सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गर्भनिरोधक गोली के 5 ऐसे नुकसान जिन्हे जाननें का हैं हर महिला को अधिकार contraceptive pills KE nuksan in hindi

 गर्भनिरोधक गोली के 5 ऐसे नुकसान जिन्हे जाननें का हैं हर महिला को अधिकार contraceptive pills KE nuksan in hindi 

भारत समेत दुनिया के सभी मुल्कों में हार्मोनल गर्भनिरोधक गोली महिलाओं के लियें gatbhnirodhak goli  सबसे प्रचलित तरीकों में से एक हैं । गर्भनिरोधक गोली contraceptive pills लेनें की सलाह हर एक उस स्त्री को मिलती हैं जो बच्चा नही चाहती या जिसें बच्चों के जन्म के बीच अंतर रखना हो ।



भारत जैसें देश में तो बच्चों में अंतर रखनें की पूरी जिम्मेदारी अघोषित रूप से महिलाओं के पास ही हैं । जबकि वास्तविकता और वैज्ञानिक तथ्य यह हैं कि पुरूष गर्भनिरोधन कही बेहतर और आसान गर्भनिरोधक पद्धति हैं । बनिस्बत महिलाओं के ।


यदि महिला हार्मोनल गर्भनिरोधक गोली contraceptive pills का प्रयोग कर रही हैं तो उनके खतरों को पहलें जान लें उसके बाद ही गर्भनिरोधक गोली का इस्तेमाल शुरू करें ।


आईयें जानतें हैं हार्मोनल गर्भनिरोधक गोली contraceptive pills के नुकसान के बारें में



_____________________________________________________डिप्रेसन की समस्या___________


जो महिलायें गर्भनिरोधक गोली का सेवन लगातार करती हैं उन महिलाओं में डिप्रेसन की बीमारी हो जाती हैं । जैसें छोटी - छोटी बातों पर तनाव लेना ।बात बात में झगडा करना ,किसी भी काम में एकाग्रता नही रखना ,मन विचलित होना जैसी समस्या इन महिलाओं में आम हो जाती हैं फलस्वरूप डिप्रसन का जन्म होता हैं । 




___________________________________________________अनियमित मासिक धर्म__________



गर्भनिरोधक गोली का सेवन करनें वाली महिलायें महिनें के बीच में यदि अपनी गर्भनिरोधक गोली  एक दो दिन के लियें बंद कर देती हैं तो मासिक धर्म पूरी तरह से अनियमित हो जाता हैं । यही नही मासिक धर्म में रक्तसत्राव बहुत अधिक होनें लगता हैं। फलस्वरूप महिला के शरीर में खून की कमी हो जाती हैं । और भविष्य में अनियमित मासिक धर्म की वजह से बच्चें पैदा करनें में भी समस्या पैदा हो जाती हैं ।




_______________________________________________________बांझपन __________________



कई महिलाएँ शादी के चार से पाँच वर्ष तक बच्चा नही चाहती हैं । ये महिलायें जब लगातार चार पाँच साल तक गर्भनिरोधक गोली का सेवन करती हैं और इसके बाद  बच्चों के जन्म की planning करती हैं तो अँडा उत्पन्न होनें की प्रक्रिया बंद हो जाती हैं फलस्वरूप गर्भधारण करनें के लियें इन महिलाओं को IVF  तकनीक अपनानी पडती हैं ।




_______________________________________________________वज़न बढ़ना_______________



गर्भनिरोधक गोली का सेवन करनें वाली कई महिलाओं का वज़न बहुत  तेजी से बढ़नें लगता हैं। तेजी से वज़न बढ़नें के कारण शरीर में अनेक समस्याएँ जैसें साँस फूलना,चक्कर आना ,खुजली चलना,मैथुन क्रिया में चरमोत्कर्ष को प्राप्त न कर पाना आदि पैदा हो जाती हैं ।



______________________________________________________हार्मोनल समस्या_____________



गर्भनिरोधक गोली में मिलनें वालें एस्ट्रोजन estrogen
के कारण शरीर के दूसरें हार्मोंन जैसें थायराइड,पिट्टयूटरी आदि का चक्र गड़बडा जाता हैं । हार्मोनल चक्र गड़बड़ होनें से महिला लगातार बीमार ही रहती हैं ।  और उसके सामाजिक और पारिवारिक जीवन में बहुत जटिलता पैदा हो जाती हैं ।



० फिटनेस का रखो ध्यान शुरू करो सतरंगी खानपान




० बरगद पेड़ के चमत्कारिक फायदे



० यम और नियम




० तनाव क्या हैं




० गूलर के औषधीय उपयोग



० प्याज के औषधीय प्रयोग





० हाइड्राकसी क्लोरोक्विन सल्फेट





० कांकायन वटी



० कान्वलेसेंट प्लाज्मा थैरेपी





टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोक

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट