सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

PH LEVEL क्या हैं

PH LEVEL क्या हैं ?

Body ph
 Ph level
pH का पूरा नाम potential hydrogen हैं.यह पदार्थों के क्षारीय या अम्लीय होनें की माप हैं.इसकी स्केल 0 से 14 तक निर्धारित हैं. 0 से 7 pH मान वाले पदार्थ एसिड़ प्रकृति के होतें हैं.जबकि 7 से 14 के बीच वालें पदार्थ एल्कलाइन प्रकृति को प्रदर्शित करतें हैं.बिल्कुल 7 की माप दर्शानें वालें पदार्थ उदासीन  (nutral) होतें हैं.

#एसिडिक पदार्थ कोंन - कोंन से हैं ?


काँफी,चाय, सफेद चावल,मूँगफली, कृत्रिम शक्कर,वाइन,चीज,कोला ,बाजरा,ज्वार ,काजू,अलसी,तिल,अचार

#एल्केलाइन पदार्थ कोंन - कोंन से हैं ?


सेब,पालक,मशरूम,गाजर,निम्बू, आंवला, आडू, खीरा , बादाम, खरबूजा, तुलसी , बैंकिंग सोडा,मसूर, कद्दू, केला, नारियल, अंजीर, अंगूर, खजूर, दूध, संतरा, नासपाती, अंकुरित अनाज, चुकंदर, पत्ता गोभी, गोभी, गाजर, प्याज, मूली, टमाटर, पालक,  आलू व परवल
निम्बू अम्लीय होता है लेकिन यह पेट में जाने के बाद एल्कलाइन गुण दर्शाता हैं।

#उदासीन पदार्थ कोंन - कोंन से हैं ?


पानी,दूध,मक्खन,खाद्य तेल आदि.

#शरीर के लियें pH का कितना महत्व होता हैं



हमारें शरीर का सामान्य ph मान 7.35 से 7.40 तक होता हैं,जोकि थोड़ा क्षारीय प्रकृति को दर्शाता हैं. यदि इस स्थिति में परिवर्तन हो जायें तो शरीर में बीमारींयाँ भी पैदा होनें लगेगी.मान लीजिये शरीर की pH  value 7 से कम हो जायें तो वज़न बढ़ना,कैंसर, एसीडीटी, पेट में छाले आदि बीमारी पैदा हो जावेगी. यदि pH value 7 से ज्यादा हो जावें तो यह अवस्था एल्कोसिस कही जाती हैं और इसमें तनाव, कब्ज, अर्श, अस्थमा, एलर्जी जैसे रोग पैदा हो जातें हैं.

जब भी कभी शरीर का pH मान असंतुलित हो हमें pH के मान के हिसाब से  एल्कलाइन और क्षारीय पदार्थों का सेवन करना चाहियें.


एसिडोसिस किसे कहते हैं ?

हमारे शरीर का पीएच मान संतुलित होने पर शरीर की सारी जैविक गतिविधि व्यवस्थित तरीके से संचालित होती हैं किन्तु यदि शरीर का पीएच मान बहुत कम हो जाता है तो उसे एसिडोसिस Acidosis कहते हैं।

एल्कोसिस किसे कहते हैं ?

जब शरीर का पीएच मान सामान्य से बहुत अधिक हो जाए तो उसे एल्कोसिस Alkosis कहते हैं।


घर पर शरीर की पीएच वेल्यू की जांच कैसे करें ?

घर पर शरीर के पीएच वेल्यू की जांच करने के लिए लिटमस पेपर विधि अपनाई जाती है आईए जानते हैं घर पर पीएच वेल्यू की जांच कैसे करें

1.सबसे पहले मेडिकल स्टोर से लिटमस पेपर खरीद लें।

2.लिटमस पेपर को मुंह से निकलने वाली लार से भिगो लें।

3.भीगें हुए लिटमस पेपर को कुछ समय के लिए परिणाम के लिए रख दें।

4.यदि लिटमस पेपर का रंग हरा हो जाता है तो इसका मतलब होता है कि आपका शरीर का पीएच मान 6 से 7.5 के बीच है,यह अवस्था शरीर की सामान्य या संतुलित पीएच मान को दर्शाती है।

5.यदि लिटमस पेपर का रंग नीले रंग में परिवर्तित हो जाता है तो इसका मतलब है आपके शरीर का पीएच मान 7 से बहुत अधिक है और यह अत्यधिक एल्कलाइन प्रकृति है। यह एल्कोसिस होता हैं।

6.यदि लिटमस पेपर का रंग पीला हो जाता है तो इसका मतलब है शरीर का पीएच मान 7 से बहुत कम है और यह एसिडोसिस होता हैं।


• BMI से संबंधित न्यू रिसर्च

• fungal infection













टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी