सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

TULSI ,THE MEDICINAL PLANTS FOR HUMAN BEINGS

     #1.परिचय::-



       हिन्दू धर्म विश्व का सबसे प्राचीन और वैग्यानिक        धर्म माना गया हैं,और इसको वैग्यानिक बनानें में        इस धर्म के प्रतीकों जैसें तुलसी ,पीपल का              विशिष्ठ स्थान हैं.तुलसी के बिना हिन्दू                      धर्मावलम्बीयों का आँगन सुना माना जाता                हैं.बल्कि यहाँ तक कहा जाता हैं,कि जहाँ              तुलसी का वास नहीं होता वहाँ देवता भी निवास        नहीं करतें हैं.बिना तुलसी के चढ़ाया हुआ प्रसाद        भी ईश्वर ग्रहण नहीं करतें हैं.
                     
Tulsi picture
 Tulsi plant
                        
    तुलसी की 6 से 7 प्रकार की किस्में होती हैं,परन्तु     मुख्य रूप से तीन प्रकार की ही तुलसी अधिक         अधिक प्रचलन में हैं.जो निम्न हैें::-


#1. राम तुलसी जिसका वानस्पतिक नाम (scientific name) आँसीमम ग्रेटिकम हैं.


#2.काली तुलसी या कृष्ण तुलसी जिसका वानस्पतिक नाम आँसीमम अमेरिकन हैं.


#3.पवित्र तुलसी इसे वानस्पतिक जगत में आँसीमम सेक्टम कहतें हैं.


भारतीय घरों में राम तुलसी जिसकी पत्तियाँ हरी (green) तथा कृष्ण तुलसी जिसकी पत्तियाँ बैंगनी रंग की होती हैं ,पायी जाती हैं.


   #2.संगठन (compositions)::-



    तुलसी की पत्तियों में 0.3 % तेल की मात्रा होती       हैं,जिनमें युजीनाँल 71% , युजीनाँल मिथाईल         ईथर 20%, तथा 3% काविकोल रहता हैं. इसमें       विटामिन सी प्रचुरता में पाया जाता हैं.एसिड़             (acid) के रूप में पामिटिक,औलिक तथा               लिनोलैनिक अम्ल उपस्थित रहतें हैं.जैव रसायनों       में ट्रेनिन,सेवेनिन ,एल्कोलाँइड़ तथा ग्लाइकोलाँइड़     उपस्थित रहतें हैं.


#3.तुलसी का औषधिगत उपयोग::-



   जहाँ तक तुलसी के औषधिगत प्रयोग की बात          हैं,वहाँ भारतीय धर्मग्रन्थ और आयुर्वैदिक ग्रन्थों में      इसके विषय में विस्तारपूर्वक लिखा गया                  हैं.भावप्रकाश निघण्टु में लिखा हैं::-


  तुलसी कटुका तिक्ता हृघोष्णा दाहपित्तकृत         दीपक कुष्ठकृच्द्दास्त्रपाश्व्र रूक्कफवातजित



   अर्थात तुलसी की पृकृति उष्ण स्वाद कड़वा होता      हैं,इसके सेवन से पित्त, दाह,रक्तविकार,वात जैसें      रोग शांत होकर रोग प्रतिरोधकता बढ़ती हैं.




   तुलसी पर अनेक शोध हो चुके हैं और इन शोधों के    द्धारा तुलसी अनेक रोगों पर प्रभावी सिद्ध हो चुकी    हैं,जैसें::-
#1.तुलसी कीटाणु और जीवाणुनाशक होती है,इसमें पाया जानें वाला ईथर ट्यूबरक्लोसिस (tuberculosis) के जीवाणु को बढ़नें से रोक देता हैं.इसके लिये तुलसी को विशेष अनुपात में मक्खन और शहद (honey) में मिलाकर रोगी को सेवन करवातें हैं.




#2. मलेरिया होनें पर तुलसी के पत्तों को 5:3:1 में काली मिर्च और लौंग के साथ पीस लें यह मिश्रण बराबर हिस्सों में बाँटकर सुबह शाम मरीज को देतें रहें एक हफ्तें तक देतें रहनें से मलेरिया (malaria) ,जड़ से खत्म हो जाता हैं,इसके साथ हल्दी,चिरायता,गिलोय मिश्रित कर देनें पर स्वाइन फ्लू (swine flu) की औषधि तैयार की जाती  हैं.



#3. Typhoid होनें पर तुलसी रस को पुनर्नवा के साथ मिलाकर देनें से तत्काल फायदा होता हैं.



#4.गठिया ( Rumetoid arthritis) में गाय के दूध में तुलसी के पत्तों को पीसकर एक घंटे के लियें रख दें,तत्पश्चात दूध पीयें.



 #5.स्मरण शक्ति कमज़ोर होनें पर रोज़ पाँच तुलसी पत्र मिस्री के साथ सेवन करें.



#6.फोड़े फुंसियों तथा रक्त सें संबधित विकारों में तुलसी बीज का सेवन गिलोय के साथ करें.



#7.नपुसंकता होनें पर तुलसी बीज का सेवन गाय के दूध के साथ करें.



#8.तुलसी जड़ को बारीक पीसकर पान के साथ मिलाकर खाते रहनें से बांझपन नहीं रहता हैं.



#9. सर्दी, खाँसी हो जानें पर तुलसी, अदरक,काली मिर्च,लोंग तथा अजवाइन मिलाकर काढ़ा बनाकर पीनें से तुरन्त आराम मिलता हैं.



#10. तुलसी पत्तियों, करी पत्तियों तथा महुआ पत्तियों को समान मात्रा में मिलाकर पीस लें इसे भोजन के साथ चट़नी की तरह खायें मधुमेह (Diabetes) का रामबाण इलाज हैं.



#11.आँखों से कम दिखाई देता हो तो तुलसी रस में सफेद प्याज (white onion) का रस 5:1 मात्रा में मिलाकर आँखों में डालें.



#12. यदि नाक की सूघंनें की क्षमता खत्म हो गई हो तो तुलसी पत्र को हाथों  से मसलकर सूँघना चाहियें.



#13.चेहरे पर झुर्रीया ,कील मुहाँसे हटानें तथा चेहरे का सोन्दर्य  बढ़ानें हेतू तुलसी रस को चंदन पावडर के साथ मिलाकर नहानें से पहलें चेहरे पर लगायें.




#14.तुलसी निम्न रक्तचाप के लिए जानी मानी औषधि हैं तुलसी के पत्तों का सुबह शाम सेवन न केवल निम्न रक्तचाप को ठीक कर सामान्य बनाता हैं बल्कि तुलसी शरीर का रक्तसंचार भी ठीक रखती हैं।



# तुलसी शरीर को प्रदूषण से बचाती हैं आधुनिक शोधों के अनुसार तुलसी के दो तीन पत्तें रोज खानें से व्यक्ति के शरीर पर पड़नें वाला प्रदूषण का प्रभाव बहुत कम हो जाता हैं और शरीर में मौजूद प्रदूषक कण शरीर से बाहर निकल जातें हैं। 











तुलसी की उपयोगिता को लेकर अनेक शोध हो रहें हैं,और अनेक हो चुके हैं.एक महत्वपूर्ण शोध के अनुसार जिस जगह तुलसी का पौधा लगा होता हैं,उसके पाँच मीट़र तक मच्छर नहीं रहतें हैं.

एक अन्य शोध के अनुसार जिस जगह तुलसी पौधा हरा भरा होता हैं वह जगह स्वच्छ मानी जाती हैं,यदि तुलसी पौधा किसी जगह पर पर्याप्त देखभाल के बाद भी नहीं पनप पाता हैं,तो वह जगह निश्चित रूप से प्रदूषित मानी जाती हैं.

हमारें आँगन में तुलसी लगानें का भी यहीं उद्देश्य रहा होगा तभी हम इस परंपरा को धार्मिक मानकर आज तक अपना रहें हैं.और यही परम्परायें हिन्दू धर्म को scientific धर्म बना रहीं है




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की  आयुर्वेदिक औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसक

पारस पीपल के औषधीय गुण

पारस पीपल के औषधीय गुण Paras pipal KE ausdhiy gun ::: पारस पीपल के औषधीय गुण पारस पीपल का  वर्णन ::: पारस पीपल पीपल वृक्ष के समान होता हैं । इसके पत्तें पीपल के पत्तों के समान ही होतें हैं ।पारस पीपल के फूल paras pipal KE phul  भिंड़ी के फूलों के समान घंटाकार और पीलें रंग के होतें हैं । सूखने पर यह फूल गुलाबी रंग के हो जातें हैं इन फूलों में पीला रंग का चिकना द्रव भरा रहता हैं ।  पारस पीपल के  फल paras pipal ke fal खट्टें मिठे और जड़ कसैली होती हैं । पारस पीपल का संस्कृत नाम  पारस पीपल को संस्कृत  में गर्दभांड़, कमंडुलु ,कंदराल ,फलीश ,कपितन और पारिश कहतें हैं।  पारस पीपल का हिन्दी नाम  पारस पीपल को हिन्दी में पारस पीपल ,गजदंड़ ,भेंड़ी और फारस झाड़ के नाम से जाना जाता हैं ।   पारस पीपल का अंग्रजी नाम Paras pipal ka angreji Nam ::: पारस पीपल का अंग्रेजी नाम paras pipal ka angreji nam "Portia tree "हैं । पारस पीपल का लेटिन नाम Paras pipal ka letin Nam ::: पारस पीपल का लेटिन paras pipal ka letin nam नाम Thespesia