सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

परिचय :::

Waterchestnut, सिंघाड़े
 Singhade 

सिंघाडा जलाशयों में पैदा होनें वाला एक अत्यन्त पोष्टिक,शाकाहारी फल हैं,इसकी बाहरी त्वचा कठोर होती हैं,जबकि अन्दर का फल मुलायम,स्वादिष्ट,और सफेद रंग का होता हैं.भारतीयों समाज में सिंघाड़ा अनुपम स्थान रखता हैं, क्योंकि इसके बने आटे की रसोई उपवास जैसे पवित्र तप में उपयोग लाई जाती हैं.

सिंघाड़े की प्रकृति :::


सिंघाड़ा शीत प्रकृति का फल हैं.

सिंघाड़े में पाये जानें वालें पोषक तत्व :::


  पानी                    प्रोटीन.                 फायबर

70 Gm.                 4.7 gm.              0.6mg


  वसा                   शुगर.               खनिज तत्व

0.3 gm.             23.3 gm.            1.1 gm


कैल्सियम.            फास्फोरस.           आयरन

020.0mg.              150 mg.            0.8 mg


पोटेशियम.             मैग्नीशियम.           काँपर

650 mg.                   72 mg.          1.31mg


मैगनीज.                  जिंक               क्रोमियम

0.85 mg.             1.56 mg          0.011mg


थायमिन.              राइबोफ्लेविन.      नियामिन

0.50 mg.               0.07 mg.         0.50mg


विटामिन सी                         एनर्जी

   9.0 mg.                            115 kcal

                                              [प्रति 100 ग्राम]


                  

सिंघाड़े के फायदे :::


• सिंघाड़ा जल का अति उत्तम स्रोत हैं,अत:जल की कमी होनें पर सिंघाड़े का सेवन अति लाभप्रद हैं,सफर के दोरान या पर्वतारोहण के समय सिंघाड़े को खानें से थकावट़ महसूस नहीं होती हैं.

• अतिसार [Dysentery] में सिंघाड़े का सेवन बहुत लाभदायक होता हैं,इसमें उपस्थित जिंक पतले दस्त में शीघ्र आराम देता हैं.

• कब्ज होनें पर इसका सेवन रात को भोजन के पश्चात किया जावें तो सुबह खुलकर पाखाना आता हैं.

• इसमें उपस्थित फायबर आंतों की गहराई से सफाई करता हैं,और उन्हें मज़बूत बनाता हैं.

• पायरिया या दाँतो से संबधित कोई अन्य समस्या होनें पर सिंघाड़े के छिलके पीसकर मंजन की तरह इस्तेमाल करें.इसके फल को खानें से भी बहुत फायदा होता हैं,क्योंकि यह विटामिन सी का उत्तम स्रोत हैं,जो कि स्वस्थ दांतों और मसूड़ो के लिये आवश्यक हैं.

• कुपोषण से ग्रसित किशोरों और बच्चों को यदि नियमित रूप से 100 gm सिंघाड़े खिलायें जायें तो तीन मास की अवधि में कुपोषण समाप्त हो जावेंगा.

• इसके आट़े से बनी रोटी गर्भवती स्त्रीयाँ खायें तो न केवल बच्चा तंदुरूस्त पैदा होगा,बल्कि प्रसव पश्चात माताओं को दूध भी पर्याप्त मात्रा में और लम्बें समय तक आयेगा.

• हड्डीयों से संबधित समस्या होनें जैसें fracture, हड्डी का अपनी जगह से खिसकना आदि में इसका सेवन बहुत लाभदायक होता हैं.साथ ही इसके गुदे को पीसकर fracture वाली जगह बांधनें से दर्द कम हो जाता हैं,तथा पेनकिलर लेनें की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं.

• बच्चों के दाँत निकलते समय इसका सेवन करवानें से बच्चों को होनें वाली शारीरिक परेशानी नहीं होती और दाँत आसानी से निकलतें हैं.

• टाँफी,चाकलेट आदि पदार्थों के सेवन से बच्चों के दाँत बहुत जल्दी ख़राब होतें ऐसे में सिंघाड़े का सेवन अत्यन्त लाभकारी हैं,क्योंकि इसमें उपस्थित कैल्सियम और फास्फोरस दाँतों को खराब नही होनें देता.


० शास्त्रों में वर्णित है तेलों के फायदे


• पथरी की समस्या होनें पर सिंघाड़े के आटे़ में हल्का नमक मिलाकर रोटी बनाकर खायें बहुत आराम मिलेगा.

• सिंघाड़ा रक्तचाप नियत्रिंत करता हैं.अत : रक्तचाप को नियमित करनें के लिये इसका सेवन बहुत चमत्कारिक परिणाम देता हैं.

• सिंघाड़े में शर्करा पर्याप्त मात्रा में उपस्थित होती हैं,जो मधुमेह रोगीयों के लिये भी अहानिकारक होती हैं.

• मिरगी रोग की समस्या होनें पर इसके आट़े का हलवा गाय के दूध में बनाकर खिलाना चाहियें.

• सिंघाड़ा " मस्तिष्क आहार" हैं,इसमें उपस्थित खनिज़ पदार्थ मस्तिष्क का सम्पूर्ण विकास करनें में मदद करतें हैं.

• सिंघाड़ा शरीर से विषैलें पदार्थों को बाहर निकालकर कैंसर जैसें रोग से बचाता हैं.

• इसमें पानी पर्याप्त मात्रा में होता हैं,जो त्वचा में नमी का स्तर बनायें रखता हैं,फलस्वरूप त्वचा मुलायम और कांतिमय बनी रहती हैं.इसके लियें सिंघाड़े का सेवन और इसके आटे का उबटन शरीर पर लगाया जाता हैं.

• इसमें पोटेशियम होता हैं,जो किड़नी की कार्यपृणाली को सुचारू रूप से चलाता हैं,अत : किड़नी रोगीयों के लियें सिंघाड़ा वरदान हैं.

तो दोस्तों हैं,ना सिंघाड़ा अनुपम फल.
SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह