सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मेफ्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट उपयोग, साइड-इफेक्ट

मेफ्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी दो तरह की एलोपैथिक दवाओं का Combination हैं। जिसे अलग-अलग दवा कंपनिया एक KIT के रूप में बेचती हैं। इस MTP KIT में एक मेफ्रिस्टोन 200 एमजी और चार मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट होती हैं।


मेफ्रिस्टोन 200 एमजी मुंह के द्वारा ली जानें वाली गोली हैं जबकि मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी योनि मार्ग द्वारा गर्भाशय के मुंह पर रखी जाती हैं।


यह दोनों दवाएं महिलाओं के 6 से 8 सप्ताह के गर्भ को गिराने की दवाईयां हैं। 


यह दोनों दवाएं IP यानि इंडियन फार्मोकोपिया की हैं और Medical Termination of Pregnancy Act, 2002 और Medical Termination of Pregnancy Rules,2002 के अन्तर्गत बिना गायनेकोलॉजिस्ट की सलाह के नहीं खरीदी जा सकती हैं।


मेफ्रिस्टोन 200 एमजी 


मेफ्रिस्टोन एक  Antiprogestogen,Antiestrogenic,Antiminaralcorticoid गुणधर्म रखनें वाली दवाई हैं। 

मेफ्रिस्टोन गर्भाशय की दीवारों पर मोजूद इंडोमेट्रियम ऊतकों पर Antiprogestogen प्रभाव उत्पन्न करती हैं जिससे गर्भाशय संकुचित हो जाता हैं और गर्भ गर्भाशय की दीवार से अलग होकर बाहर निकल जाता हैं।


मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी


मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट गर्भाशय की मायोमेट्रियल कोशिकाओं पर विशेष प्रभाव उत्पन्न कर गर्भाशय की दीवार को संकुचित करती हैं और cervix को मुलायम कर देती हैं। फलस्वरूप गर्भ गर्भाशय से बाहर निकल जाता हैं।

माइप्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी



मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल के साइड-इफेक्ट क्या हैं?


1.कभी - कभी मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल से शरीर में एलर्जी हो सकती हैं जैसे पित्ती उछलना, खुजली होना, शरीर लाल होना आदि।


2.गोली सेवन के बाद बहुत अधिक रक्तस्राव शुरू हो सकता हैं।


3.बार - बार गोली का प्रयोग करनें से किडनी क्षतिग्रस्त होने और मूत्राशय संबंधी परेशानी हो सकती हैं।


4.अस्थमा का दौरा शुरू हो सकता हैं।


5.गर्भाशय संकुचित होने से बहुत अधिक पेट दर्द हो सकता हैं।


6. अधिक रक्तस्राव के कारण एनिमिया हो सकता हैं।


7.गर्भ संकुचित और cervix मुलायम होने से vaginal infection का खतरा हो सकता हैं।



8.गोली लेनें के बाद बहुत तेज ठंड लगकर बुखार आ सकता हैं।


9.उल्टी,मचलाना,और चक्कर आनें जैसी समस्या हो सकती हैं।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल किसे नहीं लेना चाहिए


1.जिन महिलाओं को किड़नी संबंधित बीमारी हैं।


2.जो महिलाएं अत्यधिक कुपोषित हैं।


3.जिन्हें लीवर संबंधित गंभीर बीमारी हो जैसे लीवर सिरोसिस, हेपेटाइटिस आदि।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेनें के कितनें दिनों के बाद तक रक्तस्राव होता हैं?


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेने के 14 दिनों तक सामान्य माहवारी जितना ब्लड जाना सामान्य बात मानी जाती हैं। किंतु यदि 14 दिनों के बाद भी रक्तस्राव चालू रहता है तो गायनेकोलॉजिस्ट से संपर्क करें।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल के साथ कौंन सी दवाईयां नहीं दी जाती हैं ?

मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेने के दौरान यदि आपको फंगल इन्फेक्शन से संबंधित दवाईयां जैसे Ketaconazole,Itraconazole, और ह्रदय से संबंधित दवाईयां जैसे एस्प्रीन आदि चल रही हैं तो इन दवाईयों के बारें में गायनेकोलॉजिस्ट को जरूर बताएं। 


गायनेकोलॉजिस्ट इस दौरान इन दवाईयों को रोककर माइप्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल का प्रयोग करनें की सलाह देते हैं।


मिफ्रेस्टोन और मिसोप्रोस्टोल की कीमत कितनी हैं ?

मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल combination kit की कीमत भारत में 400 से 500 रुपए हैं। यह कीमत अलग-अलग कंपनियों के आधार पर हैं।


Author - healthylifestyehome







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट