सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मांसपेशियों में दर्द होनें पर क्या उपचार करें

मांसपेशियों में दर्द होनें पर क्या उपचार करें

मीरा एक कामकाजी महिला हैं जो आफिस का काम करने के अलावा चूल्हा चोका भी संभालती हैं। मीरा को हर दूसरे तीसरे दिन मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या हो जाती हैं और ऐसा पिछले दस सालों से हो रहा हैं। 

मीरा ने मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या को कभी भी गंभीरता से नहीं लिया। 

एक दिन मीरा कार चलाकर आफिस जा रही थी कि अचानक पैरों की मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन आ गया और मीरा का पांव कार के ब्रेक को नहीं दबा पाया नतीजा यह हुआ कि मीरा ने अपनी कार आगे चलती हुई बाइक में दे मारी और अब मीरा और बाइक सवार दोनों अस्पताल में भर्ती हैं।


यदि आप भी  मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या को लेकर मीरा की तरह लापरवाह हैं तो सावधान हो जाएं और समस्या बढ़ने से पहले उसे रोक लें

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन क्यों होता हैं

मांसपेशियों में दर्द


 लगातार अधिक शारीरिक श्रम से 

जो लोग बिना ब्रेक लिए बहुत अधिक शारीरिक श्रम करतें हैं उन्हें एक निश्चित समय बाद मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या से गुजरना पड़ता हैं। मजदूर, खड़े खड़े काम करने वाले व्यक्ति, फेक्ट्री में काम करने वालें वर्कर में यह समस्या बहुत अधिक होती हैं।

शरीर में पानी की कमी

जो लोग अपनी शारीरिक जरूरतों के मुताबिक पर्याप्त पानी नहीं पीतें हैं उनकी मांसपेशियां डिहाइड्रेट हो जाती हैं फलस्वरूप मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या पैदा हो जाती हैं।

बहुत अधिक वर्कआउट

जो लोग जिम में जाइन करते ही बहुत अधिक व्यायाम करना शुरू कर देतें हैं उन्हें मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या शुरू हो जाती हैं। बहुत अधिक स्ट्रैचिंग करने से मांसपेशियों का दर्द स्थाई रूप ले लेता है।

विटामिन और खनिज पदार्थों की शरीर में कमी

शरीर में कुछ जरूरी विटामिन जैसे बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन सी, विटामिन ई, खनिज पदार्थों जैसे सोडियम, पोटेशियम आदि की कमी हो जाती हैं तो मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन शुरू हो जाता हैं।  

किमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी के बाद

जिन लोगों को कैंसर उपचार के लिए किमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी चल रही हैं उन्हें मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या हो जाती हैं।

टिटनेस का टीका नहीं लगाना

जिन लोगों को चोंट लगी थीं और उन्होंने एक बार भी टिटनेस का टीका नहीं लगवाया उन लोगों में मांसपेशियों में दर्द और खिंचाव की समस्या बहुत पाई जाती हैं। 

• बच्चों का टीकाकरण चार्ट 💉


मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने पर क्या करें


मल्टी विटामिन और खनिज पदार्थों का सेवन करें

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या होनें पर बिना देरी किए मल्टी विटामिन और खनिज पदार्थों का सेवन चालू कर दें। अनार, पपीता,सेब, दूध, दही,छाछ,और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन आपकी मांसपेशियों को वे सभी जरूरी विटामिन और खनिज पदार्थ उपलब्ध कराएगा जिसकी जरूरत आपकी मांसपेशियों को हैं।

पानी भरपूर पीएं

यदि आप अधिक शारीरिक श्रम करतें हो, खिलाड़ी हो,और आपके यहां का वातावरण उमस और गर्मी वाला हो तो आपको अधिक पानी पीना चाहिए। दिनभर में पन्द्रह से बीस गिलास पानी के अलावा आपको नारियल पानी भी समय समय पर पीना चाहिए।

नारियल पानी उपलब्ध न‌ हो तो सप्ताह में एक दो बार ORS या नमक शक्कर का खोल बनाकर भी लें सकतें हैं। लेकिन जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या है वे ORS लेनें से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य करें।

मांसपेशियों की मालिश करें

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने पर नारियल तेल, सरसों तेल या तिल के तेल में से किसी एक तेल को हल्का गर्म कर मालिश कर सकतें हैं और गर्म कपड़े से सिकाई कर सकतें हैं।
तेल की मालिश करने से मांसपेशियों का रक्तसंचरण सुधरता हैं फलस्वरूप दर्द और ऐंठन में आराम मिलता हैं।

मांसपेशियों की मालिश करने के लिए बाजार में बहुत मसाज उपकरण उपलब्ध हैं जिनकी सहायता से आप बहुत बेहतर रिजल्ट प्राप्त कर सकते हैं।

आइस पेक से सिंकाई

मांसपेशियों के दर्द और ऐंठन में आइस पेक से सिंकाई बहुत राहत प्रदान करती हैं। बर्फ सूजनग्रस्त मांसपेशियों और रक्त नलिकाओं का सूजन कम करके दर्द से राहत प्रदान करती हैं।


मांसपेशियों और शरीर को आराम दें

यदि आप कोई काम कर रहे हो या ड्राइविंग कर रहे हो ऐसे समय पर मांसपेशियों में ऐंठन होने पर काम और ड्राइविंग रोक दें और हल्के हाथों से मांसपेशियों को दबाकर थपथपाएं ऐसा करने से मांसपेशियों को आराम मिलेगा। 

शरीर में खिंचाव महसूस होने पर अपने काम से कुछ समय ब्रेक लें और शरीर को ढीला छोड़ दें ऐसा करने से शरीर आरामदायक स्थिति में पहुंच जाएगा।

तनाव न लें

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने में तनाव का बहुत बड़ा योगदान होता हैं। तनाव लेने से शरीर की मांसपेशियां खिंचाव पैदा होता हैं। अतः जितना हो सके तनाव लेने से बचें।

शराब तम्बाकू और धूम्रपान से दूर रहें

यदि मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की शिकायत हैं तो शराब, धूम्रपान और तम्बाकू का सेवन बिल्कुल त्याग दें क्योंकि ये सब मांसपेशियों में से तरल पदार्थ कम कर शरीर से बाहर निकाल देतें हैं फलस्वरूप मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या स्थाई हो जाती हैं।

पर्याप्त नींद लें

सामान्यत: आठ घंटे की नींद शरीर को रिलेक्स करने के लिए पर्याप्त मानी जाती हैं इससे कम नींद लेने से मस्तिष्क और मांसपेशियों में खिंचाव महसूस होगा और जिन लोगों को मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या हैं उनकी समस्या ओर गंभीर हो सकती हैं।

मसल्स बनाने के लिए सप्लीमेंट ले रहें हैं तो डायटिशियन की सलाह लें

कुछ लोग बिना डायटिशियन की सलाह के मसल्स बनाने हेतू सप्लीमेंट लेते हैं । ऐसे लोग जब सप्लीमेंट बंद कर देते हैं तो मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन शुरू हो जाता हैं। अतः सप्लीमेंट लेने से पहले डायटिशियन से सलाह कर डोज का निर्धारण कर लें ताकि बाद में मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या से परेशान न होना पड़े।

लम्बें समय तक एक ही पोजीशन में न रहें

आप कम्प्यूटर के सामने बैठकर काम कर रहें हों,लम्बी ड्राइव पर हो तो बीच में कुछ समय रूककर इधर उधर टहले ऐसा करने से शरीर का रक्त संचार ठीक बना रहेगा और मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या नहीं होगी। 

स्विमिंग करें

जिन लोगों को मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या रहती हैं यदि वे नियमित रूप से स्विमिंग करें तो मांसपेशियों में लचीलापन बढ़ता हैं,और मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या में राहत मिलती हैं।

• मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने पर धतूरे का प्रयोग कैसे करें यहां जानें

स्पाइनल स्ट्रोक क्या होता हैं

रीढ़ की हड्डी में दर्द खत्म करने की नई तकनीक

• जल के अचूक फायदे

• यूरिया साइकिल डिसआर्डर क्या होता हैं

• सिकल सेल एनिमिया

• शिलाजीत के फायदे

•9 नेचुरल सुपरफूड फार हेल्दी वेजाइना

• न्यूट्रेला वेट गेन पतंजलि के फायदे

लेखक✍️ healthylifestyehome

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह