवन करनें पर मानसिक रोग नष्ट हो जातें हैं ,विधार्थीयों को सेवन करवानें से बुद्धि तीक्ष्ण बनती हैं.


७.पेड़ का पका हुआ आंवला यदि हक़लानें वाला व्यक्ति नियमित रूप से खायें तो उसका हकलाना समाप्त हो जाता हैं.


८.आंवला खानें से रक्त में आक्सीजन का स्तर कभी कम नही होता फलस्वरूप चिर योवनता बनी रहती हैं,यही कारण हैं,कि महर्षि च्यवन ने आंवले का प्रयोग च्वयनप्राश में कर पुन: योवनता को प्राप्त किया था.


९.इसके अलावा आंवले का प्रयोग मुरब्बें के रूप में करनें से यह शरीर को शीतलता और तरोताजा रखता हैं.


१०.आंवले में हरड़,बहेड़ा को मिलानें से त्रिफला बनता हैं जो समस्त रोगों को नष्ट कर आरोग्य प्रदान करनें वाली औषधि हैं.


११.आंवला अंड़े की अपेक्षा एक हजार गुना दोष रहित फल है अत: स्वस्थ रहनें के लिये आंवले का सेवन अवश्य करें.


१२.आंवला का ताजा रस कोरोनावायरस से पीड़ित व्यक्ति को सुबह शाम  10 ग्राम पीलानें से बहुत तेजी से व्यक्ति ठीक होता हैं ।

१४.ट्यूबरक्लोसिस रोग में आंवले का रस बहुत आशातीत लाभ प्रदान करता हैं और इसके सेवन के बाद टीबी की दवाईयों की कार्यक्षमता में बढोतरी होती हैं ।

१५.आंवले के बीजों से निकला तेल बालो के बहुत उपयोगी माना जाता हैं। यह आंवला तेल बालों में लगाने से बाल काले,घने,मुलायम और मज़बूत बनते हैं ।

१६.आंवला के सूखे बीजों को उबालकर  बचे हुए पानी से बाल धोनें से बालो की रूसी समाप्त हो जाती हैं ।


१७.आंवला शरीर को डिटाक्स करता हैं जिससे किडनी, लीवर,ह्रदय  जैसे महत्वपूर्ण अंग बिना किसी रूकावट के काम करते रहते हैं ।

१८.यदि किसी को मूत्र की रूकावट हो गई हैं तो आंवला पावड़र पानी में घोलकर पेडू के आसपास लपेट दे,मूत्र खुलकर आने लगेगा ।


१९.माइग्रेन होनें पर आंवले का रस सिर पर लगानें से बहुत शीघ्रता से आराम मिलता हैं ।

आंवला का शर्बत पीनें के फायदे


गर्मी: लू लगने पर चक्कर आए या जी घबराए तो आंवले का शर्बत पीएं, तुरंत ऊर्जा मिलेगी।

बवासीर: बारीक पिसा आंवला चूर्ण दिन में तीन बार छाछ के साथ लें।

नकसीरः नाक में 2 बूंद आंवला रस डालें। आधा पाव आंवला चूर्ण बकरी के दूध के साथ सिर पर लेप करें।

बलगम की शिकायतः एक चम्मच आंवला और मुलेठी चूर्ण मिलाकर सुबह शाम पानी से लें। हकलाना: शहद और ब्रह्मीघृत में एक चम्मच आंवला चूर्ण सुबह-शाम देने पर बच्चा (बड़ा हो तो) हकलाना बंद कर देता है।

बिस्तर में पेशाब में पेशाब : 50 ग्राम आंवला, 50 ग्राम जीरा, 100 मिश्री 'पीसकर मिलाकर रख लें, इसे आधा चम्मच सुबह-शाम पानी से दें। इसे हायपर एसिडिटी के रोगी न खाएं।



Author- healthylifestyehome

० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण

100 साल जीनें के तरीके


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी