सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी क्या हैं ? what is convalescent plasma therpy in hindi

कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी क्या हैं 

What is Convalescent plasma therpy in hindi

प्लाज्मा थैरेपी क्या हैं
convalescent plasma therapy


कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी plasma therapy रोग उपचार की एक पद्धति हैं । जिसमें संक्रामक बीमारी से पूर्ण स्वस्थ हो चुकें व्यक्ति के रक्त से एंटाबाडी निकालकर संक्रामक बीमारी से ग्रसित व्यक्ति के रक्त में प्रतिस्थापित कर उपचार किया जाता हैं ।



"कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी plasma therapy की खोज जर्मन वैज्ञानिक वान बेहरिंग ने की थी । इस पद्धति द्धारा उन्होनें टिटनस और डिप्थीरिया का इलाज किया था" ।



#कोरोना वायरस के उपचार में कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी किस प्रकार मददगार हो सकती हैं ?




लगभग एक शताब्दी पुरानी यह पद्धति फिर से चर्चा में तब आई जब कोरोना वायरस से जूझ रहें पूरे विश्व की सरकारों ने इस पद्धति से कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों का उपचार करनें की अनुमति प्रदान की। भारत का ICMR indian council of medical research भी इस पद्धति से उपचार की अनुमति प्रदान कर चुका हैं ।




कान्वलेसंट प्लाज्मा थैरेपी में कोविड़ 19 बीमारी से पूर्णत : स्वस्थ हो चुके  और दो बार कोरोना वायरस से नेगेटिव व्यक्ति से 14 दिन बाद रक्त लिया जाता हैं । एक व्यक्ति से एक बार में एक यूनिट रक्त लिया जाता हैं। जिसमें 800 एंटीबाडी मोजूद रहतें हैं यह एँटीबाडी चार संक्रामक व्यक्ति को चढायें जातें हैं । 


चूंकि स्वस्थ्य हो चुके व्यक्ति के एँटीबाडी संक्रामक बीमारी से लडकर विजय हो चुके हैं अत: यह एंटीबाडी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति के शरीर में पहुँचकर रोग प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर देतें हैं जिससे बीमारी खत्म हो जाती हैं ।


स्पेनिश फ्लू महामारी के समय एक मेडिकल बुलेटिन में यह दावा किया गया था कि संक्रामक बीमारी से बचे लोगों का प्लाज्मा बीमारी से ग्रसित व्यक्ति को चढ़ानें से मृत्यु दर में 50% कमी की जा सकती हैं ।


सन् 1934 में भी पैनिसिल्विया के बोर्डिंग स्कूल में एक छात्र खसरा से प्रभावित हुआ था जब इसके ब्लड़ सिरम को harvesr करके बोर्डिंग के अन्य 62 छात्रों को चढ़ाया गया तो मात्र तीन छात्रों में ही मामूली  खसरें के लक्षण दिखाई दिये थें ।


कोविड़ 19 के इलाज से पूर्व यह विधि सार्स,मर्स,इबोला और H1N1 बीमारी के उपचार में काम ली जा रही थी । और इन बीमारीयों के उपचार में यह पद्धति बहुत हद तक सफल भी रही लेकिन लगातार अपना स्ट्रेन बदल रहें कोविड़ 19 वायरस से प्रभावित व्यक्ति के उपचार में यह पद्धति कारगर होगी 



इस संबध में न्यूयार्क मेडिकल सेंटर के चीफ मेडिकल आँफिसर डाँ.ब्रूस रीड का मानना हैं कि यह थैरेपी कोविड़ 19 के उपचार में आपातकालीन व्यवस्था के रूप में प्रयोग की जा रही हैं लेकिन इसकी सफलता एक के बाद एक ठीक हो रहे मरीजों की प्रतिशतता के आधार पर ही निर्धारित होगी ।



कोविड 19 के इलाज में प्लाज्मा थैरेपी  के उपयोग के संबध में एक बड़ा प्रश्न यह भी उठ रहा हैं कि चीन में कोरोना वायरस से ठीक हो चुके कई मरीज फिर से कोरोना वायरस से संक्रमित हो  चुकें हैं । तो क्या ऐसे व्यक्ति के एँटीबाडी बीमारी से निपटनें में मददगार होंगें ?


वास्तव में यह गंभीर प्रश्न हैं जिसका उत्तर व्यापक चिकित्सकीय शोध के उपरांत ही दिया जा सकता हैं ।




० कांकायन वटी


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की  आयुर्वेदिक औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसक

पारस पीपल के औषधीय गुण

पारस पीपल के औषधीय गुण Paras pipal KE ausdhiy gun ::: पारस पीपल के औषधीय गुण पारस पीपल का  वर्णन ::: पारस पीपल पीपल वृक्ष के समान होता हैं । इसके पत्तें पीपल के पत्तों के समान ही होतें हैं ।पारस पीपल के फूल paras pipal KE phul  भिंड़ी के फूलों के समान घंटाकार और पीलें रंग के होतें हैं । सूखने पर यह फूल गुलाबी रंग के हो जातें हैं इन फूलों में पीला रंग का चिकना द्रव भरा रहता हैं ।  पारस पीपल के  फल paras pipal ke fal खट्टें मिठे और जड़ कसैली होती हैं । पारस पीपल का संस्कृत नाम  पारस पीपल को संस्कृत  में गर्दभांड़, कमंडुलु ,कंदराल ,फलीश ,कपितन और पारिश कहतें हैं।  पारस पीपल का हिन्दी नाम  पारस पीपल को हिन्दी में पारस पीपल ,गजदंड़ ,भेंड़ी और फारस झाड़ के नाम से जाना जाता हैं ।   पारस पीपल का अंग्रजी नाम Paras pipal ka angreji Nam ::: पारस पीपल का अंग्रेजी नाम paras pipal ka angreji nam "Portia tree "हैं । पारस पीपल का लेटिन नाम Paras pipal ka letin Nam ::: पारस पीपल का लेटिन paras pipal ka letin nam नाम Thespesia