सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

परिचय :::

Waterchestnut, सिंघाड़े
 Singhade 

सिंघाडा जलाशयों में पैदा होनें वाला एक अत्यन्त पोष्टिक,शाकाहारी फल हैं,इसकी बाहरी त्वचा कठोर होती हैं,जबकि अन्दर का फल मुलायम,स्वादिष्ट,और सफेद रंग का होता हैं.भारतीयों समाज में सिंघाड़ा अनुपम स्थान रखता हैं, क्योंकि इसके बने आटे की रसोई उपवास जैसे पवित्र तप में उपयोग लाई जाती हैं.

सिंघाड़े की प्रकृति :::


सिंघाड़ा शीत प्रकृति का फल हैं.

सिंघाड़े में पाये जानें वालें पोषक तत्व :::


  पानी                    प्रोटीन.                 फायबर

70 Gm.                 4.7 gm.              0.6mg


  वसा                   शुगर.               खनिज तत्व

0.3 gm.             23.3 gm.            1.1 gm


कैल्सियम.            फास्फोरस.           आयरन

020.0mg.              150 mg.            0.8 mg


पोटेशियम.             मैग्नीशियम.           काँपर

650 mg.                   72 mg.          1.31mg


मैगनीज.                  जिंक               क्रोमियम

0.85 mg.             1.56 mg          0.011mg


थायमिन.              राइबोफ्लेविन.      नियामिन

0.50 mg.               0.07 mg.         0.50mg


विटामिन सी                         एनर्जी

   9.0 mg.                            115 kcal

                                              [प्रति 100 ग्राम]


                  

सिंघाड़े के फायदे :::


• सिंघाड़ा जल का अति उत्तम स्रोत हैं,अत:जल की कमी होनें पर सिंघाड़े का सेवन अति लाभप्रद हैं,सफर के दोरान या पर्वतारोहण के समय सिंघाड़े को खानें से थकावट़ महसूस नहीं होती हैं.

• अतिसार [Dysentery] में सिंघाड़े का सेवन बहुत लाभदायक होता हैं,इसमें उपस्थित जिंक पतले दस्त में शीघ्र आराम देता हैं.

• कब्ज होनें पर इसका सेवन रात को भोजन के पश्चात किया जावें तो सुबह खुलकर पाखाना आता हैं.

• इसमें उपस्थित फायबर आंतों की गहराई से सफाई करता हैं,और उन्हें मज़बूत बनाता हैं.

• पायरिया या दाँतो से संबधित कोई अन्य समस्या होनें पर सिंघाड़े के छिलके पीसकर मंजन की तरह इस्तेमाल करें.इसके फल को खानें से भी बहुत फायदा होता हैं,क्योंकि यह विटामिन सी का उत्तम स्रोत हैं,जो कि स्वस्थ दांतों और मसूड़ो के लिये आवश्यक हैं.

• कुपोषण से ग्रसित किशोरों और बच्चों को यदि नियमित रूप से 100 gm सिंघाड़े खिलायें जायें तो तीन मास की अवधि में कुपोषण समाप्त हो जावेंगा.

• इसके आट़े से बनी रोटी गर्भवती स्त्रीयाँ खायें तो न केवल बच्चा तंदुरूस्त पैदा होगा,बल्कि प्रसव पश्चात माताओं को दूध भी पर्याप्त मात्रा में और लम्बें समय तक आयेगा.

• हड्डीयों से संबधित समस्या होनें जैसें fracture, हड्डी का अपनी जगह से खिसकना आदि में इसका सेवन बहुत लाभदायक होता हैं.साथ ही इसके गुदे को पीसकर fracture वाली जगह बांधनें से दर्द कम हो जाता हैं,तथा पेनकिलर लेनें की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं.

• बच्चों के दाँत निकलते समय इसका सेवन करवानें से बच्चों को होनें वाली शारीरिक परेशानी नहीं होती और दाँत आसानी से निकलतें हैं.

• टाँफी,चाकलेट आदि पदार्थों के सेवन से बच्चों के दाँत बहुत जल्दी ख़राब होतें ऐसे में सिंघाड़े का सेवन अत्यन्त लाभकारी हैं,क्योंकि इसमें उपस्थित कैल्सियम और फास्फोरस दाँतों को खराब नही होनें देता.


० शास्त्रों में वर्णित है तेलों के फायदे


• पथरी की समस्या होनें पर सिंघाड़े के आटे़ में हल्का नमक मिलाकर रोटी बनाकर खायें बहुत आराम मिलेगा.

• सिंघाड़ा रक्तचाप नियत्रिंत करता हैं.अत : रक्तचाप को नियमित करनें के लिये इसका सेवन बहुत चमत्कारिक परिणाम देता हैं.

• सिंघाड़े में शर्करा पर्याप्त मात्रा में उपस्थित होती हैं,जो मधुमेह रोगीयों के लिये भी अहानिकारक होती हैं.

• मिरगी रोग की समस्या होनें पर इसके आट़े का हलवा गाय के दूध में बनाकर खिलाना चाहियें.

• सिंघाड़ा " मस्तिष्क आहार" हैं,इसमें उपस्थित खनिज़ पदार्थ मस्तिष्क का सम्पूर्ण विकास करनें में मदद करतें हैं.

• सिंघाड़ा शरीर से विषैलें पदार्थों को बाहर निकालकर कैंसर जैसें रोग से बचाता हैं.

• इसमें पानी पर्याप्त मात्रा में होता हैं,जो त्वचा में नमी का स्तर बनायें रखता हैं,फलस्वरूप त्वचा मुलायम और कांतिमय बनी रहती हैं.इसके लियें सिंघाड़े का सेवन और इसके आटे का उबटन शरीर पर लगाया जाता हैं.

• इसमें पोटेशियम होता हैं,जो किड़नी की कार्यपृणाली को सुचारू रूप से चलाता हैं,अत : किड़नी रोगीयों के लियें सिंघाड़ा वरदान हैं.

तो दोस्तों हैं,ना सिंघाड़ा अनुपम फल.
SINGHADE [WATER CHESTNUT] KE FAYDE

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू  आयुर्वेद की विशिष्ट औषधि हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके ल

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER  पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी। अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी। तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें BPGRIT INGREDIENTS 1.अर्जुन छाल चूर्ण ( Terminalia Arjuna ) 150 मिलीग्राम 2.अनारदाना ( Punica granatum ) 100 मिलीग्राम 3.गोखरु ( Tribulus Terrestris  ) 100 मिलीग्राम 4.लहसुन ( Allium sativam ) 100  मिलीग्राम 5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम 6.शुद्ध  गुग्गुल ( Commiphora mukul )  7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम 8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम 9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम 10. Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम 11. Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS 1.गजवा  ( Onosma Bracteatum) 2.ब्राम्ही ( Bacopa monnieri) 3.शंखपुष्पी (Convolvulus pl

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही।Nange sone ke fayde

  जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही nange sone ke fayde इंटरनेट पर जानी मानी विदेशी health website जीवन-साथी के साथ नंगा सोने के फायदे बता रही है लेकिन क्या भारतीय मौसम और आयुर्वेद मतानुसार मनुष्य की प्रकृति के हिसाब से जीवनसाथी के साथ नंगा सोना फायदा पहुंचाता है आइए जानें विस्तार से 1.सेक्स करने के बाद नंगा सोने से नींद अच्छी आती हैं यह बात सही है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद जब हम पार्टनर के साथ नंगा सोते हैं तो हमारा रक्तचाप कम हो जाता हैं,ह्रदय की धड़कन थोड़ी सी थीमी हो जाती हैं और शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे बहुत जल्दी नींद आ जाती है।  भारतीय मौसम और व्यक्ति की प्रकृति के दृष्टिकोण से देखें तो ठंड और बसंत में यदि कफ प्रकृति का व्यक्ति अपने पार्टनर के साथ नंगा होकर सोएगा तो उसे सोने के दो तीन घंटे बाद ठंड लग सकती हैं ।  शरीर का तापमान कम होने से हाथ पांव में दर्द और सर्दी खांसी और बुखार आ सकता हैं । अतः कफ प्रकृति के व्यक्ति को सेक्सुअल इंटरकोर्स के एक से दो घंटे बाद तक ही नंगा सोना चाहिए। वात प्रकृति के व्यक्ति को गर्मी और बसंत में पार्टनर के साथ नंगा होकर सोने में कोई