मंगलवार, 15 दिसंबर 2015

ALLERGIC RHINITIS

क्या हैं एलर्जिक रायनाइटिस--:

Rhinitis allergy एक प्रकार की नाक की एलर्जी हैं.नाक साँस लेनें के अलावा हवा को फिल्टर करनें का काम भी करता हैं.जब बाहरी कण जैसे धूल,परागकण आदि नाक द्धारा शरीर में प्रवेश करतें हैं,तो राइनाइटिस एलर्जी का खतरा बढ़ जाता हैं.यह किसी भी मौसम में और उमृ में हो सकता हैं.

प्रकार-

यह दो प्रकार का होता हैं-
१.मौसमी -यह किसी विशेष मौसम में होता  हैं.
२.स्थाई- यह साल भर पीड़ित को अपनी चपेट में लेकर रखता हैं.मौसम बदलनें का इस पर कोई प्रभाव नहीं होता हैं,बल्कि किसी खास मौसम में यह और अधिक विकराल रूप धारण कर लेता हैं.

कारण-

१.परागकण
२.धूल,धुआँ,प्रदूषण,
३.नमी
४.जानवरों के बाल रेशे.
५.अचानक मौसम परिवर्तन.
६.डस्ट माइट्स

लछण::-

१.लगातार छींक आना.
२.सूंघनें की शक्ति कम होना.
३.लम्बें समय तक खाँसी ,गलें में खींच-खींच.
४.नाक से पानी बहना या बंद हो जाना.
५.साँस लेनें में तकलीफ.
६.गलें व आँखों में खुजली.
सावधानी::-
१.घर से निकलतें वक्त मास्क का प्रयोग करें.
२.घरों में फूलों वाले गमलें ना लगावें.
३.पालतू जानवर न रखें व इनसे दूरी बनाकर चलें.
४.परफ्यूम व अन्य सुगंधित पदार्थों का प्रयोग न करें.
५.नाक की नियमित रूप से सफाई करें.

उपचार-:


१.गर्म पेय पदार्थों का सेवन करें जैसें चाय,और मसालेदार चाय काढ़ा.
२.नाक में गोघ्रत को नियमित रूप से डालते रहें.
 अन्य औषधियों से संबधित उपचार के लियें वैघकीय परामर्श लें. http://www.healthylifestylehome.com/2016/05/tulsi-amrut.html

Svyas845@gmail.com


शनिवार, 31 अक्तूबर 2015

POWER OF VITAMIN E ,

VITAMIN   E

over the years, there has been a growing realization that harmful effects can result from free radical processes ocuring in biological system. With this realization and with a better understanding of the function of vitamin e.there has been a renewed interest in a- tocopherol,the most potent biological and antioxidant form of the vitamin. Vitamin E is a term that encompasses a group of potent,lipid-soluble,chain-breaking antioxidants.Structural analysis have revealed that molecules having vitamin E antioxidant activity include four tocopherols and four tocotrienols tocopherol is the predominant form of vitamin E in blood, no matter what the composition of the diet,because of the preferential uptake of vitamin E transport proteins a- tocopherol is the most common fat soluble vitamin in  human blood,with concentration ranging from 15 to 40 mg/l


DISCOVERY OF VITAMIN E

It is an essential nutrient for humans and most animal species, especially early in life, vitamin E deficiency is characterised by muscular dystrophy. Neurological abnormalities is rare and observed in premature infants and people of all ages with chronic fat malabsorption. Vitamin E was discovered in 1922 by Evans and Bishop as a compound required for reproduction of rats.since then,many scientists and physicians have sought to elucidate its biochemistry, health benefits and clinical applications and innumerable attempts have been undertaken to finally find out why vitamin E is an essential micronutrient in humans. Even almost 90 years of its discovery, however the real biological role of vitamin E remains enigmatic. Oxidative stress in biological systems originates as a result of an imbalance between the generation of oxidizing species and cellular antioxidant defenses.
Numerous enzymatic and non-enzymatic mechanism take place to protect the cell against oxidative damage. The radical chain reaction of lipid peroxidation appears to be a continuous physiological process.
The process, if out of control,can alter essential cell functions and lead to cell death. In 1937 the antioxidant action of vitamin E was described for the first time.vitamin E a free radical scavenger is a major contributor to non- enzymatic protection against lipid peroxidation.vitamin E as a lipid soluble, chain-breaking antioxidant plays a major protective role against oxidative stress and prevents the production of lipid peroxides by scavenging free radicals in biological membranes.

ADVANTAGE OF VITAMIN E


Studies have also revealed that vitamin E possesses an antioxidative activity in protecting cells from damage by highly reactive superoxide free radicals. The antioxidant activity of vitamin E has persuaded many groups to study its ability to prevent chronic diseases, especially those believed to have an oxidative stress component such as cardiovascular diseases, atherosclerosis, and cancer. Epidemiological studies have reported that high Vitamin E intakes are correlated with a reduced risk of cardiovascular diseases, whereas intakes of other dietary antioxidants (such as vitamin c and b-carotene) are not,suggesting that vitamin E plays specific roles beyond that of its antioxidant function.The possibility that vitamin E has an ameliorative effect in chronic disease has spurred interest in determining its specific molecular functions and whether these are related to its antioxidant function.

VITAMIN E AND MALE INFERTILITY

Infertility affects approximately 15% of all couples trying to conceive. It's major clinical problem, affecting people medically and psychologically.male factor infertility is the major cause in roughly half of the cases,and identifiable cause can be found in over 25% of infertile males.Out of many causes of male infertility, oxidative stress has been attributed to affect the fertility status and thus ,it has been studied extensively in recent years.
Numerous studies have been reported beneficial effects of antioxidant drugs on semen quality. This study aimed to test the effect of vitamin E and selenium supplementation on lipid peroxidation and on sperm parameters. 28 men were supplemented daily by vitamin E and selenium during 3 months. The remaining 26 patients received vitamin B for the same duration. In contrast of vitamin B supplementation. Vitamin E and selenium supplementation produced a significant decrease in MDA(malondialdehyde) concentration and an improvement of sperm motility. The result confirm the protective and beneficial effects of vitamin E on semen quality and advocate their use in male infertility treatment.

#2.vitamin E and fibrocystic Breast cancer :::

fibrosis is the formation of scar like (fibrous) tissue, and cysts are fluid filled sacs.These conditions are most often diagnosed by a doctor based on symptoms, such as breast lumps,swelling and tenderness or pain.These symptoms tend to be worse just before a woman's menstrual period is about to begin.Her breasts may feel lumpy and sometimes, she may notice a clear or slightly cloudly nipple discharge. most breast lumps are not cancerous (benign).still, some may need to be sampled and viewed under a microscope to prove they are not cancer.

 Most lumps turn out to be caused by fibrosis and cysts, benign changes in the breast tissue that happen in many women at some time in their lives.

mechanism of action:::


• localisation of vitamin E in membranes protects tissue against the harmful effects of free radicals generated during normal metabolic process, such as steroid synthesis.

• vitamin E helps in reduction of lump size and decreases the tenderness of breast.

#3.vitamin E and leg cramps:::

Nocturnal leg cramps are pains that occur in the legs during the night.They usually cause awakening from sleep,but they may also occur while awake at night during periods of inactivity.These cramps are most often present in the calf muscles but can also occur in the thighs or feet.

Leg cramps also known as intermittent claudication is caused due to less blood flow through arteries due to clogging.


mechanism of action :::

• vitamin E increases the production of substance that can increase the dilation of blood vessels, according to a new in vitro study.

• vitamin E causes vasodilation of the endothelium hence maintaining normal coronary blood flow.


#4.vitamin E in Allergic Rhinitis::


Allergic rhinitis, often called allergies or hey fever,occur when your immune system overreacts to particles in the air that you breathe you are allergic to them.Your immune system attacks the particles in your body, causing symptoms such as sneezing and a runny nose.The particles are called allergens,which simply means they can cause an allergic reaction.

mechanism of action:::

• Vitamin E reduced oxidative stress and immunophysiologic array of allergic respiratory tract responses,including most notably antigen induced early I'll 5 increase and airway hyper reactivity.





रविवार, 11 अक्तूबर 2015

MUSCLE BUILDING

#1.शरीर सोष्ठव::-

आज के युवा वर्ग का सपना अच्छे केरियर के अलावा स्वस्थ और मज़बूत तन भी बनता जा रहा हैं.और इस प्रवृत्ति को बढ़ानें में अभिनेता अभिनेत्रियों ने विशेष योगदान दिया हैं.हर युवा व्यायाम को छोड़ इन्हीं अभिनेताओं द्वारा प्रचारित महँगें -महँगें फूड़ सप्लीमेंट़ का उपयोग कर मज़बूत तन प्राप्त करना चाहता हैं.

फूड़ सप्लीमेंट़ का उपयोग लम्बें समय तक करतें रहनें से कभी कभी शरीर कई दूसरी समस्या की गिरफ़्त में आ जाता हैं,अधिकाँशत: यह भी देखनें में आता हैं,कि फूड़ सप्लीमेंट़ बंद कर देने पर शरीर पहलें वाली स्थिति से भी कमजोर हो जाता हैं.

#2 आयुर्वैद और योग की भूमिका::-

प्राचीन काल से ही योग और आयुर्वैद ने मनुष्य के शरीर को मज़बूत बनाने के लिये विशेष कार्य किया हैं,और आज भी इस भूमिका का बखूबी निर्वहन कर रहा किन्तु कुछ लोगों  ने आयुर्वैद के नाम पर स्टेराइड़ को बेचकर लोगों को भ्रमित किया हैं.
आईयें जानतें है स्वस्थ शरीर के निर्माण में योग और आयुर्वैद की भूमिका

#१.अश्वगंधा चूर्ण को गोघ्रत में मिलाकर इससे सम्पूर्ण शरीर पर मालिश करें और दस मिनिट तक धूप में बेठें तत्पश्चात स्नान करें लम्बी उम्र के साथ मज़बूत शरीर की गारन्टी हैं.

#२. रात में सिद्ध मकरध्वज को दूध में मिलाकर उबाले सुबह उठने पर इस दूध का सेवन करें माँसपेशियों को मज़बूत करनें का अचूक नुस्खा हैं.
#३. लोहासव और द्राछासव को  दो दो चम्मच मिलाकर सुबह शाम सेवन करनें से माँसपेशियाँ समान रूप में बनी रहती हैं.

योगिक क्रियाएँ::-

#१.हंसासन,सूर्य नमस्कार, शीर्षासन करते रहनें से शरीर मज़बूत बनता हैं.
#२.शरीर को स्ट्रेच करनें वाले व्यायाम करते रहना चाहियें.
#३. योगिक जांगिग करें.
#४. यदि तैरना आता हो और तेरनें की सुविधा हो तो नियमित रूप से तेरना चाहियें माँसपेशियों की मज़बूती का सबसे अच्छा व्यायाम हैं.

Svyas845@gmail.com


बुधवार, 7 अक्तूबर 2015

ह्रदयाघात [ HEART ATTACK] पूर्व संकेत और प्राथमिक उपचार

#.सामान्य परिचय::-

सम्पूर्ण विश्व में तेजी से बदलतें सामाजिक, आर्थिक और तकनीकी (Technological) परिदृश्य ने ह्रदय रोगों को मनुष्य के शरीर में ह्रदय रोगों को मनुष्य शरीर में स्थाई निवास करनें का भरपूर अवसर प्रदान किया हैं.जिस प्रकार आज का मनुष्य सोशल मिड़िया के सामनें बेठकर २४ घंटों में से १५ से १६ घंटें बीता रहा हैं,उससे W.H.O.का यह दावा सही साबित हो सकता हैं,कि २०२० तक मरनें वाले लोगों में हर तीसरा व्यक्ति ह्रदय से संबधित रोगों वाला होगा.

ह्रदय मनुष्य शरीर का महत्वपूर्ण अंग हैं जो मनुष्य के जन्म से ही लगातार काम करता रहता हैं,और इसकी एक एक धड़कन मनुष्य के जीवित रहनें का प्रमाण हैं,ऐसे में यदि दिल बीमार हो जाता हैं तो मनुष्य का कर्तव्य बन जाता हैं,कि वह उसकी बीमारी को नज़रंदाज न करें.
Heart
 Heart
                       

#.ह्रदय से सम्बंधित बीमारीयाँ::-

१.उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप.
२.ह्रदय शूल (angina pectoris).
३.ह्रदय दोर्बल्य.
४.congestive heart fellure.
४.ह्रदय गति असामान्य रूप से बढ़ना.
५.शिराओं का फूलना.
६. ह्रदय की पेशियों की सिकुड़न.
७. जन्मजात ह्रदय से सम्बंधित रोग जैसे दिल में छेद होना.

#.आयुर्वैद मतानुसार ह्रदय रोग::-

१.वातज::-

अधिक शारिरीक व्यायाम,भूखे रहने पर,सदमा लगने पर,असंतुलित भोजन करनें से वायु प्रकुपित होकर ह्रदय प्रदेश में रोग उत्पन्न कर देती हैं.इन रोगों में में ह्रदय में खिंचावट़,ह्रदय में सुई चुभने जैसा लगना,angina pectoral,myocardial infection जैसे लछण प्रमुख हैं.

२.पित्तज::-

गर्म, कटु रस वाले द्रव्यों के सेवन से,शराब के सेवन से,क्रोध करनें से ह्रदय में पित्त का प्रकोप होकर पित्तज ह्रदय रोग हो जाता हैं.ह्रदय में जलन,मुँह में तीखा व अम्ल रस वाला पानी आना,चक्कर, बेहोशी आदि पित्तज ह्रदय रोग के चिन्ह होते हैं.

३.कफज़::-

कफवर्धक पदार्थों का अधिक सेवन,मेहनत का अभाव और अधिक आरामपरस्त होनें से कफज ह्रदय रोग होनें का खतरा रहता हैं.इनमें ह्रदय का शून्य सा होना,ह्रदय का जकड़ा सा लगना, मुँह का स्वाद मीठा सा लगना प्रमुख लछण होते हैं.

४.त्रिदोषज ::-

तीनों दोषों के अनुरूप ह्रदय रोग होनें से इसे त्रिदोषज ह्रदय रोग उत्पन्न होतें हैं.

५.कृमिज ह्रदय रोग::-

त्रिदोषज ह्रदय रोग की बड़ी हुई अवस्था ही कृमिज ह्रदय रोग होती हैं.इसमें ह्रदय में तीव्र पीड़ा,ह्रदय कम्पन आदि लछण प्रमुखता से उभरतें हैं.कभी कभी ह्रदय में विकृति भी आ जाती हैं,जिससे ह्रदय कपाट़ उचित रूप से बंद नहीं होतें हैं.



#.ह्रदयघात के पूर्व संकेत :::


१.ह्रदयाघात के पूर्व छाती में जकड़ाहट होती हैं,ह्रदय तीव्र दर्द करता हैं.

२.त्वचा चिचचिपी हो जाती हैं,और चेहरा पीला पड़ जाता हैं.ठंडा पसीना आता हैं.

३.थोड़ा सा चलनें पर या सीढ़ीया चढ़नें पर अत्यधिक थकान महसूस होती हैं.

४.बाँह,जबड़ें,में दर्द या पेट में बेचेनी 

५.कभी कभी ह्रदयघात से पूर्व व्यक्ति याददाश्त भी खो देता हैं,और बोलते समय शब्दों का गलत उच्चारण करता हैं.


#.उपचार::-

ह्रदय रोग चिकित्सा में आयुर्वैद अम्रत के समान लाभकारी हैं.यदि उचित चिकित्सा के साथ सम्यक जीवनशैली को अपनाया जावें तो रोगी शीघ्रतापूर्वक स्वस्थ होकर सामान्य जीवन जी सकता हैं.

१.अर्जुन छाल या अर्जुनारिष्ट़ का प्रयोग ह्रदय रोगों में सबसे आम व प्रमुखता से किया जाता है,इसके प्रयोग से कोलेस्ट्रोल नियत्रिंत होता हैं ,ह्रदय की धमनी मज़बूत बनती हैं और रक्तचाप नियत्रिंत होता हैं.

२.दशमूल क्वाथ का प्रयोग ह्रदय शूल(angina pector) में अद्भूत लाभ देता हैं.

३.आयुर्वैदिक ग्रीन टी का सेवन करनें से ह्रदय रोग होने की सम्भावना खत्म हो जाती हैं.

४.हल्दी का नियमित रूप से सेवन ह्रदय रोगी को करना चाहियें क्योंकि यह रक्त का थक्का नहीं बननें देती हैं.

५. जवाहरमोहरा पिष्टी का सेवन प्रवाल पिष्टी के साथ करनें से केसा भी ब्लाकेज हो खुल जाता है,और बायपास या एंजियोप्लास्टि की ज़रूरत नहीं पड़ती है.

६. योग की कुछ किृयाएँ ह्रदय रोग में अत्यधिक लाभकारी हैं जैसें प्राणायाम, कपालभाँति, अनुलोम-विलोम.

७.रेशायुक्त (fibre) खाद्य पदार्थ ह्रदय के लिये अत्यंत फायदेमंद होतें हैं,इनके सेवन से ह्रदय की धमनियों में जमा LDL कोलेस्ट्राँल का स्तर कम होता हैं,और ह्रदय मज़बूत बनता हैं.

८.शाकाहार सर्वोत्तम आहार हैं,इसका प्रमाण अब चिकित्सक देनें लगें हैं,यदि व्यक्ति मीट़,चिकन का सेवन करता हैं,तो इनमें उपस्थित उच्च कोलेस्ट्राल सीधा धमनियों में जाकर चिपकता हैं,जो अन्त में गंभीर ह्रदय रोग का खतरा उत्पन्न कर देता हैं,अत: ह्रदय रोग से बचना हैं,तो शाकाहारी भोजन आवश्यक हैं.

९.यदि किसी व्यक्ति का पारिवारिक इतिहास ह्रदय रोग का हैं,तो उसे तीस वर्ष की उम्र के बाद ह्रदय की नियमित जाँच करवाना शुरू कर देना चाहियें और एक संतुलित दिनचर्या और खानपान का कढ़ाई से पालन करना चाहियें.

१०.एक चिकित्सकीय शोध के अनुसार 7 घंटे की गहरी नींद से धमनियाँ अपनी पूरी क्षमता से कार्य करती हैं,अत: नियमित रूप से पर्याप्त मात्रा में रात को ली गई नींद ह्रदय रोग की संभावना कम करती हैं.

११.पानी प्राकृतिक स्वच्छक का कार्य करता अत: रोज दस से बारह गिलास पानी का सेवन ह्रदय की धमनियों में चिपका कोलेस्ट्राल शरीर से बाहर निकालकर ह्रदय को स्वस्थ बनाता हैं.

१२.तिल और अलसी के बीजों में फाइटोन्यूट्रीएंटस बहुतायत में पाये जातें हैं,जो भोजन में शामिल वसा का अवशोषण आंतो द्धारा कम करनें में मदद करतें हैं,अत: भोजन में समय समय पर अलसी और तिल का सेवन करते रहना चाहियें.

१३.देशी आम जिसमें छोटें - छोटें आम लगतें हैं,जिन्हें केरी कहा जाता हैं.के पत्तों में खराब कोलेस्ट्राल या LDL कम करनें की अद्भूत क्षमता होती हैं,यदि चार - पाँच पत्तें नियमित रूप से चबाकर खायें जायें तो ह्रदय रोग होनें की संभावना समाप्त की जा सकती हैं।

१४.नियमित रूप से 3 ग्राम दालचीनी का सेवन  करने से H D L कॉलेस्ट्राल या गुड कॉलेस्ट्राल का स्तर शरीर में  बढ़ता हैं । 

#.ह्रदयघात होनें पर प्राथमिक उपचार :::


कभी - कभी परिस्थितियाँ इस प्रकार की उपस्थित हो जाती हैं,कि राह चलते हुये व्यक्ति को ह्रदयघात (heart attack) आ जाता हैं,ऐसी परिस्थिति में व्यक्ति को प्राथमिक चिकित्सा का knowledge होना आवश्यक हैं.यह प्राथमिक चिकित्सा क्या हो आईयें जानतें हैं.

1.सबसे पहले रोगी यदि अचेतावस्था मे हैं,तो रोगी को बिना देर किये समतल ज़मीन पर शवासन की अवस्था में लिटा दें.

2.घुटनों के बल रोगी की छाती के पास बैंठ जायें.

3.दोनों हाथों को मिलाकर दोनों स्तनों के बीच में भरपूर ताकत के साथ दबाव डालकर छोड़े,यह क्रिया एक मिनिट में लगभग चालीस - पचास बार होनी चाहियें.

4.इस क्रिया को लगातार दस - पन्द्रह मिनिट तक या जब तक चिकित्सा उपलब्ध नही हो जाती करतें रहें.

5.यदि रोगी को होश में हो तो उसे जोर - जोर से खाँसने के लिये कहे या कंठ को हल्का दबाकर खाँसने मे मदद करें.

6.अनेक cardiologist का मानना हैं,कि उपरोक्त विधि द्धारा 100 में से 60 रोगी की जान बचायी जा सकती हैं.


कॉलेस्ट्राल क्या होता हैं :::


कॉलेस्ट्राल मनुष्य जीवन के लिये उपयोगी एक वसा (fat) हैं,जो मनुष्य की कोशिकाओं में पाया जाता हैं । इसका निर्माण लीवर में होता हैं । कोलेस्ट्राल की सहायता से ही मनुष्य शरीर विटामिन D और हार्मोन का निर्माण करता हैं ।

फ्रान्कैस द पुलितियर ने इसे कॉलेस्ट्राल के रूप में पहचाना जबकि  इसका नामकरण यूजीन चुरवेल नामक रसायन शास्त्री ने किया था ।


कॉलेस्ट्राल 4 प्रकार का होता हैं :::



1.L.D.L.कॉलेस्ट्राल :::


इसका पूरा नाम low density lipoprotien हैं । इसे बेड कॉलेस्ट्राल भी कहते हैं । शरीर में इस कोलेस्ट्राल की मात्रा 100 ml/gm dl से कम होना चाहियें । अधिक होने पर यह ह्रदय की धमनियों में रुकावट पैदा करता हैं जिससे ह्रदयघात का खतरा होता हैं ।

2.H.D.L.कॉलेस्ट्राल :::


इसका पूरा high density lipoprotien हैं । यह ह्रदय के लिये अच्छा माना जाता हैं । यह जितना अधिक होता हैं ह्रदय के लिये उतना अच्छा माना जाता हैं । यह कोलेस्ट्राल शरीर में 60 ml /gm dl के स्तर तक होना चाहियें ।


3.triglisraide :::



4.V.L.D.L. या very low density lipoprotien :::

यह कॉलेस्ट्राल  L.D.L.कॉलेस्ट्राल से भी बुरा माना जाता हैं । शरीर में इसकी अधिक मात्रा ह्रदयरोग का कारण बनती हैं ।


कॉलेस्ट्राल नापने को लिपिड प्रोफाइल टेस्ट कहा जाता हैं जिसमे  उपरोक्त चारों प्रकार के कॉलेस्ट्राल की जाँच की जाती हैं । एक अन्य विधि टोटल कॉलेस्ट्राल  नापने की हैं जिसमें एक साथ मिलाकर कॉलेस्ट्राल का स्तर शरीर में मापा जाता हैं । यह स्तर न्यूनतम 130 mg /gm dl और अधिकतम 200 mg / gm dl होना चाहियें ।








मंगलवार, 29 सितंबर 2015

गर्भ संस्कार ,pregnancy Care

आयुर्वैद चिकित्सा पद्धति यदि आज तक अपना अस्तित्व बनायें हुयें तो इसका सम्पूर्ण स्रेय आयुर्वैद के उन  महान आचार्यों  को जाता हैं, जिन्होनें बीमारीं को मात्र बीमारीं के रूप में न देखकर इसके सामाजिक, आर्थिक,मनोंवेञानिक,पर्यावरणीय कारको तक की चर्चा अपनें ग्रन्थों में की.एेसा ही एक महत्वपूर्ण मसला बच्चों की परवरिश को लेकर हैं.गर्भ संस्कार भी आयुर्वैद की इसी महान परंपरा का प्रतिनिधित्व करता हैं जिसकी चर्चा आधुनिकतम विञान भी करता हैं कि बच्चों की परवरिश बच्चें के दुनिया में आनें की बाद की प्रक्रिया नहीं है,बल्कि यह तो बच्चें के गर्भ में आनें के बाद ही शुरू हो जाती हैं.महाभारत में अभिमन्यु ने चक्रव्यू भेदनें का राज़ अपनी माँ के गर्भ में ही जान लिया था.आज के लोग पूछतें हैं,क्या यह संभव था ? और आज क्या यह संभव हैं ?इस सवाल का जवाब यही हैं कि यदि आपनें प्राचीन भारतीय आयुर्वैद ग्रन्थों और अन्य परंपरागत शास्त्रों का अध्ययन किया होता तो इस सवाल को पूछनें की ज़रूरत ही नहीं पड़ती फिर भी बताना चाहूँगा कि गर्भ संस्कार वही विधि हैं जिसके माध्यम मनचाहे व्यक्तित्व को ढाला (program)  जा सकता हैं.यह कपोल कल्पना नहीं बल्कि ऐतिहासिक तथ्यों और आज के शास्त्रों द्वारा प्रमाणित बातें हैं. क्या कारण हैं कि रामायण काल के लव-कुश अपनें पिता के समान बलवान निकलें और उनकी समस्त सेना को धूल चटाकर अपना और अपनी माता का हक लेकर ही माने. इतनी छोटी उम्र में इतनें प्रतापी योद्धा निकलें तो इसका सम्पूर्ण स्रेय वाल्मिक को जाता हैं,जिन्होंनें सीता को गर्भ संस्कार के माध्यम से पिता को झुकानें वालें बालकों को जन्म देनें का पाठ पढाया था.आज तो विञान इतना उन्नत हो गया हैं,कि हर पिछली बातों का हर रूप चाहे लिखित हो या द्रश्य रूप में हो रिकार्ड मोजूद हैं,कभी प्रयोग करके देखें बच्चें के गर्भ में रहते हुये क्या संस्कार दिया गया था और बच्चा पैदा होनें के बाद किस तरह का व्यहवार प्रदर्शित करता हैं,यकिन मानियें यदि पूर्ण शास्त्र सम्मत गर्भ संस्कार हुआ तो परिणामों से आप भी हतभ्रत रह जावेंगें.
स्तनपान के फायदे जानियें

Svyas845@gmail.com


श्री राम का चरित्र कैंसा था जानियें




रविवार, 27 सितंबर 2015

ALLERGIES TREATMENT

क्या हैं एलर्जी::-

एलर्जी एक प्रकार की शारिरीक और मानसिक प्रतिक्रिया हैं,जो शरीर के सम्पर्क में आनें वालें पदार्थों के प्रति शरीर पैदा करता हैं.
वास्तव में एलर्जी हमारें शरीर के बिगड़ी हुई रोग प्रतिरोधकता ( immune system) को रेखांकित करती हैं.जिसमें हमारा शरीर हानिकारक पदार्थों के साथ मित्र पदार्थों के प्रति भी अत्यधिक संवेदनशीलता  प्रदर्शित करता हैं.

कारण::-

१.खाद्य पदार्थों के कारण.
२.परफ्यूम,रंग,ड़ाई के इस्तेमाल से.
३.कीड़ों,मच्छर के काट़नें से.
४.पराग कणों,धुल,धुँए से.
५.आनुवांशिकता जन्य.
६.दवाईयों ,एन्टीबायोटिक के कारण.
७.मौसम में परिवर्तन की वज़ह से.

लछण::-

१.आँखों से पानी निकलना,खुजली, लाल होना,सुजन होना.
२.त्वचा में चकते निकलना, खुजली.
३.नाक में खुजली, पानी निकलना, लगातार छींकें आना.
४.अस्थमा, फेफडों में खीँचाव,गलें में खरास.
५.पेटदर्द ,डायरिया,पेट़ फूलना.
६.कानों में दर्द खुजली, सुनाई कम देना.

उपचार::-

आयुर्वैद चिकित्सा  में हमारें बिगड़े हुए इम्यून सिस्टम को प्रभावी बनानें की अद्भूत चिकित्सा हैं यदि कुशलतापूर्वक इसका लाभ रोगी को दिया जावें तो रोगी शीघृ स्वस्थ होता हैं आईयें जानतें है,उपचार

१.एलर्जी से पीड़ित व्यक्तिसितो सर्वपृथम पंचकर्म (panchkarma) करवाना चाहियें.
२.यदि श्वसन संस्थान से संबधित एलर्जी है,तो कालीमिर्च,तुलसी,लोंग,हल्दी, अजवाइन को उबालकर चाय की भाँति नियमित रूप से सेवन करें.
३.सोया दूध पीना शुरू करें.
४.आँवला,पुनर्नवा, द्राछा को समान मात्रा में मिलाकर सुबह दोपहर रात को दो -दो वटी लेना शरू करें.
५.त्वचा से सम्बंधित एलर्जी होनें पर हरिद्राखण्ड़ को  सितोपलादि चूर्ण के साथ मिलाकर सेवन करें.
६.गंधक रसायन तथा निम्बादि चूर्ण को मिलाकर एक-एक वटी सुबह शाम लें.
७.पेट से सम्बंधित एलर्जी होनें पर गिलोय, एलोवेरा रस का सेवन करें
८.शंख में रातभर पानी रख सुबह उठतें ही पीयें.
९.योगिक क्रिया जैसें कपालभाँति अवश्य करें.
११.धूप में तिल या सरसों तेल लगाकर पाँच से दस मिनिट बेठें.१०.सुबह कम से कम पाँच कि.मी.तक दोड़ लगायें.

वैघकीय परामर्श आवश्यक






शुक्रवार, 25 सितंबर 2015

URINARY TRACT INFECTION CAUSE SYMPTOM

परिचय::-

सम्पूर्ण विश्व में मूत्र सम्बधी बीमारीयों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है,इन बीमारीयों में एक महत्वपूर्ण बीमारीं है मूत्र मार्ग का संक्रमण (urinary tract infection) .इस संक्रमण का प्रभाव पुरूषों की अपेक्षा  महिलाओं  में अधिक देखा गया हैं.यह जीवाणुजनित(Bacteria) से उत्पन्न होनें वाला रोग है जो ई.कोलाई(E.coli) नामक बैक्टरिया से फैलता है.यदि संक्रमण मूत्र मार्ग से होते हुये गुर्दे तक फैल जाता है,तो इसे पाइलोनेफ्राइटिस कहा जाता हैं.

कारण::-

१.माहवारी के समय योनि की उचित देखभाल का अभाव
२.असुरक्षित योन संसर्ग.
३.कैथैटर के कारण.
४.पथरी # kidneystone के कारण.
५.पानी कम पीनें के कारण.

लक्षण::-

१.मूत्र करते समय पस का आना.
२.मूत्र करते समय खून का आना.
३.मूत्र के समय दर्द तथा जलन.
४.बुखार के साथ पीठ,पेडू व पेट के निचें तीव्र दर्द.
५.बार-बार मूत्र त्यागनें की इच्छा के साथ बूँद-बूँद मूत्र आना.
६.अजीब सी शारिरीक सुस्ती और चेहरा कांतिहीन होना.

उपचार::-

१.चन्द्रप्रभा वटी,त्रिभुवनकिर्ती रस,हल्दी को समान भाग में मिलाकर गोलीयाँ बना लें सुबह शाम दो दो गोली जल के साथ लें.
२.पाषाणभेद,गोखरू,नागरमोथा,सोंफ को समान भाग में मिलाकर रात को सोते समय जल के साथ लें.
३.पुनर्नवारिष्ट़ और अम्रतारिष्ट को दो दो चम्मच  समान जल के साथ मिलाकर सुबह शाम सेवन करें.
४.प्रोबायोटिक दही का नियमित सेवन करें.
५.बेल का गुदे में मिस्री मिलाकर सेवन करें.
६.धनिया के बीज को पीसकर मिस्री मिला लें इस मिस्रण को भोजन के बाद लें.

महत्वपूर्ण योगासन::-

१.मण्डूकासन--

इस आसन को करनें से मूत्र संस्थान मज़बूत बनकर रोग प्रतिरोधकता बढ़ती हैं,आईयें जानतें है कैसें होता हैं मण्डूकासन
अ).घुट़नों को मोड़कर सीधें नमाज़ियों की तरह बैठें.
ब).दोनों हाथ नाभि से निचें रखकर पर  एक हाथ से दूसरें हाथ की कलाई पकड़े.
स).अब सांस भरकर आगें की और घुट़नों तक धीरें धीरें झुकें तत्पश्चात पुन:सांस छोड़ते हुयें पहलें वाली अवस्था में आ जावें.
द).यह योगिक क्रिया नियमित रूप से धीरें बढा़यें.

परहेज::-

तम्बाकू, शराब,वसा युक्त भोजन.

क्या करें::-

१.पानी खूब पीयें. यथासंभव नारियल पानी पीते रहें.
२.भोजन में सलाद खूब लें.
नोट::-वैघकीय परामर्श आवश्यक.

Svyas845@gmail.com


बुधवार, 23 सितंबर 2015

Giloy गिलोय



गुडूची कटुका तिक्ता स्वादुपाका रसायनी कामलाकुष्ठवातास्त्रज्वरक्रिमिवमीन्हरेत्
 An rejuventor,anti-pyretic,astringent

Giloy or guduchi is a well known Indian bitter and prescribed mainly for fevers and diabetes. It is an astringent, anti-pyretic ,rejuventor,blood-purifier,antispasmodic and antiinflammatory. Highly digestible and nutritive starch obtained from the stem part is given to the patients with very poor digestion.

It checks successfully the microbes responsible for tuberculosis. In ayurveda the drug is given with black piper longum roots and ginger for improving the digestion.In migraine it is given with honey and for vaginal inflammation, its decoction in combination with triphla and baliospermum montanum in recommended. It is increasing body immunity.

Description::-

Large deciduous climbers with lenticellate,corky stems,branches sending down slender pendulous,fleshy roots,leaves deeply cordate with large basal lobes,inflorescence racemose male flowers clustered in the axils of small subulate bracts sepals 2 seriate,inner broadly elliptical petals 6,equal.female flowers usually solitary,similar to male,carpels3.fruits drupelets pisiform,deep red, marked with a sub basal stylar scar.


Active ingredients::-

Giloin,Giloinin.

Therapeutic uses::-

1.In the cure of arthritis, rheumatism,piles,leprosy, dyspepsia.
2.In fever and flu.
3.To inhibit hyper glycemia and reduce blood sugars.
4.As liver stimulant.
5.Memory enhancer.
6.Filaria Guduchi svarasa along with gingly oil is given orally.

Dosage::-

As directed by the physicians.
Svyas845@gmail.com




















सोमवार, 21 सितंबर 2015

paralysis treatment लकवा उपचार




लकवा क्या हैं::-

यदि मस्तिष्क की रक्तवाहिनीयों में रक्त का थक्का जम जाता है या मस्तिष्क की रक्तवाहिनीयाँ फट़ जाती हैं या मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो जाता हैं फलस्वरूप मस्तिष्क का नियत्रंण अंगों पर नहीं रहता और अंग काम करना बंद कर देतें हैं यही अवस्था लकवे के नाम से जानी जाती हैं. यदि मस्तिष्क का बाँया भाग प्रभावित होता है तो दाँया भाग और दाँया भाग प्रभावित होता हैं तो बाँया भाग लकवाग्रस्त हो जाता हैं.
आयुर्वैदानुसार जब वायु कुपित होकर दाँए या बाँए भाग पर आघात कर शारिरीक इच्छाओं का नाश कर अनूभूति को समाप्त कर देती हैं यही अवस्था लकवा के नाम से जानी जाती हैं.

प्रकार::-

१.मोनोप्लेजिया या एकांगघात -- इसमें एक हाथ या एक पैर कड़क हो जाता हैं.
२.ड़ायप्लेजिया --सम्पूर्ण शरीर में लकवाग्रस्त हो जाता हैं.
३.फेशियल पेरालिसीस या चेहरे का लकवा--इसमें चेहरा,नाक ,होंठ गाल पर नियत्रंण नहीं रहता हैं.
४.जीभ का लकवा

कारण::-

१.उच्च रक्तचाप लगातार २०० से अधिक रहना.
२.मस्तिष्क में गंभीर चोंट.
३.रीढ़ की हड्डी में चोंट.
४.पोलियो की वज़ह से.
५.मादक पदार्थों का अत्यधिक सेवन.
६.एक तरह की दाल जिसे खेसरी दाल कहतें है के कारण.
७.मस्तिष्क से सम्बंधित कोई गंभीर बीमारीं होनें पर.
८.रीढ़ की हड्डी से सम्बंधित कोई बीमारीं होनें पर.
९.अचानक कोई सदमा लग जानें के कारण.

उपचार::-

१.एकांगवीर रस,वृहतवातचिन्तामणि               रस,महायोगराज गुग्गुल,लाक्षादि गुग्गुल को समान मात्रा में मिलाकर ५ ग्राम सुबह शाम शहद के साथ दें.
२.सरसों तेल में या महामाष तेल में तेजपत्ता लहसुन कली और अजवाइन मिलाकर गर्म करलें इस तेल से प्रभावी  अंगों पर दो से तीन बार मालिश करें.
३.अर्जुन चूर्ण, दशांग लेप चूर्ण में अमर बैल का रस मिलाकर प्रभावी स्थानों लेपन करें.
४.यदि रक्तचाप सामान्य हो तो भाप स्नान करवाते रहना चाहियें.
५.रोज़ रात को सोते समय त्रिफला चूर्ण दो चम्मच लें
६.रक्तचाप की नियमित जाँच करवाते रहें और नियत्रिंत रखे.
७.ब्राम्हीवट़ी,सर्पगंधा वट़ी को मिलाकर सुबह शाम लें.
८.सारस्वतारिष्ट चार चार चम्मच सुबह शाम लें.
९. नियमित व्यायाम और योगिक क्रियायें करवाते रहना चाहियें.
१०.पर्याप्त मात्रा में जल का सेवन करें साथ में आंवला और पाइनापल रस का सेवन करे.
११.जवारें का रस आधा- आधा कप ज़रूर लेते रहें.

वैघकीय परामर्श आवश्यक



रविवार, 20 सितंबर 2015

HOW TO BOOST IMMUNITY POWER WITH AYURVEDA

इम्यूनिटी::-

हमारें शरीर में रोगों से लड़नें की प्राक्रतिक प्रतिरोधकता विधमान रहती है,यदि शरीर बीमार पड़ता हैं,तो यह प्रतिरोधकता हमारें शरीर की बीमारीयों से लड़ने में मदद करती हैं.किंतु पिछलें दशकों में हमारी जीवनशैली (lifestyle) में आये बदलाव ने हमारी प्रतिरोधकता को बुरी तरह से प्रभावित किया हैं. इसे इस प्रकार समझा जा सकता हैं कि शरीर बाहरी बीमारीयों से लड़नें के बजाय अपनें खुद के शरीर से लड़नें लगा हैं, यही कारण हैं कि आज हर दस व्यक्तियों में से चार व्यक्ति ऑटो इम्यून ड़िसीज़ जैसे एलर्जी, Rumetoid arthritis,asthma बार बार बीमार होना और अन्य इस तरह की बीमारीयों से जकड़ा हुआ हैं कि उसका डाँक्टर और केमिस्ट से मिलना रोज़ की बात हो गई हैं.किन्तु वास्तविकत में यदि हम आयुर्वैद और योग की सहायता से जीवन का प्रबंधन करें तो काफी खुशहाल और रोगमुक्त जीवन जी सकतें हैं.आईयें जानतें है,इम्यूनिटी बढ़ानें वाले उपाय

योग::-

१.सुबह उठते ही नित्यकर्मों से निवृत्त होकर योगिक क्रियाएँ अवश्य करें योग क्रियाओं में सबसे महत्वपूर्ण आसन सूर्य नमस्कार है जो इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है.सूर्य नमस्कार की बारह मुद्राँए होती हैं ये बारह मुद्रा शरीर को सूर्य जितना तेजोमय बना देती हैं.

आहार::-

२.सुबह नाश्तें में सूखें मेवे के साथ अंकुरित अनाज ज़रूर लें.
३.जवारें का रस प्रतिदिन आधा कप ज़रूर लेते रहें.
४.च्वयनप्राश एक चम्मच प्रतिदिन लें.
५.सोया दूध का सेवन सुबह शाम करें.
६.मैथी को पीसकर पेस्ट बना लें इस पेस्ट को चट़नी की भाँति भोजन में शामिल करें.
८.भोजन में हल्की सुपाच्य वस्तुओं का सेवन करें.

औषधि::-

आयुर्वैद चिकित्सा में कुछ महत्वपूर्ण औषधियों का वर्णन हैं जो रोग प्रतिरोधकता को बढाती हैं जैसे शिलाजित, अश्वगंधा,पुनर्नवा इनका नियमित सेवन करतें रहना चाहियें.

शंख चिकित्सा::-

रात को सोते समय शंख में जल भरकर रख दें सुबह स्नानादि से निवृत्त होकर शंख में भरे जल को पीले और शंख को मुँह से बजायें रोज़ सुबह शाम दस मिनिट तक यह प्रक्रिया करतें रहनें से इम्यून सिस्टम बहुत मज़बूत हो जाता प्रयोगों से यह बात सिद्ध हो चुकी हैं.

मिट्टी लेपन::-

काली या मुलतानी मिट्टी में गोमूत्र मिलाकर इसे सम्पूर्ण शरीर पर लगाकर एक घंटे तक धूप स्नान करें फिर स्वच्छ जल से स्नान करें यह भी इम्यूनिटी बढ़ानें का सिद्ध नुस्खा हैं.

अग्नि स्नान::-

अग्नि स्नान चिकित्सा साधु सन्यासियों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं इसमें आग के बीचोंबीच घंटो तक एक मुद्रा में बैठकर साधना की जाती हैं यह चिकित्सा कई आँटो इम्यून बीमारीयों को जड़ मूल से समाप्त करनें का शर्तिया इलाज़ हैं.
वैघकीय परामर्श आवश्यक

Svyas845@gmail.com










शुक्रवार, 18 सितंबर 2015

CANCER AND AYURVEDA



कैंसर विश्व की सबसे प्रचलित और भयावह बीमारींयों में से एक हैं. आज यह बीमारीं महामारी के रूप में फैल रही है,अभी भी यह बीमारीं चिकित्सा शास्त्रीयों के लिये असाध्य बनीं हुई है.यदि आरम्भिक अवस्था में इसबीमारीं का पता लग जावें तब ही इसकी प्रभावीरोकथाम संभव है,अन्यथा यह बीमारीं मोत तक पीछा नहीं छोड़ती है.आज सौ से अधिक प्रकार का कैंसर चिकित्सा शास्त्रीयों ने खोज लिया है,कैंसर वास्तव में शरीर की कोशिकाओं का असामान्य रूप से बढ़ना हैं.

कारण::-

कैंसर के जितनें भी कारण है उनमें अधिकांशत: मानवजनित या जीवनशैली से  संबधित है जैसे
१.तम्बाकू --यह विश्व में कैंसर का सर्वप्रमुख कारक है,लगभग ३५ % कैंसर तम्बाकू के प्रयोग से ही होते है.
२.मोटापा, मोबाइल रेड़िएशन,खाद्य पदार्थों में प्रयुक्त कृत्रिम रंग.
३.आनुवांशिक कारणों से, प्रदूृषण,शारीरिक अक्रियाशीलता.
४.सूर्य से निकलनें वाली अल्ट्रावायलेट किरणों से.

लक्षण ::-

१.शरीर के किसी भी भाग में गांठ का होना जो लम्बें समय से ठीक नहीं हो रही हो.
२.रक्त कैंसर की दशा में खून न बनना,चक्कर, उल्टी होना.
३.त्वचा कैंसर में त्वचा निकलना, फट़ना,खुजली आदि अन्य कारण.
४.वज़न अचानक कम होना.

कैंसर का सर्वमान्य आधुनिक चिकित्सा में बहुत मँहगा और कष्टदायक हैं, यदि हम अन्य उपचार पद्धति के साथ आयुर्वैद चिकित्सा को समानांतर रख और जीवनशैली को नियमित रखकर कैंसर का प्रबंधन करें, तो निश्चित रूप से बेहतर जीवन जी सकते हैं.
१.कैंसर रोगी को हर रोज़ जवारें का जूस पीना बहुत रहता हैं.
२.लहसुन कली कच्ची रोज़ सुबह उठकर खाना चाहियें.जानकारों के मुताबिक रोज़ लहसुन खानें से कैंसर होनें की संभावना 80% कम की जा सकती हैं,क्योंकि लहसुन में अलिसन नामक रसायन होता हैं,जो कैंसर होनें की संभावना समाप्त करता हैं.

३.पुर्ननवा, शिलाजित, एकांगवीर रस को मिलाकर वटी बना ले इसे तीन समय दो दो वटी के हिसाब से लें.
४.शरीर के प्रतिरोधकता बढ़ानें के लिये च्वनप्राश दो चम्मच सुबह के समय दूध के साथ लें.
५.पानी रोज़ बारह से पन्द्रह गिलास पीना चाहियें.
६.भोजन में अस्सी प्रतिशत सब्जी और सलाद होना चाहियें शेष बीस प्रतिशत ही अनाज और दालें लें.
७.योग कैंसर में बहुत फायदेमंद होता है,कपालभाँति, प्राणायाम,भस्त्रिका के अलावा योग विशेषञ द्वारा सुझाई गई योग क्रियायें नियमित रूप से करतें रहें.
८.हँसना ईश्वर ने सिर्फ मनुष्य को दिया हैं अतः खूब हँसे प्रसन्नचित रहें.
९.जमीकंद कैंसर रोग में बहुत उपयोगी हैं,क्योंकि इसमें पाया जानें वाला एन्टीआक्सीडेन्ट,बीटा कैरोटीन,और विटामिन सी कैंसर का कारण बनने वाले फ्री रेडिकल्स से लड़ता हैं.
१०. कैंसर रोग में देशी गाय का दूध बहुत उपयोगी हैं,अत: इसका नियमित इस्तेमाल करना चाहियें.
११.अश्वगंधा में एक विशेष प्रकार का योगिक पाया जाता हैं,जो कैंसर कोशिकाओं को मारनें का काम करता हैं.अत: कैंसर होनें पर इसका सेवन अवश्य करना चाहियें.
१२.कैंसर कोशिकाओं की बढ़त रोकनें में आँवला बहुत प्रभावकारी माना जाता हैं,आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार इसमें उपस्थित एन्टी आक्सीडेन्ट तत्व शरीर की प्रतिरोधकता बढ़ानें के साथ शरीर से विषाक्तता को बाहर निकालता हैं.
१३.हल्दी में कुरकुमिन नामक तत्व पाया जाता हैं,यह तत्व कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करनें का कार्य करता हैं,अत: हल्दी का नियमित सेवन कैंसर में बहुत ही लाभकारी माना जाता हैं.
१४.कटहल के बीज,पत्तियाँ एँव फलों में कैंसर कोशिकाओं बढ़नें से रोकनें वालें गुण पाये जातें हैं,अत: कटहल का नियमित सेवन कैंसर रोग में बहुत फायदा पहुँचाता हैं.
१५.पूरी पकी हुई जंगली घास के दस बारह टुकड़ें कर एक गिलास पानी में उबालें जब पानी एक चौथाई रह जावें तो हल्दी डालकर सेवन करवायें,कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करनें वाला अद्भूत योग हैं.

इन बातों के अतिरिक्त पारिवारिक माहोल,अपने आस पड़ोस का माहोल सकारात्मक रखें कैंसर कोई छूत की बीमारीं नहीं है.मरीज़ को होसला दे हिम्मत दें ताकि बीमारीं का डटकर मुकाबला किया जा सकें.

Svyas845@gmail.com






बुधवार, 16 सितंबर 2015

MALARIA मलेरिया उपचार



मलेरिया परिचय::-

मलेरिया विश्व की दस सबसे प्रचलित बीमारींयों मे से एक है,मलेरिया संक्रामक रोग है जो प्रतिवर्ष विश्व के साठ करोड़ लोगों को अपनी  चपेट़ में लेता है.यह रोग मादा एनाफिलिज़ मच्छर के काटने से फैलता है,जब यह मच्छर  किसी बीमार व्यक्ति को काटता है तो व्यक्ति के रक्त में मोजूद प्रोट़ोजोआ मच्छर के काटने से उसके पेट में चला जाता है ,और जब किसी स्वस्थ व्यक्ति को  यह मच्छर काटता है तो वह प्रोटोजोआ स्वस्थ व्यक्ति को बीमार बना देता है.मलेरिया के मुख्यत: चार परजीवी होते है.

१.प्लाज्मोडियम वायवेक्स::-

मलेरिया को फैलाने वाली यह सर्वप्रमुख प्रजाति है,यह प्रजाति लीवर और रक्तकणों में प्रवेश कर जाती है और वही विकसित होती रहती है.

२.प्लाज्मोडियम फेल्सिफेरम::-

यह मलेरिया परजीवी सबसे गंभीर किस्म का होता है, जिसमें रोगी अचेतावस्था मे चला जाता है,और
स्थिति  गंभीर होनें पर रोगी की मौत भी हो जाती है.

३.प्लाज्मोडियम ओवल::-

मलेरिया के यह परजीवी मनुष्य के लिये उतने घातक नहीं होते जितने की फेल्सिफेरम.

४.प्लाज्मोडियम मलेरी::-

मलेरिया के यह परजीवी भी मनुष्य के लिये उतने घातक नहीं जितने ऊपर के दो परजीवी होते है.

लछण::-

१.कंपकंपी लगकर तेज़ बुखार आता है,जो पसीना निकलनें पर उतर जाता है
२.सिरदर्द
३.शरीर में तेज़ ,असहनीय पीड़ा होती है.
४.उल्टी होना चक्कर आना.
५.खून की कमी.

उपचार::-

आयुर्वैद चिकित्सा में मलेरिया का वर्णन विषम ज्वर के रूप में किया गया है.मिथ्या आहार के कारण दोष प्रकुपित होकर अमाशय में स्थित हो जाती है,तो ज़ठराग्नि दुर्बल होकर भोजन का आम बना देती है,जिससे आमदोष उत्पन्न होकर ज्वर बना देता है.
१.त्रिभुवनकिर्ती रस,आनंद भैरव रस, महासुदर्शन चूर्ण को समान भाग में मिलाकर तीन समय जल के साथ लें.
२.गिलोय ,चिरायता,नीम,तुलसी,अदरक को एक एक अनुपात में मिलाकर काढ़ा बना ले व इसे तीन दिनों तक सुबह शाम १०० मि.ली.के हिसाब से लें
३.वत्सनाभ का चूर्ण रोज़ रात को सोते समय एक चम्मच दूध के साथ लें.
४.त्रिफला २ ग्राम प्रतिदिन गर्म जल के भोजन उपरान्त लें.

सावधानी::-

१.घर के आसपास पानी इकठ्ठा न होनें दे,यदि पानी में लार्वा दिखे तो केरोसिन ड़ालकर नष्ट कर दें.
२.घरों के अन्दर साफ सफाई के लिये गोमूत्र से घर का पोछा लगायें.
३.पीनें के पानी में तुलसी पत्तियाँ ज़रूर ड़ालें.
नोट- वैघकीय परामर्श आवश्यक

Svyas845@gmail.com











मंगलवार, 15 सितंबर 2015

HYPOTHYROIDISM TREATMENT

क्या है हाइपोथाइराँड़िज्म ::-

हमारें गले में स्वर यंत्र के ठीक निचें व साँस नली के दोनों तरफ तितली के समान संरचना होती हैं यही संरचना थायराँइड़ के नाम से पहचानी जाती है.इससे निकलनें वालें हार्मोंन रक्त में मिलकर शरीर की गतिविधियों को नियत्रिंत करते है.इस ग्रंथि को मस्तिष्क में मोजूद पिट्यूटरी ग्रंथि नियत्रिंत करती है,जब इस ग्रंथि से निकलने वाले हार्मोंन जैसें टी - 3  यानि ट्रायोडोथायरोनीन और टी -4 या थायराँक्सीन कम मात्रा मे निकलते है तो शरीर मे कई तरह की समस्या उत्पन्न हो जाती हैं इस अवस्था को हायपोथाइराँइडिज्म कहते है.

कारण::-

१. कम मात्रा में आयोड़िन का सेवन.
२.दवाओं का व सर्जरी का दुष्प्रभाव.
३.आँटो इम्युन डिसआर्डर (इसमें शरीर का रोग प्रतिरोधी तंत्र थायराँइड ग्रंथि पर आक्रमण कर देता है,के कारण .
४.अन्य हार्मोंनों का असन्तुलन.
५.पारिवारिक इतिहास होने पर हाइपोथायराँडिज्म की समस्या हो जाती है.

लक्षण::-

१.वज़न बढ़ना
२.थकान व कमज़ोरी
३. उदासी ,माँसपेशियों मे खिचाँव, पैरों मे सूजन
४.याददाश्त में कमी,आँखों में सूजन.
५.त्वचा का रूखा व मोटा होना.
६.कब्ज, बालों का झड़ना,माहवारी का अनियमित होना.
७.आवाज में भारीपन,नाखून मोटे होकर धीरें धीरें बढ़तें है.
८.सर्दी लगना व कम पसीना आना.
९.शरीर में केल्सियम की कमी होना.

उपचार::-

१.काँचनार गुग्गल, त्रिफला गुग्गल को मिलाकर सुबह शाम रोग की तीव्रतानुसार १ से ५ ग्राम लें.
२.ब्राम्ही, कालीमिर्च,पीपली, मुनुक्का,दशमूल,को मिलाकर ५ से ७ ग्राम जल के साथ ले इससे हार्मोंन असंतुलन की समस्या दूर हो जावेगी.
३.एलोवेरा, लोकी जूस का नियमित सेवन करें.
४.गोमूत्र ५  से १० मि.ली.सेवन करें.
५.पुर्ननवा मन्डूर, सुदर्शन चूर्ण को मिलाकर सुबह शाम ५ ग्राम जल के साथ लें.
६.आँवला,गोखरू,व गिलोय को मिलाकर सुबह शाम आधा चम्मच जल के साथ सेवन करें.
७.पंचकोल चूर्ण भोजन के बाद रात को सोते समय एक चम्मच लें.

क्या सेवन करें::-

१.भोजन मे काला नमक सेवन करें.
२.दूध, दही की लस्सी,सिघांड़ा,चुकंदर का सेवन करें.
३.बाजरे,ज्वार के आटे से बनी रोटी का सेवन करें.
४.मेथीदाने व सूखे धनिये का चूर्ण बनाकर भोजन के बाद मुख शुद्धि की तरह इस्तेमाल करें.

योग::-

योगिक किृयाएँ अनुलोम-विलोम, कपालभाँति, शून्य मुद्रा का नियमित अभ्यास करें.
नोट- वैघकीय परामर्श आवश्यक
Svyas845@gmail.com






सोमवार, 14 सितंबर 2015

MALNUTRITION AND AYURVEDA

#कुपोषण::-

कुपोषण
 कुपोषित बच्चा

विश्व के विकासशील देशो में कुपोषण एक गंभीर समस्या के रूप में विधमान हैं,जो बच्चों के जीवनीय छमता और विकास पर प्रतिकूल प्रभाव ड़ालता हैं.
सरल भाषा में बाल कुपोषण बच्चों में उस विकार का नाम हैं जिसमें या तो शरीर के पोषण,विकास एँव स्वास्थ संरछण के लिये आवश्यक पर्याप्त संतुलित आहार बच्चें को प्राप्त नहीं होता या बच्चें का शरीर लिये गये आहार का सम्यक् उपयोग करनें में सछम नहीं होता हैं. कुपोषण के कारण बच्चों मे कृशता,दुर्बलता व अन्य अनेक लछण उतपन्न हो जाते हैं.

संतुलित आहार के बारें में रोचक जानकारी

#कुपोषण का आयुर्वैदिक उपचार::-

१.शतावरी चूर्ण ५ ग्राम, अश्वगंधा चूर्ण ५ ग्राम को रात को ५० मि.ली.पानी में गला दे सुबह इसे छलनी लगाकर अच्छे से दबाकर छान लें इस पानी में १०० मि.ली.दूध मिलाकर १० मिनिट़ तक उबालें तत्पश्चात ठंडा कर बच्चों को पिलायें.यह औषधि सन्धि,शिरा,स्नायुओं को मज़बूत कर शरीर में दृढ़ता,बल और रोग प्रतिरोधकता को बढ़ाता हैं.
२.गोघ्रत को १० ग्राम अश्वगंधा चूर्ण के साथ मिलाकर रोटी के साथ बालक को खिलायें .
३.बला तेल,महामाष तेल, को समान मात्रा में मिलाकर बच्चों को मालिश करवायें.
४.यष्टीमधु,शुंठी का चूर्ण सुबह शाम दूध के साथ बच्चों को सेवन करवायें.
यहाँ एक महत्वपूर्ण ध्यान देनें वाली बात यह हैं कि बच्चों में कुपोषण न केवल संतुलित आहार की कमी से होता हैं बल्कि धात्री माता के दूध की दुष्टि से भी होता हैं अत:धात्री माता के दूध की दुष्टि दूर करनें के लिये शतावरी चूर्ण को प्रवाल पिष्टि में सम भाग में मिलाकर माता को सुबह -शाम घ्रत से सेवन करवायें.
५.धात्री माता को च्वनप्राश सुबह शाम दूध के साथ एक चम्मच देनें से दूध सुपुष्ट़ बनता हैं.
वैघकीय परामर्श आवश्यक

Svyas845@gmail.com





शनिवार, 12 सितंबर 2015

ASHOKARISTH,DASMULARISTH,KHADIRARISTH

परिचय::-

अशोकारिष्ट़::-


भैषज्यरत्नावली में इस औषधि का परिचय देते हुये लिखा हैं
मासादूध्वेच्च पीत्वैनमसृग्दररूजां जयते ज्वरच्च रक्तापित्तार्शोमन्दाग्नित्वमरोचकम् मेहशोथदिकहरस्त्वशोकारिष्ट संञित:
 अर्थात यह अशोकारिष्ट रक्त प्रदर, रक्त पित्त, ज्वर,रक्तातिसार(खूनी बवासीर) मन्दाग्नि,प्रमेह, अरूचि, शोथ को नष्ट़ करने वाला उत्तम अरिष्ट हैं.
यह अरिष्ट रसायन और उत्तेजक हैं.

घट़क द्रव्य::

अशोक छाल, को पानी मिलाकर तब तक उबाला जाता हैं जब तक एक चोथाई पानी शेष नहीं रह जाता तत्पश्चात गुड़ मिलाकर सेवन योग्य बनाया जाता है.

स्वाद::

तिक्त ,कसेला

सेवन वैघकीय परामर्श से
svyas845@gmail.com

दशमूलारिष्ट::-

भैषज्य रत्नावली के अनुसार
वातव्याधिं छयं छर्दि पाण्डुरोगच्च कामलाम् शर्करामश्मरीं मूत्रकृच्छं धातुछयंजयेत्छं कृशानां पुष्टिजननो बन्ध्यानां पुत्रद: पर:अरिष्टो दशमूलाख्यस्तेज: शुक्रबलप्रद:
अर्थात इस आरिष्ट के सेवन करनें से वातव्याधि, वमम,कामला,मूत्र में शर्करा,मूत्र में धातु जाना,महिलाओं का बन्ध्यापन जैसी बीमारीं शीघृ नष्ट हो जाती हैं साथ ही पुरूषों के शुक्र में वृद्धि होती हैं.

यह अारिष्ट स्त्रीयों के गर्भाशय का शुद्धिकरण करता हैं ,एँव गर्भवती के गर्भ को बल देता हैं.

वातज श्वास रोगो में यह अम्रत के समान लाभकारी हैं.

मात्रा::-

वैघकीय परामर्श से
Svyas845@gmail.com

खदिरारिष्ट::-

घटक::
           देवदारू,बावची,दारूहल्दी,त्रिफला,खेर की छाल,शहद,धाय फूल,पीपल,लौंग,शीतलमिर्च,नागकेशर,इलायची,दालचीनी, और तेजपान.

उपयोग::-

१. इसका विशेष प्रभाव रक्त, त्वचा और आंत्र पर होता हैं.
२.इसके सेवन से कुष्ठ,कामला,केंसर,श्वास, कृमि ,पाण्डुरोग (anaemia), कास,tumour नष्ट हो जातें हैं.
३. यह औषधि ह्रदय को बलशाली बनाती हैं.
४. यह रक्त   शोधक और लसिका को बल देती हैं.
५.पाचन तंत्र को सबल कर आँतो को मज़बूती देती हैं.

सेवन विधि :: वैघकीय परामर्श से.






 ााााााााााााााााााााााााााााााााा

शुक्रवार, 11 सितंबर 2015

SANJIVANI VATI ,CHANDRAPRABHA VATI,SHANKH VATI

१.संजीवनी वटी::- 


 संजीवनी वटी का वर्णन रामायण में भी मिलता हैं. जब मेघनाथ के साथ युद्ध में लक्ष्मण मूर्छित हुए तो  संजीवनी  बूटी ने लक्ष्मण को पुन: जीवन दिया था शांग्रधर संहिता में वर्णन हैं कि  "वटी संजीवनी नाम्ना संजीवयति मानवम" अर्थात संजीवनी वटी नाना प्रकार के रोगों में मनुष्य का संजीवन करती हैं.आधुनिक शब्दों में यह वटी हमारें बिगड़े मेट़ाबालिज्म को सुदृढ़ करती हैं.तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity)  बढ़ाती हैं.

घटक द्रव्य::

विडंग,शुंठी,पीप्पली,हरीतकी,विभीतकी,आमलकी,वच्च,गिलोय,शुद्ध भल्लातक,शुद्ध वत्सना

उपयोग::-

सन्निपातज ज्वर,सर्पदंश,गठिया,श्वास, कास,उच्च कोलेस्ट्रोल, अर्श,मूर्छा,पीलिया,मधुमेह,स्त्री रोग ,भोजन में अरूचि.

मात्रा::-

वैघकीय परामर्श से
Svyas845@gmail.com


२.चन्द्रप्रभा वटी::-

चन्द्रप्रभेति विख्याता सर्वरोगप्रणाशिनी
उपरोक्त श्लोक से स्पष्ट हैं,कि चन्द्रप्रभा वटी समस्त रोगों का शमन करती हैं.

घट़क द्रव्य::-

कपूर,वच,भू-निम्बू, गिलोय,देवदारू,हल्दी,अतिविष,दारूहल्दी,पीप्पली,चितृक, धनिया,हरड़,बहेड़ा, आंवला, चव्य,बायबिडंग, गजपीपली,सौंठ, कालीमिर्च,स्वर्ण माछिक भस्म, यवछार,सज्जीखार,काला नमक,सेंधा नमक,विड़ नमक,निसोंठ,दन्तीमूल,तेज़पत्र,दालचीनी,छोट़ी ईलायची,वंसलोचन,लोह भस्म, मिस्री,शिलाजित और शुद्ध गुग्गुल.

रोगों में उपयोग विधि::-

१.प्रमेह-:गिलोय या त्रिफला स्वरस या दारूहल्दी,नागरमोथा क्वाथ.
२.मधुमेह::-नीम पत्तियाँ, बेल पत्तियाँ, और जामुन पत्तियों के रस के साथ या गुड़मार पत्तियों के रस के साथ.
३.अर्श (piles)::-छाछ, दही और चितृक मूल रस के साथ.
४. गुर्दे की पथरी (kidney stones)::-पुनर्नवाष्टक के साथ.
५.शुक्राणु दोष होनें पर वंग भस्म के साथ.
६. प्रोस्टेट संबधित समस्यओं में गोछरादि गुग्गल के साथ.
७.urinary tract infection होनें पर अशोकारिष्ट तथा अम्रतारिष्ट़ के साथ.
८.गर्भाशय संम्बधी अन्य विकारों में बोल पर्पट़ी के या शतावरी चूर्ण के साथ.
९.अल्पमूत्रता में पनविरलादि भस्म के साथ.
१०.रक्त प्रदर में बोल पर्पटी और अशोक घ्रत के साथ.
११.बांझपन में पलाशपुष्पासव के साथ.
मात्रा::-वैघकीय परामर्श से.

३.शंखवटी::-

भैषज्य रत्नावली के अनुसार यह शंख शीतल होनें से अग्निमान्घादिचिकित्सा में इसका विशेष महत्व हैं.यह औषधि पित्त सम्बंधित रोगों के लियें उत्तम औषधि हैं.

घट़क द्रव्य::-

शुद्ध शंख,भूनी हींग,सोंठ,काली मिर्च,पीपल,सैन्धा नमक,समुद्र नमक,विड़ नमक,सोंचल नमक,खनिज नमक,शुद्ध पारा,शुद्ध गंधक,शुद्ध वत्सनाभ,इमली रस व निम्बू   स्वरस

उपयोग::-

१.यह वटी अजीर्ण,ग्रहणी, और पेटदर्द को दूर करती हैं.
२.कण्ठ दाह,खट्टी डकार,पेट में जलन भोजन के बाद अन्न का नहीं पचना में इसका उपयोग अत्यन्त लाभकारी हैं.
३.इस औषधि के उपयोग से आँत की क्रियाँ बढ़ जाती हैं,फलस्वरूप कब्ज नहीं होता और अन्न पचानें की ताकत बढ़ती हैं.

विशेष उपयोग::-

१.ग्रहणी में छाछ के साथ सेवन करनें से शीघृ लाभ देती हैं.
२.अम्लपित्त में अनार रस या मावे से बनी मिठाई के साथ.
३.अजीर्ण में अदरक रस या लहसुन पेस्ट के साथ.
४.पेटदर्द में अजवाइन रस के साथ.
५.कुष्ठ में मंजिष्ठादि कसाय के साथ.
६.अर्श में चितृक मूल के साथ.

सावधानी::-

इस औषधि का प्रयोग मुखपाक( mouth ulcers)तथा दाँतों के दर्द में नहीं करें.




ARJUNARISTH ,ABHYARISTH

अर्जुनारिष्ट़::-

 ह्रदय रोग  चिकित्सा में अर्जुनारिष्ट अपना विशेष स्थान रखता हैं.भैषज्य रत्नावली में वर्णित श्लोकानुसार
मासमात्रं स्थितो भाण्डे भवेत्पार्थाघरिष्टक:ह्रत्फुफ्फसगदान् सर्वान् ह्नत्ययं बलवीर्यक्रत

 घटक का नाम

अर्जुन छाल, मुनुक्का,महुए के फूल,गुड़ एँव धायफूल

उपयोग

यह अरिष्ट उत्तम ह्रदय रोग नाशक हैं.पित्तप्रधान ह्रदय रोग और फेफड़ों की सूजन से फूली हुई शिथिल नाड़ियों को संतुलित और द्रढ बनाकर निर्बलता को दूर करता है तथा शरीर में बल लाता हैं.ह्रदय- शूल,ह्रदय शैथिल्य ,शरीर में पसीना अधिक आना,मुँह सूखना,नींद कम आना,शरीर में रक्त संचार ठीक नहीं होना आदि विविध रोगों में उत्तम लाभकारी औषधि हैं.

 मात्रा

वैघकीय सलाह से
Svyas845@gmail.com

अभयारिष्ट::- ़

अस्याभ्यासादरिष्टस्य नस्यन्ति गुदजा द्रुतम ग्रहणीपाणडुहद्रोगप्लीहगुल्मोदरापह:कुष्ठशोफारूचिहरो बलवर्णाग्निवर्धन

भैषज्य रत्नावली के अनुसार रोग और रोगी का बल,अग्नि और कोष्ठ का विचार करके यदि उचित मात्रा में इसका सेवन किया जावें तो सब प्रकार के उदर रोग नष्ट होतें है.यह मल मूत्र की रूकावट को दूर कर अग्नि को बढाता हैं.

घट़क द्रव्य:: 

हरड़,मुनुक्का,वायविड़ंग,महुवे के फूल,गुड़,गोखरू, निसोंठ, धनिया, धायफूल,इन्द्रायणा जड़,चव्य, सौंफ, दन्तीमूल,मोचरस.

उपयोग::-

१.इसका विशेष उपयोग अर्श रोग (piles)में हैं.अर्श के दर्द को शान्त करनें के लियें अर्शकुठार, बोलबद्ध रस,कामदूधा रस,सूरण वट़क आदि के सेवन से किसी एक दवा का सेवन करनें के उपरान्त जब दर्द का जोर कम हो,तब अभयारिष्ट के सेवन से बहुत फायदा होता हैं.
२.अभयारिष्ट के सेवन पश्चात जो दस्त होतें हैं उससे आँतें कमज़ोर न होकर सबल बनी रहती हैं,जिससे दूषित मल आँतों में संचित नहीं होता.
३.अभयारिष्ट के सेवन से heart problem नहीं होती हैं.
४.अभयारिष्ट में बराबर मात्रा में कुमार्यासव मिलाकर लेनें से अतिशीघ्र लाभ मिलता हैं.
५.यह उदर में पाचक रस बनानें में मदद करता हैं.

मात्रा::-

वैघकीय परामर्श से.
Svyas845@gmail.com






प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...