सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

योग क्या हैं what is yoga in Hindi योग का उद्देश्य और यौगिक क्रिया की अवधारणा concept of yoga in Hindi

योग क्या हैं yog kya hai what is yoga in Hindi 



what is yoga in Hindi
 योग क्या हैं

योग yoga शब्द संस्कृत के युज शब्द से बना हैं ।जिसका शाब्दिक अर्थ होता हैं " जोड़ना " अर्थात योग yoga व्यक्ति को ब्रम्हांड के साथ एकाकार करनें का विज्ञान हैं । इस प्रकार हम कह सकतें योग वह विज्ञान हैं (yoga is science) जो व्यक्ति के जीवन को आदर्श तरीके से जीना सीखाता हैं।


विस्तारपूर्वक समझा जायें तो योग yoga व्यक्ति के शारीरिक,मानसिक और भावनात्मक जीवन को संतुलित करनें का माध्यम हैं । योग के माध्यम से यह बहुत गहरें तक प्रभावित होता हैं ।


योग सूत्र नामक पुुुुस्तक में महर्षि पतंजलि ने योग को परिभाषित करते हुये लिखा हैं 

अथ:योग अनुशासनम् 


अर्थात योग yoga अनुशासन का एक प्रकार हैं । अनुशासन दो शब्दों के मेल से बना हैं अनु + शासन 

अनु शब्द "अणु" से बना हैं जो ब्रम्हांड़ का सबसे छोटा कण हैं और जो खुली आँखों से नही दिखाई देता हैं ।

शासन का अर्थात राज करना

इस प्रकार योग की शरीर के सूक्ष्म विचारों पर राज करना हैं ।

महर्षि पतंजलि अनुशासन का अर्थ बतातें हुये कहतें हैं

योग: चित्तवृत्ति निरोधम् 

योग yoga के द्धारा हम लौकिक दुनिया में सक्रिय चित्त को नियत्रिंत कर सकतें हैं । 

मानसिक वृत्ति पाँच परकार की होती हैं ।



1.प्रमाण  = सही ज्ञान


2.विपर्य  = गलत ज्ञान


3.विकल्प = कल्पना 


4.निद्रा = नींद 


5.स्मृति = याददाश्त


श्री मदभागवत गीता में योगेे्वरश श्री कृष्ण योग को परिभाषित करतें हुये  कहा हैं 

सम्वत् योग:उच्चतें 


अर्थात योग मस्तिष्क को समवस्था में लाना हैं ।

इसी प्रकार


योग : कर्मेषु: कोशलम् yogh krmeshu koshlam 



कर्म में निपुणता ही योग हैं ।




योग का उद्देश्य Aim of yoga in Hindi 




योग yoga न केवल वृत्ति को नियत्रिंत करता हैं बल्कि नियंत्रण द्धारा वृत्ति को परमात्मा से एकाकार कर देता हैं ।


योग से मनुष्य को पशु से देविक बनानें की यात्र
 हैं ।

स्वामी गीतानंद ने योग को define करते हुये कहा हैं " yoga as way of life " अर्थात योग जीवन का रास्ता हैं । 


योग से शरीर जागरूक होता हैं।


दिमाग जागरूक होता हैं ।


भावनाएँ जागरूक होती हैं । 


व्यक्ति स्वंय जागरूक होता हैं ।


संक्षेप में बात करें तो योग का यह मुख्य उद्देश्य हैं कि व्यक्ति अपनें प्रति कितना जागरूक हैं ।


यौगिक क्रिया की अवधारणा :::



योग शब्द अपनें आप में कई तकनीकी शब्दों को समेटे हुयें हैं । जिसमें से एक हैं  "युक्ति" अर्थात वह तकनीक जिसके द्धारा व्यक्ति अपनें लक्ष्यों को दूसरें रास्तों से प्राप्त करता हैं यदि सीधें रास्तों से प्राप्त न हो ।

युक्ति में कई प्रक्रिया में सम्मिलित होती हैं इन युक्तियों में सिद्धहस्त होनें के लिये प्रशिक्षण की आवश्यकता होती हैं । 

योग क्रिया में कई प्रकार की युक्तियाँ हैं जैसें


लौकिक योग


नेति योग


ध्यान योग 


समाधि योग आदि


इसी प्रकार योग व्यवस्थित तरीके से आगे बढ़ता हुआ भक्ति योग ,जन योग कर्म योग,हाथ योग ,लय योग,राज योग आदि तक पहुँच गया हैं ।


योग की धारायें :::



योग की चार प्रमुख धारायें हैं 


1.कर्म योग karma yoga


2.भक्ति योग bhakti yoga


3.जन योग jan yoga


4.राज योग raj yoga


योग की ये सभी विधायें शारिरीक मानसिक विधायें हैं । अर्थात शरीर और मन पर नियत्रंण का नाम ही योग हैं।
कुछ यौगिक क्रियाओं में मानसिक कर्म अधिक हैं जबकि कुछ यौगिक क्रियाओं में शारिरीक कर्म अधिक हैं ।
उदाहरण के लिये सूर्य नमस्कार ,आसन ,प्राणायाम,मुद्रा ,बंध,और शट क्रियायें प्रमुख शारिरीक और मानसिक यौगिक क्रियायें हैं ।




० लक्ष्मीविलास रस नारदीय के फायदे



० आयुर्वेदिक चूर्ण





योग के लाभ Benefit of yoga in Hindi



योग आधुनिक जीवन में व्याप्त समस्याओं का समाधान करने वाला बेहतरीन माध्यम हैं । जिसें सम्पूर्ण विश्व ने स्वीकारा हैं । प्रतिवर्ष 21 जून को मनाया जानें वाला "अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस " योग की सर्वस्वीकार्यता का ही प्रतिफल हैं । आईयें जानतें हैं योग के लाभ Benefit of yoga in Hindi



1.शारीरिक लाभ 



1. शरीर लचीला और मज़बूत बनता हैं ।


2.श्वास की प्रक्रिया सुधरती हैं ।



3.शरीर का मेटाबालिज्म सुधरता हैं ।



4.ह्रदयरोग की संभावना नही होती हैं ।



5.दर्द से मुक्ति मिलती हैं ।



6.निरंतर योग से व्यक्ति अपनी वास्तविक उम्र से कम उम्र का दिखाई देता हैं ।


7.योग करनें से शरीर का सम्पूर्ण विकास होता हैं ।



2.मानसिक लाभ 



1.योग द्धारा सकारात्मक चिंतन की प्रणाली का विकास होता हैं ।



2.योग द्धारा एकाग्रता बढ़ती हैं क्योंकि योग दिमाग को एक विशेष क्रिया पर एकाग्र करता हैं ।



3.योग के द्धारा व्यक्ति तनावयुक्त परिस्थितियों को आसानी से सामान्य परिस्थितियों में बदल सकता हैं ।



आध्यात्मिक लाभ 




1.योग द्धारा सामाजिक वातावरण के प्रति जागरूकता बढ़ती हैं ।



2.योग द्धारा शरीर, मन, और आत्मा की एक दूसरे के प्रति निर्भरता  बढ़ती हैं जिससे सही निर्णय क्रियान्वित होतें हैं ।



3.योग असीम ब्रम्हांड़ में सूक्ष्म मनुष्य को  विशाल होनें का अहसास कराता हैं । यह "अंह ब्रम्हास्मि " वाक्य को चरितार्थ करता हैं किन्तु इस वाक्य में अंहकार की कही कोई गुंजाइश नही हैं ।








yog yog shabd sanskrt ke yuj shabd se bana hain .jisaka shaabdik arth hota hain " jodana " arthaat yog yog vyakti ko bramhaand ke saath ekaakaar karanen ka vigyaan hain . is prakaar ham kah sakaten yog vah vigyaan hain jo vyakti ke jeevan ko aadarsh tareeke se jeena seekhaata hain. 0 gaumukhaasan ke phaayade yahaan se jaaniyen vistaarapoorvak samajha jaayen to yog yog vyakti ke shaareerik,maanasik aur bhaavanaatmak jeevan ko santulit karanen ka maadhyam hain . yog ke maadhyam se yah bahut gaharen tak prabhaavit hota hain . yog sootr naamak puuuustak mein maharshi patanjali ne yog ko paribhaashit karate huye likha hain ath:yog anushaasanam arthaat yog yog anushaasan ka ek prakaar hain . anushaasan do shabdon ke mel se bana hain anu + shaasan anu shabd "anu" se bana hain jo bramhaand ka sabase chhota kan hain aur jo khulee aankhon se nahee dikhaee deta hain . shaasan ka arthaat raaj karana is prakaar yog kee shareer ke sookshm vichaaron par raaj karana hain . maharshi patanjali anushaasan ka arth bataaten huye kahaten hain yog: chittavrtti nirodham yog yog ke ddhaara ham laukik duniya mein sakriy chitt ko niyatrint kar sakaten hain . maanasik vrtti paanch parakaar kee hotee hain . 1.pramaan = sahee gyaan 2.vipary = galat gyaan 3.vikalp = kalpana 4.nidra = neend 5.smrti = yaadadaasht shree madabhaagavat geeta mein yogeevarash shree krshn yog ko paribhaashit karaten huye kaha hain samvat yog:uchchaten arthaat yog mastishk ko samavastha mein laana hain . isee prakaar yog : karmeshu: koshalam yogh krmaishu koshlam karm mein nipunata hee yog hain . yog ka uddeshy aim of yog in hindi yog yog na keval vrtti ko niyatrint karata hain balki niyantran ddhaara vrtti ko paramaatma se ekaakaar kar deta hain . yog se manushy ko pashu se devik banaanen kee yaatr hain . svaamee geetaanand ne yog ko daifinai karate huye kaha hain " yog as way of lifai " arthaat yog jeevan ka raasta hain . yog se shareer jaagarook hota hain. dimaag jaagarook hota hain . bhaavanaen jaagarook hotee hain . vyakti svany jaagarook hota hain . sankshep mein baat karen to yog ka yah mukhy uddeshy hain ki vyakti apanen prati kitana jaagarook hain . yaugik kriya kee avadhaarana ::: yog shabd apanen aap mein kaee takaneekee shabdon ko samete huyen hain . jisamen se ek hain "yukti" arthaat vah takaneek jisake ddhaara vyakti apanen lakshyon ko doosaren raaston se praapt karata hain yadi seedhen raaston se praapt na ho . yukti mein kaee prakriya mein sammilit hotee hain in yuktiyon mein siddhahast honen ke liye prashikshan kee aavashyakata hotee hain . yog kriya mein kaee prakaar kee yuktiyaan hain jaisen laukik yog neti yog dhyaan yog samaadhi yog aadi isee prakaar yog vyavasthit tareeke se aage badhata hua bhakti yog ,jan yog karm yog,haath yog ,lay yog,raaj yog aadi tak pahunch gaya hain . yog kee dhaaraayen ::: yog kee chaar pramukh dhaaraayen hain 1.karm yog karm yog 2.bhakti yog bhakti yog 3.jan yog jan yog 4.raaj yog raj yog yog kee ye sabhee vidhaayen shaarireek maanasik vidhaayen hain . arthaat shareer aur man par niyatrann ka naam hee yog hain. kuchh yaugik kriyaon mein maanasik karm adhik hain jabaki kuchh yaugik kriyaon mein shaarireek karm adhik hain . udaaharan ke liye soory namaskaar ,aasan ,praanaayaam,mudra ,bandh,aur shat kriyaayen pramukh shaarireek aur maanasik yaugik kriyaayen hain . 0 baragad ped ke phaayade 0 lakshmeevilaas ras naaradeey ke phaayade 0 aayurvedik choorn yog ke laabh bainaifit of yog in hindi yog aadhunik jeevan mein vyaapt samasyaon ka samaadhaan karane vaala behatareen maadhyam hain . jisen sampoorn vishv ne sveekaara hain . prativarsh 21 joon ko manaaya jaanen vaala "antarraashtreey yog divas " yog kee sarvasveekaaryata ka hee pratiphal hain . aaeeyen jaanaten hain yog ke laabh bainaifit of yog in hindi 1.shaareerik laabh 1. shareer lacheela aur mazaboot banata hain . 2.shvaas kee prakriya sudharatee hain . 3.shareer ka metaabaalijm sudharata hain . 4.hradayarog kee sambhaavana nahee hotee hain . 5.dard se mukti milatee hain . 6.nirantar yog se vyakti apanee vaastavik umr se kam umr ka dikhaee deta hain . 7.yog karanen se shareer ka sampoorn vikaas hota hain . 2.maanasik laabh 1.yog ddhaara sakaaraatmak chintan kee pranaalee ka vikaas hota hain . 2.yog ddhaara ekaagrata badhatee hain kyonki yog dimaag ko ek vishesh kriya par ekaagr karata hain . 3.yog ke ddhaara vyakti tanaavayukt paristhitiyon ko aasaanee se saamaany paristhitiyon mein badal sakata hain . aadhyaatmik laabh 1.yog ddhaara saamaajik vaataavaran ke prati jaagarookata badhatee hain . 2.yog ddhaara shareer, man, aur aatma kee ek doosare ke prati nirbharata badhatee hain jisase sahee nirnay kriyaanvit hoten hain . 3.yog aseem bramhaand mein sookshm manushy ko vishaal honen ka ahasaas karaata hain . yah "anh bramhaasmi " vaaky ko charitaarth karata hain kintu is vaaky mein anhakaar kee kahee koee gunjaish nahee hain . 0 fitnaiss ke liye satarangee khaanapaan 0 kaala dhatoora ke phaayade au

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

SANJIVANI VATI ,CHANDRAPRABHA VATI,SHANKH VATI

१.संजीवनी वटी::-   संजीवनी वटी का वर्णन रामायण में भी मिलता हैं. जब मेघनाथ के साथ युद्ध में लक्ष्मण मूर्छित हुए तो  संजीवनी  बूटी ने लक्ष्मण को पुन: जीवन दिया था शांग्रधर संहिता में वर्णन हैं कि  "वटी संजीवनी नाम्ना संजीवयति मानवम" अर्थात संजीवनी वटी नाना प्रकार के रोगों में मनुष्य का संजीवन करती हैं.आधुनिक शब्दों में यह वटी हमारें बिगड़े मेट़ाबालिज्म को सुदृढ़ करती हैं.तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity)   बढ़ाती हैं. घटक द्रव्य:: विडंग,शुंठी,पीप्पली,हरीतकी,विभीतकी, आमलकी ,वच्च, गिलोय ,शुद्ध भल्लातक,शुद्ध वत्सना उपयोग::- सन्निपातज ज्वर,सर्पदंश,गठिया,श्वास, कास,उच्च कोलेस्ट्रोल, अर्श,मूर्छा,पीलिया,मधुमेह,स्त्री रोग ,भोजन में अरूचि. मात्रा::- वैघकीय परामर्श से Svyas845@gmail.com २.चन्द्रप्रभा वटी::- चन्द्रप्रभेति विख्याता सर्वरोगप्रणाशिनी उपरोक्त श्लोक से स्पष्ट हैं,कि चन्द्रप्रभा वटी समस्त रोगों का शमन करती हैं. घट़क द्रव्य::- कपूर,वच,भू-निम्बू, गिलोय ,देवदारू,हल्दी,अतिविष,दारूहल्दी,

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोकनें वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

Ayurvedic medicine list । आयुर्वैदिक औषधि सूची

Ayurvedic medicine list  [आयुर्वैदिक औषधि सूची] #1.नव ज्वर की औषधि और अनुसंशित मात्रा ::: १.त्रिभुवनकिर्ती रस  :::::   १२५ से २५० मि.ग्रा. २.संजीवनी वटी       :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा. ३.गोदन्ती मिश्रण.    :::::     १२५ से २५० मि.ग्रा. #2.विषम ज्वर ::: १.सप्तपर्ण घन वटी  :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा. २.सुदर्शन चूर्ण.        :::::     ३ से ६ ग्रा.   # 3 वातश्लैष्मिक ज्वर ::: १.लक्ष्मी विलास रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा. २.संशमनी वटी          :::::  ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा. # 4 जीर्ण ज्वर :::: १. प्रताप लंकेश्वर रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा. २.महासुदर्शन चूर्ण.     :::::   ३ से ६ ग्राम ३.अमृतारिष्ट              :::::    २० से ३० मि.ली. # 5.सान्निपातिक ज्वर :::: १.नारदीय लक्ष्मी विलास रस. :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा. २.भूनिम्बादि क्वाथ.      ::::: १०से २० मि.ली. #6 वातशलैष्मिक ज्वर :::: १.गोजिह्यादि क्वाथ.      ::::: २० से ४० मि.ली. २.सितोपलादि चूर्ण.       ::

एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं

#1.एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं ?  एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन प्रणाली से अभिप्राय यह हैं,कि मृदा उर्वरता को बढ़ानें अथवा बनाए रखनें के लिये पोषक तत्वों के सभी उपलब्ध स्त्रोंतों से मृदा में पोषक तत्वों का इस प्रकार सामंजस्य रखा जाता हैं,जिससे मृदा की भौतिक,रासायनिक और जैविक गुणवत्ता पर हानिकारक प्रभाव डाले बगैर लगातार उच्च आर्थिक उत्पादन लिया जा सकता हैं.   विभिन्न कृषि जलवायु वाले क्षेत्रों में किसी भी फसल या फसल प्रणाली से अनूकूलतम उपज और गुणवत्ता तभी हासिल की जा सकती हैं जब समस्त उपलब्ध साधनों से पौध पौषक तत्वों को प्रदान कर उनका वैग्यानिक प्रबंध किया जाए.एकीकृत पौध पोषक तत्व प्रणाली एक परंपरागत पद्धति हैं. ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// यहाँ भी पढ़े 👇👇👇 विटामिन D के बारें में और अधिक जानियें यहाँ प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना ० तम्बाकू से होनें वाले नुकसान ० कृषि वानिकी क्या हैं ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// #2.एकीकृत पोषक त

karma aur bhagya [ कर्म और भाग्य ]

# 1 कर्म और भाग्य   कर्म आगे और भाग्य पिछे रहता हैं अक्सर लोग कर्म और भाग्य के बारें में चर्चा करतें वक्त अपनें - अपनें जीवन में घट़ित घट़नाओं के आधार पर निष्कर्ष निकालतें हैं,कोई कर्म को श्रेष्ठ मानता हैं,कोई भाग्य को ज़रूरी मानता हैं,तो कोई दोनों के अस्तित्व को आवश्यक मानता हैं.लेकिन क्या जीवन में दोनों का अस्तित्व ज़रूरी हैं ? गीता में श्री कृष्ण अर्जुन को कर्मफल का उपदेश देकर कहतें हैं.     " कर्मण्यें वाधिकारवस्तें मा फलेषु कदाचन " अर्थात मनुष्य सिर्फ कर्म करनें का अधिकारी हैं,फल पर अर्थात परिणाम पर उसका कोई अधिकार नहीं हैं,आगे श्री कृष्ण बतातें हैं,कि यदि मनुष्य कर्म करतें करतें मर  जाता हैं,और इस जन्म में उसे अपनें कर्म का फल प्राप्त नहीं होता तो हमें यह नहीं मानना चाहियें की कर्म व्यर्थ हो गया बल्कि यह कर्म अगले जन्म में भाग्य बनकर लोगों को आश्चर्य में ड़ालता हैं, ]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]][]]]]]][[[[[[[]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]] ● यह भी पढ़े 👇👇👇 ● आत्मविकास के 9 मार्ग ● स्वस्थ सामाजिक जीवन के 3 पीलर

गिलोय के फायदे । GILOY KE FAYDE

  गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोटीन : 2.3

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]  म.प्र.भारत का ह्रदय प्रदेश होनें के साथ - साथ नदी,पहाड़,जंगल,पशु - पक्षी,जीव - जंतुओं के मामलें में देश का अग्रणी राज्य हैं.  river map of mp प्रदेश में बहनें वाली सदानीरा नदीयों ने प्रदेश की मिट्टी को उपजाऊ बनाकर सम्पूर्ण प्रदेश को पोषित और पल्लवित किया हैं.यही कारण हैं कि यह प्रदेश "नदीयों का मायका" उपनाम से प्रसिद्ध हैं. ऐसी ही कुछ महत्वपूर्ण नदियाँ प्रदेश में प्रवाहित होती हैं,जिनकी चर्चा यहाँ प्रासंगिक हैं. #१.नर्मदा नर्मदा म.प्र.की जीवनरेखा कही जाती हैं.इस नदी के कि नारें अनेक  सभ्यताओं ने जन्म लिया . #उद्गम  यह नदी प्रदेश के अमरकंटक जिला अनूपपुर स्थित " विंध्याँचल " की पर्वतमालाओं से निकलती हैं. नर्मदा प्रदेश की सबसे लम्बी नदी हैं,इसकी कुल लम्बाई 1312 किमी हैं. म.प्र.में यह नदी 1077 किमी भू भाग पर बहती हैं.बाकि 161 किलोमीटर गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में बहती हैं. नर्मदा प्रदेश के 15 जिलों से होकर बहती हैं जिनमें शामिल हैं,अनूपपुर,मंड़ला,डिंडोरी,जबलपुर,न

पारस पीपल के औषधीय गुण

पारस पीपल के औषधीय गुण Paras pipal KE ausdhiy gun ::: पारस पीपल के औषधीय गुण पारस पीपल का  वर्णन ::: पारस पीपल पीपल वृक्ष के समान होता हैं । इसके पत्तें पीपल के पत्तों के समान ही होतें हैं ।पारस पीपल के फूल paras pipal KE phul  भिंड़ी के फूलों के समान घंटाकार और पीलें रंग के होतें हैं । सूखने पर यह फूल गुलाबी रंग के हो जातें हैं इन फूलों में पीला रंग का चिकना द्रव भरा रहता हैं ।  पारस पीपल के  फल paras pipal ke fal खट्टें मिठे और जड़ कसैली होती हैं । पारस पीपल का संस्कृत नाम  पारस पीपल को संस्कृत  में गर्दभांड़, कमंडुलु ,कंदराल ,फलीश ,कपितन और पारिश कहतें हैं।  पारस पीपल का हिन्दी नाम  पारस पीपल को हिन्दी में पारस पीपल ,गजदंड़ ,भेंड़ी और फारस झाड़ के नाम से जाना जाता हैं ।   पारस पीपल का अंग्रजी नाम Paras pipal ka angreji Nam ::: पारस पीपल का अंग्रेजी नाम paras pipal ka angreji nam "Portia tree "हैं । पारस पीपल का लेटिन नाम Paras pipal ka letin Nam ::: पारस पीपल का लेटिन paras pipal ka letin nam नाम Thespesia

भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र [BHAGVAN SHRI RAM]

 Shri ram #भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र रामायण या रामचरित मानस सेकड़ों वर्षों से आमजनों द्धारा पढ़ी और सुनी जा रही हैं.जिसमें भगवान राम के चरित्र को विस्तारपूर्वक समझाया गया हैं,यदि हम थोड़ा और गहराई में जाकर राम के चरित्र को समझे तो सामाजिक जीवन में आनें वाली कई समस्यओं का उत्तर उनका जीवन देता हैं जैसें ● आत्मविकास के 9 मार्ग #१.आदर्श पुत्र ::: श्री राम भगवान अपने पिता के सबसे आदर्श पुत्र थें, एक ऐसे समय जब पिता उन्हें वनवास जानें के लिये मना कर रहें थें,तब राम ही थे जिन्होनें अपनें पिता दशरथ को सूर्यवंश की परम्परा बताते हुये कहा कि रघुकुल रिती सदा चली आई | प्राण जाई पर वचन न जाई || एक ऐसे समय जब मुश्किल स्वंय पर आ रही हो  पुत्र अपनें कुल की परंपरा का पालन करनें के लिये अपने पिता को  कह रहा हो यह एक आदर्श पुत्र के ही गुण हैं. दूसरा जब कैकयी ने राम को वनवास जानें का कहा तो उन्होनें निसंकोच होकर अपनी सगी माता के समान ही कैकयी की आज्ञा का पालन कर परिवार का  बिखराव होनें से रोका. आज के समय में जब पुत्र अपनें माता - पिता के फैसलों