सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बबूल के औषधीय गुण अनेक । Benefit of acacia tree in Hindi

बबूल के औषधीय गुण Benefit of acacia tree in Hindi




बबूल पेड़ के फायदे
बबूल पेड़


बबूल का पेड़ वैसे तो सम्पूर्ण भारत मेें पाया जानें वाला उष्णकटिबंधीय वृक्ष हैं ।किन्तु पश्चिमी भारत विशेेेेषकर राजस्थान ,मध्यप्रदेश उत्तरप्रदेश  आदि  प्रदेशों में यह वृृक्ष बहुतायत में  मिलता है ।

बबूल का पेड़ मध्यम कद का  होता हैं । बबूल के पत्ते छोटें छोटें आँवले के पत्तो के समान होतें हैैं ।

बबूल के कांटे  बहुत तीक्ष्ण और मज़बूत होतें हैं बबूल के कांटें दो - दो के जोड़े मेंं लगतें हैं । 


बबूल के फूल पीले रंग के होतें हैं। बबूल की फलियाँ इमली के समान लम्बाई वाली होती हैं ।


बबूल के पेड़ से गोंद भी प्राप्त होता हैं ।  बबूल की लकड़ी बहुत कठोर और लम्बे
समय तक  टीकाऊ होती हैैं ।

बबूल का संस्कृत नाम 



बबूल को संस्कृत में बर्बूर ,बब्बूल ,कफांतक ,स्वर्णपुष्प ,और मालाफल कहतें हैं।

बबूल का हिन्दी नाम acacia tree in hindi


बबूल को हिन्दी मेें बबूल ,बबूर और कीकर नाम से पुकारतें हैं ।


बबूल का लेटिन नाम 


बबूल को लेटिन भाषा मेें माइमोसा अरेबिका कहतें हैं ।


आयुर्वेद मतानुुुुसार बबूल की प्रकृति 

 आयुर्वेद मतानुसार बबूल कड़वा ,स्निग्ध ,शीतल होता हैं ।


बबूल का औषधीय उपयोग 


1.दस्त  में 



बबूल के गोंद को 30 ग्राम की मात्रा में लेकर इसे 100 मिलीलीटर पानी मेंं गला देें । इस पानी को दिन में तीन चार बार पीलायें । दस्त बंद करने की घरेलू दवा इससे उत्तम नही हैं ।

2.दाँतदर्द 

बबूल बहुत उत्तम दाँतदर्द निवारक औषधी हैं । बबूल की टहनी से दातुन करनेें वाले व्यक्ति के दाँतदर्द मेें तुरंत आराम मिलता हैं । और दांत मजबूत और चमकदार बनतें हैैं । 


यदि दाँत सड़ रहे हो तो बबूल की फली को जलाकर इसे राख बना ले और इसमें नमक मिलाकर मंजन करनें से सड़़े दाँत का और अधिक क्षरण नही होता हैं ।

3.नेत्रपीड़ा 


बबूल के पत्तें जो नरम हो ऐसे आठ दस पत्तें लेकर उनका रस निकाल ले इस रस में इतना  ही शहद मिलाकर आँखों पर अंजन करें आँखों के दर्द में बहुुुत तेेेजी से आराम मिलता हैं ।


4.बाजीकारक 


बबूल की छाल ,फल और गोंद बहुत उत्तम बाजीकारक औषधी हैं । 

यदि बबूल केे गोंद को प्रतिदिन चने के दाने बराबर लेकर चूसा जायें  तो इंसान कुुछ ही दिनों मेंं  घोडे जैसा शक्तिशाली बन जाता हैं । उसकी मैथुन करनेें की क्षमता दुगनी हो जाती हैैं । वीर्य स्खलन  का समय  लम्बा हो जाता हैं ।


5.शुक्राणुओं की वृद्धि 


बबूल की फली 500 ग्राम और 300 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण आपस में मिला लें यह चूर्ण आधा चम्मच प्रतिदिन केे हिसाब से रात्रि में सोते वक्त सेवन करनें से व्यक्ति के वीर्य मेें शुक्राणुओं की सँख्या बढ जाती हैं ।


6.श्वेत प्रदर


बबूल की छाल का क्वाथ बनाकर इसमें थोडी सी फिटकरी डाल ले और इस क्वाथ से योनि को धोंये।
श्वेत प्रदर मेें आराम मिलता हैं ।


7.टूटी हड्डी जोडनें में


बबूल टूटी हड्डी जोड़नें की सर्वमान्य आयुर्वेदिक औषधी हैं जो लम्बेेे समय से वनवासीयों द्धारा उपयोग की जा रही हैं ।

बबूल के बीजों का चूर्ण बनाकर 3 ग्राम चूर्ण के साथ शहद मिलाकर सुबह शाम चाटनें से टूटी हड्डी जुूूूड़़ जाती हैं ।

8.चर्म रोंग मेें

बबूल के गोंद को पानी में पीसकर दाद खाज पर लगानें से दाद खाज में आराम मिलता हैं ।


9.बिच्छू कााटनें पर

बबूल के गोंंद को गरम कर बिच्छू काटनें वाले डंक पर चिपका दे इस  विधि से  बिच्छछू का जहर कुुछ ही क्षण में उतर जाता हैं ।


 10.मुुँह के छाले


बबूल के पत्तों का रस मुहँ में भरकर कुल्ला करनें से मुँह के छालेंं ठीक हो जातें हैंं।

बबूल के गोंंद को मुंह में लेकर चूसनें से मुँह के छाले की जलन कम होकर बहुत शीीघ्रता सेे ठीक होतेें हैं ।

11. रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ानें में


बबूल की छाल को रातभर पानी में भिगोकर सुबह इस पानी से स्नान करनें से रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़़ती हैं ।

12.कुपोषण 

बबूल की फली ,गोंद ,पत्तियाँ छाल सभी पोषण से भरपूर होतें हैं इनकोो खानें कुुुपोषण बहुत शीीघ्रता सेे दूर होताा हैं ।

13.रक्तस्त्राव  रोकने में

बबूल के फूल रक्तस्त्राव रोकने की बहुत उत्तम आौैषधि हैं । यदि कटनें से रक्त नह
 रूक रहा हैैं तो बबूल के फूलों का रस कटे हुये स्थान पर लगा दें रक्तस्त्राव रूूूक जावेगा
 किन्तु इस विधि का उपयोग तभी करें जब आकस्मिक चिकित्सा का कोई साधन उपलब्ध नही हो ।

14.गर्भपात मेंं


यदि स्त्री को बार बार गर्भपात  की शिकायत हो तो बबूल के गौंद को घी में तलकर प्रतिदिन 5 ग्राम गोंद गर्भावस्थथा के प्रथम मास से तीन चार माह तक खिलायें गर्भपात की संभावना समाप्त हो जाती हैं ।


15.बालों को मज़बूत बनाता हैं


बालों यदि अकारण टूटकर गिरतें हो तो बबूल की फली को रात को पानी में भिगोकर छोड़ दें । सुबह इस पानी से बाल धों लें बाल मज़बूत और टीकाऊ बने रहेंगें ।

16.चोंट लगने पर

चोंट लगने पर बबूल के पत्तों को पीसकर घाव पर लगाने से घाव बहुत तेजी से ठीक होता हैं ।

० टैकीकार्डिया

० काला धतूरा के फायदे और नुकसान

० फिटनेस के लियें सतरंगी खानपान

० फंगल इंफेक्शन

• द्राक्षारिष्ट में पाए जाने वाले तत्व




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह