सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Lodhrasav ke fayde लोध्रासव के फायदे बताइए

Lodhrasav ke fayde लोध्रासव के फायदे बताइए


लोध्रासव के घटक Lodhrasav ke ghtak

Lodhrasav ke fayde
 लोध्रासव के फायदे


1.लोध्र lodhra 

2.मूरवा murva 


3.शटी shati


4.वायविडंग vayvidang


5.भारंगी bharngi


6.तंगर tangar


7.व्यग्रनखी vygrnkhi


8.नागरमोथा nagarmotha


9.कुटज kujaj


10.कूठ kuth



11.सुपारी supari



12.प्रियगु priygu



13.अतिविशा ativisha



14.चित्रक chitrak



15.इन्द्ररुणी indrruni



16.दालचीनी dalchini



17.छोटी ईलायची choti ilaichi



18.तेजपत्र tejpatr



19.नागकेशर nagkeshar



20.चिरायता chirayta



21.कुटकी kutki



22.यवानी yvani



23.पुष्करमूल pushakarmul



24.पाठा patha



25.ग्रंथी granthi



26.चव्य chavy 



27.हरड़ harad 






29.आंवला aanvla 



30.पानी Pani 



31.शहद shahad 




Lodhrasav ke fayde लोध्रासव के फायदे


मूत्राशय रोग में लोध्रासव 


लोध्रासव मूत्र मार्ग से संबंधित बीमारी की सर्वमान्य आयुर्वेदिक औषधि है । रुक रूक कर पैशाब होना,पैशाब में जलन होना, बार बार पैशाब आना,पैशाब करने के बाद भी पैशाब की इच्छा होना । 


उपरोक्त बीमारियों में लोध्रासव 10 मिलीलीटर प्रतिदिन सुबह शाम भोजन से पहले लेना चाहिए ।


गर्भाशय विकारों में लोध्रासव  


बार बार गर्भपात होना, गर्भाशय में गांठें होना,अनियमित मासिक धर्म होना,श्वेत प्रदर होना, urinary tract infection होना, आदि विकारों के लिए लोध्रासव बहुत उपयोगी आयुर्वेदिक औषधि है । 


इस औषधि के सेवन से गर्भाशय मजबूत होकर बीमारियों से बचा रहता हैं ।

लीवर संबंधी रोगों में लोध्रासव


पीलिया,लीवर सिरोसिस, लीवर का सिकुड़ना,फैटी लीवर आदि रोगों में लोध्रासव बहुत असरकारी प्रभाव दिखाती हैं ।

हेपिटाइटिस सी के बारे में जानकारी


 मधुमेह में लोध्रासव


लोध्रासव मधुमेह के कारण होने वाली परेशानियों जैसे अत्यधिक प्यास लगना, अंगो का सुन्नपन,को दूर कर रक्त में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करती हैं ।


अर्श रोग में 


लोध्रासव के नियमित सेवन से अर्श रोग में लाभ मिलता हैं । तथा गुदा द्वार से खून आना ,गुदा मार्ग में जलन होना जैसी समस्याओं से छूटकारा मिलता हैं ।


मोटापा कम करने में


मोटापा कम करने के लिए लोध्रासव बहुत उत्तम आयुर्वेदिक औषधि हैं ।  इस औषधि के सेवन से बदन छरहरा और सुडौल बनता हैं ।



भोजन में अरुचि


भोजन में अरुचि होना, भोजन नहीं पचना आदि समस्याओं में लोध्रासव बहुत अच्छा कार्य करती हैं । इसके सेवन से पाचक रस सही मात्रा में बनता हैं।



० वात पित्त और कफ प्रकृति के लक्षण

• 100 साल जीने के तरीके

• सर्जरी और एनेस्थीसिया के जनक

० द्राक्षारिष्ट के फायदे

• चित्रक के फायदे





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह