सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

NUTRELA WEIGHT GAIN PATANJALI KE FAYDE, NUKSAN AUR REVIEW

NUTRELA WEIGHT GAIN PATANJALI KE FAYDE NUKSAN AUR REVIEW


Nutrela weight gain patanjali इस श्रृंखला में आज हम NUTRELA WEIGHT GAIN KE FAYDE AUR NUKSAN की चर्चा करेंगे

1.NUTRELA WEIGHT GAIN 

पतंजलि आयुर्वेद का न्यूट्रेला वेट गेन दुबले पतले लोगों और बाडी बिल्डिंग के इच्छुक ऐसे व्यक्तियों को ध्यान में रखकर बनाया गया हैं जो पूर्णतः शाकाहारी तरीके से वजन बढ़ाना और बाडी बिल्डिंग करना चाहते हैं।
NUTRELA WEIGHT GAIN PATANJALI
न्यूट्रेला वेट गेन


2.NUTRELA WEIGHT GAIN INGREDIENTS 

1.Soya protein isolate ke fayde

न्यूट्रेला वेट गेन पावडर में सोया प्रोटीन आइसोलेट होता हैं यह प्रोटीन सोयाबीन से निकाला जाता हैं पूर्णतः शाकाहारी होता हैं और सबसे उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन होता हैं।

सोया प्रोटीन न्यूट्रेला वेट गेन में क्यों मिला होता हैं यदि इसके स्वास्थ्य लाभ की बात करें तो पता चलता है कि

• रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार सोया प्रोटीन हड्डियों को मजबूत बनाता हैं जिससे मांसपेशियां मजबूत होकर लम्बे समय तक मजबूत बनी रहती हैं।

• सोया प्रोटीन शरीर के हार्मोन संतुलन को सही रखने के साथ शरीर के क्रियाकलाप को व्यवस्थित रखता हैं।

• सोया प्रोटीन में ब्रांच चेन एमीनो एसिड होते हैं जो हमारा शरीर नहीं बना पाता यह एमीनो एसिड मांसपेशियों के लिए महत्वपूर्ण होता हैं , NUTRELA WEIGHT GAIN लेने से मांसपेशी बहुत तेजी से विकसित होती हैं।

• हेल्थ लाइन वेबसाइट के अनुसार यदि सोया प्रोटीन को दूध के साथ मिलाकर लिया जाए तो यह तेजी से मांसपेशियों को मजबूत करता हैं।

• न्यूट्रेला वेट गेन में मौजूद सोया प्रोटीन LDL CHOLESTEROL को कम करता हैं और HDL CHOLESTEROL को बढ़ाता हैं फलस्वरूप ह्रदय का स्वास्थ्य बेहतर होता हैं। जबकि दूसरे weight gain supplement में LDL CHOLESTEROL बढ़ता हैं।

• Body building के दौरान ब्रेस्ट के आसपास की मसल्स तेजी से बढ़ती हैं और कई लोग ब्रेस्ट कैंसर की आशंकाएं होने लगती हैं,शोध रिपोर्ट के अनुसार सोया प्रोटीन ब्रेस्ट कैंसर की संभावना को कम करता हैं।

• सोया प्रोटीन से सभी एलर्जिक पदार्थ बाहर निकाल दिए जाते हैं अतः ऐसे लोग जो सोया से एलर्जी वाले होते हैं वह भी आसानी से सोया प्रोटीन लें सकते हैं।

• सोया प्रोटीन में मौजूद एमीनो एसिड बहुत शीघ्रता से हमारे शरीर द्वारा ऊर्जा में बदल दिए जाते हैं जिससे व्यक्ति को ताकत एहसास होता हैं और वह शारीरिक व्यायाम के समय थका हुआ महसूस नहीं करता हैं।

2.whey Protein Concentrate ke fayde


• whey Protein दूध से पनीर बनाने की प्रक्रिया के दौरान निकाला जाता हैं।

• NUTRELA WEIGHT GAIN में मौजूद whey protein वे लोग भी ले सकते हैं जिन्हें लेक्टोस से एलर्जी होती हैं।

• न्यूट्रेला वेट गेन में मौजूद whey Protein में 9 तरह के आवश्यक एमीनो एसिड होते हैं जो वजन बढ़ाने में सहायक होते हैं।

• इंटरनेशनल जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स न्यूट्रीशन में प्रकाशित शोध के अनुसार जिन खिलाड़ियों ने अपनी ट्रेनिंग के दौरान whey Protein का सेवन किया था उनकी मांसपेशियों में ताकत और मजबूरी थी। 

• whey Protein फेफड़ों की कार्यप्रणाली में उल्लेखनीय सुधार करता है, whey Protein लेने के बाद व्यक्ति  अधिक देर तक सांस रोककर रखने में सक्षम होता हैं।

• जानी मानी हेल्थ वेबसाइट हेल्थ लाइन के अनुसार whey Protein में ब्रांच चेन एमीनो एसिड जिसे leucine कहते हैं मौजूद होता हैं जो मांसपेशियों को बढ़ाने वाला सबसे महत्वपूर्ण एमीनो एसिड हैं। यह एमीनो एसिड बढ़ती उम्र के कारण हो रही मांसपेशियों की कमजोरी और उनके क्षरण को रोकता हैं।

• whey protein में angiotensin converting enzyme inhibitors (ACE inhibitors) होता हैं यह पदार्थ उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता हैं, अतः उन खेलों में जहां मस्तिष्क शांत और संयमित रखना होता हैं के लिए भी NUTRELA WEIGHT GAIN बहुत फायदेमंद हैं।
Trusted Source

3.Calcium Caseinates ke fayde


Calcium Caseinates एक प्रकार का मिल्क प्रोटीन है जो दूध के रंग को सफेद बनाता हैं।गाय के दूध में 80 प्रतिशत तक केसिन पाया जाता हैं।

• कैल्शियम केसिनेट शरीर में धीरे धीरे पाचन होता हैं जिस वजह से मांसपेशियों में लगातार वृद्धि होती हैं और एक बार मसल्स बन जाने के बाद लम्बे समय तक बनी रहती हैं।

• कैल्शियम केसिनेट मांसपेशियों के टूटन को रोकता हैं इसलिए इसे Anti catabolic प्रोटीन कहते हैं।

• Calcium Caseinate हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए अति उत्तम माना जाता हैं जो हड्डियों को Osteoporosis से बचाता हैं।

4.Minerals 0.4 %

1.फास्फोरस 

फास्फोरस हड्डियों और दांतों के क्षरण को रोकता हैं। यह हड्डियों के ऊतकों को मजबूत और सघन बनाता है।

2.पोटेशियम 

पोटेशियम मांसपेशियों में खिंचाव को रोकता हैं जो बाड़ी बिल्डिंग के समय पैदा होने वाली एक सामान्य समस्या है।

3.जिंक 

जिंक शरीर की प्राकृतिक रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखता हैं।

जिंक शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बनने की प्रक्रिया में मदद करता हैं, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन मजबूत मांसपेशियों और सुगठित शरीर के लिए बहुत आवश्यक हैं।

4.ट्राइ कैल्सियम फास्फेट

ट्राई कैल्शियम फास्फेट हड्डियों के संगठन के लिए आवश्यक हैं।

5.मैग्निशियम 

मैग्नीशियम ऊर्जा उत्पादन में मदद करता हैं शरीर को बेहतर ऊर्जा मिलने से शरीर चुस्त दुरुस्त और सक्रिय रहता हैं।

6.फेरस फ्यूमारेट 

फेरस फ्यूमारेट शरीर की आक्सीजन धारण करने की क्षमता बढ़ाता हैं और खून की कमी को दूर करता हैं।

7.मैंगनीज 

मैंगनीज शरीर की रासायनिक प्रक्रियाओं के सुचारू संचालन के लिए आवश्यक होता हैं।

8.कापर 

कापर या तांबा शरीर की कोशिकाओं को समय से पहले क्षरण होने से बचाता हैं।

9.आयोडीन 

आयोडीन शरीर के मेटाबॉलिज्म रेट को नियंत्रित करता हैं जिससे शरीर दुबला या अधिक मोटा होने से बचा रहता हैं।

10.सेलेनियम 

सेलेनियम एंटी आक्सीडेंट प्रकृति का होता हैं और यह मांसपेशियों की कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाता हैं।

11.मालिब्डैनम 

मालिब्डैनम अत्यंत सूक्ष्म तत्व हैं जो हमारे शरीर में टाक्सिन बनने से रोकता हैं।

12.क्रोमियम 

क्रोमियम शरीर में ग्लूकोज लेवल संतुलित रखने में मदद करता हैं ताकि मांसपेशियों में अधिक ग्लूकोज लेक्टिक एसिड़ में परिवर्तित न हों।

5.Dry date powder [सूखा खजूर पावडर]


• NUTRELA WEIGHT GAIN KE FAYDE में महत्वपूर्ण योगदान है सूखे खजूर का, इसमें मौजूद सूखा खजूर पावडर ऊर्जा से भरपूर होता हैं। 100 ग्राम सूखे खजूर पावडर में 377 किलो कैलोरी ऊर्जा होती हैं जो वजन बढ़ाने और बाड़ी बिल्डिंग के लिए आवश्यक हैं।

• खजूर फायबर से भरपूर होता हैं जिससे पेट में भारीपन और कसरत करने के बाद पेट में दर्द नहीं होता हैं।

• खजूर में किडनी की सेहत को बनाए रखने वाले आवश्यक तत्व मौजूद होते हैं अतः खजूर प्रोटीन की अधिकता के कारण किडनी को होने वाली अनावश्यक क्षति को रोकता हैं।

6.Patal kohda, विदारीकन्द के फायदे

• Nutrela weight gain में मौजूद विदारीकन्द मांसपेशियों में रक्त का प्रवाह बढ़ाता
 हैं जिससे मांसपेशियां उभरी हुई और छाती चौड़ी दिखाई देती हैं।

• पाताल कोहड़ा या विदारीकन्द ठंडी प्रकृति का होता हैं जिससे शरीर में कसरत के बाद होने वाली गर्माहट कम हो जाती हैं।

7.Mahameda 


• Nutrela weight gain में मौजूद महामेदा शारीरिक ताकत को बढ़ाता हैं।

• महामेदा प्रकृति में भारी होने से वज़न बढ़ाने में मदद करती हैं।

8.शतावर के फायदे

• शतावरी में मौजूद Saponin त्वचा के कोलोजन को टूटने से रोकता हैं जिससे त्वचा चमकदार,और नई बनी रहती हैं और मांसपेशियां जल्दी बूढ़ी नहीं होती हैं।

• शतावरी महिलाओं के हार्मोन असंतुलन को ठीक कर महिलाओं की शारीरिक वृद्धि सुनिश्चित करता हैं।

• शतावर‌ ब्रेस्ट के आसपास की मांसपेशियों का विकास करता हैं जिससे ब्रेस्ट सुडोल और आकर्षक दिखाई देते हैं।

9.कंदमूल

• कंदमूल में पर्याप्त मात्रा में स्टार्च होता हैं जो शरीर की ऊर्जा आवश्यकता की पूर्ति करता हैं।

• कंदमूल हिमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाता हैं।

10.lilium polyphylum,क्षीर काकोली के फायदे

• क्षीर काकोली एक प्राकृतिक स्टेराइड होता हैं जो शरीर की ताकत,जोश और बाड़ी मसल्स को बढ़ाता हैं।

• क्षीर काकोली प्रकृति में भारी होता हैं इससे वजन बढ़ता है।

11.बारियारा,Cida Cordifolia

• बारियारा फेफड़ों में सूजन को कम करता है जिससे आक्सीजन धारण करने की क्षमता में वृद्धि होती हैं।

12.मूसली 

• शोध रिपोर्ट के अनुसार मूसली में stigmasterol नामक बायो एक्टिव तत्व होता हैं जो शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर बढ़ाता हैं जिससे शरीर में ताकत, स्फूर्ति मांसपेशियां मजबूत और शरीर गठिला बनता हैं।


• सफेद मूसली में एक अन्य तत्व hecogenin होता हैं जो बाड़ी बिल्डिंग करने वालों के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता हैं, hecogenin मांसपेशियों का विकास करता है। 

• सफेद मूसली में प्रोटीन, विटामिन, खनिज तत्व प्रचुरता से पाए जाते हैं जिससे यह कुपोषण दूर करती है।

13.kawach, कौंच

• कौंच बीज में मौजूद प्रोटीन,एंटी आक्सीडेंट, विटामिन शरीर के बूढ़ा होने की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं जिससे शरीर लम्बे समय तक गठिला और मजबूत बना रहता हैं।

• कौंच बीज में कैल्शियम, फास्फोरस मौजूद होने से हड्डियों की सघनता बढ़ती हैं और व्यक्ति ज्यादा लम्बा,वजनी और आकर्षक दिखाई देता हैं।

14.अश्वगंधा 

• Nutella weight gain में मौजूद अश्वगंधा खिलाड़ी की शारीरिक क्षमता में वृद्धि करता हैं और शरीर की आक्सीजन धारण करने की क्षमता बढ़ाता हैं।

• शोध रिपोर्ट के अनुसार अश्वगंधा तनाव कम कर गुणवत्ता पूर्ण नींद लाने में मदद करता हैं जिससे व्यक्ति तन,मन से स्वस्थ्य महसूस करता हैं।

15.खांड 


16.इमल्सिफायर (INS 415)

Ins 415 Xantham gum हैं जो पावडर को मोटा और लम्बें समय तक उपयोगी बनाए रखता हैं।

17.Ridhi 

18.gendi

19.विटामिन‌ ए 

20.विटामिन बी 1

21.विटामिन बी 2

22.विटामिन बी 3

23.विटामिन बी 5

24.विटामिन बी 6

25.विटामिन बी 7

26.विटामिन बी 12

27.spinach bio fermanted extract powder ke fayde

पालक को सुखाकर बनाया गया पावडर प्रोटीन,फायबर, विटामिन और एंटी आक्सीडेंट का बहुत उत्तम स्त्रोत होता हैं। जिससे शरीर में आवश्यक तत्वों की पूर्ति हो जाती हैं।

28.Rose hip extract powder

Rose hip extract powder स्वाद बढ़ाने और Nutella weight gain powder को रुचिकर बनाने के लिए मिलाया जाता हैं।

29.Shitake mushroom extract powder (bio fermanted)

मशरूम पावडर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर शरीर को पोषण प्रदान करता हैं। यह थकावट दूर करता हैं।

30.विटामिन k 2 (mk7)

विटामिन के 2 mk 7 osteocalcin नामक प्रोटीन को सक्रिय करता हैं यह प्रोटीन कैल्शियम को हड्डियों तक ले जाता हैं जिससे हड्डियां मजबूत बनती हैं।

31. L- glutamine 0.3%

L - glutamine पेट की समस्याओं जैसे पेट दर्द,IBS, कब्ज आदि को नियंत्रित करता हैं जो कि Nutella weight gain powder लेने से पैदा हो सकती हैं।

Nutella weight gain powder nutritional information


Nutella weight gain nutritional information



NUTELLA WEIGHT GAIN KE NUKSAN


• न्यूट्रेला वेट गेन सोयाबीन से निर्मित होता हैं अतः जिन लोगों को सोयाबीन से एलर्जी हैं उन्हें यह उत्पाद एलर्जी पैदा कर सकता हैं।

• इसमें दूध पावडर भी प्रचुरता से पाया जाता हैं अतः जिन्हें एलर्जी हैं उन्हें न्यूट्रेला वेट गेन से एलर्जी हो सकती हैं।

• कुछ लोगों को NUTRELA WEIGHT GAIN लेने से पेटदर्द, उल्टी,जी मिचलाना,गैस बनना और बार बार दस्त लगने जैसी समस्या पैदा हो जाती हैं।

• न्यूट्रेला वेट गेन में प्रोटीन बहुतायत में होता है अतः जिन लोगों को किडनी की बीमारी, प्रोस्टेट की समस्या होती हैं वह इसके सेवन से पूर्व वैधकीय सलाह अवश्य लें।

• जो लोग पहले से कोई हेल्थ सप्लीमेंट ले रहे हैं उन्हें न्यूट्रेला वेट गेन लेने से पूर्व वैधकीय सलाह अवश्य लेना चाहिए।


 न्यूट्रेला वेट गेन लेने का सही तरीका क्या हैं

न्यूट्रेला वेट गेन से बेहतर परिणाम के लिए इसे प्रतिदिन सुबह शाम दूध के साथ मिलाकर लेना चाहिए।

उदाहरण के लिए 

• दुबले पतले बच्चों के लिए 15 ग्राम Nutrela weight gain एक गिलास दूध और एक केले के साथ मिलाकर सुबह शाम पीना चाहिए।

• दुबले पतले वयस्क पुरुष को 60 ग्राम Nutrela weight gain दो केले और एक गिलास फुल क्रीम दूध के साथ सुबह शाम लेना चाहिए।

• दुबली पतली वयस्क महिलाओं को 30 ग्राम Nutrela weight gain एक केले और एक गिलास फुल क्रीम दूध के साथ मिलाकर सुबह और शाम को लेना चाहिए।

• खिलाड़ियों को 90 ग्राम NUTRELA WEIGHT GAIN दो केले और एक गिलास फुल क्रीम दूध के साथ मिलाकर दो से तीन समय लेना चाहिए।

NUTRELA WEIGHT GAIN REVIEW

√ न्यूट्रेला वेट पतंजलि का बेस्ट प्रोडक्ट हैं, गुणवत्ता के दृष्टिकोण से देखा जाए तो इससे आयुर्वेद के वह सभी तत्व मौजूद हैं जो वजन बढ़ाने और बाड़ी बिल्डिंग के लिए आवश्यक हैं।

√ सबसे अच्छी बात यह उत्पाद पूर्णतः शाकाहारी हैं और इसमें किसी भी प्रकार के जन्तु उत्पाद को सम्मिलित नहीं किया गया हैं।

√ स्वाद के मामले में भी पतंजलि आयुर्वेद रिसर्च ने कोई समझौता नहीं किया हैं और NUTRELA WEIGHT GAIN बच्चों से लगाकर बड़ों तक को पसंद आता हैं।

√ न्यूट्रेला वेट गेन में मौजूद आयुर्वेदिक मेडिसिन शरीर में खराब कोलस्ट्रॉल नहीं बढ़ने देते हैं जबकि अन्य दूसरे वेट गेन पावडर में बेड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का खतरा रहता हैं।

√ NUTRELA WEIGHT GAIN खिलाड़ियों के लिए भी आदर्श हैं क्योंकि यह WORLD ANTI DOPING AGENCY और नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी के मुताबिक बनाया गया हैं।

√ न्यूट्रेला वेट गेन में एक कमी भी मेरे दृष्टिकोण से विद्यमान है और वह यह कि यदि इसे खिलाड़ियों के दृष्टिकोण से बनाया गया हैं तो इसमें शिलाजीत को भी डालना चाहिए था। 

अंत में यही कहना चाहूंगा कि NUTRELA WEIGHT GAIN भारत में निर्मित बेहतरीन उत्पाद हैं जो अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में भी अपनी जगह बनाने में सक्षम हैं।

NUTRELA WEIGHT GAIN PRICE


495 रुपए प्रति 500 ग्राम


सन्दर्भ 
www.wenmd.com
www.healthline.com
www.wikipedia.com
चरक संहिता
भावप्रकाश निघंटु

Author

Dr.S.K.VYAS 

NUTEROPATH, DIPLOMA IN AYURVEDIC PHARMACY


अन्य पतंजलि उत्पाद के बारे में पढ़ें 👇





अन्य पढ़ें 👇







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह