सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही।Nange sone ke fayde

 जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही nange sone ke fayde

इंटरनेट पर जानी मानी विदेशी health website जीवन-साथी के साथ नंगा सोने के फायदे बता रही है लेकिन क्या भारतीय मौसम और आयुर्वेद मतानुसार मनुष्य की प्रकृति के हिसाब से जीवनसाथी के साथ नंगा सोना फायदा पहुंचाता है आइए जानें विस्तार से

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना, पार्टनर के साथ नंगा सोना, नंगे होने के फायदे,


1.सेक्स करने के बाद नंगा सोने से नींद अच्छी आती हैं


यह बात सही है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद जब हम पार्टनर के साथ नंगा सोते हैं तो हमारा रक्तचाप कम हो जाता हैं,ह्रदय की धड़कन थोड़ी सी थीमी हो जाती हैं और शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे बहुत जल्दी नींद आ जाती है। 

भारतीय मौसम और व्यक्ति की प्रकृति के दृष्टिकोण से देखें तो ठंड और बसंत में यदि कफ प्रकृति का व्यक्ति अपने पार्टनर के साथ नंगा होकर सोएगा तो उसे सोने के दो तीन घंटे बाद ठंड लग सकती हैं । 

शरीर का तापमान कम होने से हाथ पांव में दर्द और सर्दी खांसी और बुखार आ सकता हैं । अतः कफ प्रकृति के व्यक्ति को सेक्सुअल इंटरकोर्स के एक से दो घंटे बाद तक ही नंगा सोना चाहिए।

वात प्रकृति के व्यक्ति को गर्मी और बसंत में पार्टनर के साथ नंगा होकर सोने में कोई परेशानी नहीं होगी , बरसात में वात प्रकृति के व्यक्ति यदि नंगा सोता है तो उसे जोड़ों में दर्द,पेट में दर्द की समस्या हो सकती हैं।

पित्त प्रकृति का व्यक्ति गर्मी, बरसात और ठंड में  आसानी से पार्टनर के साथ नंगा होकर सो सकता हैं ।


• वात पित्त और कफ प्रकृति के लक्षण

2.त्वचा स्वस्थ रहती है


अनेक health specialist शोध रिपोर्ट के आधार पर दावा करते हैं कि पार्टनर के साथ नंगे होकर सोना त्वचा को स्वस्थ और सेंसेटिव रखता है लेकिन यह ध्यान रखना चाहिए कि यह सारे अध्ययन अधिकांशतः यूरोपियन या अमेरिका में होते हैं जहां साल के अधिकांश समय औसत तापमान शून्य डिग्री से भी निचे रहता है । भारत के दृष्टिकोण से जहां तापमान बहुत उतार चढ़ाव और मौसम बहुत ही विभिन्नता वाला होता  हैं क्या सही होगा ।


पित्त प्रकृति का व्यक्ति यदि बरसात  के मौसम में सुबह तीन बजे के बाद पार्टनर के साथ नंगा सोता है तो उसे त्वचा में खुजली या पित्तीयां उछल सकती हैं क्योंकि वातावरण की नमी और सुबह की ठंडक त्वचा को संवेदनशील बना देती हैं । 

वात और कफ प्रकृति के व्यक्ति को त्वचा से संबंधित कोई समस्या नहीं होगी और इनकी त्वचा में यदि कोई घाव हैं तो वह जल्दी ठीक हो जाता हैं।


3.तनाव समाप्त हो जाता हैं


जीवनसाथी के साथ नंगा सोने का यह सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण फायदा हैं। आप किसी भी प्रकृति के हो यदि आप अत्यधिक तनाव में हैं और आत्महत्या के विचार मन में आ रहें हैं तो अन्य छोटी स्वास्थ समस्या को नजरंदाज कर जीवनसाथी के साथ नंगा सोना शुरू कर दें, तनाव कम होगा , तनाव कम होने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी और ह्रदयरोग की आशंका कम हो जाती हैं।


4.वजन घटता है


यदि आपका वजन बहुत अधिक है और लाख कोशिश के बाद भी कम नहीं हो रहा है तो जीवनसाथी के साथ नंगा सोना शुरू कर दें यदि 4 घंटे रोज सोते हैं तो शरीर ठंडा होने पर अधिक ऊर्जा की आवश्यकता महसूस करता हैं और अधिक केलोरी बर्न करता है। 

अब यहां भी शरीर की प्रकृति की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं अब प्रकृति के व्यक्ति का वजन बहुत तेजी से कम होता है वात प्रकृति के व्यक्ति का वजन मध्यम स्तर से कम होता है और कफ प्रकृति के व्यक्ति का तेजी से कम होता है ।


5.योनि मार्ग का संक्रमण कम होता हैं


योनि की प्राकृतिक संरचना इस प्रकार से बनी होती हैं कि इसमें से लगातार तरल पदार्थ निकलता रहता है योनि का यह तरल पदार्थ एसिडिक प्रकृति का होता है जिसका पीएच 4 से 5 के बीच होता हैं और किसी भी प्रकार के vaginal infection से लड़ने के लिए यह Ph value पर्याप्त होती हैं। जब किसी कारणवश vagina ki ph value कम हो जाती हैं तो vaginal infection बढ़ जाता हैं और यौन स्वास्थ्य गड़बड़ हो जाता है। 


जब महिला पार्टनर के साथ लम्बे समय तक नंगा सोती हैं उनकी योनि सीधे हवा के संपर्क में आने से सुखी बनी रहती हैं फलस्वरूप योनि मार्ग में मोजूद फंगल इन्फेक्शन और अन्य bacterial vaginal infection तेजी से कम होता है और वेजाइनल मेडिसिन का असर भी तेजी से होता हैं ।

ऐसी महिलाएं जो पित्त और कफ प्रकृति की है उनका वेजाइनल इन्फेक्शन बहुत तेजी से कम होता है । 


6.स्तनों का आकार बढ़ता है


जो महिलाएं 35 साल की उम्र तक की है और उनके स्तन बहुत छोटे हैं और लाख कोशिश के बाद भी बड़े नहीं हो रहें हैं तो अपने पार्टनर के साथ नंगा सोना शुरू कर दें, नंगा सोने से स्तन के ऊतक पार्टनर के छूने या शरीर के साथ टच होने से इनमें रक्त का प्रवाह बढ़ता है लम्बे समय तक ऐसा करने से स्तन बड़े हो जाते हैं। 

7.कामेच्छा बढ़ती है

जो पुरुष और महिलाएं कामेच्छा की कमी से जूझ रहे हैं वे यदि नंगा होकर सोते है तो पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन और महिला में आक्सीटोसिन का स्तर बढ़ जाता हैं फलस्वरूप दोनों की कामेच्छा बढ़ जाती हैं। 

एक अध्ययन के मुताबिक एक पांच साल से अधिक वैवाहिक जीवन वाले समूह को लगातार दो महिनों तक नंगा होकर सोने को कहा गया तथा दूसरे समूह को सामान्य रुप से कपड़े पहनकर सोने को कहा गया।

 दो महीने बाद इनके अनुभवों को नोट किया गया तो पहले वाले समूह ने बीच के सात आठ दिन छोड़कर प्रत्येक रोज सहवास किया जबकि दूसरे समूह ने दो महिनों में 20 से 25 दिन ही सहवास किया । इसमें भी पहले वाले समूह ने कभी कभी एक से अधिक बार सहवास किया जबकि दूसरे समूह ने कभी ऐसा नहीं किया।


8.लिंग का आकार बढ़ता है


यदि पुरुष नंगा सोने से पहले लिंग पर तिल ,सरसों या नारियल तेल की मालिश करता है तो लिंग में रक्त संचार बढ़ जाता है और जब लिंग जीवनसाथी के शरीर से बार बार सम्पर्क में आता है तो रक्त  सामान्य स्तर से अधिक बना रहता है जिससे लिंग का आकार बढ़ने लगता हैं।


9.गर्भावस्था के समय जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नहीं


गर्भावस्था के दौरान यदि स्त्री जीवनसाथी के साथ नंगा सोती है तो शरीर में आक्सीटोसीन और प्रोजेस्टोरोन हार्मोन का लेवल बढ़ जाता है । जिससे गर्भपात की आशंका समाप्त हो जाती हैं और प्रसव बिना सिजेरियन के हो जाता है । किंतु गर्भवती स्त्री को जीवनसाथी के साथ नंगा सोने से पूर्व अपने गायनेकोलॉजिस्ट से परामर्श अवश्य प्राप्त कर लेना चाहिए।

आयुर्वेद मतानुसार पित्त प्रकृति की स्त्री यदि नंगा होकर होती हैं तो उसे  हाथ पांव में ठंडा जबकि पूरे शरीर में गरम महसूस होने की समस्या हो सकती हैं । 

कफ और वात प्रकृति की स्त्री अपने आपको हल्का महसूस करेंगी ।


नंगा सोने पूर्व क्या सावधानी रखनी चाहिए


• कभी भी एकदम से पूरे कपड़े उतार कर सोने से शुरुआत न करें बल्कि धीरे-धीरे कपड़े कम कर सोना शुरू करें जैसे पहले बनियान या ब्रा निकालकर सोएं उसके बाद निचे के अंतःवस्त्र निकाले और अंत में सारे कपड़े निकाले ।

• नंगा सोने से पूर्व आयुर्वेद चिकित्सक से अपना प्रकृति परीक्षण अवश्य कराएं।

•  जहां निजता का अभाव हो वहां नंगे न सोएं।

• यदि साथ में छोटा बच्चा होता है तो भी नंगे होने से बचें।

• कभी भी जमीन पर नंगे नहीं सोना चाहिए.

यदि आप सेक्स का समय बढाने के बारें में सोच रहें हैं तो इस लिंक पर क्लिक करें


यह भी पढ़ें 👇













टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू  आयुर्वेद की विशिष्ट औषधि हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके ल

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER  पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी। अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी। तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें BPGRIT INGREDIENTS 1.अर्जुन छाल चूर्ण ( Terminalia Arjuna ) 150 मिलीग्राम 2.अनारदाना ( Punica granatum ) 100 मिलीग्राम 3.गोखरु ( Tribulus Terrestris  ) 100 मिलीग्राम 4.लहसुन ( Allium sativam ) 100  मिलीग्राम 5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम 6.शुद्ध  गुग्गुल ( Commiphora mukul )  7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम 8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम 9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम 10. Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम 11. Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS 1.गजवा  ( Onosma Bracteatum) 2.ब्राम्ही ( Bacopa monnieri) 3.शंखपुष्पी (Convolvulus pl

होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर #1 से नम्बर #28 तक Homeopathic bio combination in hindi

  1.बायो काम्बिनेशन नम्बर 1 एनिमिया के लिये होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर 1 का उपयोग रक्ताल्पता या एनिमिया को दूर करनें के लियें किया जाता हैं । रक्ताल्पता या एनिमिया शरीर की एक ऐसी अवस्था हैं जिसमें रक्त में हिमोग्लोबिन की सघनता कम हो जाती हैं । हिमोग्लोबिन की कमी होनें से रक्त में आक्सीजन कम परिवहन हो पाता हैं ।  W.H.O.के अनुसार यदि पुरूष में 13 gm/100 ML ,और स्त्री में 12 gm/100ML से कम हिमोग्लोबिन रक्त में हैं तो इसका मतलब हैं कि व्यक्ति एनिमिक या रक्ताल्पता से ग्रसित हैं । एनिमिया के लक्षण ::: 1.शरीर में थकान 2.काम करतें समय साँस लेनें में परेशानी होना 3.चक्कर  आना  4.सिरदर्द 5. हाथों की हथेली और चेहरा पीला होना 6.ह्रदय की असामान्य धड़कन 7.ankle पर सूजन आना 8. अधिक उम्र के लोगों में ह्रदय शूल होना 9.किसी चोंट या बीमारी के कारण शरीर से अधिक रक्त निकलना बायोकाम्बिनेशन नम्बर  1 के मुख्य घटक ० केल्केरिया फास्फोरिका 3x ० फेंरम फास्फोरिकम 3x ० नेट्रम म्यूरिटिकम 6x