सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER 

पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी।

अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी।

तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें


BPGRIT INGREDIENTS

PATANJALI BPGRIT,बीपीग्रिट, दिव्य बीपीग्रिट


1.अर्जुन छाल चूर्ण (Terminalia Arjuna) 150 मिलीग्राम

2.अनारदाना (Punica granatum) 100 मिलीग्राम

3.गोखरु (Tribulus Terrestris ) 100 मिलीग्राम

4.लहसुन (Allium sativam) 100  मिलीग्राम

5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम

6.शुद्ध गुग्गुल (Commiphora mukul

7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम

8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम

9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम

10.Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम

11.Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम


DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS

पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी, PATANJALI DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER


1.गजवा  (Onosma Bracteatum)

2.ब्राम्ही (Bacopa monnieri)

3.शंखपुष्पी (Convolvulus pluricaulis )

4.घोदबच (Acorus calamus)

5.अश्वगंधा  (Withania Somnifera )

6.मालकांगनी (Celastrus Paniculatus)

7.सौंफ (Foeniculum)

8.पुष्करमूल (Inula Recemosa)

9.उस्तेखद्दूस (Lavandula Stoechas )

10.जटामासी (Nardostachys jatamansi )

11.सर्पगंधा (Rauwolfia serpentina )

12.मुक्ता पिष्टी


14.ऐरोसील

15.टेल्कम


BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

1.BPGRIT में अर्जुन छाल चूर्ण सबसे अधिक मात्रा में पाया जाता हैं अतः जो लोग उच्च रक्तचाप के साथ ह्रदयरोग से ग्रसित है वह BPGRIT के साथ मुक्ता वटी लेते हैं तो बहुत उत्तम परिणाम प्राप्त होते हैं।

2.Divya Mukta Vati extra power में गजवा होता हैं गजवा में एक फाइटोकेमिकल्स पाया जाता हैं जो ह्रदय की असामान्य धड़कन को नियमित करता हैं।

3.BPGRIT में मौजूद अनारदाना में Pelletierine नामक केमिकल होता हैं जो भूख बढ़ाता हैं और ह्रदय की धमनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल कम करता हैं।

4.DIVYA MUKTA VATI में ब्राम्ही होता हैं ब्राम्ही में Vitamin B 3 पाया जाता हैं जो लिवर द्वारा बनाए गए खराब कोलस्ट्रॉल को नियंत्रित करता हैं।

5.ब्राम्ही मानसिक तनाव को कम कर मन को शांति प्रदान करती हैं।

6.BPGRIT में मौजूद गोखरु मूत्राशय को उत्तेजित करता हैं फलस्वरूप अधिक मूत्र का उत्सर्जन होता हैं जिससे उच्च रक्तचाप नियंत्रित रहता हैं।

7.गोखरु में Rutin नामक एक बायो केमिकल तत्व मौजूद होता हैं जो रक्त नलिकाओं में खून का संचार सही रखता हैं और ह्रदय को मजबूती प्रदान करता हैं।

8.Divya Mukta Vati extra power में शंखपुष्पी मिली हुई हैं जो मस्तिष्क के तनाव को कम करती हैं और उच्च रक्तचाप नियंत्रित करती हैं।

9.BPGRIT में लहसुन हैं जो खून के प्रवाह को बनाए रखता हैं जो ह्रदय को बलशाली बनाता हैं।

18.दिव्य मुक्ता वटी में पुष्करमूल मिलाया गया हैं, पुष्करमूल में Alkaloids, Volatile Oil जैसे तत्व पाए जातें हैं जो Aromatic Properties दर्शातें हैं। ये तत्व मन को प्रसन्न रखते हैं।
बीपीग्रिट में मौजूद दालचीनी में Eugenol Oil और Camphor भी यही गुण दर्शातें हैं।


पुष्करमूल में D-mannitol नामक बायो केमिकल मौजूद रहता हैं जो उच्च रक्तचाप की वजह से Optic Nerve पर पड़ रहें दबाव को कम करता हैं।

19.जटामासी आयुर्वेद चिकित्सा में उच्च रक्तचाप और मस्तिष्क संबंधी बीमारियों के लिए अनादिकाल से प्रयोग की जा रही हैं। जटामासी में Actinidine, Carotene जैसे महत्वपूर्ण यौगिक पाएं जातें हैं जो मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को सुचारू बनाए रखते हैं और शरीर के त्रिदोष का शमन करतें हैं।

20.मुक्ता वटी में मौजूद सर्पगंधा एक निद्राजनक औषधि हैं जो गहरी नींद लाती हैं उच्च रक्तचाप के कारण अनिद्रा की समस्या में यह प्रभावी तरीके से काम करती हैं।

सर्पगंधा में मौजूद Ajmalicidine उच्च रक्तचाप को बहुत तेजी से सामान्य कर देता हैं।

सर्पगंधा में Rouhimbine नामक तत्व पाया जाता हैं जो Angina Pectoris को कम कर देता हैं।

20.मुक्ता वटी में मुक्ता पिष्टी या मोती पिष्टी होती हैं यह औषधि शरीर को शीतल और नर्वस सिस्टम को मजबूत बनाकर ह्रदय की मांसपेशियों को मजबूत करती हैं।

21.MUKTA VATI EXTRA POWER में मालकांगनी होता हैं जो एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेशन गुण दर्शाता हैं यह शरीर के Oxidative Stress को कम करता हैं।

DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER PRICE

दिव्य मुक्ता पिष्टी 120 ग्राम की किमत 225 रुपए हैं।

BPGRIT PATANJALI PRICE

दिव्य बीपीग्रिट 60 टेबलेट (41 ग्राम) 180 रूपए

प्रश्न :: पतंजलि दिव्य बीपीग्रिट और पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी में से कौनसी दवा उच्च रक्तचाप के लिए अच्छी हैं?

उत्तर: हमारे क्लिनीकल शोध के अनुसार केवल उच्च रक्तचाप के लिए पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी दिव्य बीपीग्रिट के मुकाबले अच्छी हैं। जबकि उच्च रक्तचाप के साथ ह्रदयरोग होने पर पतंजलि दिव्य बीपीग्रिट अच्छी हैं।

PATANJALI DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER SIDE EFFECTS

पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट के अनुसार पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी पूर्णतः आयुर्वेदिक और हानिरहित औषधी हैं। जिसके सेवन के बाद कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं।

PATANJALI BPGRIT SIDE EFFECTS

पतंजलि बीपीग्रिट भी पूर्णतः निरापद और हानिरहित औषधी हैं।जिसका कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता हैं।

लेखक:: डाक्टर पी के व्यास
बीएएमएस, आयुर्वेद रत्न








टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह