सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ayurvedic medicine list । आयुर्वैदिक औषधि सूची

Ayurvedic medicine list  [आयुर्वैदिक औषधि सूची]

#1.नव ज्वर की औषधि और अनुसंशित मात्रा :::

आयुर्वेदिक औषधि




१.त्रिभुवनकिर्ती रस  :::::   १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.संजीवनी वटी       :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.गोदन्ती मिश्रण.    :::::     १२५ से २५० मि.ग्रा.




#2.विषम ज्वर :::





१.सप्तपर्ण घन वटी  :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.सुदर्शन चूर्ण.        :::::     ३ से ६ ग्रा.



 

# 3 वातश्लैष्मिक ज्वर :::






१.लक्ष्मी विलास रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.संशमनी वटी          :::::  ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा.




# 4 जीर्ण ज्वर ::::





१. प्रताप लंकेश्वर रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.महासुदर्शन चूर्ण.     :::::   ३ से ६ ग्राम

३.अमृतारिष्ट              :::::    २० से ३० मि.ली.





# 5.सान्निपातिक ज्वर ::::






१.नारदीय लक्ष्मी विलास रस. :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.भूनिम्बादि क्वाथ.      ::::: १०से २० मि.ली.




#6 वातशलैष्मिक ज्वर ::::





१.गोजिह्यादि क्वाथ.      ::::: २० से ४० मि.ली.

२.सितोपलादि चूर्ण.       ::::: ३ से ५ ग्राम

३.कणटकार्यावलेह.       :::::: ५ से १० ग्राम



#############################################  

यह भी पढ़े 👇👇👇

#7. कफ निस्सारक :::




१.टंकण भस्म.            :::::  ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा.

२.तालिसादी चूर्ण.       :::::: ३ से ५ ग्राम

३.वासावलेह.              :::::: ५ से १० ग्राम



# 8.श्वसनिका शोध :::::





१.लघुमालिनी बसंत रस. :::::      १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.लवंगादि चूर्ण.            :::::    ३ से ५ ग्राम

३.चौंसठ प्रहरी पीपल. :::::   ५०० मि.ग्रा से २ ग्रा.






 

#9.राजयक्ष्मा :::::





१.राजमृगांक रस  ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.स्वर्ण बसंत मालती रस ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.अभ्रक भस्म (शतपुटी) ::::: ०.७५ से १२५ मि.ग्रा.

४.मुक्तापंचामृत.            :::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

५.शिलाजत्वादि लौह.     :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा.






°● ये भी पढ़े

● सेहत की abcd





#10.प्रतिश्याय :::::






१.हिंगुलेश्वर रस.  ::::: १२५ स् २५० मि.ग्राम

२. पंचकोल चूर्ण. ::::: २ से ५ ग्राम



#11.पीनस :::::





१.षड़बिन्दु तेल.    :::::: २ से ५ बूंद नस्यार्थ 

२.दशमूव रसायनम्  ::::: ५ से १५ ग्राम





#12.तुण्ड़ीकेरी शोथ :::::






१.क्षारमधु                :::::  गले में स्थानिक प्रयोग

२.खदिरादि वटी        ::::: २ से ४ गोली

३.व्योषादि वटी         ::::: २ से ४ गोली




#13.श्वास :::::





१.धान्वंतर गुटिका     ::::: १ से २ गोली

२.पुष्करमूल चूर्ण.      ::::: ५ से १५ ग्राम

३.श्रृंग्यादि चूर्ण.         ::::: ५ से १५ ग्राम

४.कनकासव.           ::::: १० से ३० मि.ली.

५.वासारिष्ट              ::::: १० से ३० मि.ली.






#14.ह्रदय रोग :::::




१.नागार्जुननाभ्र रस.   ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.मुक्तापिष्टी              ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३. प्रवालपिष्टी            ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

४.अर्जुनारिष्ट़             ::::: १० से ३० मि.ली.




#15.उच्चरक्तचाप (HIGH BLOOD PRESSURE):::::





१.प्रवालपिष्टी           ::::::  १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.सर्पगंधा घन वटी  :::::: २ से ४ गोली





#16 रक्तभार अल्पता :::::





१.मकरध्वज गुटिका ::::: ५० से १२५ मि.ग्रा.

२.कस्तूरी भैरव रस. ::::: ५० से १२५ मि.ग्रा.




#17.ह्रच्छूल :::::





१.श्रृंग भस्म.         ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.महावातराज रस ::::: ७५ से १२५ मि.ग्रा.




#18.पाण्डु :::::





१.पुनर्नवादि मण्डूर ::::: ०.५ से १ ग्रा.

२.लोहासव.           ::::: १० से ३० मि.ग्रा.




#19.रक्तपित्त / रक्तस्त्राव :::::





१.तृणकान्तमणि पिष्टी  :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.लाक्षादि चूर्ण.           :::::  ५ से १० ग्रा.

३.उशीरासव.               :::::  १५ से ३० मि.ली.




# 20.रक्तदुष्टि :::::





१.निम्बादि क्वाथ.        ::::: २० से ४० मि.ली.

२.पंचनिम्ब चूर्ण           ::::: ५ से १० ग्रा.

३.मंजिष्ठादि चूर्ण.        ::::: ५ से १५ ग्रा.

४.सारिवाघासव.         ::::: १५ से ३० मि.ली.

५.खदिरारिष्ट               ::::: १५ से ३० मि.ली.



#21.अतिसार :::::





१.कर्पूर रस.             ::::: ५० से १२५ मि.ग्रा.

२.जातिफलादि चूर्ण. ::::: ५ से १० ग्रा.

३.कर्पूरासव.            ::::: १० से २० बूँद

४.बब्बूलारिष्ट           ::::: १५ से ३० मि.ली.




#22.प्रवाहिका :::::





१.पंचामृत पर्पटी      ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.बिल्वादि चूर्ण.      ::::: ५ से १० ग्राम

३.बिल्वादि क्वाथ.    ::::: २० से ४० मि.ली.

४.कुटजारिष्ट            ::::: १५ से ३० मि.ली.





# 23.अम्लपित्त (ACIDITY) :::::




१.कामदुधा रस.        ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.धात्री रसायन.       ::::: ५ से १५ ग्राम

३.मधुयष्टयादि चूर्ण.  ::::: ५ से १० ग्राम

४.अविपत्तिकर चूर्ण. ::::: ५ से १० ग्राम
ग्राम




# 24.संग्रहणी :::::





१.शंखोदर रस.       ::::: ७५ से १५० मि.ग्रा.

२.सूतशेखर रस.     ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.बिल्वादि अवलेह. ::::: ५ से १० ग्रा.

४.मोचरस चूर्ण.       ::::: ३ से ५ ग्रा.




#25.यकृत रोग :::::





१.आरोग्यवर्धनी वटी   ::::: ५०० मिग्रा से १ ग्राम

२.नवायस लोह.         ::::: २५० से ५०० मिग्रा

३.फलत्रिकादि क्वाथ. ::::: १५ से ३० मि.ली.

४.शर्बतफालसा         ::::: ३० से ५० मि.ली.

५.दारूहरिद्राफल चूर्ण ::::: ५ से १० ग्राम

६.रोहितकारिष्ट          ::::: १५ से ३० मि.ली.




# 26.शूल :::::




१.शंख भस्म.            ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.शंख वटी              ::::: २ से ४ वटी

३.लहसुनादि वटी      ::::: २ से ४ वटी

४.हिंगु वचादि चूर्ण.   ::::: ३ से ५ ग्रा.

५.नारिकेल लवण.    ::::; १ से २ ग्रा.




#27 आध्यमान :::::




१.कांकायन वटी      ::::: ५०० मिग्रा से १ ग्रा.

२.हिंग्वाष्टक चूर्ण.     ::::: ३ से ५ ग्रा.

३.अर्क अजमोद.      ::::: ५ से १५ मि.ली.

४.लवण भास्कर चूर्ण ::::: ५ से १० ग्रा.




#28 छर्दि :::::




१.मयूरपिच्छ भस्म    ::::: ५० से १२५ मि.ग्रा.

२.बिल्वादि लेहम.     ::::: १ से ३ ग्रा.

३.एलादि चूर्ण.         ::::: ५ से १० ग्रा.




#29.अजीर्ण :::::





१.यवानी षांड्व चूर्ण  ::::: ५ से १० ग्रा.

२.शिवाक्षार पाचन चूर्ण ::::: ३ से ५ ग्रा.

३.चित्रकादि वटी          ::::: २ से ४ वटी




# 30.अग्निमांध :::::




१.अग्नितुण्डी वटी      ::::: २५० से ५०० मि ग्रा

२.वैश्वानर चूर्ण.          ::::: ३ से ५ ग्रा.

३.पंचकोल चूर्ण.        ::::: ३ से ५ ग्रा.




#31 विबंध :::::




१.इच्छाभेदी रस.     ::::: १२५ से ५०० मि.ग्रा.

२.पंचसकार चूर्ण.    ::::: ५ से १० ग्राम

३.स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण ::::: ५ से १० ग्रा.

४.अभयारिष्ट.              ::::: १५ से ३० मि.ली.

५.ईसबगोल.                ::::: १० से २० ग्रा.

६.हरीतकी चूर्ण.           ::::: ५ से १० ग्रा.





#32.अर्श - भगंदर :::::





१.शिग्नु गुग्गल.           ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा

२.बोलबद्ध रस.           ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.प्राणदा वटी             ::::: २ से ४ गोली

४.रसांजन वटी            ::::: ५०० मि ग्रा से १ ग्रा

५.कासीसादि तेल.      ::::: २ से ५ मि.ली.

६.जयावटी                 ::::: २५० से ५०० मिग्रा




# 33.कृमिरोग :::::





१.विड़ंगादि लौह           ::::: ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा

२.पलाशबीज चूर्ण         ::::: ३ से ६ ग्रा

३.कम्पिलक योग.         ::::: ५ से १० ग्रा.





# 34.मस्तिष्क रोग :::::




१.ब्राम्ही वटी               ::::: २ से ४ गोली

२.तंगरादि चूर्ण.           ::::: ३ से ५ ग्रा

३.ब्राम्ही रसायन.         ::::: ५ से १० ग्रा.

४.सारस्वतारिष्ट.          ::::: १५ से २० मि.ग्रा.

५.ब्राम्ही घृत                ::::: ५ से १० ग्राम





# 35.नाड़ी दौर्बल्य :::::




१.कृष्ण चतुर्मुख रस.     ::::: १२५ से ५०० मि.ग्रा.

२.धान्वन्तर तेल.           ::::: अभ्यंगार्थ

३.महानारायण तेल.    :::::  अभ्यंगार्थ

४.एरण्ड़ पाक.            ::::: ५ से १५ ग्रा.

५.बलारिष्ट                  ::::: १० से ३० मि.ली.



#36.कम्पवात :::::



१.चतुर्भुज रस.          ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.कौंच बीज चूर्ण.     ::::: २ से ५ ग्रा.



#37.सिरशूल :::::



१.सिरसूलादि वज्र रस. ::::: २५० मि.ग्रा से १ ग्रा

२.चन्द्रकान्त रस.         ::::: १२५ से २५० ग्रा.

३.पथ्यादि क्वाथ.        ::::: १० से २० मि.ली.

४.गोदन्ती प्रवाल योग  ::::: १० से २० मि.ली.




#38.पक्षाघात :::::



१.योगेन्द्र रस.           ::::: १२५ मि.ग्रा.

२.क्षीरबला तेल.        ::::: अभ्यंगार्थ

३.क्षीरबला तेल आवर्ती ::::: ५ से ४० बूँद पानार्थ




#39.अनिद्रा :::::




१.निद्रोदय रस.         ::::: १२५ से ५०० मि.ग्रा.

२.जटामासी क्वाथ.   ::::: १० से २० मि.ली.

३.मदनानंद मोदक.    ::::: ५ से १५ ग्रा.

४.अश्वगंधा चूर्ण.        ::::: ५ से १० ग्रा.





# 40.आक्षेपक :::::



१.स्वर्ण भस्म.           ::::: १५ से २५ मि.ग्रा.

२.पंचगव्य घृत.      ::::: ५ से १५ मि.ली.

३.अपतंत्रकारि वटी ::::: १२५ से २५० ग्राम




#42.उन्माद :::::




१.उन्मादि गजकेशरी     ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.महापैशाचिक घृत.     ::::: ५ से १५ ग्राम

३.महाचैतस घृत.          ::::: ५ से १५ ग्रा.

४.मानस मित्र वटक.     ::::: १२५ से २५० मिग्रा




# 43.विषाद :::::




१.ज्योतिष्मती तेल.     ::::: १० से २० बूँद

२.स्मृति सागर रस.      ::::: १२५ से २५० मिग्रा

३.शुद्ध वचा चूर्ण.        ::::: १२५ मि ग्रा





#44.आमवात :::::





१.आमवातारि रस.      ::::: १२५ से २५० मिग्रा

२.त्रयोदशांग गुग्गल.    ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा

३.कोट्टचुक्कादि तेल.  ::::: स्थानिक प्रयोग



# 45.वातरक्त ::::


१.कैशोर गुग्गल.      ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम

२.महारास्नादि क्वाथ ::::: ५ से १५ मि.ली.

३.पिण्ड़ तेल.            ::::: स्थानिक प्रयोग





# 46.संधिवात :::::


१.सिंहनाद गुग्गल.     ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम

२.योगराज गुग्गल.     ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम

३.पंचगुण तेल.          ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

४.वातारि गुग्गल.       ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम

५.समीरगज केशरी रस ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

६.महाविषगर्भ तेल.      ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ




# 48 अल्पमूत्रता :::::


१.पुनर्नवाष्टक क्वाथ.   :::::  20 से 40 मि.ली.

२.पनविरलादि भस्म.   ::::: ५ से २० ग्राम

३.पुनर्नवासव.            ::::: १५ से ३० मि.ली.




#49.अश्मरी :::::


१.पाषाण भेदादि क्वाथ. ::::: २० से ४० मि.ली.

२.हजरल यहूद भस्म.     ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा

३.कुलत्थादि घृत.           ::::: १० से २० मि.ली.

४.वरूणादि गुग्गल.        ::::: ५०० मि ग्रा से १ ग्रा

५.शिलाजित्वादि वटी     ::::: ५०० मि ग्रा से १ ग्रा

६.पुनर्नवादि गुग्गल.       ::::: ५०० मि ग्रा से १ ग्रा





# 50.वृक्कशोथ :::::


१.सर्वतोभद्र रस         ::::: ५० से ५०० मि.ग्रा.

२.वीरतरादि क्वाथ.    ::::: २० से ४० मि.ली.

३.तृण पंचमूल क्वाथ  ::::: २० से ४० मि.ली.

४.कन्मद भस्म.         ::::: ५०० मि ग्रा से १.५ ग्रा

५.वस्त्यामयान्तक घृत ::::: ५ से १५ ग्राम



# 51.मूत्रकच्छ :::::


१.स्वर्ण वंग.            ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.चन्द्रकला रस.      ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

३.त्रिकण्टकादि क्वाथ ::::: ४० मि.ली.




#52.कुष्ठ :::::


१.रस माणिक्य         ::::: १२५ से १५० मि.ग्रा.

२.गन्धक रसायन.     ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

३.एलादि तेल.          ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

४.कुष्ठराक्षस तेल.      ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ




# 53.त्वककाष्णय :::::


१.कुंकुमादि तेल.         ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

२.दंशाग लेप.             ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ





#54.कण्डू :::::


१.हरिद्राखण्ड़            ::::: ५ से १५ ग्राम

२.बिल्वादि गुटिका     ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

३.नाल्पामरादि तेल.    ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

४.महामरिच्यादि तेल.  ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ




#55.त्वकवैवर्ण्य :::::


१.चालमोंगरा तेल.     ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

२.सिध्महर तेल.        ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

३.मार्कव रसायनम्    ::::: १० से २० ग्रा.




#56. केश ::::


१.भृंगराज तेल        ::::: बालो पर प्रयोगार्थ

२.धस्तूरपत्र केर तेल ::::: बालो पर प्रयोगार्थ

३.दूर्वादिकेर तैल.    ::::: बालो पर प्रयोगार्थ

४.कच्युन्यादि केर तेल ::::: बालो पर प्रयोगार्थ

५.नीली भृंग्यादि केर तेल :::: बालो पर प्रयोगार्थ

६.कृन्तल कांति तेल.       ::::: बालो पर प्रयोगार्थ



#57.श्वेत कुष्ठ :::::


१.काकोदुम्बरिकादि क्वाथ. ::::: १० से ४० मि.ली.

२.मार्कव तेल.                    :::::: ५ से १५ ग्रा.

३.अवल्गुजादि लेप.           :::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

४.गोमूत्रारिष्ट.                    ::::: १० से २० मि.ली.




#58.श्वेत प्रदर :::::


१.प्रदरांतक रस    ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.पत्रंगासव.  ::::: १० से ३० मि.ली.

३.लोध्रासव.      ::::: १० से ३० मि.ली.

४.अशोकारिष्ट    ::::: १० से ३० मि.ली.

५.कुक्टाण्डत्वक भस्म ::: १ से ५०० मि ग्रा

६.पुष्यानुग चूर्ण.  ::::: ५ से १० ग्रा.

७.सुपारी पाक.   ::::: ५ से १५ ग्रा.

८.शतावरी गुड़   ::::: ५ से १५ ग्रा.

९.पंचपंचवल्कय क्वाथ ::::: योनि प्रक्षालनार्थ



#59.रज:कृच्छ :::::


१.रज: प्रवर्तनी वटी   ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.कुमारिका वटी       ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

३.कुमार्यासव.          ::::: १० से ३० मि.ली.





# 60.योनिव्यापद :::::


१.शुभंकरी वटी        ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम

२.सोमनाथ रस.       ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.सौभाग्यवर्धन तेल ::::: योनिपिचु




# 61.रज: पूर्व तनाव :::::


१.यवक्षार योग       ::::: ५०० मि.ग्रा. से १.५ ग्रा.

२.सप्तसारम् कषायम ::: १० से २० मि.ली.





#62.गर्भपात :::::


१.गर्भपाल रस.    :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.गर्भ रक्षिणी गुटिका ::: २ से ४ गोली



#63.रक्तलायोनि :::::


१.कहरूवा पिष्टी            ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा

२.अशोक घृत.               ::::: ५ से १५ ग्राम

३.लक्ष्मणा लौह.            ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम


#64.स्तन्याल्पता :::::


१.स्तन्यजनन कषाय.      ::::: १० से २० मि.ली.

शतावर्यादि चूर्ण.            ::::: ५ से १० ग्रा.


#65 सूतिका रोग :::::


१.सौभाग्य शुण्ठी       ::::: ५ से १० ग्रा.


२.दशमूलारिष्ट              :::::  १५ से ३० मि.ली.


#66.बन्ध्यत्व :::::


१.फलकल्याण घृत.     ::::: ५ से १५ ग्राम

२.पलाशपुष्पासव.       ::::: १५ से ३० मि.ली.

३.लक्ष्मणारिष्ट            ::::: १५ से ३० मि.ली.

४.पुष्पधन्वा रस.         ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.



#67.बीजकोष :::::


१.त्रयोदशांग गुग्गल.       ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा

२.शोभांजनारिष्ट             ::::: १० से ३० मिली

३.पुनर्नवामण्डूर.             ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.


# 68. बाजीकरण :::::


१.मन्मथ रस.              :::::: १२५ से ५०० मि.ग्रा.

२.अकरकरभादि गुटिका ::::: १ से २ गोली

३.अश्वगंधादि लेहयम.     ::::: ५ से १५ ग्रा.

४.शुक्रस्तम्भन रसायन.    ::::: ५ से १५ ग्राम

५.श्री गोपाल तेल.            ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

६.कामिनीविद्रावणरस       ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.


#69. रसायन ::::::


१. ब्राम्ह रसायन              ::::::  ५ से १५ ग्राम

२.च्वनप्राश अवलेह.         ::::: ५ से १५ ग्रा.

३.बृहणी गुटिका               ::::: १ से २ गोली


#70.व्रणरोपक :::::


१.जात्यादि तेल.              ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.मर्म गुटिका                  :::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

३.त्रिफला गुग्गल.             ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

४.यशद मलहर.               ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ

५.मंजिष्ठादि तेल.            ::::: स्थानिक प्रयोगार्थ


#71.नेत्ररोग :::::


१.सप्तामृत लौह.          ::::: २ से ४ गोली

२.महात्रिफलाघृत.        ::::: ५ से १० ग्राम

३.चन्द्रोदयवर्ति             ::::: अाँख में प्रयोगार्थ

४.एलनीर कुषम्पु          ::::: २ से ५ बूँद

५.शतपत्रयार्क             ::::: २ से ५ बूँद


#72.नासारोग :::::


१.अणु तेल.              ::::: २ से ५ बूँद नस्या्र्थ

२.नासिका चूर्ण.        ::::: ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा

३.चितृक हरीतिकी     ::::: ५ से १५ ग्रा.

४.कट्फल चूर्ण.        ::::: नस्यार्थ


#73.गलगण्ड़ :::::


१.कांचनार गुग्गल.     ::::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्राम


#74.मुखरोग :::::


१.पीतक चूर्ण           ::::: गण्डूषार्थ

२.शुद्ध सौभाग्य        ::::: प्रतिसारणार्थ

३.इरिमेदादि तेल.      ::::: मुखलेपार्थ

४.बृहत्यादि क्वाथ.    ::::: गण्डूषार्थ



#75.दंत रोग :::::


१.दशनसंस्कार चूर्ण.      ::::: मंजनार्थ


#76.पुरूष प्रजनन अक्षमता :::::


१.जुन्द वदस्तर वटी      ::::: २ से ४ वटी

२.पुष्प धन्वा रस.          ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.


#77.स्त्री प्रजनन अक्षमता :::::


१.जियापोता चूर्ण.            :::::  ५ से १५ ग्राम

२.शिवलिंगी बीज.            ::::: ३ बीज प्रतिदिन २८ दिन तक



#78.आयुर्वेदिक परिवार नियोजक :::::


१.पिप्पल्यादि योग.          ::::: २ से ४ ग्राम

२.नीम तेल.                    ::::: २ से ५ मि.ली.

#79.दुर्बलता :::::


१.द्राक्षासव                   ::::: १५ से ३० मि.ली.

२.शुद्ध शिलाजित.        ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

३.फलासव.                 ::::: १० से ३० मि.ली.

४.ताप्यादि लौह.          ::::: २५० से ५०० मि.ग्रा.


#80.मधुमेह :::::


१.त्रिवंग भस्म.            ::::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.वसंत कुसमाकर रस ::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

३.निशा कतकादि क्वाथ ::: १० से ३० मि.ली.

४.न्यग्रोधादि चूर्ण.          ::: ५ से १५ ग्राम

५.जाम्बवाघरिष्ट             ::: १० से ३० मि.ली.

६.अयस्कृति                  ::: १० से ३० मि.ली.


#81.मोटापा :::::


१.मेदोहर चूर्ण.          ::::: ५ से १५ ग्राम

२.मेदोहर विडंगादि लौह ::: १ से २ ग्राम

३.नवक गुग्गल.             ::: २ से ४ गोली

४.त्रिफला चूर्ण.              ::: ५ से १५ ग्राम


#82.शोथ :::::


१.रास्नैरण्डादि क्वाथ.    ::: १० से २० मि.ली.

२.शिग्नु वरूण क्वाथ.    ::: १० से २० मि.ली.

३.गोमूत्रार्क                   ::: ५ से २० मि.ली.

४.कंसहरीतकी              ::: ५ से १० ग्राम

५.शोथ कालानल रस.   ::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

६.ग्रहधूमादि लेप.         :::: लेपनार्थ

७.कोकिलाक्षक कषाय  ::: १० से २० मि.ली.


#83.श्लीपदहर :::::


१.नित्यानंद रस.         ::: २५० से ५०० मि.ग्रा.

२.शाखोटक क्वाथ      ::: २० से ४० मि.ली.

३.सप्तपर्ण घन वटी     ::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा.


#84.जीवाणु उपसर्ग :::::


१.रसांजन वटी          ::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा.

२.शुद्ध गंधक.           ::: २५० से ५०० मि ग्रा

३.निम्बादि तेल.        ::: स्थानिक प्रयोगार्थ

३.निम्बादि वटी        ::: ५०० मि.ग्रा. से १ ग्रा.

४.जया वटी             ::: २५० से ५०० मि.ग्रा


#85.बाल रोग :::::


१.दन्तोदभेदगदान्तक रस    ::: १२५ से २५० मि.ग्रा.

२.बालार्क रस                    ::: ६२ से १२५ मिग्रा

३.कुमार कल्याण रस.         ::: ६२ से १२५ मिग्रा

४.बालचतुर्भद्रा चूर्ण.           ::: २५० से १ ग्रा.

५.रस पीपरी                      ::: १२५ से २५० मिग्रा

६.गोपीचन्दनादि गुटिका      ::: १२५ से २५० मि ग्रा

७.ताम्बुल लेह.                    ::: २ से ५ ग्राम

८.शंखपुष्पी   तेल                ::: सिर पर अभ्यंगार्थ

९.अरविंदासव.                    ::: ५ से १५ मि.ली.

१०.कमल बीज गट्टा चूर्ण.     ::: १ से ३ ग्रा

११.शुद्ध वचा चूर्ण.              ::: ५० से १०० मि.ग्रा.

१२.जातीफल चूर्ण.             ::: २५० से ५०० मि ग्रा

१३.लाक्षादि तेल.               ::: अभ्यंगार्थ

१४.बाल रसायन.               ::: २५० से ७५० मि.ग्रा

१५.अर्क पुदीना                 ::: ५ से १५ बूंद


# बहुपयोगी भस्म :::::


१.स्वर्ण माक्षिक भस्म ::::

पाण्डु,शीतपित्त,अम्लपित्त,रसायन

२.शुद्ध स्फाटिका भस्म :::::

रक्तस्त्राव,कास,ज्वर, जीवाणु प्रतिरोधक

३.टंकण भस्म :::::

कास,तुण्डीकेरीशोथ,ज्वर

४.शंख भस्म :::::

पाचन विकार

५.कपर्दिका भस्म :::::

कर्णशूल,व्रणरोपक,आंत्रशूल

६.मण्डूर भस्म :::::

पाण्डु,कामला,शोध

७.लौह भस्म ३० पुटी :::::

पाण्डु,दौर्बल्य,गर्भावस्था

८.मयूरपिच्छ भस्म :::::

हिक्का,दुष्टकास,छर्दि

९.गोदन्ती भस्म :::::

कास,प्रतिश्याय,ज्वर, सर्वांगवेदना

१०.श्रंग भस्म :::::

ज्वर, नासाविवरशोथ,श्वसनिका शोथ,फुफ्फसफुफ्फस प्रदाह

११.अभ्रक भस्म ::::::

अम्लपित्त,पाण्डु,श्वसन रोग

# आयुर्वेदिक  की आकस्मिक चिकित्सा औषधियाँ ::::


१.कर्पूर रस :::::

तीव्र अतिसार

२. वेदनांतक रस :::::

कोष्ठ या मांसपेशी व अस्थिगत वेदना

३.सिद्धमकरध्वज :::::

रक्तवह संस्थान विकृतजन्य मूर्च्छा

४.जवाहरमोहरा पिष्टी :::::

ह्रदद्रव,मूर्च्छा,ह्रददौर्बल्य

५.मुक्तापिष्टी :::::

ह्रदगततीव्रता,ह्रदय रोग, ह्रदद्रव


६.महावात राज रस ::::::

नाडीतन्त्र विकृतजन्य मूर्च्छा,ह्रदय शूल

७.समीर गज केशरी रस :::::

नाडीपेशीगत वेदना

८.श्वास कास चिंतामणी रस ::::::

श्वास कष्ट,फुफ्फुसजन्य प्रदाह

९.स्वर्ण समीर पत्रंग रस :::::

उग्र श्वासकष्ट ,संधि वेदना

१०.मृत संजीवनी सुरा :::::

तीव्र ज्वर, प्रलाप,मोह मूर्च्छा

११.धान्वंतर गुटिका :::::

उग्र श्वास काठिन्य

१२.मानस मित्र वटक :::::

मानसिक विकार,अनिद्रा

१३.मर्म गुटिका :::::

मर्मागत शूल एँव शोध

१४.गोरोचनादि वटी :::::

ह्रदय एँव श्वसन संबधी कष्ट


१५.मूरिवन्नों तेल :::::

अभिघातज वेदना एँव शोथ के लिये स्थानिक प्रयोगार्थ

### बहुपयोगी औषधि सूची :::::


१.ब्राम्ही :::::

स्मृति एँव निद्रा विकार,अपस्मार

______________________________________________________________________________________________________

२.अर्जुन :: Terminalia Arjuna


रासायनिक संरचना ::

Arjuneic acid, Glycosides acid,Beta-sitosterol


उपयोग ::


उच्च रक्तचाप, ह्रदय रोग,ह्रदधमनीसंगजन्य, ह्रदय को बलशाली बनाता हैं, मोटापा नाशक,

________________________________________________________________________________________________________

३.अश्वगंधा :: Withania somnifera


रासायनिक संरचना ::

Somniferan, Withania,wasamin,withaminon,Hentriacontane,Phyto sterol, Amino acid, Essential oils


उपयोग ::

रसायन, स्नायुदौर्बल्य,बाजीकरण,मनोद्वेगहर,शोधहर,नींदकारक,रक्त बढ़ाने वाला

______________________________________________________________________________________________________

४.सर्पगंधा :::::

उच्च रक्तचाप, अनिद्रा,मनोअशांति

______________________________________________________________________________________________________

५.हरीतिकी (हरड़) ::::: Terminalia chebula


रासायनिक संरचना ::

Chebulinic acid, Amino acid,Antroquinine,Glycosides


उपयोग ::


उदरविकार,रसायन, शोध,मेदोरोग,विबंध


______________________________________________________________________________________________________

६.हरिद्रा (हल्दी) :::Curcuma longa


रासायनिक संरचना ::

Curcumin, Turmeric oil,Turpine oil


उपयोग ::


तमक श्वास, एलर्जिक विकार, मधुमेह, त्वचा रोग,रक्तवर्धक,दर्दनाशक,व्रणशोधक,पित्तशामक, रक्तशोधक,रोगाणुनाशक,

______________________________________________________________________________________________________

७.आंवला ::Emblica Officinalis


रासायनिक संरचना ::

Proteins, fatty acids,fibres, ascorbic acid,Elagic acid,flavin, Glucose


उपयोग ::

पाण्डु,कामला,रक्त पित्त, अम्ल पित्त,दाह

______________________________________________________________________________________________________

८.शुण्ठी :: Zingiber Officinalis


रासायनिक संरचना ::

Curcumene,Boubornene,Borneal,Citral,Camphene,Citronellal,Geraniol,Gingerol,Zingiberenes


उपयोग ::


उदर विकार, वाणी विकार,पाचक,अर्श में लाभकारी

______________________________________________________________________________________________________

९.वचा ::Acorus calamus

रासायनिक संरचना ::

Acolamone,acorenone,acoragermacrone,trans asarone

उपयोग ::

स्मृति विकार, वाणी विकार,स्थोल्य,अंगविकार,कासहर,

______________________________________________________________________________________________________

१०.गिलोय :: Tinospora cordifolia


रासायनिक संरचना ::

Giloin,Tinospiric acid,vasa alcohol,Barberin


उपयोग ::

ज्वर, कामला,वातरक्त,रसायन,अम्ल पित्त, रक्तशोधक, मूत्र लाने वाला,विषहर


उपयोगी भाग::

तना,पत्ते 

______________________________________________________________________________________________________

११.शतावरी :: Asparagus racemosa

रासायनिक संरचना ::

Diosegenin,shtavarin,sarsa,sapogenin,Rhamnose,sugar

उपयोग ::

बाजीकरण, स्तन्यजन्य,अपस्मार,मूत्रकच्छ, बुद्धिवर्धक, रसायन

______________________________________________________________________________________________________

१२.अशोक ::Saraca asoca

रासायनिक संरचना ::

Catechol,pelargonidin,Quercetin,cynidin,Apigenin,Kaempferol,Gallic acids,Haematoxolyne,Saponins, fatty acids, Glycosides,Tannins, Essential oils

उपयोग ::

असग्दृर,वातव्याधि,रजोनिवृत्तिजन्य लक्षण, रक्तशोधक,प्रदरहर,

______________________________________________________________________________________________________

१३.पिप्पली मूल :: Piper longum


रासायनिक संरचना ::

Piperine,Piper longumine,piplastene


उपयोग ::

विषम ज्वर, अर्श, उदर कृमि,अनिद्रा,वातहर,श्वास,फैटी लिवर, कब्ज

______________________________________________________________________________________________________

१४.दाड़िम (अनार) :: Punica Granatum 

रासायनिक संरचना ::

Pelletierine,Iso-Pelletierine


उपयोग ::

अतिसार,रक्तस्त्राव, पाण्डु,श्वेत प्रदर, ह्रदय बलवर्धक,भूख बढ़ाने वाला



उपयोगी भाग ::

फल,फल का छिलका, तना

______________________________________________________________________________________________________

१५. नीम :: Azardirecta indica

रासायनिक संरचना ::

Nimbidin,Azadirachtin,Sitosterol,Kulinane,Azadirachnol,Salanmol


उपयोग ::

शीतपित्त,ज्वर, चर्म रक्तार्श,आमाशयिक प्रदाह, विषमयता, कृमिहर,

______________________________________________________________________________________________________

१६.कम्पिल्लक :::::

उदरकृमि,विबंध

______________________________________________________________________________________________________

१७.पुष्करमूल :: Inula racemosa

रासायनिक संरचना ::

Inulin,Alantolactone,Innulolide,D-manitol

उपयोग ::

ह्रदयशूल,पार्श्वशूल,श्वास, कास, सूजन दूर करता हैं,मूत्रल,

______________________________________________________________________________________________________

१८.पुनर्नवा मूल :::::

मूत्ररोग,शोथ,नेत्र रोग

______________________________________________________________________________________________________

१९.वरूण :: Crataeva nurvala

रासायनिक संरचना ::

Saponin,Tanin

उपयोग ::

विसर्प,ग्रन्थि, मूत्ररोग,मूत्रीष्ठिला, रक्तशोधक,पथरी नाशक,

______________________________________________________________________________________________________

२०.गोक्षुर ::Tribulus terestris


रासायनिक संरचना::

Chlorogenin,diosegenin,gitogenin,rutin,rhymnose

उपयोग ::


अश्मरीनाशक,मूत्रकच्छ,बाजीकरण,आभ्यंतर रक्तस्त्राव,गर्भस्थापक,ह्रदयशोथहर, दर्दनाशक,शक्तिवर्धक

२१.शिग्नु :::::

व्रणरोपक,पूयमय व्रण,अर्श, व्रण शोथ

______________________________________________________________________________________________________

२२.मुलेठी :: Glycyrrihize glabra

रासायनिक संरचना ::

Glycyrrihine,Isoliquiritin,Liquirin,starch, Glucose,Asparagine


उपयोग ::


कास,अम्लपित्त,रक्तस्त्राव,व्रणरोपण,शरीर की गर्मी मिटाने वाली, बालों के लिए लाभदायक,शोधहर,रसायन,बल प्रदान करने वाला

______________________________________________________________________________________________________

२३.यवानी (अजवाइन) :: Apium graveolans


रासायनिक संरचना ::

Anthoxanthins,Graveobioside,Myristicicaci,Chrysoeriol,


उपयोग ::

शूल,आध्यमान,छर्दी,दीपन

______________________________________________________________________________________________________

२४.हींग (हिंगलु) ::Ferula foetida


रासायनिक संरचना ::

Gum,a-pinene,kamolonol,mogoltadone


उपयोग ::


दीपन,अजीर्ण,उदरशूल,दंतशूल,श्वास में,कृमिहर,दर्द में, बेहोशी में

______________________________________________________________________________________________________

२५.दारूहिद्रा (रसौंत) :: Berberis aristata

रासायनिक संरचना ::

Karachine,Taxilamine,Barberin,Palmatine,Berberrubin,oxypalmatine

उपयोग ::

यकृत विकार, नेत्र रोग,प्रवाहिका,शोथहर,पसीना लाने वाली,

______________________________________________________________________________________________________

२६.शताहवा (सोया) :::::

पाचक,अग्निदीपक,शोथनाशक (बाह्यप्रयोगार्थ)

२७.जातीफल :::::

बालरोग,अतिसार,उदरशूल,कास


______________________________________________________________________________________________________

२८.लाख :: Laccifer lacca

रासायनिक संरचना ::

Lacciferin,Laccitani,a b Tanin


उपयोग ::

हड्डी जोड़ने वाला (संधानक),व्रणरोपक,


______________________________________________________________________________________________________

२९.हाडजोड :: Vitis Quandrangularis

रासायनिक संरचना :: 

Calcium oxalate,Carotene, Vitamin c

उपयोग ::

रक्तसंग्राहक,संधनकार (हड्डी जोड़ने वाला),रोग प्रतिरोधक,


______________________________________________________________________________________________________

३०.जीरा cuminum cuminum

रासायनिक संरचना :: 

Cuminim,Isoimperaorin,Apigenin,oxalic

उपयोग ::

पाचनशक्ति मजबूत करता हैं, दर्दनाशक



______________________________________________________________________________________________________

३१.इलायची ::Elettaria cardamomum

रासायनिक संरचना :: 

Cineole,Turpeniol,Turpenin,Linolin,Cevinine

उपयोग ::

कफनिस्सारक,उत्तेजक, मूत्राशय में जलन को हरने वाली,शरीर की जलन को शांत करती हैं।


______________________________________________________________________________________________________










साभार :::: भारत सरकार के औषधालयों एंव चिकित्सालयों के लिये आवश्यक आयुर्वैदिक औषधियों से)
















टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

SANJIVANI VATI ,CHANDRAPRABHA VATI,SHANKH VATI

१.संजीवनी वटी::-   संजीवनी वटी का वर्णन रामायण में भी मिलता हैं. जब मेघनाथ के साथ युद्ध में लक्ष्मण मूर्छित हुए तो  संजीवनी  बूटी ने लक्ष्मण को पुन: जीवन दिया था शांग्रधर संहिता में वर्णन हैं कि  "वटी संजीवनी नाम्ना संजीवयति मानवम" अर्थात संजीवनी वटी नाना प्रकार के रोगों में मनुष्य का संजीवन करती हैं.आधुनिक शब्दों में यह वटी हमारें बिगड़े मेट़ाबालिज्म को सुदृढ़ करती हैं.तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity)   बढ़ाती हैं. घटक द्रव्य:: विडंग,शुंठी,पीप्पली,हरीतकी,विभीतकी, आमलकी ,वच्च, गिलोय ,शुद्ध भल्लातक,शुद्ध वत्सना उपयोग::- सन्निपातज ज्वर,सर्पदंश,गठिया,श्वास, कास,उच्च कोलेस्ट्रोल, अर्श,मूर्छा,पीलिया,मधुमेह,स्त्री रोग ,भोजन में अरूचि. मात्रा::- वैघकीय परामर्श से Svyas845@gmail.com २.चन्द्रप्रभा वटी::- चन्द्रप्रभेति विख्याता सर्वरोगप्रणाशिनी उपरोक्त श्लोक से स्पष्ट हैं,कि चन्द्रप्रभा वटी समस्त रोगों का शमन करती हैं. घट़क द्रव्य::- कपूर,वच,भू-निम्बू, गिलोय ,देवदारू,हल्दी,अतिविष,दारूहल्दी,

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोकनें वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं

#1.एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं ?  एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन प्रणाली से अभिप्राय यह हैं,कि मृदा उर्वरता को बढ़ानें अथवा बनाए रखनें के लिये पोषक तत्वों के सभी उपलब्ध स्त्रोंतों से मृदा में पोषक तत्वों का इस प्रकार सामंजस्य रखा जाता हैं,जिससे मृदा की भौतिक,रासायनिक और जैविक गुणवत्ता पर हानिकारक प्रभाव डाले बगैर लगातार उच्च आर्थिक उत्पादन लिया जा सकता हैं.   विभिन्न कृषि जलवायु वाले क्षेत्रों में किसी भी फसल या फसल प्रणाली से अनूकूलतम उपज और गुणवत्ता तभी हासिल की जा सकती हैं जब समस्त उपलब्ध साधनों से पौध पौषक तत्वों को प्रदान कर उनका वैग्यानिक प्रबंध किया जाए.एकीकृत पौध पोषक तत्व प्रणाली एक परंपरागत पद्धति हैं. ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// यहाँ भी पढ़े 👇👇👇 विटामिन D के बारें में और अधिक जानियें यहाँ प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना ० तम्बाकू से होनें वाले नुकसान ० कृषि वानिकी क्या हैं ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// #2.एकीकृत पोषक त

karma aur bhagya [ कर्म और भाग्य ]

# 1 कर्म और भाग्य   कर्म आगे और भाग्य पिछे रहता हैं अक्सर लोग कर्म और भाग्य के बारें में चर्चा करतें वक्त अपनें - अपनें जीवन में घट़ित घट़नाओं के आधार पर निष्कर्ष निकालतें हैं,कोई कर्म को श्रेष्ठ मानता हैं,कोई भाग्य को ज़रूरी मानता हैं,तो कोई दोनों के अस्तित्व को आवश्यक मानता हैं.लेकिन क्या जीवन में दोनों का अस्तित्व ज़रूरी हैं ? गीता में श्री कृष्ण अर्जुन को कर्मफल का उपदेश देकर कहतें हैं.     " कर्मण्यें वाधिकारवस्तें मा फलेषु कदाचन " अर्थात मनुष्य सिर्फ कर्म करनें का अधिकारी हैं,फल पर अर्थात परिणाम पर उसका कोई अधिकार नहीं हैं,आगे श्री कृष्ण बतातें हैं,कि यदि मनुष्य कर्म करतें करतें मर  जाता हैं,और इस जन्म में उसे अपनें कर्म का फल प्राप्त नहीं होता तो हमें यह नहीं मानना चाहियें की कर्म व्यर्थ हो गया बल्कि यह कर्म अगले जन्म में भाग्य बनकर लोगों को आश्चर्य में ड़ालता हैं, ]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]][]]]]]][[[[[[[]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]] ● यह भी पढ़े 👇👇👇 ● आत्मविकास के 9 मार्ग ● स्वस्थ सामाजिक जीवन के 3 पीलर

गिलोय के फायदे । GILOY KE FAYDE

  गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोटीन : 2.3

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]  म.प्र.भारत का ह्रदय प्रदेश होनें के साथ - साथ नदी,पहाड़,जंगल,पशु - पक्षी,जीव - जंतुओं के मामलें में देश का अग्रणी राज्य हैं.  river map of mp प्रदेश में बहनें वाली सदानीरा नदीयों ने प्रदेश की मिट्टी को उपजाऊ बनाकर सम्पूर्ण प्रदेश को पोषित और पल्लवित किया हैं.यही कारण हैं कि यह प्रदेश "नदीयों का मायका" उपनाम से प्रसिद्ध हैं. ऐसी ही कुछ महत्वपूर्ण नदियाँ प्रदेश में प्रवाहित होती हैं,जिनकी चर्चा यहाँ प्रासंगिक हैं. #१.नर्मदा नर्मदा म.प्र.की जीवनरेखा कही जाती हैं.इस नदी के कि नारें अनेक  सभ्यताओं ने जन्म लिया . #उद्गम  यह नदी प्रदेश के अमरकंटक जिला अनूपपुर स्थित " विंध्याँचल " की पर्वतमालाओं से निकलती हैं. नर्मदा प्रदेश की सबसे लम्बी नदी हैं,इसकी कुल लम्बाई 1312 किमी हैं. म.प्र.में यह नदी 1077 किमी भू भाग पर बहती हैं.बाकि 161 किलोमीटर गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में बहती हैं. नर्मदा प्रदेश के 15 जिलों से होकर बहती हैं जिनमें शामिल हैं,अनूपपुर,मंड़ला,डिंडोरी,जबलपुर,न

भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र [BHAGVAN SHRI RAM]

 Shri ram #भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र रामायण या रामचरित मानस सेकड़ों वर्षों से आमजनों द्धारा पढ़ी और सुनी जा रही हैं.जिसमें भगवान राम के चरित्र को विस्तारपूर्वक समझाया गया हैं,यदि हम थोड़ा और गहराई में जाकर राम के चरित्र को समझे तो सामाजिक जीवन में आनें वाली कई समस्यओं का उत्तर उनका जीवन देता हैं जैसें ● आत्मविकास के 9 मार्ग #१.आदर्श पुत्र ::: श्री राम भगवान अपने पिता के सबसे आदर्श पुत्र थें, एक ऐसे समय जब पिता उन्हें वनवास जानें के लिये मना कर रहें थें,तब राम ही थे जिन्होनें अपनें पिता दशरथ को सूर्यवंश की परम्परा बताते हुये कहा कि रघुकुल रिती सदा चली आई | प्राण जाई पर वचन न जाई || एक ऐसे समय जब मुश्किल स्वंय पर आ रही हो  पुत्र अपनें कुल की परंपरा का पालन करनें के लिये अपने पिता को  कह रहा हो यह एक आदर्श पुत्र के ही गुण हैं. दूसरा जब कैकयी ने राम को वनवास जानें का कहा तो उन्होनें निसंकोच होकर अपनी सगी माता के समान ही कैकयी की आज्ञा का पालन कर परिवार का  बिखराव होनें से रोका. आज के समय में जब पुत्र अपनें माता - पिता के फैसलों

पारस पीपल के औषधीय गुण

पारस पीपल के औषधीय गुण Paras pipal KE ausdhiy gun ::: पारस पीपल के औषधीय गुण पारस पीपल का  वर्णन ::: पारस पीपल पीपल वृक्ष के समान होता हैं । इसके पत्तें पीपल के पत्तों के समान ही होतें हैं ।पारस पीपल के फूल paras pipal KE phul  भिंड़ी के फूलों के समान घंटाकार और पीलें रंग के होतें हैं । सूखने पर यह फूल गुलाबी रंग के हो जातें हैं इन फूलों में पीला रंग का चिकना द्रव भरा रहता हैं ।  पारस पीपल के  फल paras pipal ke fal खट्टें मिठे और जड़ कसैली होती हैं । पारस पीपल का संस्कृत नाम  पारस पीपल को संस्कृत  में गर्दभांड़, कमंडुलु ,कंदराल ,फलीश ,कपितन और पारिश कहतें हैं।  पारस पीपल का हिन्दी नाम  पारस पीपल को हिन्दी में पारस पीपल ,गजदंड़ ,भेंड़ी और फारस झाड़ के नाम से जाना जाता हैं ।   पारस पीपल का अंग्रजी नाम Paras pipal ka angreji Nam ::: पारस पीपल का अंग्रेजी नाम paras pipal ka angreji nam "Portia tree "हैं । पारस पीपल का लेटिन नाम Paras pipal ka letin Nam ::: पारस पीपल का लेटिन paras pipal ka letin nam नाम Thespesia