सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

4 सप्ताह में मोटापे [obsity] का काम तमाम

4 सप्ताह में मोटापे [obsity] का काम तमाम 


वैज्ञानिक शोधों से यह ज्ञात हुआ हैं कि यदि हम लगातार 4 सप्ताह तक किसी काम को अपनी दिनचर्या का अँग बना लेतें हैं तो यह आदत जीवनभर के लियें हमारी आदत बन सकती हैं । उदाहरण के लियें यदि हम पूरे चार सप्ताह सुबह ठीक 6 बजे उठनें की आदत बना ले तो यह हमारी दिनचर्या का अंग बन जायेगा ।
 

ठीक इसी तरह की आदत यदि हम खान पान व्यायाम आदि की बना लें तो यह आदत  जीवनपर्यंत बनी रहेगी ।


आज हम आपकी दिनचर्या में 4 सप्ताह तक ऐसी आदतों का समावेश करवायेंगें जिससे मोटापा कम करनें में मदद मिलेगी ।

अर्थात 4 सप्ताह में मोटापे का काम तमाम तो आईए जानतें मोटापा कम करने के तरीके के बारें में


पहला सप्ताह 



पहले सप्ताह में आपको अपनें खानपान पर नियत्रंण करना हैं । वह चीज जो फैट से भरपूर हैं और आपको प्रिय हैं उसको अपनें खानपान से बाहर निकालना हैं । यदि एकदम   से बिल्कुल
 बंद नही होती हैं  तो धीरें - धीरें मात्रा कम करतें जायें ।



सोडियम की अधिक मात्रा, ट्रांस फेट,उच्च वसा वालें पदार्थ,हाइड्रोजेनेटेड़ तेल , शक्कर मिश्रित वस्तुयें बाजार से लाना बंद कर दें । इसके बजाय फल सब्जी,अंकुरित अनाज ,दही,छाछ,दालें,मोटे अनाज,बादाम,मखानें,अखरोट आदि पदार्थ घर पर लेकर आयें ।


लगभग एकसाल बाद इस प्रयोग से आपके शरीर में गैर ज़रूरी वसा का जमाव बंद हो जायेगा और आप पहलें से अधिक कम वजन वालेें और ऊर्जावान बन जायेंगें ।




० हर्ड इम्यूनिटी क्या होती हैं




दूसरा सप्ताह





पहलें सप्ताह में बनाई आदत को निरंतर रखतें हुयें दूसरें सप्ताह में टहलनें और दोड़नें की शुरूआत करें । पहलें दिन दिन कम से कम एक एक किलोमीटर घूमनें से शुरूआत करते हुये सप्ताह के अंत तक पाँच किलोमीटर घूमनें का नियम बना लें ।


पाँच किलोमीटर घूमनें के दौरान अपनी सामर्थ्य अनुसार कुछ किलोमीटर दोडें भी ऐसा करनें से शरीर की अतिरिक्त चर्बी कम होना शुरू हो जायेगी ।



अगलें कुछ महिनें आपनें इस आदत को निरंतर रखा तो निश्चित रूप से आपका बहुत सारा वजन कम हो जायेगा ।





तीसरा सप्ताह



दूसरें हफ्ते और पहलें हफ्तें की आदत को निरंतर रखतें हुये तीसरें हफ्तें में एक दिन उपवास करें। 


भोजन करनें और दिनचर्या को व्यवस्थित करनें के लियें एक रूटीन फालों करें उदाहरण के लियें दिन का नाश्ता और भोजन सम्पूर्ण होना चाहियें जिसमें दाल,चावल,सब्जी सलाद आदि पर्याप्त मात्रा में हो और यह भोजन भरपेट हो ।



रात का भोजन सोनें से 3 घंटें पूर्व कर लेना चाहियें । यह भोजन दिन में कियें गये भोजन का एक तिहाई होना चाहियें । सूजी, खिचड़ी ,ओट्स जैसें खाद्य पदार्थ शाम के भोजन में होना चाहियें ।


देर रात होनें वाली शादी पार्टी में मीठा,तला हुआ खानें से बचें ।


 तैल में तलनें की बजाय भून कर खानें का प्रयास करें और दिन भर में 12 से 15 पन्द्रह गिलास पानी पियें ।





 चौथा सप्ताह 



पहलें दूसरे और तीसरें सप्ताह के कामों को नियमित रखतें हुये चौथे सप्ताह से कुछ संकल्प लें जैसे इन स्वस्थ्य आदतों को वजन कम होनें के बाद भी नही छोडूंगा । 


 आफिस से आनें के बाद टीवी और मोबाइल में अधिक समय नष्ट़ नही करूंगा बल्कि बच्चों के साथ कुछ ऐसे खेल खेलूंगा जो हाथ पाँवों को गतिशील रखतें हो ।


चार सप्ताह तक इन आदतों का समावेश कर आप अपनें शरीर को  मज़बूत,मोटापामुक्त और स्फूर्तिवान बना सकतें हैं ।



० बहेडा के बारें में जानें



० fitness के लिये सतरंगी खानपान




० अमरूद पाये जानें वाले पौषक तत्व




० बहेडा का वानस्पतिक नाम और फायदे




० एलर्जी क्या होती हैं




० प्याज के फायदे





० चित्रक के फायदे




० गूलर के औषधीय उपयोग





० मुंह का कैंसर





० काला धतूरा के फायदे और नुकसान




० योग क्या हैं ?



० गेंहू के जवारे के औषधीय गुण

हम आपकी दिनचर्या में 4 सप्ताह तक ऐसी आदतों का समावेश करवायेंगें जिससे मोटापा कम करनें में मदद मिलेगी ।
मोटापा

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट