सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अक्तूबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वात-पित्त-कफ प्रकृति के लक्षण कैसे होते हैं vat pitt kaf prakriti ke laxan

 वात-पित्त-कफ प्रकृति के लक्षण vat pitt kaf prakriti ke laxan वात-पित्त-कफ प्रकृति  आयुर्वेद चिकित्सा त्रिदोष सिद्धांत के आधार पर रोगी का उपचार करती हैं ,इस त्रिदोष सिद्धांत के अनुसार मनुष्य के शरीर में वात पित्त और कफ के असंतुलन की वजह से बीमारियां उत्पन्न होती हैं । आईए जानते हैं वात पित्त और कफ प्रकृति के लक्षण वात प्रकृति के लक्षण वातस्तुरूक्षलघुचलबहुशीघ्रशीतपरुषविशदस्तस्यरौक्ष्याद्धातलारूक्षापचिताल्पशरीरा:प्रततरूक्षक्षामभिन्नसक्तजर्जरस्वराजागरुकाश्चभवन्तिलघुत्वाच्चलघुचपलगतिचेष्टाहारविहारा:चलत्वादनवस्थितसन्ध्यक्षिभ्रूहन्वाष्ठजिहाशिर:स्कन्धपाणिपादा:बहुत्वाइहुप्रलापकण्डराशिराप्रताना:शीघ्रत्वाच्छीघ्रसमारम्भक्षोभविकारा:शीघ्रोत्रासरागविरागा:श्रुतग्राहिण:अल्पस्मृतयश्चशैत्याच्छीतासहिष्णव:प्रततशीतकोद्धैपकस्तम्भा:पारूष्यात्परूषकेशष्मश्रुरोमनखदसनवदनपाणिपादाग्डावैशघात्स्फुटिताग्डावयवा:सततसन्धिशब्दगामिनश्चभवन्ति तऍवगुणयोगाद्धातला:परायेणाल्प्पबलाश्चल्पापत्याश्वाल्पसाधनाश्वाधन्याश्चधन्याश्च ।। श्लोक के अनुसार वात प्रकृति वायु (Air) या आकाश से संबंधित हैं । वायु का स्वभाव हल्का,रूखा,चल,बहुल, शीघ

हेपिटाइटिस सी hepatitis c कैसे होता हैं ।इसके खोजकर्ता कौंन थे

हेपिटाइटिस सी hepatitis c कैसे होता हैं ? इसके खोजकर्ता कौंन थे ? Hepatitis c   हेपिटाइटिस सी लीवर से संबंधित विषाणुजनित बीमारी हैं ।    विश्व स्वास्थ संगठन ( W.H.O.) के मुताबिक हेपिटाइटिस सी hepatitis c से पूरी दुनिया में सात करोड़ से अधिक लोग पीड़ित हैं और प्रतिवर्ष तकरीबन चार लाख लोग hepatitis c से पूरी दुनिया में मर जाते हैं । hepatitis c से पीड़ित रोगी लीवर कैंसर और लीवर सिरोसिस से भी ग्रस्त हो जातें हैं । hepatitis c virus ki khoj kisne ki thi hepatitis c virus की खोज का श्रेय अमेरिका के हार्वे थे आल्टर (HARVEY J.ALTER), ब्रिटेन के चार्ल्स एम.राइज (CHARLES M.RISE), और कनाडा की National University of Alberta में पढ़ाने वाले और ब्रिटेन में जन्में Mike hueton माइक ह्यूटन को जाता हैं । हार्वे जे.आल्टर अमेरिका के National institute of health N.I.H. से संबंधित हैं जबकि चार्ल्स एम.राइज अमेरिका के न्यूयार्क स्थित Rockefeller University में पढ़ाते हैं । इन तीनों वैज्ञानिकों को हेपिटाइटिस सी वायरस की खोज के लिए सन् 2020 का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया हैं । हेपिटाइटिस सी he

कोरोना वायरस टीकाकरण लेटेस्ट न्यूज

  कोरोना वायरस टीकाकरण लेटेस्ट न्यूज कोरोना वायरस से संक्रमित ऐसे मरीज जिनकी कोरोनावायरस रिपोर्ट नेगेटिव यानि RT PCR TEST नेगेटिव आ रहा है, किंतु शरीर से संक्रमण समाप्त नहीं हो रहा हैं और इसके बाद मरीज की मौत हो रही हैं। यह परिस्थिति चिकित्सा विज्ञानियो के लिए बहुत हैरत पैदा कर रही हैं। पिछले कई दिनों से ऐसे मामले लगातार बढ़ रहे हैं जिसमें पहले से अस्थमा, मधुमेह, ह्रदय रोग, किडनी रोग से प्रभावित कोरोना मरीज कोरोना से तो स्वस्थ्य हो गया लेकिन कुछ दिनों के पश्चात उसकी मौत हो जाती हैं । विशेषज्ञों के मुताबिक ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि कोरोनावायरस से पीड़ित रहने के दौरान शरीर का oxygen level बहुत कम हो जाता हैं और लगातार बहुत दिनों तक oxygen level कम होने से पूर्व की बीमारियों से पीड़ित अंग जैसे ह्रदय, किडनी,श्वसन तंत्र, आदि की कार्यक्षमता कम हो जाती हैं अतः मरीज corona से स्वस्थ्य होनें के बाद भी multiple organ failure के कारण मौत के आगोश में समा रहे हैं । कोरोना वायरस से ठीक होनें के बाद भी होने वाली मौत किन बीमारियों से हो रहीं हैं कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद भी होने मौतें निम्न का

दाद खाज खुजली से परेशान तो जानियें बाकुची के फायदे श्री मान

दाद खाज खुजली से परेशान तो जानियें बाकुची के फायदे श्री मान  बाकुची के पौधे बरसात में सामान्यतः उगते हैं । Bakuchi ke podho की लम्बाई एक से लेकर चार फीट तक होती हैं । बाकुची की डाली सीधी और पत्ते ग्वार के पत्तों के सदृश्य होते हैं । बाकुची के पत्तों के कोनों में से तीन इंच लम्बे ऊंगली के समान डंठल निकलते हैं और इनके ऊपर गहरे बैंगनी रंग के फूल निकलते हैं। बाकुची bakuchi के फूलों का आकार तुलसी की मंजरी के समान होता हैं । बाकुची के फूलों में से पतली तोते के समान फलियां निकलती हैं जो पकने पर काली पड़ जाती हैं । इन फलियों में बीज भी काले रंग के निकलते हैं ।  1.बाकुची के फायदे सफेद दाग में 2.गठान होनें पर बाकुची के फायदे 3.दाद खाज में बाकुची के फायदे 4.बालों के लिए बाकुची के फायदे 5.पीलिया होनें पर बाकुची के फायदे 6.दांतों की सड़न रोकनें में बाकुची के फायदे 7.दस्त रोकनें में बाकुची के फायदे 8.त्वचा के कैंसर को रोकनें में बाकुची के फायदे बाकुची का संस्कृत नाम  सोमराज,कृष्णफल,कुष्ठनाशिनी,सोमवल्ली बाकुची का हिन्दी नाम बावर्ची,बकुची बाकुची का लेटिन नाम Psoralea corylifolia सोरेलिया कोरिलीफोलिया