सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

TURMERIC, हल्दी के ऐसे फायदे जिन्हें आपनें पहले कभी नही पढ़ा होगा और हल्दी से बनने वाली औषधी हरिद्राखण्ड़ का परिचय

पीला रंग
Turmeric हल्दी  

हल्दी का परिचय :::

हल्दी कंद रूप में पायी जानें वाली विशिष्ट औषधि हैं,जो भारतीय रसोई का अभिन्न हिस्सा हैं.इसका स्वाद कड़वा और कसेला होता हैं.इसकी प्रकृति उष्ण होती हैं.इसमें करक्यूमिन  नामक विशिष्ट रसायन पाया जाता है.


उपयोग::-
१. हल्दी में कैंसर नाशक गुण होतें हैं,इसमें उपस्थित रसायन करक्यूमिन कैंसर से नष्ट होनें वाली कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता हैं.


२. रक्त कैंसर में हल्दी और लहसुन पेस्ट मिलाकर दूध के साथ सेवन करनें से कैंसर की तीव्रता काफी हद तक कम हो जाती हैं.


३. हल्दी सौन्दर्य को बढ़ानें वाली होती हैं,शहद के साथ या तेल के साथ इसका उबट़न लगानें सें न केवल गोरापन बढ़ता हैं,वरन त्वचा संबधित बीमारीयाँ भी समाप्त हो जाती हैं.


४. शहद के साथ हल्दी को समान मात्रा में मिलाकर सेवन करनें से खून की कमी दूर हो जाती हैं.


५. टाइफाइड़ होनें पर रोज़ सुबह खाली पेट़ हल्दी लेनें से टाइफाइड़ समाप्त हो जाता हैं.


६. पीलिया (jaundice) रोग में छाछ के साथ हल्दी चूर्ण मिलाकर पीनें से पीलिया कुछ ही दिनों में समाप्त हो जाता हैं.



७.आँखों से संबधित समस्या में हल्दी को पानी में उबालकर पीनें से और ठंड़ा कर छानकर दो-दो बूँद आँखों में डालते रहनें से चश्मा उतर जाता हैं.



८. हल्दी उत्तम गर्भ निरोधक मानी जाती हैं,गुड़ के साथ मिलाकर लेते रहनें से गर्भ निरोध होता हैं.



९.आन्तरिक चोंटों में हल्दी अत्यन्त प्रभावकारी मानी जाती हैं,मावें के साथ मिलाकर गर्म कर प्रभावित स्थान पर बांधनें से अतिशीघ्र आराम मिलता हैं



१०. हल्दी वात,पित्त, कफ़ तीनों प्रकृति को नियत्रिंत करती हैं.



११. मुँह के छालों में हल्दी अत्यन्त गुणकारी हैं,इसकी ताजा गांठों का रस शहद के साथ मिलाकर प्रभावित स्थान पर लगानें से अतिशीघ्र आराम मिलता हैं.


१२. बवासीर के लिये हल्दी को छाछ मिलाकर भोजनपरान्त लेनें से बवासीर खत्म हो जाता हैं.



१३. शीघ्र पतन में हल्दी को मिश्री के साथ मिलाकर सुबह शाम लगातार तीन माह तक लें.



१४. हल्दी उत्तम रक्तशोधक हैं.

१५.त्वचा झुलसनें या जलनें पर हल्दी के फूलों का रस बादाम चूर्ण और दही में मिलाकर लगाना चाहियें.







*हल्दी में मस्तिष्क की कार्यक्षमता बढ़ाने की अदम्य क्षमता होती है यह मस्तिष्क के BDNF को बढ़ाती हैं जो तंत्रिका तंत्र के विकास और रखरखाव के लिए अतिआवश्यक प्रोटीन है । इस प्रोटीन का उच्च स्तर स्मृति, सकारात्मक मूड़ के लिए आवश्यक है।




हल्दी शरीर के पाचक एंजाइम के स्त्राव को नियमित करती हैं जिससे भोजन पचने में मदद मिलती हैं ।



हल्दी में खराब कोलस्ट्रॉल यानि LDL को ह्रदय में जमा होने से रोकती हैं ।







  हल्दी की कितनी मात्रा दैनिक रूप से लेनी चाहियें जिससे यह शरीर को फायदा पहुँचायें इस पर विशेषकर आयुर्वैद में बहुत विस्तारपूर्वक वर्णन किया गया हैं कि रोग की तीव्रतानुसार रोगी को या सामान्यजन को वैघकीय परामर्श उपरान्त पाँच से दस ग्राम हल्दी लेना उचित रहता हैं.




हल्दी से बननें वाली औषधि

हरिद्राखण्ड़::

हरिद्राखण्ड़ हल्दी से बननें वाली शास्त्रोक्त औषधि हैं,जो कई एलर्जी रोगों की विशिष्ट औषधि हैं.

१. घट़क द्रव्य::

हल्दी, शक्कर,घी,सोंठ, कालीमिर्च,दालचीनी,वायविड़ंग,त्रिफला,नागकेशर,नागरमोथा,शुद्धलोहभस्म,निशोध,गोदुग्ध,पीपली,इलायची,तेजपान .

२.रोगोपयोगी::-

१. शरीर में शीतपित्त की वजह से होनें वाली समस्या पर.
२. लम्बें समय से जारी व्रण.
३. दाद, खाद,खुजली.
४. कुष्ठ .

सेवन विधि ::

वैघकीय परामर्श से




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह