सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Omicron वायरस क्या हैं, Omicron के लक्षण क्या हैं

 Author-healthylifestylehome

प्रश्न 1.Omicron वायरस क्या हैं ?


उत्तर 1. Omicron virus SARS COV -2 यानि कोरोना वायरस का एक म्यूटेशन कर चुका वेरिएंट हैं। W.H.O.के अनुसार Omicron B.1.1.1.529 प्रकार का वेरिएंट हैं। जिसका मतलब हैं यह अन्य दूसरे कोरोनावायरस से बहुत उन्नत वेरिएंट हैं।

Omicron वायरस का प्रथम केस दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर 2021 को मिला था।

B.1.1.1.529 वेरिएंट में 50 प्रकार के म्यूटेशन देखें गए हैं जिसमें से 30 से अधिक म्यूटेशन Omicron वायरस के स्पाइक प्रोटीन यानि वायरस के ऊपर स्थित कांटेदार संरचना में हुए हैं। 

प्रश्न 2. Omicron vs Delta variant में से कौंन ज्यादा खतरनाक हैं ?

उत्तर - विश्व स्वास्थ्य संगठन ने Omicron को Variation of Concern घोषित किया हैं जिसका मतलब हैं कि यह बहुत तेजी से अपने में बदलाव करता हैं। और मौजूदा स्वास्थ्य प्रणाली को चुनौती देता हैं।

 Delta variant की R Value या Reproduction value 6 से 7 के बीच ही हैं जिसका मतलब हैं कि एक डेल्टा वायरस प्रभावित व्यक्ति 6 से 7 व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता हैं।

Omicron virus की R Value 35 से 45 तक पाई गई हैं जिसका मतलब हैं एक Omicron virus प्रभावित व्यक्ति 35 से 45 व्यक्ति को संक्रमित कर सकता हैं।

डेल्टा वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा दी थी जिसमें लाखों लोग मारे गए थे और भारत में दूसरी लहर के लिए यही वायरस उत्तरदायी था। डेल्टा वायरस पर वैक्सीन बहुत प्रभावी साबित हुई है।

जबकि W.H.O.के अनुसार Omicron वायरस पर वैक्सीन का असर नहीं होगा और इसके स्पाइक प्रोटीन शरीर की कोशिकाओं में घुसकर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को चकमा दे सकते हैं। लेकिन इस पर अभी ओर शोध की आवश्यकता है।


Omicron वायरस से अभी तक किसी की मौत नहीं हुई हैं जबकि डेल्टा वायरस से मौत का खतरा Omicron वायरस की तुलना में 133 प्रतिशत ज्यादा हैं, हालांकि इस पर भी अभी विस्तृत शोध की प्रतिक्षा हैं।

Omicron वायरस के संबंध में एक अच्छी बात दुनिया के लिए यह हैं कि इसका पहला केस दक्षिण अफ्रीका में आते ही दुनिया भर के देशों और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसकी रोकथाम के लिए एहतियात कदम उठाना शुरू कर दिया हैं।जो कि डेल्टा वेरिएंट में बहुत देर से उठाए गए थें।

डेल्टा वायरस की तरह Omicron वायरस भी हवा के माध्यम से फैल सकता हैं अर्थात यह भी Airborne वायरस हैं।

डेल्टा वायरस के Receptor binder Protein में मात्र दो तरह के बदलाव पाए गए थे जबकि Omicron वायरस में यह बदलाव 10 प्रकार के हैं। Receptor binding protein ही सबसे पहले मानव कोशिका से चिपक कर संपर्क स्थापित करता हैं।

विशेषज्ञों के मुताबिक डेल्टा वायरस से प्रभावित व्यक्ति Omicron से बहुत कम प्रभावित होगा और साधारण बुखार,हाथ पांवों में दर्द के बाद ठीक हो जाएगा। 
Omicron virus picture,ओमिक्रोन वायरस का चित्र


प्रश्न 3.omicron वायरस के लक्षण क्या हैं ? COVID 19 new variant Omicron symptoms

उत्तर - दक्षिण अफ्रीका में फैले Omicron के कुछ लक्षण बताए हैं जिनके अनुसार Omicron virus symptoms 

1.बुखार आना

2.हाथ पांवों में दर्द

3.सर्दी खांसी होना

4.थकान महसूस होना

यहां उल्लेखनीय हैं कि Omicron virus में डेल्टा वायरस की तरह मुंह का स्वाद और नाक की सूंघने की क्षमता नहीं जाती हैं।

प्रश्न 4.omicron वायरस की जांच क्या विधि हैं ?

उत्तर- Omicron वायरस की जांच Genome sequencing विधि से की जाती हैं। 

यहां उल्लेखनीय हैं कि कोविड की पुष्टि RT PCR विधि से ही की जाती हैं Omicron वायरस का संदेह होने पर Sample Genome sequencing के लिए भेजे जाते हैं।


प्रश्न 5. कोरोना में Genomic sequence पर निगरानी रखने वाले Indian SARS COV 2 Genomics sequencing consortium ने भारत सरकार को Omicron वायरस को फैलने से रोकने की क्या सलाह दी है?

उत्तर - Indian SARS COV 2 Genomics sequencing consortium ने भारत सरकार को निम्न सलाह दी हैं।

1.omicron की पहचान के लिए कोरोना प्रभावित क्षेत्रों में Genome sequencing पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

2.जो लोग Omicron प्रभावित क्षेत्रों से संपर्क में आए हैं उनकी पहचान कर जांच की जानी चाहिए ताकि वायरस के फैलाव को नियंत्रित किया जा सके।

3.देश की जनता सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करें।

4.सरकार 40 साल से अधिक के व्यक्तियों को Covid vaccine booster dose देने का विचार करें।


प्रश्न 6.क्या Omicron वायरस पर मौजूदा वैक्सीन प्रभावी हैं ?

उत्तर - हाल ही में प्रतिष्ठित पत्रिका Lancet में प्रकाशित शोध रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन में हुए शोध में यह पता चला हैं कि कोविशील्ड,फाइजर,नोवा वैक्स, जानसन एंड जानसन,माडर्ना,वल नेवा और क्योरवेक वैक्सीन की दो खुराक लेने वाले व्यक्तियों में  दो से ढाई माह बाद रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ गई। 

जिन लोगों को vaccine booster dose में दी गई उनमें 28 दिन बाद स्पाइक प्रोटीन की मात्रा 1.8 से 32.3 गुना बढ़ गई।

भारत सरकार स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इस बात के अभी कोई सबूत नहीं है कि वर्तमान में लग रही Corona vaccine Omicron varient पर प्रभावी नहीं हैं। 

अतः vaccine अवश्य लगवाएं जिससे बीमारी की गंभीरता कम करने में मदद मिले।


प्रश्न 7.कोरोना वायरस के कुछ महत्वपूर्ण वेरिएंट कौन-कौन से हैं और ये वेरिएंट कब खोजें गए थें ?

उत्तर - 

1.अल्फा वेरिएंट - 18 दिसंबर 2020

2.बीटा वेरिएंट - 18 दिसंबर 2020

3.गामा वेरिएंट - 11 जनवरी 2021

4.लेमड़ा वेरिएंट - 14 जून 2021

5.डेल्टा वेरिएंट - 11 मई 2021

6.म्यू वेरिएंट - 30 अगस्त 2021

7.ओमिक्रोन - 26 नवंबर 2021


प्रश्न 8.डेल्मीक्रोन क्या हैं ?

उत्तर -

डेल्मीक्रोन डेल्टा और ओमिक्रोन से मिलकर बना हैं। भारत सहित अमेरिका,यूरोप, आदि देशों में कोरोनावायरस के डेल्टा और ओमिक्रोन वायरस के केस एक साथ मिल रहें हैं।

विशेषज्ञों ने डेल्टा और ओमिक्रोन को मिलाकर ही कोरोना वायरस के इस नए स्वरूप को डेल्मीक्रोन कहा हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार भारत में कोरोना की तीसरी लहर के लिए यही डेल्मीक्रोन वायरस उत्तरदायी हो सकता हैं।



• कोरोना थर्ड वेव से बचने का तरीका

• निपाह वायरस क्या हैं

• हैप्पी हाइपोक्सिया क्या होता हैं

• डेल्टा प्लस वेरिएंट पर वैक्सीन कितनी प्रभावशाली हैं

• डी डायमर टेस्ट क्या होता हैं

• सिकल सेल एनिमिया


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी