सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मई, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्रतियोगी परीक्षाओं में अक्सर पूछे जानें वालें प्रश्न

 Madhypradesh gk Q.भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्यालय कहाँ स्थित हैं ? १.नई दिल्ली २.कोलकता ३.मुम्बई ४.चैन्नई Q.2.भारत का प्रथम प्रक्षेपण उपग्रह कोंन सा था ? १.एप्पल २.स्पूतनिक ३.कासमास ४.आर्यभट्ट  Q.3.भारत के राष्ट्रपति निर्वाचित होनें के पूर्व श्री रामनाथ कोविन्द किस राज्य के राज्यपाल थे ? १.अरूणाचल प्रदेश २.उत्तर प्रदेश ३.बिहार ४.महाराष्ट्र ● यह भी पढ़े ● भारत के स्वतन्त्रता दिवस पर भाषण और कविता ● आयुष्मान भारत योजना क्या हैं यहाँ जानिये ● निलम्बन के बारे में रोचक जानकारी Q.4.माइक्रोसाफ्ट के उस संस्थापक का क्या नाम हैं जो अपनी दानशीलता के कारण प्रसिद्ध हैं ? १.टीम बर्नर २.बिल गेट्स ३.बिल वेल्स ४.डेल कार्नेगी Q.5.रोंहिग्या मुसलमान किस देश के मूल निवासी हैं ? १.म्यामाँर २.बांग्लादेश ३.नेपाल ४.इंडोनेशिया Q.6.रियाल मेड्रिड और बार्सिलोना क्लब किस खेल से संबधित हैं ? १.क्रिकेट २.हाँकी ३.गोल्फ ४.फुटबाँल Q.7.बहुप्रचारित e way बिल किस व्यवस्था से संबधित हैं ? १.कृषि व्यवस्था २.GST कर

म.प्र.युवा स्वरोजगार योजना और मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना

भारत में बेरोजगारी की दर पूरें विश्व में सबसे ज्यादा हैं.जहाँ एक बड़ी युवा आबादी काम करनें की उम्र की होनें के बावजूद उन्हें काम नही मिल पा रहा हैं. बेरोजगारी की यही स्थिति भारत के प्रदेशों की हैं.म.प्र.इस मामलें में अछूता नही हैं,प्रदेश में बेरोजगारी की इस भयावहता से छूटकारा दिलानें तथा युवाओं को कौशलपूर्ण प्रशिक्षण उपलब्ध करानें के लियें म.प्र.शासन नें   म.प्र.युवा स्वरोजगार योजना तथा मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना शुरू की हैं. # म.प्र.युवा स्वरोजगार योजना म.प्र.के युवाओं को स्वरोजगार की ओर आकर्षित करनें के उद्देश्य से यह योजना शुरू की गई हैं.इस योजना के माध्यम से युवाओं को स्वरोजगार शुरू करनें हेतू बैंकों से रियायती दर पर ऋण उपलब्ध कराना.  स्वरोजगार योजना # म.प्र.युवा स्वरोजगार योजना के उद्देश्य • म.प्र.के बेरोजगार युवाओं को अपना स्वंय का रोजगार उपलब्ध कराना. • युवा रोजगार प्राप्त करनें की अपेक्षा रोजगार देनें वाला बन सकें. # पात्रता • आवेदक को म.प्र.का मूल निवासी होना अनिवार्य हैं. • आवेदनकर्ता रोजगार कार्यालय में पंजीकृ

लाडली लक्ष्मी योजना # LADLI LAXMI YOJNA

#1. लाड़ली लक्ष्मी योजना क्या हैं ? लाड़ली लक्ष्मी मध्यप्रदेश शासन द्धारा बालिकाओं की स्थिति में सकारात्मक परिवर्तन लानें के लियें सन् 2006 में शुरू की गई एक महत्वपूर्ण योजना हैं. #2. योजना के उद्देश्य • बालिकाओं के जन्म के प्रति समाज में सकारात्मक धारणा बनाना. • बालिकाओं की जन्म दर में सुधार लाना. • बालिकाओं की शैक्षिक और आर्थिक स्थिति में सुधार लाकर उन्हें समाज में पहचान दिलाना. • जन्म से ही बालिकाओं के बेहतर भविष्य की आधारशीला रखना. • बालिका भ्रूण हत्या को हतोत्साहित करना. #3. योजना के लिये नोड़ल विभाग महिला और बाल विकास विभाग ,मध्यप्रदेश #4. लाड़ली लक्ष्मी योजना की पात्रता शर्तें • इस योजना का लाभ 1 जनवरी,सन् 2006 के बाद जन्मी बालिकाओं को मिलेगा. • बालिका के माता - पिता म.प्र.के मूल निवासी होना चाहियें. • यह योजना दो संतान तक ही सीमित हैं यदि प्रथम संतान बालिका हो तो द्धितीय संतान होनें के बाद माता - पिता में से किसी एक को परिवार नियोजन करवाना अनिवार्य होगा. • द्धितीय संतान के जन्म से एक वर्ष पूर्व प्रथम बालिका का आवेदन प्रस

जल के ऐसे फायदे जिनको जानने के बाद आप खुद ही अपने डाक्टर बन जाओगे ( jal ke achuk fayde)

विभिन्न जल स्त्रोंतों से निकलनें वालें जल के अचूक फायदे ( jal ke achuk fayde)   विभिन्न जल स्त्रोंतों से निकलनें वालें जल के अचूक फायदे ( jal ke achuk fayde) # जल का परिचय हमारी प्रथ्वी का 71% भाग जल से आच्छादित हैं.यह जल समुद्र,भूगर्भ और हिम ग्लेशियरों के रूप में प्रथ्वी पर मोंजूद हैं. पानी रासायनिक रूप में दो हाइड्रोजन अणु और एक आक्सीजन अणु से मिलकर बना होता हैं.इसका रासायनिक सूत्र H²O हैं. शुद्ध जल का pH मान 7 होता हैं,जिसका मतलब हैं,कि जल उदासीन द्रव हैं. हमारें शरीर में 65 से 80 प्रतिशत भाग पानी का होता हैं. पानी बिना जीवन की कल्पना करना असंभव हैं. मनुष्य भोजन के बिना 7 दिन जीवित रह सकता हैं,परंतु पानी के बिना 72 घंटे से ज्यादा जीवित नही रह सकता हैं. पानी की इसी महत्ता को देखते हुये रहीम ने लिखा हैं रहिमन पानी राखिए बिन पानी सब सून पानी गये न उबरे मोती,मानुष,चून   # विभिन्न स्त्रोत से मिलनें वाले जल के गुण ::: १.वर्षा का जल चरकसंहिता में वर्षा जल के गुणों का वर्णन करतें हुये लिखा हैं कि शितंशुचिशिवंमृष्टंविमलंलघुषड्गु

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]  म.प्र.भारत का ह्रदय प्रदेश होनें के साथ - साथ नदी,पहाड़,जंगल,पशु - पक्षी,जीव - जंतुओं के मामलें में देश का अग्रणी राज्य हैं.  river map of mp प्रदेश में बहनें वाली सदानीरा नदीयों ने प्रदेश की मिट्टी को उपजाऊ बनाकर सम्पूर्ण प्रदेश को पोषित और पल्लवित किया हैं.यही कारण हैं कि यह प्रदेश "नदीयों का मायका" उपनाम से प्रसिद्ध हैं. ऐसी ही कुछ महत्वपूर्ण नदियाँ प्रदेश में प्रवाहित होती हैं,जिनकी चर्चा यहाँ प्रासंगिक हैं. #१.नर्मदा नर्मदा म.प्र.की जीवनरेखा कही जाती हैं.इस नदी के कि नारें अनेक  सभ्यताओं ने जन्म लिया . #उद्गम  यह नदी प्रदेश के अमरकंटक जिला अनूपपुर स्थित " विंध्याँचल " की पर्वतमालाओं से निकलती हैं. नर्मदा प्रदेश की सबसे लम्बी नदी हैं,इसकी कुल लम्बाई 1312 किमी हैं. म.प्र.में यह नदी 1077 किमी भू भाग पर बहती हैं.बाकि 161 किलोमीटर गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में बहती हैं. नर्मदा प्रदेश के 15 जिलों से होकर बहती हैं जिनमें शामिल हैं,अनूपपुर,मंड़ला,डिंडोरी,जबलपुर,न