सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

द्राक्षारिष्ट के फायदे [DRAKSHARISHTA KE FAYDE]

 द्राक्षारिष्ट के फायदे [DRAKSHARISHTA KE FAYDE]

 

आयुर्वेद चिकित्सा ग्रंथों में द्राक्ष यानि किशमिश का चिकित्सकीय उपयोग विस्तारपूर्वक बताया गया हैं । द्राक्ष से बनने वाली औषधि "द्राक्षारिष्ट" एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि हैं आईये जानतें हैं द्राक्षारिष्ट के फायदे के  बारें में





द्राक्षारिष्ट के घटक Draksharishta content :



द्राक्षारिष्ट के फायदे Draksharishta ke fayde
द्राक्षारिष्ट


                              

1.द्राक्षा (मुनुक्का).- ( Vitis vinifera)



2.परियांगु - (callicarpa macrophylla)


3.लोंग (piper longum)


4.सौंठ (Zingiber officinale)


5.पीपली ()


6.वायविडंग (Embelia ribes)


7.धायफूल (Woodfordia fruticosa)


8.इलायची


9.नागकेशर


10.गुड़ 




० द्राक्षारिष्ट के फायदे



द्राक्षारिष्ट के फायदे बताते हुए आयुर्वेद ग्रंथों में लिखा हैं 


तृष्णादाहज्वर श्वासरक्तपित्तक्षतक्षयान।वात्तपित्तमुदावर्तस्वरभेदंमदात्यम्।।तिक्तास्यतामास्यशोषंकाशच्चाशुव्यपोहति।मृद्धीकाबृंहणीवृष्यामधुरस्निग्धशीतला।।




 द्राक्ष या मुनुक्का प्यास,जलन,बुखार,श्वास,दूषित रक्त,चोंट,वातपित्त,स्वरभेद,खाँसी,क्षय को नष्ट करता हैं । यह शरीर के लिए पुष्टिकारक वीर्य की वृद्धि करने वाला,मधुर, स्निग्ध और शीतल होता हैं।


एक अन्य ग्रंथ में द्राक्ष का वर्णन करतें हुए लिखा हैं


उर:क्षतंक्षयं हन्ति कासश्वासगलामयान्।द्राक्षाअरिष्ठाह्रय:प्रोक्तो बलकृन्मलशोधन।।



सुश्रुतसंहिता में द्राक्षा के बारें में लिखा हैं



परूषकद्राक्षाकट्फलदाडिमराजद नकतकफलक शाक फलाने त्रिफलाचेति ।तेषां द्राक्षा सरा सावरिया मधुरास्निग्धशीतला।।रक्तपित्तज्वरश्वासतृष्णादाहक्षयापहा।।


 


इस प्रकार द्राक्षारिष्ट के फायदे निम्न प्रकार हैं




1.श्वास में द्राक्षारिष्ट का सेवन बहुत फायदेमंद होता हैं।


2.खाँसी में 


3.न्यूमोनिया में


4.बुखार में,


5.पेट संबधित विकारों जैसें पेटदर्द, कब्ज आदि में


6.भूख कम लगना,


7.अर्श में,


8.मूत्र रूकावट में,


9.बाजीकरण कारक


द्राक्षारिष्ट में एंटीआक्सीडेंट़ और बैक्टेरिया गुण भी पाए जातें हैं ।



उपयोग विधि



12 से 24 मिलीलीटर दिन में दो बार समान मात्रा में जल मिलाकर



द्राक्षा फल के बारें में जानकारी



द्राक्षा या किशमिश अँगूर को सुखाकर बनने वाला एक प्रकार का ड्रायफ्रूट हैं । जब यह कच्चा होता हैं तो हरा और पकनें पर बैंगनी रंग का होता हैं । 

आयुर्वेदिक फार्मोकोपिया आफ इंडिया के अनुसार द्राक्षा फल में पाए जानें वाले प्रमुख घटक


1.फारेन मैटर - 2%


2.टोटल एश - 3%


3.अल्कोहल साल्यूबल एक्सट्रेट -25%


4.वाटर साल्यूबल एक्सट्रेट - 70%





द्राक्षा के प्रकार



निघंटु प्रकास में द्राक्षा के कई प्रकारों का वर्णन किया गया हैं जैसें


1.पक्व द्राक्षा


2.अपक्व द्राक्षा


3.लघु द्राक्षा


4.गो स्तनी द्राक्षा


5.पर्वतज द्राक्षा


6.काली द्राक्षा


7.मधुर द्राक्षा







० लोध्रासव के फायदे




# द्राक्षासव [Drakshasava]


द्राक्षासव के घटक द्रव


1.द्राक्षा

2.शहद

3.धायफूल

4.जायफल

5.लौंग

6.कंसोल

7.जल

8.गुड़

9.श्वेत चंदन

10.पिप्पली

11.दालचीनी

12.इलायची

13.तेजपत्ता


रोगाधिकार


1.अर्श [Piles]


3.भोजन में अरूचि

4.पीलिया

5.पेट संबधी रोगों में

6.बुखार में

7.सूजन में


सेवन मात्रा


12 से 24 मिलीलीटर बराबर मात्रा में जल के साथ ,दिन में दो बार भोजन के बाद या चिकित्सकीय निर्देशानुसार


० नीम के औषधीय गुण






टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट