सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग


गेरू मिट्टी के औषधीय उपयोग
गेरू के औषधीय प्रयोग

 
आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें ।





गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं ।



गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।



गेरू का संस्कृत नाम 



गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं ।




गेरू का लेटिन नाम 



गेरू  silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं ।



गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति



गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं ।



गेरू के औषधीय प्रयोग




1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में



गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोकनें वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लियें गेरू को छलनी से बारीक छानकर पानी में मिलाकर लुग्दी बनाकर प्रभावित भाग पर लपेटतें हैं । जब यह लुग्दी सूख जाती हैं तो इसे उतार देतें हैं । इस प्रयोग से आंतरिक रक्तस्त्राव की समस्या समाप्त हो जाती हैं ।




2.बहरेपन में 



बहरेपन में गेरू को दूध के साथ मिलाकर कान में दो चार बूंद टपकानें से बहरापन मिट जाता हैं ।

इसके अलावा गेरू को पानी के साथ मिलाकर कान के आसपास लपेटने से कानदर्द में आराम मिलता हैं ।




3.आग से जलनें पर



गेरू को छानकर इसमें नारियल तेल मीला लें इस मिश्रण को बिना फफोलें पड़े हुये अंग पर लगानें से बहुत आराम मिलता हैं ।





4.व्रण पर 



शरीर में यदि कही व्रण हो जाये और बहुत ज्यादा दर्द कर रहा हैं तो गेरू को हल्दी और गाय का घी मिलाकर गर्म कर ले ,जब हल्का गर्म रह जायें तब व्रण पर बाँध दें । व्रण यदि पकनें वाला होगा तो उसका मुँह खुल जायेगा दर्द समाप्त हो जायेगा । इस प्रयोग को रात में करनें पर बहुत आशातीत परिणाम मिलतें हैं ।



5.कब्ज होनें पर 



कब्ज की ऐसी समस्या जिसमें रोज रोज दवाई लेनी पड़ती हैं उसके लिये गेरू बहुत उत्तम औषधी हैं । इस समस्या से निजात पानें के लियें गेरू को पानी के साथ मिलाकर रात को पेट पर लपेटतें हैं ।  एक घंटे तक लपेटनें के बाद धो लें ,इसप्रकार पन्द्रह बीस दिन यह प्रयोग करनें से कब्ज की समस्या हमेशा के लिये समाप्त हो जाती हैं ।




6.चश्मा उतारने के लियें



बारिक छना हुआ गेरू को पानी मिलाकर पेस्ट बना लें यह पेस्ट रात को दोनों आँखों पर बाँध लें और सुबह खोल लें कुछ ही दिनों में आपकी आँखों का नम्बर वाला चश्मा उतर जाता हैं । किन्तु ध्यान रखे यह प्रयोग गर्मी के दिनों में ही करें ।




7.गर्भधारण नही होता हैं 

गेरू के औषधीय प्रयोग
 गर्भधारण नही होता हैं


यदि बार बार गर्भपात होता हैं तो गेरू को पेडू और योनि के ऊपर तक पानी में गीला कर बाँध लें और तीन चार घँटा बंधा रहनें दें । बार - बार गर्भपात की समस्या समाप्त होकर गर्भ ठहर जाता हैं ।




8.सौन्दर्य वर्धक के रूप में 




गेरू को दही के साथ मिलाकर चेहरे पर लगानें से चेहरा कांतिमय और दाग धब्बे रहित बन जाता हैं ।




9.बालों पर 



नहानें से पूर्व गेरू गीलाकर   बालों पर लगानें से बाल मुलायम और चमकदार बनतें हैं । 




10.एनिमिया में



गेरू में फेरस आँक्साइड़ प्रचुरता में मिलता हैं । यह आँक्साइड़ हिमोग्लोबिन को स्वस्थ्य बनाता हैं । यदि गेरू की मिट्ट  से बनें मटके का पानी पिया जायें तो एनिमिया की समस्या दूर हो जाती हैं ।




11.जोड़ों के दर्द में geru ke fayde



गेरू को सरसो तेल के साथ गर्म करके जोडों पर बाँधनें से जोड़ों का दर्द बहुत जल्दी दूर होता हैं ।




12.सिरदर्द में geru ke fayde



यदि सिरदर्द की समस्या बहुत दवाई लेनें के बाद भी समाप्त नही हो रही हैं तो गेरू को पुदीना के रस के साथ मिलाकर सिर पर बाँधनें से सिरदर्द की समस्या समाप्त हो जाती हैं ।



13.तनाव में 



तनावमुक्त जीवन हर किसी का सपना होता हैं यदि गेरू को सिर पर रखकर धिरें - धिरें तब तक पानी डाला जायें जब तक की गेरू पूरा गलकर पानी के साथ बह न जायें ,ऐसा करनें से तनाव समाप्त हो जाता हैं और मनुष्य खुशहाल जीवन व्यतीत करता हैं ।




गेरू मिट्टी से बने पात्र में भोजन बनानें से भोजन स्वादिष्ट बनता हैं और यह भोजन अपनें नैसर्गिक गुणों से संपन्न रहता हैं । यह भोजन आयु और स्वास्थ्य को उत्तम रखता हैं । 



14.हाइपोथायरायडिज्म में गेरू के औषधीय फायदे



गेरू मिट्टी में सेलिनियम नामक खनिज पदार्थ प्रचुरता से पाया जाता हैं यह खनिज पदार्थ थायराइड़ ग्रंथि की कार्यप्रणाली सुधारकर हाइपोथायरायडिज्म रोग में फायदा पहुंचाता है । इसके लिए गेरू मिट्टी में उगा अनाज या फल सब्जी का सेवन करना चाहिए ।






० निर्गुण्डी के फायदे






० fitness के लिये सतरंगी खानपान




० नीम के औषधीय उपयोग



० प्याज के औषधीय प्रयोग




0 बबूल पेड़ के फायदे




० मुंह का कैंसर





दशमूल क्वाथ





० काला धतूरा के फायदे और नुकसान




० मोतियाबिंद क्या होता हैं




० दही के फायदे



० बांस के औषधीय गुण




० षडबिन्दु तेल, सोमराज तेल और कासिसादी तेल




०हर्ड इम्यूनिटी क्या होती हैं



० फंगल इंफेक्शन




० गेंहू के जवारे के औषधीय गुण





० draksharishta-ke-fayde.html

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट