सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शिलाजित।SHILAJIT HERBAL CORTICOSTEROID

शिलाजित::-


शिलाजित हिमालय,तिब्बत और काकेसस पहाड़ी के 1000 से 5000 मीट़र ऊँचाई पर पायी जानें वाली दुर्लभ औषधि हैं.यह औषधि चट्टानों पर पायी जाती हैं.इसका रंग धूसर काला से लगाकर हल्का पीलापन लियें होता हैं, गर्मीयों में यह औषधि चट्टानों से पिघलकर गिरती रहती हैं. हमारें रिषी मुनियों ने पाँच हजार वर्ष पूर्व से ही इसकी महत्ता को प्रमाणित करते हुये लिखा हैं


शिलाजं कटु तिक्तोष्णं कटुपाकं रसायनम् छेदि योगवहं हन्ति कफमे हाश्मशर्करा मूत्रकृच्छ छयं श्वासं वाताशार्सि च पाण्डुताम् अपस्मारं तथोन्मादं शोथकुषटोदरक्रिमीन.

 

घट़क द्रव्य::


शिलाजित का मुख्य घट़क फिलविक एसिड़ हैं,इसके अलावा इसमें ह्यूमिक एसिड़, फास्पोलिपिड़, पाँलीफिनोल समूह, अनेक खनिज़ पदार्थ विटामिन ए,बी,सी,और पी पाया जाता हैं.इसके अलावा गोण खनिज़ पदार्थ जैसे कोबाल्ट,निकल,कापर,जिंक,मेंगनिज़,और लोह तत्व प्रचुरता में पाये जातें हैं.

शिलाजीत के फायदे ::-


चायना आज खेल दुनिया की महाशक्ति हैं इसके पिछे उनकी कठोर मेहनत के अलावा शिलाजित का भी महत्वपूर्ण योगदान हैं.और चायना ने आज तक इस बात को राज़ बनाकर रखा हैं ।

,प्रतिवर्ष कई क्विंटल शिलाजित तिब्बत से चीनी खेल सँस्थानों के होस्टलो मे भेजा जाता हैं,जँहा से ये खिलाड़ियों के रोज़ की खुराक में सम्मिलित होता हैं.आईयें जानतें हैं इसके उपयोग


१.यदि तीन से दस ग्राम शिलाजित को प्रतिदिन गाय के दूध के साथ किसी खिलाड़ी को दिया जावें तो इस बात में कोई संन्देह नहीं कि वह खिलाड़ी अपनी विधा में सर्वोच्च प्रदर्शन करेगा.


२. शिलाजित बेहतरीन उम्ररोधी औषधि हैं, शरीर पर यदि उम्र का प्रभाव कम करना हो तो पुर्ननवा के साथ इसका सेवन करें चमत्कारिक परिणाम मिलेगें.

३.पुरूष नपुसंकता, वीर्य में शुक्राणु की कमी,शुक्राणु विक्रति में इसे कोंच बीज,बबूल फल चूर्ण के साथ सेवन करें.

४.स्त्रीयों से सम्बंधित समस्या जैसे श्वेत प्रदर, अंड़ाणु का कम बनना,रक्त प्रदर में परंपरागत औषधियों के साथ सेवन करवानें से लाभ कई गुना बढ़ जाता हैं.

५. शिलाजित एक बेहतरीन antiinflammatory औषधि हैं. यदि इसे तीन ग्राम प्रतिदिन गर्म जल के साथ सेवन करवाते हैं, तो केसा भी सूजन हो समाप्त हो जावेगा.

६.इसके सेवन से ब्लड़ प्रेशर,कोलेस्ट्रोल नियत्रिंत रहता हैं.
७.हड्डीयों से सम्बंधित समस्यों जैसे arthritis, fracture, में इसका सेवन परंपरागत औषधियों के साथ करें लाभ कई गुना बढ़ जावेगा.

८.मूत्रविकारों जैसे बहुमूत्रता, प्रोस्टेट का बढ़ना में इसक सेवन लाभदायक हैं.


९.किड़नी, लीवर की कार्यप्रणाली को शिलाजित मज़बूत बनाता हैं.
वास्तव में शिलाजित की विशेषता के बारें मे ये उदाहरण भर है यदि विस्तारपूर्वक कहा जावें तो सही अनुपात, सही मात्रा में दिया जाये तो यह हर मर्ज़ की दवा हैं.

लेखक : डाक्टर पी.के.व्यास
   बीएएमएस, आयुर्वेद रत्न


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह