सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Sexual Problems:महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय

कुछ महिलाओं की योन इच्छा इतनी कमज़ोर होती हैं कि उनका दांपत्य जीवन बहुत तनावपूर्ण हो जाता हैं और इस Sexual Problem के चक्कर में महिलाएं योनच्छा बढ़ाने के लिए तरह तरह की एलोपैथिक दवाएं खाती हैं लेकिन ये कामेच्छा बढ़ाने वाली दवाएं सिर्फ कुछ समय फायदा पहुंचाती हैं बाकि यह दवाएं उच्च रक्तचाप, किडनी फेलियर और मानसिक तनाव जैसी बीमारी पैदा करती हैं

 इसके बजाय यदि हम महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय अपनाएं तो न केवल स्वास्थ्य सुरक्षित रहेगा बल्कि दाम्पत्य जीवन सुखमय और आनंदमय रहेगा।

तो आईए जानतें हैं महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय के बारें में


महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय


इलायची Elettaria Cardamomum

इलायची में Turpeniol और Cineole जैसे तत्व पाएं जातें हैं यह तत्व महिलाओं के मूत्राशय को उत्तेजित करतें हैं।
जिन महिलाओं को Sexual Intercourse के दौरान चरमोत्कर्ष महसूस नहीं होता हैं उन्हें नियमित सुबह शाम एक इलायची खाना चाहिए।

इलायची में मनमोहक सुगंध भी इसमें मौजूद वाष्पशील तेल की वजह से होती हैं यह सुगंध मानसिक तनाव को घटाकर मस्तिष्क से आक्सीटोसिन जैसे हार्मोन का स्रावण बढ़ा देती हैं जिससे महिला का मन Sexual Intercourse के लिए तैयार होता हैं।

मुलेठी Glycyrrhiza glabra 

मुलेठी आयुर्वेद चिकित्सा में रसायन मानी गई हैं अर्थात ऐसी औषधि जो शरीर को ताकत प्रदान करें।

मुलेठी में Glycyrrizin नामक बायो केमिकल पाया जाता हैं यह केमिकल Breast में उत्तेजना पैदा कर Breast की मांसपेशियों को मजबूत बनाता हैं।

अतः जो महिलाएं Lo libido से परेशान हैं जिन्हें Sexual Intercourse के पहले उत्तेजना नहीं आती उन्हें मुलेठी का सेवन करना चाहिए।

मुलेठी में ग्लूकोज बहुत प्रचुरता से पाया जाता हैं और इस ग्लूकोज का ग्लायसिमिक इंडेक्स बहुत कम होता हैं अर्थात इसके खाने से खून में ग्लूकोज का स्तर नहीं बढ़ता।

अतः जिन महिलाओं को डायबिटीज हैं और इस कारण शरीर में योन इच्छा जागृत नहीं हो पाती हैं उन्हें मुलेठी का नियमित सेवन करना चाहिए।

महुआ के फूल Madhuca longifolia  

महुआ के फूल बहुत मादक और मनमोहक खूशबू वाले होते हैं।इस फूल को ताजा खानें से शरीर की स्तंभन शक्ति बढ़ती हैं।

अतः जो महिलाएं बिस्तर पर जातें ही एक मिनट के अंदर स्खलित हो जाती हैं उन्हें महुआ के फूल आठ दस सुबह शाम खाना चाहिए।

अशोक छाल चूर्ण Saraca Asoca

ज्वरच्च रक्तपित्ताशोर्मन्दाग्नित्वमरोचकम्।मेहशोथादिकहररस्वत्वशोकारिष्टसंश्रिज्ञत:।।


अशोक छाल चूर्ण महिलाओं के गर्भाशय और फेलोपियन ट्यूब को मजबूत बनाकर सेक्स हार्मोन प्रोजेस्टेरोन को उत्सर्जित करने में मदद करती हैं जिससे स्त्री में कामेच्छा जागृत होती हैं।

अशोक छाल चूर्ण योनि में रक्त प्रवाह को बढ़ा देती हैं जिससे योनि Sexual Intercourse के समय कसी हुई और उत्तेजित बनी रहती हैं।

अशोक छाल में Quercetin नामक फ्लेवनॉयड्स एजेंट पाया जाता हैं जो मस्तिष्क से तनाव कम कर सेक्स हार्मोन का स्रावण बढ़ा देता हैं।

शतावरी Asparagus racemosus

शतावरी में Mucilage नामक तत्व पाया जाता हैं यह तत्व स्तन की कोशिकाओं की संरचना को सुधारता हैं जिससे स्तन की दूध ग्रंथियां मजबूत होती हैं।

शतावरी खानें से स्तन बहुत जल्दी उत्तेजित होकर स्त्री कामवासना को बढ़ा देते हैं। अतः जो महिलाएं Low libido के कारण sexual life का आनंद नहीं ले पाती उन्हें योन इच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय में शतावरी को जरूर शामिल करना चाहिए।

गोखरु चूर्ण Tribulus Terrestris

गोखरु चूर्ण में Disogenin नामक नेचुरल केमिकल पाया जाता हैं जो प्राकृतिक रुप से estrogen हार्मोन को स्त्रावित करता हैं।

अतः जिन महिलाओं में Sexual Intercourse के दौरान योनि में पर्याप्त ल्यूब्रिकेंट नहीं बनता उन्हें गोखरु चूर्ण जरूर खाना चाहिए।

गोखरु में Rutin नामक बायो केमिकल मौजूद रहता हैं जो योनि में उत्तेजना पैदा करता हैं और Clotris में खून का प्रवाह बढ़ा देता हैं जिससे सहवास में आनन्द आता है।


शिलाजीत


शिलाजीत  में BENZOKUMARIN नामक Non steroids Anti inflammatory तत्व पाया जाता हैं जो शरीर में उत्तेजना पैदा कर Sexual Intercourse का समय बढ़ा देता हैं। शिलाजीत सेवन के बाद महिलाएं जल्दी स्खलित नहीं होती हैं।

शिलाजीत में मौजूद Amino acid महिलाओं के तनाव को कम करता हैं और Serotonin का स्त्राव बढ़ देता हैं जिससे उन महिलाओं में उत्तेजना पैदा हो जाती हैं जो उम्र के प्रभाव में अपने योन उत्तेजना खो देती हैं।

अश्वगंधा Withania Somnifera

अश्वगंधा सदियों से शरीर में ताकत और स्फूर्ति प्रदान करने के लिए आयुर्वेद चिकित्सा में उपयोग किया जा रहा हैं।

अश्वगंधा में मौजूद Essential oil शरीर को ताकत प्रदान करतें हैं।

अश्वगंधा में मौजूद तत्व Bio steroids की तरह होते हैं जो शरीर की कोशिकाओं को नया बना देते हैं जिससे बुढ़ापा आने की प्रक्रिया धीमी हो जाती हैं।

दूध और खारक

रात को सोते समय दूध के साथ खारक उबालकर पीने से महिलाओं की योन इच्छा बढ़ती हैं।

तेल की मालिश

स्त्री जननांग पर हल्के हल्के हाथों से तिल तेल या अश्वगंधा तेल की मालिश करने से जननांग की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं और स्त्री जल्दी स्खलित नहीं होगी।

योगासन और व्यायाम

कुछ योगासन और व्यायाम योन इच्छा को बढ़ाकर स्त्री जननांग को मजबूती प्रदान बनातें हैं जिससे सहवास के दौरान आनन्द आता हैं जैसे तितली आसन,किगल व्यायाम आदि।

अतः जिन महिलाओं की योनि ढीली हो उन्हें इन व्यायामों को जरूर करना चाहिए।

च्यवनप्राश

स्त्रीयों की कामवासना बढ़ाने में च्यवनप्राश भी बहुत महत्वपूर्ण योगदान देता हैं च्यवनप्राश में मौजूद तत्व स्त्री जननांग की कोशिकाओं को सदा जवान और स्वस्थ्य बनाएं रखते हैं ‌।

जिससे महिलाएं कामुकता सदा बनी रहती हैं।

सफेद प्याज

जिन महिलाओं को Sexual Intercourse के दौरान सेक्स के प्रति हीनभावना पैदा हो जाती हैं उनके लिए कच्चा प्याज बहुत फायदेमंद होता हैं।

कच्चे प्याज को सुबह शाम भोजन के साथ खाना चाहिए।

केला

केला ऊर्जा से भरपूर फल हैं जिसे खानें के बाद शरीर में एनर्जी और स्फूर्ति आ जाती हैं।

केले को सुबह शाम खानें से महिलाओं में सेक्स के चाहत बढ़ने लगती हैं।

मक्खन

मक्खन को रोटी या मिश्री में मिलाकर खानें से महिलाओं में सेक्स के प्रति अरुचि कम होना शुरू हो जाती हैं।

बबूल की फलियां और बबूल का गोंद

बबूल पेड़ की ताजी पकी गुदेदार फलियों का चूर्ण महिलाओं के अंडोत्सर्ग को नियमित करता हैं और सेक्स हार्मोन का नियमित स्त्रावित करने में मदद करता हैं।

बबूल का गोंद थोड़ा थोड़ा सुबह शाम चूसने से महिलाओं की योन इच्छा बढ़ती हैं।

सफेद दूर्वा

आयुर्वेद चिकित्सा में सफेद दूर्वा का इस्तेमाल जिन स्त्री को गर्भ नहीं ठहरता उनके लिए होता है लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि सफेद दूर्वा की जड़ को पानी के साथ पीसकर महिला की दाहिनी नाक में टपकाने से महिलाओं की योन इच्छा बढ़ती हैं। 

देशी घी

देशी घी में मौजूद एसिड और वसा शरीर को मजबूत बनाने में मदद करतें हैं जिससे महिला काम के प्रति आकर्षित होती हैं।

पर्याप्त पानी

जो महिलाएं पर्याप्त पानी नहीं पीती है उनकी योनि में पर्याप्त मात्रा में ल्यूब्रिकेंट नहीं बन पाते हैं फलस्वरूप योन संबंध बनाने के दौरान घर्षण बढ़ता हैं और महिला की योन इच्छा कम हो जाती हैं। 

पर्याप्त पानी पीने से महिलाओं की योनि में पर्याप्त ल्यूब्रिकेंट बनता हैं और वह शारीरिक संबंध का भरपूर आनंद ले पाती हैं।

उड़द और बरगद की जड़

जिन महिलाओं की योन इच्छा पूरी तरह समाप्त हो जाती हैं उन्हें बरगद की नवांकुर जड़ और उड़द की दाल मिलाकर दही के साथ लेना चाहिए। ऐसा करने से धीरे धीरे योन इच्छा बढ़ने लगती हैं।

चांदी के बर्तन का इस्तेमाल

आयुर्वेद के मतानुसार चांदी के बर्तन में भोजन करने और चांदी के गिलास में पानी पीने से शरीर में ताकत आती हैं और योन इच्छा प्रबल होती हैं।

अनार 

अनार खानें से महिलाओं के शरीर में खून की कमी नहीं होती हैं। और प्रतिमाह माहवारी में होने वाली रक्त की हानि की पूर्ति हो जाती हैं अतः जिन महिलाओं में खून की कमी के कारण योनच्छा की कमी हो उन्हें अनार जरुर खाना चाहिए।

गेंदा फूल

गेंदा फूल का रस निकालकर चार पांच बूंद सोने से पहले पीनें से महिला की योनि में रक्त संचार बढ़ता हैं और वह कामेच्छा के प्रति आकर्षित होती हैं।


महिलाओं में उत्तेजना पैदा करनें वाले पाइंट

महिलाओं को सेक्स के लिए तैयार करने वाले कुछ पाइंट मौजूद होते हैं जिन्हें छूने से महिलाएं तेजी से उत्तेजित हो जाती हैं।

कान के पीछे

महिलाओं के कान के पीछे कुछ ऐसे पाइंट मौजूद रहते हैं जिन्हें चूमने से महिला बहुत तेजी से उत्तेजित होती हैं अतः महिलाओं की कामवासना बढ़ाने के लिए लगातार इन पाइंट को चूमना चाहिए जिससे ये सेक्स पाइंट सक्रिय हो जाएं।

स्तन

महिलाओं के स्तन हल्के हाथों से सहलाने से महिला में उत्तेजना पैदा होती हैं और इस उत्तेजना के दौरान सेक्स हार्मोन आक्सीटोसिन पैदा होता हैं जिससे महिला कामेच्छा के प्रति आकर्षित होती हैं।

होंठ

होंठ पर किस करने से महिलाएं बहुत जल्दी सेक्स के लिए तैयार हो जाती हैं लेकिन होंठों पर किस बहुत धीरे धीरे करना चाहिए।

सहलाना

स्त्री के शरीर को धीरे धीरे सहलाने से वह सेक्स के प्रति उत्सुक हो जाती हैं। यदि स्त्री हाथों से सहलाने के बाद भी कामेच्छा के प्रति विमुख हो तो स्त्री के शरीर पर शहद डालकर या स्तन पर शहद लगाकर उसे होंठों से सहलाने स्त्री कामुक हो जाती हैं।

कामेच्छा बढ़ाने के लिए कुछ जरूरी टिप्स

• कभी भी रात को भारी भोजन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे नींद बहुत आती हैं और योन इच्छा के प्रति अरुचि पैदा होती हैं।

• योन इच्छा बढ़ाने के लिए कभी पार्टनर के साथ रिश्ता कभी भी तनावपूर्ण नहीं रखें।

• योन इच्छा बढ़ाने के लिए रोज शाम को नहाकर मंद खूशबू वाले परफ्यूम लगाएं और सेक्सी ड्रेस पहनें।

• योन इच्छा बढ़ाने के लिए योनि की सफाई पर विशेष ध्यान दें।

• महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के लिए बाजार में उपलब्ध प्रोडक्ट जैसे ग्लिटर, Vaginal wash आदि का इस्तेमाल अपने सेक्सोलॉजिस्ट के परामर्श के बाद ही करें।

• रात को सोते समय मंदगति से पसंदीदा Romantic songs जरुर सुनें।

• जो महिला रिलेशनशिप में हो उन्हें कभी भी सेक्स टाय का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि सेक्स टाय इस्तेमाल करने के बाद महिला शारीरिक संबंध बनाने के दौरान चरमोत्कर्ष का अनुभव नहीं कर पाएगी और फिर धीरे धीरे महिला की योन इच्छा समाप्त हो जाएगी।

• मोटापा योनच्छा में कमी का महत्वपूर्ण कारण है अतः यदि आप मोटी हैं तो मोटापा कम करने पर ध्यान दें।

• जिन महिलाओं के घरेलू हिंसा होती रहती हैं उनमें योन इच्छा का अभाव पाया जाता हैं अतः योन इच्छा बढ़ाने के लिए महिला के साथ सोहार्द का वातावरण निर्मित करें।

• जो महिलाएं धूम्रपान, तम्बाकू का सेवन करती हैं उनकी योन इच्छा उम्र बढ़ने के साथ पूरी तरह समाप्त हो जाती हैं अतः महिलाओं को इनका सेवन नहीं करना चाहिए।

• योन इच्छा बढ़ाने के लिए खानपान को संतुलित रखें अर्थात भोजन में पर्याप्त मात्रा में हरी पत्तेदार सब्जियां,सलाद,और दालें शामिल करें।

महिलाओं की कामेच्छा बढ़ाने के लिए पुरुष क्या करें

महिलाओं की योन इच्छा बढ़ाने के लिए सिर्फ महिलाओं के प्रयास ही सफल नहीं होंगे बल्कि पुरूषों का योगदान भी इसमें महत्वपूर्ण हैं

• महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाने के दौरान पुरुष को कभी उत्तेजित होकर जल्दबाजी नहीं करना चाहिए, शारीरिक संबंध बनाने से पहले महिला के स्तन और बदन को सहलाकर कुछ देर रोमांटिक बातें करना चाहिए।

• महिला की इच्छा शारीरिक संबंध बनाने की नहीं हैं तो महिला के साथ जोर जबरदस्ती नहीं करना चाहिए।

• महिलाओं को सेक्स की पोजीशन जैसे गुदा मैथुन,मुख मैथुन आदि जो पसंद नहीं हैं उसे कभी नहीं आजमाएं।

• कुछ पुरूषों को शारीरिक संबंध के दौरान महिला की चीख पुकार सुनना अच्छा लगता हैं और इससे उनको जोश आता हैं किन्तु ध्यान रहे इन तरीकों से महिलाओं की कामेच्छा खत्म हो सकती हैं।

• जिन महिलाओं के साथ योन दुर्व्यवहार,या बलात्कार हुआ होता हैं वह महिलाएं शारीरिक संबंध को घृणा के दृष्टिकोण से देखने लगती हैं अतः पुरूषों को चाहिए ऐसी स्थिति में पुरानी बातों की चर्चा न की जाए और शारीरिक संबंध बनाने के दौरान महिला के साथ जोर जबरदस्ती न करें।

• Sexual Intercourse के बाद भी महिलाओं को प्यार भरी बातों से प्रभावित जरूर करें इसके लिए उनके शरीर को सहलाएं और आलिंगन करें।

• महिलाओं की कामेच्छा बढ़ाने के लिए पुरुष को भी चाहिए वह आकर्षक दिखे और साफ़ स्वच्छ रहें।

• शारीरिक संबंध बनाने के दौरान पुरुष महिला की इच्छा का पूरा सम्मान करें और महिला जो स्थिति में सेक्स करना चाहें उसे करने दें।

• महिलाओं की योन इच्छा बच्चें पैदा होने के बाद लगभग खत्म सी हो जाती हैं इसका कारण शारीरिक के साथ बच्चों के लालन पालन की मानसिक चिंता भी होती हैं अतः पुरूषों को चाहिए कि वह बच्चों के लालन पालन में महिलाओं की पूरी मदद करें।और महिला के खानपान का पूरा ध्यान रखें।

लेखक: डाक्टर पी के व्यास
       बीएएमएस, आयुर्वेद रत्न

9 नेचुरल सुपरफुड फार हेल्दी वेजाइना

• जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नहीं

• मेफ्रिस्टोल 200 एमजी टेबलेट का उपयोग

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी