सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

चित्रक के फायदे । chitrak KE fayde

चित्रक  के फायदे । chitrak KE fayde

आयुर्वेदिक जडी बूटी
 चित्रक के फायदे

चित्रक सम्पूर्ण भारत में पाई जानें वाली वनस्पति हैं । चित्रक की व्यावसायिक रूप से खेती भी की जाती हैं । चित्रक का पौधा chitrak ka podha वर्ष भर हरा भरा रहता हैं । चित्रक के पौधे की लम्बाई 3 से 6 फुट तक होती हैं । इसका तना बहुत पतला होता हैं ।


चित्रक की जड़ chitrak ki jad के पास से ही छोटी छोटी डालियाँ फुटती हैं यह डालियाँ चिकनी और हरे रंग की होती हैं ।



चित्रक के पत्ते  chitrak KE patte लम्बे और गोलीय होतें हैं ।



चित्रक के फूल chitrak KE phul सफेद रंग के और सुगंधहीन होतें हैं । चित्रक के फूल की कलियाँ कोमल शाखाओं में से निकलती हैं । 


चित्रक के बीज फूलों में से निकलतें हैं  जिनका स्वाद कड़वा और तीखा होता हैं । एक फूल में से एक ही बीज निकलता हैं ।



चित्रक की तीन सफेद,लाल और काली प्रजाति  पाई जाती हैं ।



चित्रक की प्रकृति



आयुर्वेद मतानुसार चित्रक गर्म, रूक्ष,हल्की होती हैं ।





चित्रक का संस्कृत नाम 



चित्रक को संस्कृत में  अग्नि,अग्निशिखा, सप्तीष कहा जाता हैं ।



चित्रक के हिन्दी नाम 



चित्रक को हिन्दी में चित्रक, चित्रा और चितावर कहतें हैं ।



चित्रक का लेटिन नाम 



plumbago zeylanica प्लम्बगो सेलेनिका



चित्रक के फायदे chitrak KE fayde




1.सफेद दाग lucoderma



चित्रक की छाल को गाय के दूध के साथ पीसकर सफेद दाग पर नहानें से आधा घंटा पूर्व लगानें से सफेद दाग कुछ दिनों में मिटनें लगतें हैं और त्वचा का रंग पूर्व की तरह काला होनें लगता हैं ।  लेकिन त्वचा में जलन होती हैं तो लगानें से पूर्व परामर्श अवश्य ले लें ।




फेटी लीवर 




ज्वार या बाजरें के तनें को छीलकर उसके ऊपर चित्रक की जड़ का पावडर चुटकी भर नमक की तरह डालकर ज्वार या बाजरें का तना गन्नें की तरह चूसनें से फेटी लीवर की समस्या कुछ ही दिनों में समाप्त हो जाती हैं ।



गठिया 



 चित्रक के तनें को पीसकर गठिया की वजह से उत्पन्न दर्द पर 10 - 15 मिनिट तक लेप करनें से दर्द में आराम मिलता हैं ।



बवासीर



चित्रक की जड़ को छाछ या दही के साथ मिलाकर पीनें से बवासीर में आराम मिलता हैं ।



सफेद बाल



समय पूर्व हुये सफेद बालों को यदि काला करना चाहतें हो तो काली चित्रक को पीसकर आँवलें के साथ बालों में लगानें से सफेद बाल कालें हो जातें हैं ।



पीलिया रोग 




चित्रक की जड़ को शहद और आँवला रस के साथ मिलाकर रात को चाटनें से पीलिया रोग मिट जाता हैं ।



हाथीपाँव



चित्रक की जड़ और देवदारू की जड़ को गौमूत्र के साथ पीसकर हाथीपाँव पर लेप करनें हाथीपाँव की समस्या समाप्त हो जाती हैं ।



रूकी हुई माहवारी को चालू करनें में



चित्रक की जड़ को गर्भाशय के मुख पर रखनें से रूकी हुई माहवारी चालू हो जाती हैं । गर्भवती स्त्री को चित्रक का सेवन नही करना चाहियें ।



जहरीलें कीड़े मकोड़ें का विष उतारनें में



चित्रक की जड़ को गाय के घी के साथ मिलाकर कीडे मकोड़े काटे स्थान पर लगानें से कीडें मकोडे का जहर उतर जाता हैं ।


खुजली में चित्रक 



शरीर में खुजली होनें पर चित्रक के बीज को पानी के साथ पीसकर नहानें से दस मिनिट पूर्व लगा लें। खुजली में बहुत शीघ्र आराम मिलता हैं ।



पागलपन में



चित्रक की जड़ और ब्राम्ही समान मात्रा में लेकर पीस लें और पागलपन में 3 - 3 ग्राम सुबह शाम गाय के दूध के साथ खिलानें से बहुत तेजी से आराम मिलता हैं ।




प्रसूति में चित्रक



चित्रक की जड़ एक एक इंच काटकर 10 - 15 जगह सूत की डोरी में बाँध दे । यह डोरी प्रसूता के गलें में बाँध दे और 21 दिन तक बंधी रहनें दें । इससे प्रसूता को ज्वर नही आता हैं और नवजात के आसपास कीटाणु नही आतें हैं । यह सिद्ध और अनूभूत योग हैं ।



चित्रक बहुत गर्म होती हैं इसके उपयोग के पूर्व वैघकीय परामर्श बहुत आवश्यक हैं क्योंकि यह औषधी पेट में जलन पैदा करती हैं । अधिक मात्रा में लेनें पर जहरीले प्रभाव दिखाती हैं और चमड़ी पर बिना वैघकीय परामर्श से लगानें पर छालें उत्पन्न कर सकती हैं ।



गेरू के औषधीय प्रयोग







० प्याज के फायदे




० तुलसी के फायदे




,o दशमूल क्वाथ





० दही के फायदे





० केला एक सम्पूर्ण आहार




० लहसुन के फायदे और नुकसान






० गूलर के औषधीय गुण




० हर्ड इम्यूनिटी क्या है



० लक्ष्मी विलास के फायदे

टिप्पणियां

Unknown ने कहा…
सर जी प्रणाम, चितावर या चित्रक उत्तर प्रदेश के किस जिले में बहुतायत में पाया जाता है या किस जिले में मिलने की संभावना है क्यों कि हमको हरे पौधे की जरूरत है

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट