सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अमरूद में पाये जानें वाले पोषक तत्व Nutrition value of guava in Hindi

अमरूद में पायें जानें वालें पोषक तत्व Nutrition value of guava in Hindi



 
अमरूद सम्पूर्ण विश्व में पाया जानें वाला फल हैं । अमरूद संस्कृत शब्द अमरूद्ध : से बना हैं जिसका अर्थ होता हैं जो प्रभावी रूप से बीमारीयों को रोकनें वाला ।


अमरूद को जामफल,जाम ,अफ्रीकी सेब आदि नामों से पुकारा जाता हैं ।


अमरूद की उत्पत्ति अमेरिका के ऊष्णकटिबंधीय भागों और वेस्टंडीज से मानी जाती हैं ।




पका हुआ अमरूद स्वाद, और पौष्टिकता से भरपूर होता हैं ।

आईये जानतें हैं 100 ग्राम अमरूद में पाये जानें वालें पौषक तत्वों की मात्रा को



फाइबर        ।।   22 ग्राम



प्रोटीन           ।।  05 ग्राम




फास्फोरस      ।।   03%





पोटेशियम      ।।  03%




काँपर            ।।  03 %



मैंगनीज          ।। 03 %



मेग्नेशियम       ।। 03 %



विटामीन c      ।।  380%



विटामीन A.    ।। 12%



विटामीन E.    ।। 04%



विटामीन B.    ।। 05%




फाँलिक एसिड़                  ।।  12%





० अमरूद विटामीन A का अच्छा स्त्रोंत हैं जिसके सेवन से नेत्र ज्योति बढ़ती हैं ।



० अमरूद में पाया जानें वाला उच्च किस्म का फायबर कब्ज मिटाकर आँतों की सफाई करता हैं ।



० दाँतों से सम्बधित बीमारी जैसें पायरिया ,दाँत कमजोर होना,आदि में अमरूद का सेवन बहुत फायदेंमंद रहता हैं ।




० अच्छी health  healthylifestyle के लियें अनिवार्य शर्त हैं। अमरूद प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर करनें वायरस से शरीर की रक्षा करता हैं ।



० अमरूद में पाया जानें वाला विटामीन E स्त्रीयों की माहवारी को नियमित करता हैं । साथ ही बांझपन की संभावना समाप्त करता हैं ।


० गर्भवती स्त्री यदि अमरूद का सेवन करती हैं तो हिमोग्लोबिन की कमी नही होती हैं ।



० अमरूद के बीज बहुत अच्छे पाचक मानें जातें हैं अमरूद सेवन से भोजन बहुत जल्दी पच जाता हैं ।



० अमरूद खानें से मुुुुुुुुुंह के छाले बहुत तेजी से ठीक हो जाते हैं ।
अमरूद में पाए जाने वाले पौषक तत्व
अमरूद





० अमरूद त्वचा पर मुहाँसे होनें की संभावना समाप्त कर देता हैं ।


० अमरूद  स्तन कैंसर की संभावना कम कर देता हैं ।


० अमरूद थायराइड़ ग्रंथि के लियें उपयोगी फल हैं अमरूद के सेवन  से थायराइड़ ग्रंथि की कार्यप्रणाली सुचारू रूप से चलती रहती हैं ।



० अमरूद का सेवन करनें से मोटापा नियंत्रित होता हैं ।




० अमरुद में पाया जाने वाला विटामिन बी मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बेहतर बनाता है जिससे ब्रेन स्ट्रोक,ब्रेन हेमरेज होने की संभावना नही होती हैं ।


० अमरुद में बहुत ज्यादा फायबर fiber और थोड़ी मात्रा में ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता हैं जिससे रक्त शर्करा blood glucose control नियंत्रित होती हैं ।



० अमरुद में पाया जाने वाला फोलिक एसिड folic acid गर्भस्थ शिशु के मस्तिष्क का सही विकास करता हैं ।




० पके हुए अमरूद के 100 ग्राम बीजों को 
पीसकर इसमे पानी और शक्कर मिला ले । अब इस मिश्रण को दिन में चार पाँच बार थोड़ा थोड़ा कर पीयें । इस प्रयोग पित्त विकारों  में शीघ्रता से लाभ पहुंचता हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी