सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मेफ्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट उपयोग, साइड-इफेक्ट

मेफ्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट दो तरह की एलोपैथिक दवाओं का Combination हैं। जिसे अलग-अलग दवा कंपनिया एक KIT के रूप में बेचती हैं। इस MTP KIT में एक मेफ्रिस्टोन 200 एमजी टेबलेट और चार मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट होती हैं।


मेफ्रिस्टोन 200 एमजी मुंह के द्वारा ली जानें वाली गोली हैं जबकि मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी योनि मार्ग द्वारा गर्भाशय के मुंह पर रखी जाती हैं।


यह दोनों दवाएं महिलाओं के 6 से 8 सप्ताह के गर्भ को गिराने की दवाईयां हैं। 


यह दोनों दवाएं IP यानि इंडियन फार्मोकोपिया की हैं और Medical Termination of Pregnancy Act, 2002 और Medical Termination of Pregnancy Rules,2002 के अन्तर्गत बिना गायनेकोलॉजिस्ट की सलाह के नहीं खरीदी जा सकती हैं।


मेफ्रिस्टोन 200 एमजी 


मेफ्रिस्टोन एक  Antiprogestogen,Antiestrogenic,Antiminaralcorticoid गुणधर्म रखनें वाली दवाई हैं। 

मेफ्रिस्टोन गर्भाशय की दीवारों पर मोजूद इंडोमेट्रियम ऊतकों पर Antiprogestogen प्रभाव उत्पन्न करती हैं जिससे गर्भाशय संकुचित हो जाता हैं और गर्भ गर्भाशय की दीवार से अलग होकर बाहर निकल जाता हैं।


मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी


मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी टेबलेट गर्भाशय की मायोमेट्रियल कोशिकाओं पर विशेष प्रभाव उत्पन्न कर गर्भाशय की दीवार को संकुचित करती हैं और cervix को मुलायम कर देती हैं। फलस्वरूप गर्भ गर्भाशय से बाहर निकल जाता हैं।

माइप्रिस्टोन 200 एमजी + मिसोप्रोस्टोल 200 एमसीजी



मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल के साइड-इफेक्ट क्या हैं?


1.कभी - कभी मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल से शरीर में एलर्जी हो सकती हैं जैसे पित्ती उछलना, खुजली होना, शरीर लाल होना आदि।


2.गोली सेवन के बाद बहुत अधिक रक्तस्राव शुरू हो सकता हैं।


3.बार - बार गोली का प्रयोग करनें से किडनी क्षतिग्रस्त होने और मूत्राशय संबंधी परेशानी हो सकती हैं।


4.अस्थमा का दौरा शुरू हो सकता हैं।


5.गर्भाशय संकुचित होने से बहुत अधिक पेट दर्द हो सकता हैं।


6. अधिक रक्तस्राव के कारण एनिमिया हो सकता हैं।


7.गर्भ संकुचित और cervix मुलायम होने से vaginal infection का खतरा हो सकता हैं।



8.गोली लेनें के बाद बहुत तेज ठंड लगकर बुखार आ सकता हैं।


9.उल्टी,मचलाना,और चक्कर आनें जैसी समस्या हो सकती हैं।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल किसे नहीं लेना चाहिए


1.जिन महिलाओं को किड़नी संबंधित बीमारी हैं।


2.जो महिलाएं अत्यधिक कुपोषित हैं।


3.जिन्हें लीवर संबंधित गंभीर बीमारी हो जैसे लीवर सिरोसिस, हेपेटाइटिस आदि।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेनें के कितनें दिनों के बाद तक रक्तस्राव होता हैं?


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेने के 14 दिनों तक सामान्य माहवारी जितना ब्लड जाना सामान्य बात मानी जाती हैं। किंतु यदि 14 दिनों के बाद भी रक्तस्राव चालू रहता है तो गायनेकोलॉजिस्ट से संपर्क करें।


मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल के साथ कौंन सी दवाईयां नहीं दी जाती हैं ?

मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल लेने के दौरान यदि आपको फंगल इन्फेक्शन से संबंधित दवाईयां जैसे Ketaconazole,Itraconazole, और ह्रदय से संबंधित दवाईयां जैसे एस्प्रीन आदि चल रही हैं तो इन दवाईयों के बारें में गायनेकोलॉजिस्ट को जरूर बताएं। 


गायनेकोलॉजिस्ट इस दौरान इन दवाईयों को रोककर माइप्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल का प्रयोग करनें की सलाह देते हैं।


मिफ्रेस्टोन और मिसोप्रोस्टोल की कीमत कितनी हैं ?

मेफ्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल combination kit की कीमत भारत में 400 से 500 रुपए हैं। यह कीमत अलग-अलग कंपनियों के आधार पर हैं।


Author - healthylifestyehome

Reviewed by

Dr.N.Nagar

MBBS,MD


• आईवीएफ ट्रीटमेंट क्या हैं

• एंटीबायोटिक इंजेक्शन मोनोसेफ

• शादी से पहले के मेडिकल टेस्ट



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी