सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अक्तूबर, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

POWER OF VITAMIN E ,

VITAMIN   E over the years, there has been a growing realization that harmful effects can result from free radical processes ocuring in biological system. With this realization and with a better understanding of the function of vitamin e.there has been a renewed interest in a- tocopherol,the most potent biological and antioxidant form of the vitamin. Vitamin E is a term that encompasses a group of potent,lipid-soluble,chain-breaking antioxidants.Structural analysis have revealed that molecules having vitamin E antioxidant activity include four tocopherols and four tocotrienols tocopherol is the predominant form of vitamin E in blood, no matter what the composition of the diet,because of the preferential uptake of vitamin E transport proteins a- tocopherol is the most common fat soluble vitamin in  human blood,with concentration ranging from 15 to 40 mg/l DISCOVERY OF VITAMIN E It is an essential nutrient for humans and most animal species, especially early in life

MUSCLE BUILDING

#1.शरीर सोष्ठव::- आज के युवा वर्ग का सपना अच्छे केरियर के अलावा स्वस्थ और मज़बूत तन भी बनता जा रहा हैं.और इस प्रवृत्ति को बढ़ानें में अभिनेता अभिनेत्रियों ने विशेष योगदान दिया हैं.हर युवा व्यायाम को छोड़ इन्हीं अभिनेताओं द्वारा प्रचारित महँगें -महँगें फूड़ सप्लीमेंट़ का उपयोग कर मज़बूत तन प्राप्त करना चाहता हैं. फूड़ सप्लीमेंट़ का उपयोग लम्बें समय तक करतें रहनें से कभी कभी शरीर कई दूसरी समस्या की गिरफ़्त में आ जाता हैं,अधिकाँशत: यह भी देखनें में आता हैं,कि फूड़ सप्लीमेंट़ बंद कर देने पर शरीर पहलें वाली स्थिति से भी कमजोर हो जाता हैं. #2 आयुर्वैद और योग की भूमिका::- प्राचीन काल से ही योग और आयुर्वैद ने मनुष्य के शरीर को  मज़बूत बनाने के लिये विशेष कार्य किया  हैं,और आज भी इस भूमिका का बखूबी निर्वहन कर रहा किन्तु कुछ लोगों  ने आयुर्वैद के नाम पर स्टेराइड़ को बेचकर लोगों को भ्रमित किया हैं. आईयें जानतें है स्वस्थ शरीर के निर्माण में योग और आयुर्वैद की भूमिका #१.अश्वगंधा चूर्ण को गोघ्रत में मिलाकर इससे सम्पूर्ण शरीर पर मालिश करें और दस मिनिट तक धूप में बेठें तत्पश्चात

ह्रदयाघात [ HEART ATTACK] पूर्व संकेत और प्राथमिक उपचार

ह्रदयाघात [ HEART ATTACK] पूर्व संकेत और प्राथमिक उपचार #.सामान्य परिचय::- सम्पूर्ण विश्व में तेजी से बदलतें सामाजिक, आर्थिक और तकनीकी (Technological) परिदृश्य ने ह्रदय रोगों को मनुष्य के शरीर में ह्रदय रोगों को मनुष्य शरीर में स्थाई निवास करनें का भरपूर अवसर प्रदान किया हैं.जिस प्रकार आज का मनुष्य सोशल मिड़िया के सामनें बेठकर २४ घंटों में से १५ से १६ घंटें बीता रहा हैं,उससे W.H.O. का यह दावा सही साबित हो सकता हैं,कि २०२० तक मरनें वाले लोगों में हर तीसरा व्यक्ति ह्रदय से संबधित रोगों वाला होगा. ह्रदय मनुष्य शरीर का महत्वपूर्ण अंग हैं जो मनुष्य के जन्म से ही लगातार काम करता रहता हैं,और इसकी एक एक धड़कन मनुष्य के जीवित रहनें का प्रमाण हैं,ऐसे में यदि दिल बीमार हो जाता हैं तो मनुष्य का कर्तव्य बन जाता हैं,कि वह उसकी बीमारी को नज़रंदाज न करें.  Heart                         #.ह्रदय से सम्बंधित बीमारीयाँ::- १.उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप. २.ह्रदय शूल (angina pectoris). ३.ह्रदय दोर्बल्य. ४.congestive heart fellure. ४.ह्रदय गति असामान्य रूप से बढ़ना. ५.शि