सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Green Tea ke Fayde aur Nuksaan – ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

Green Tea ke Fayde aur Nuksaan – ग्रीन टी के फायदे और नुकसान



Green tea, ग्रीन टी,हरी चाय


ग्रीन टी के फायदे को देखते हुए पूरी दुनिया के लोग इसे अपनी रोज की दिनचर्या में शामिल कर रहें हैं। डाक्टर भी ग्रीन टी पीने की सलाह अपने मरीज को दे रहें हैं। 

सबसे बढ़िया ग्रीन टी Camellia sinensis या चाय के पौधे के सबसे ऊपरी भाग से तोड़कर बनाई जाती हैं।

ग्रीन टी का इतिहास

ग्रीन टी पीने और इसे बनाने का सबसे पहले वर्णन चीन में मिलता हैं। लगभग 3000 बीसी पूर्व तुंग डायनेस्टी के एक व्यक्ति लू यू (733 -803) ने अपनी किताब The classic of या Tea Sutra में चाय बनाने की विधि, उसमें उपयोग होने वाले बर्तनों के बारे में लिखा था।



लू यू को दुनिया में चाय संस्कृति का जन्मदाता माना जाता हैं।

 तो आईए जानतें हैं ग्रीन टी पीने के फायदे के बारें में

ग्रीन टी में पाए जानें वाले तत्व और उनके फायदे

1. केटेचिन्स Catechins ke fayde

ग्रीन टी में प्राकृतिक पाया जानें वाला यह एक पालिफिनोल, प्राकृतिक एंटी आक्सीडेंट हैं। Catechins सबसे पहले कत्था पेड़ से निकाला गया था‌। 

ग्रीन टी में Catechins 15 प्रतिशत तक होता हैं Catechins ग्रीन टी को कत्थई रंग प्रदान करता हैं लेकिन रंग प्रदान करने के अलावा भी स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण फायदे हैं

• ग्रीन टी में मौजूद Catechins यह शरीर की कोशिकाओं को समय से पूर्व मरने से बचाता हैं। जिससे कोशिकाओं की उम्र लम्बी होती हैं जो अंततः व्यक्ति की लम्बी उम्र के लिए उत्तरदायी होती हैं ‌

• Catechins शरीर में फ्री रेडिकल्स का बनना कम कर देता हैं फलस्वरूप कैंसर और आनुवांशिक बीमारी का खतरा कम हो जाता हैं।

• ग्रीन टी में पाए जाने वाले Catechins में एंटी बेक्टेरियल और एंटी वायरस गुण पाए जाते हैं, ग्रीन टी पीने से व्यक्ति वायरस, बैक्टीरिया के प्रति बहुत हद तक सुरक्षित रहता हैं।

• यूरोप में हुए रिसर्च के अनुसार Catechins का एक प्रकार epigallocatechi gallate (EGCG) ग्रीन टी में प्रचुरता से पाया जाता हैं। EGCG शरीर में मेटाबॉलिज्म रेट को बढ़ा देता हैं जिससे शरीर में जमा अतिरिक्त चर्बी पिघलने लगती हैं। इस तरह ग्रीन टी मोटापा कम कर देती हैं।

• Catechins मस्तिष्क के oxidative damage को रोक देता हैं फलस्वरूप पार्किनसन्स और अल्जाइमर जैसी बीमारी से बचाव होता हैं। Oxidative damage का मुख्य कारण शरीर में घूमने वाले फ्री रेडिकल्स होते हैं जो कि प्रदूषण, अधिक शराब, धूम्रपान आदि से शरीर में बढ़ जाते हैं।

ग्रीन टी में मौजूद Catechins इन फ्री रेडिकल्स का बढ़ना रोक देता हैं।

• General of nutritional research में प्रकाशित एक Clinical research के अनुसार Catechins पीनें वाले व्यक्तियों में निम्नलिखित परिवर्तन देखे गए

1.ग्रीन टी पीने वाले लोगों की त्वचा सूर्य की पराबैंगनी किरणों से उन लोगों के मुकाबले अधिक सुरक्षित थी जिन्होंने ग्रीन टी नहीं पी थी।

2.Catechins से त्वचा अधिक चमकदार, मुलायम और स्वस्थ्य हुई और त्वचा में रक्त का प्रवाह बढ़ गया।

• Catechins में मौजूद फ्लेवर मुंह की दुर्गंध दूर करने में मदद करता हैं।

• Catechins दांतों की केविटी की सुरक्षा करने में मदद करता हैं जिससे दांत घीसते नहीं हैं।

• ग्रीन टी में मौजूद Catechins शरीर की मेटाबॉलिज्म रेट को बढ़ा देता हैं जिससे शरीर की अतिरिक्त वसा कम होने लगती हैं और भूख भी खुलकर लगती हैं।


2.caffeine कैफ़ीन

• ग्रीन टी में कैफ़ीन प्रचुरता से पाया जाता हैं कैफ़ीन मस्तिष्क को अलर्ट रखता है और थकावट दूर करता हैं।

• अमेरिका समेत पूरी दुनिया में कैफ़ीन का उपयोग माइग्रेन और सिरदर्द के उपचार में किया जाता हैं।

• कैफ़ीन का उपयोग शरीर में आक्सीजन की मात्रा बढ़ाने और ह्रदय की गति तेज करने में किया जाता हैं।

• ग्रीन टी में मौजूद कैफ़ीन खिलाड़ियों की शारीरिक क्षमता को बढ़ाता हैं और खेल के दौरान आने वाली थकावट को रोकता हैं।

• ग्रीन टी में मौजूद कैफ़ीन मूत्राशय को उत्तेजित करता हैं और शरीर से अतिरिक्त पानी और नमक की मात्रा बाहर निकाल देता हैं।

• अमेरिकन शोध रिपोर्ट के अनुसार कैफ़ीन की रासायनिक संरचना एलोपैथिक दवा Theophylline के समान होती हैं जो फेफड़ों की वायु प्रणाली की सूजन कम करती हैं। अतः कैफ़ीन का नियंत्रित सेवन अस्थमा और खांसी की रोकथाम करता हैं।

• ग्रीन टी में मौजूद कैफ़ीन भोजन के पाचन की प्रक्रिया धीमी कर देता हैं फलस्वरूप भूख नहीं लगती इस तरह वज़न घटाने में मदद मिलती हैं।

• कैफ़ीन मस्तिष्क के adenosine नामक न्यूरोट्रांसमीटर को रोक देता हैं जिससे शरीर में थकावट आती हैं।

• अमेरिकन शोध रिपोर्ट के अनुसार कैफ़ीन शरीर का तापमान बढ़ा देता है जिससे ठंडे स्थान पर रहने वाले व्यक्तियों को हाइपोथर्मिया से निपटने में मदद मिलती हैं।

• कैफ़ीन उन लोगों के लिए फायदेमंद है जिनके हाथ पांव ठंडे होते हैं और जिन्हें बार बार झुनझुनाहट महसूस होती हैं।

• कैफ़ीन हैंग ओवर को रोकता हैं।


3.Theanine थियानिन

Theanine को‌ L-theanine के नाम से भी जाना जाता हैं यह एक प्रकार का पानी में घुलनशील और नान प्रोटीन एमिनो एसिड हैं जो ग्रीन टी में प्राकृतिक रूप से मौजूद होता हैं।

• थियानिन मानसिक एकाग्रता को बढ़ाकर मस्तिष्क को सक्रिय बनाए रखता हैं।

• शोध रिपोर्ट के अनुसार थियानिन का निश्चित समय तक सेवन शरीर में इन्फ़्लुएन्ज़ा के विकास को बाधित करता हैं।

• साइंस डायरेक्ट  के अनुसार जापानी लोग Theanine supplement का उपयोग शरीर को आराम दायक मोड़ में ले जानें के लिए करतें हैं।

• थियानिन मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर GABA (gamma-aminobutyric acid) जो कि सिरोटोनिन और डोपामिन में बदल जाता हैं का लेवल बढ़ा देता हैं जिससे मस्तिष्क शांत और तनावमुक्त रहता हैं।

• रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार थियानिन श्वसन तंत्र के संक्रमण को कम करने में योगदान देता हैं और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता हैं।


4.Chlorophyll क्लोरोफिल

क्लोरोफिल पेड़ पौधों में पाया जानें वाला महत्वपूर्ण तत्व है जो पेड़ पौधों को हरा रंग प्रदान करता हैं और सूर्य किरणों की उपस्थिति में पेड़ पौधों को पौषण प्रदान करता हैं।

• chlorophyll त्वचा के संक्रमण को कम करता हैं।यह मंहासे और चेहरे पर दाग़ धब्बों होने की प्रक्रिया धीमी कर देता हैं।

• इनसाइक्लोपीडिया आफ नेचुरल मेडिसीन के अनुसार क्लोरोफिल खून में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओं की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार करता हैं। लाल रक्त कोशिकाओं की गुणवत्ता सुधार से शरीर में आक्सीजन के प्रवाह की क्षमता में सुधार होता हैं।

• एक एनिमल क्लिनिकल अध्ययन के अनुसार क्लोरोफिल कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को नियंत्रित करता हैं।

• क्लोरोफिल शरीर से अतिरिक्त चर्बी को ऊर्जा में बदल देता हैं फलस्वरूप मोटापा कम होता हैं।

• क्लोरोफिल शरीर से आने वाली दुर्गंध को समाप्त करता हैं इस हिसाब से देखा जाए तो क्लोरोफिल Natural Deodorant का काम करता हैं।

5.Saponins 

• ग्रीन टी में मौजूद Saponin एंटी आक्सीडेंट,और एंटी एलर्जिक होता हैं।


6.विटामिन्स

• विटामिन सी - विटामिन सी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता और स्वस्थ्य शरीर के लिए अति आवश्यक विटामिन हैं।

• विटामिन बी 2- विटामिन बी 2 या राइबोफ्लेविन कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में बदलने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

• फालिक एसिड़ -  यदि गर्भावस्था में फालिक एसिड़ गर्भवती महिला को नहीं मिले तो neural tube defacts (NTD) नामक बीमारी हो सकती हैं जिसमें शिशु का मस्तिष्क और स्पाइनल कॉर्ड का विकास बाधित होता हैं।

• बीटा कैरोटिन - बीटा कैरोटिन विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता हैं विटामिन ए स्वस्थ्य आंखों, स्वस्थ्य त्वचा और बेहतर प्रतिरोधक क्षमता के लिए आवश्यक होता हैं।

• विटामिन ई एंटी आक्सीडेंट होता हैं जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर कई अंगों की सुचारू कार्यप्रणाली के लिए आवश्यक होता हैं।

7.Fluorine फ्लोरिन 

• ग्रीन टी में प्राकृतिक रूप से फ्लोरिन मौजूद रहता हैं फ्लोरिन हड्डीयों को मजबूती प्रदान करता हैं, दांतों के क्षरण को रोकता हैं।

• फ्लोरिन दांतों की केविटी को एसिड़ से रिएक्शन को कम करता हैं जिससे दांतों की केविटी सुरक्षित रहतीं हैं।

8.खनिज तत्व

ग्रीन टी में 7 प्रतिशत तक पोटेशियम, फास्फोरस, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिज तत्व मौजूद होते हैं। ये खनिज तत्व शरीर की कार्यप्रणाली सुचारू रूप से संचालित करने के लिए बहुत आवश्यक हैं।

9.ग्रीन टी की सुगंध

ग्रीन टी के पत्तों में मौजूद एमीनो एसिड और सैकराइड गर्म होने पर सुगंध छोड़ते हैं। यह सुगंध मस्तिष्क को शांत और प्रसन्नचित रखती हैं।

बहुत से लोगों का ग्रीन टी बनाने के दौरान निकली वाष्प और सुगंध से सिरदर्द ठीक हो जाता हैं। 

ग्रीन टी की सुगंध से तनाव कम होता हैं।

ग्रीन टी में पाए जाने वाले पौषक तत्व 

• पानी - 99.93 ग्राम

• प्रोटीन - 0.22 ग्राम

• कार्बोहाइड्रेट - 3.88 ग्राम

• विटामिन सी - 20.75 मिली ग्राम

• लौह तत्व - 0.02 ग्राम

• मैग्नीशियम - 1 मिली ग्राम

• पोटेशियम - 8 मिली ग्राम

• सोडियम - 1 मिली ग्राम

• जिंक - 0.01 मिली ग्राम

• थियामिन - 0.007 मिली ग्राम

• राइबोफ्लेविन - 0.058 मिली ग्राम

• नियासिन - 0.030 मिली ग्राम

• कैफ़ीन - 12 मिली ग्राम

• केटेचिन्स - 15 ग्राम 

• फ्लैवेनाइड - 10 मिली ग्राम

• विटामिन ए - 41.53 मिली ग्राम

• एमिनो एसिड - 0.8 मिली ग्राम

• फ्लोरिन - मौजूद

अन्य तत्व -फालिक एसिड, सेलेनियम,गैलिक एसिड और अन्य 20 से अधिक तत्व

[प्रति 100 ग्राम ग्रीन टी]

ग्रीन टी के नुकसान Green tea ke nuksan

ग्रीन टी के फायदे जहां है वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं जैसे

• ग्रीन टी का निर्धारित मात्रा से अधिक सेवन पेट में गर्मी बढ़ा देता हैं।

• कुछ लोगों को ग्रीन टी पीने से एलर्जी हो सकती हैं। जिसमें ग्रीन टी पीने के बाद गैस,अपच, दस्त,और पेटदर्द होता हैं।

• अधिक ग्रीन टी पीने के बाद नींद नहीं आती हैं।

• ग्रीन टी पेट एसिड की मात्रा बढ़ा देती हैं अतः जिन लोगों को पहले से ही पेट में अल्सर, एसिडिटी की समस्या हो उन्हें समस्या बढ़ सकती हैं।

• ग्रीन टी अधिक पीने से गर्भवती स्त्री को जी मिचलाना,उल्टी, पेट दर्द और शरीर में झटके जैसी समस्या उभर सकती हैं।

• ग्रीन टी अधिक पीने से ह्रदय की धड़कन अनियमित हो सकती हैं क्योंकि इसमें मौजूद कैफ़ीन, सोडियम,और पोटेशियम शरीर में अधिक होने से ह्रदय उत्तेजित होता हैं।

• ग्रीन टी में मौजूद कैफ़ीन की आदत हो सकती हैं जिससे व्यक्ति दिन में कई बार ग्रीन टी पीता है और फलस्वरूप व्यक्ति की भूख समाप्त हो जाती हैं। 

ग्रीन टी कब पीना चाहिए

बहुत से लोग ग्रीन टी पीने को लेकर सवाल करते हैं उदाहरण के लिए

• सुबह खाली पेट ग्रीन टी पीने के फायदे क्या हैं

सुबह खाली पेट ग्रीन टी पीने से ग्रीन टी पेट में अच्छे से अवशोषित होती हैं और ग्रीन टी से संबंधित फायदे मिलते हैं। लेकिन ध्यान रहे सुबह दो कप से अधिक ग्रीन टी नहीं पीना चाहिए।

• एक दिन में कितनी ग्रीन टी पीना चाहिए ?

अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार एक दिन में चार कप ग्रीन टी पीना शरीर के लिए सामान्य है चार कप से अधिक ग्रीन टी शरीर को नुकसान पहुंचाती हैं।

• क्या ग्रीन टी में निंबू निचोड़कर पीने से फायदा होता हैं ?
 
जो लोग अतिरिक्त रूप से विटामिन सी और वजन कम करना चाहते हैं उन्हें ग्रीन टी में निंबू निचोड़कर पीने से फायदा होता हैं।

• क्या रात को सोने से पहले ग्रीन टी पीना चाहिए ?

चूंकि ग्रीन टी में कैफ़ीन प्रचुरता से मौजूद होता हैं अतः सोने से पहले ग्रीन टी पीने से नींद में बाधा हो सकती हैं। अतः बेहतर यही है कि व्यक्ति शाम के समय ग्रीन टी पीएं।

• ग्रीन टी कितने दिन पीना चाहिए ?

सुबह शाम एक‌ एक ग्रीन टी पीना आदर्श स्थिति होती हैं और व्यक्ति आजीवन ग्रीन टी पी सकता हैं।

• क्या भोजन करने के बाद ग्रीन टी पीना चाहिए ?

भोजन करने के बाद ग्रीन टी पीने से भोजन पचाने की प्रक्रिया धीमी हो जाती हैं अतः भोजन करने के बाद ग्रीन टी नहीं पीना चाहिए।

सन्दर्भ - 

1.https://www.healthline.com/nutrition/top-10-evidence-based-health-benefits-of-green-tea

2.https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-960/green-tea

3.https://en.m.wikipedia.org/wiki/Green_tea

4.https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2855614/

5.https://www.itoen-global.com/allabout_greentea/components_benefit.html

Author : Dr P. K.Vyas
 BAMS, Ayurveda Ratna


• हर्बल टी पीने के फायदे

• कीटो डाइट के फायदे और नुकसान

• पतंजलि दंत कांति टूथपेस्ट vs विको वज्रदंती टूथपेस्ट

• geru ke fayde

• दूध पीने से क्या फायदा होता हैं









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी