सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वात-पित्त-कफ प्रकृति के लक्षण कैसे होते हैं vat pitt kaf prakriti ke laxan

 वात-पित्त-कफ प्रकृति के लक्षण vat pitt kaf prakriti ke laxan

वात-पित्त-कफ प्रकृति
वात-पित्त-कफ प्रकृति 




आयुर्वेद चिकित्सा त्रिदोष सिद्धांत के आधार पर रोगी का उपचार करती हैं ,इस त्रिदोष सिद्धांत के अनुसार मनुष्य के शरीर में वात पित्त और कफ के असंतुलन की वजह से बीमारियां उत्पन्न होती हैं । आईए जानते हैं वात पित्त और कफ प्रकृति के लक्षण




वात प्रकृति के लक्षण


वातस्तुरूक्षलघुचलबहुशीघ्रशीतपरुषविशदस्तस्यरौक्ष्याद्धातलारूक्षापचिताल्पशरीरा:प्रततरूक्षक्षामभिन्नसक्तजर्जरस्वराजागरुकाश्चभवन्तिलघुत्वाच्चलघुचपलगतिचेष्टाहारविहारा:चलत्वादनवस्थितसन्ध्यक्षिभ्रूहन्वाष्ठजिहाशिर:स्कन्धपाणिपादा:बहुत्वाइहुप्रलापकण्डराशिराप्रताना:शीघ्रत्वाच्छीघ्रसमारम्भक्षोभविकारा:शीघ्रोत्रासरागविरागा:श्रुतग्राहिण:अल्पस्मृतयश्चशैत्याच्छीतासहिष्णव:प्रततशीतकोद्धैपकस्तम्भा:पारूष्यात्परूषकेशष्मश्रुरोमनखदसनवदनपाणिपादाग्डावैशघात्स्फुटिताग्डावयवा:सततसन्धिशब्दगामिनश्चभवन्ति तऍवगुणयोगाद्धातला:परायेणाल्प्पबलाश्चल्पापत्याश्वाल्पसाधनाश्वाधन्याश्चधन्याश्च ।।



श्लोक के अनुसार वात प्रकृति वायु (Air) या आकाश से संबंधित हैं । वायु का स्वभाव हल्का,रूखा,चल,बहुल, शीघ्र,शीत पुरुष और विश्व गुण वाला होता हैं । वात प्रकृति मनुष्य का शरीर वायु के समान ,दुबला पतला और रूखा सा रहता हैं । वात प्रकृति के व्यक्तियों की आवाज़ तेज होती हैं वे जल्दी जल्दी बोलते हैं, और थोड़ी जर्जर  होती हैं ।



वात प्रकृति के लोगों में नींद का अभाव होता हैं अर्थात इन्हें नींद कम आती है । वात प्रकृति होने के कारण ये फुर्तीले, वाचाल,और कम भोजन करने वाले होते हैं ।


वात प्रकृति के कारण इनके शरीर के जोड़,हड्डीयां,हाथ पांव सिर ताकतवर नहीं होतें हैं और ये फड़कते अधिक है । इन्हें अवसाद, बातों को भूलना जैसी बीमारी अधिक होती हैं। इनके मन में वैरागपन अधिक आता हैं । 



वात प्रकृति के व्यक्ति में वात के शीत गुण हो तो वे शीघ्रता से ठंड को ग्रहण कर लेते हैं ऐसे व्यक्ति को शरीर में कंपकंपी अधिक होती हैं । यदि वात के कठोर गुण होते हैं तो ऐसे व्यक्ति के बाल,रोम, नाखून, दांत, मुंह,हाथ, पांव कठोर होते हैं ।



वात प्रकृति के व्यक्ति बहुत अच्छे धावक,तैराक,और ऐसे खेलों में निपुण होते हैं जहां ताकत से ज्यादा फुर्ती की ज़रूरत होती हैं ।





पित्त प्रकृति के लक्षण




पित्तमुष्णंतीक्ष्णंद्रवंविस्नमम्लंकटुकश्च।तस्यौष्णायातपित्तलाभवन्तिउष्णासहा:शुष्कसुकुमारावदातगात्रा:प्रभूतपिल्पुव्यहतिलकपिडका:क्षुत्पिपासावन्त:क्षिप्रवलीपलितखालित्यदोषा:।प्रायोमृद्धल्पकपिलश्मश्रुलोमकेशा:तैक्ष्ण्यात्तीक्ष्णपराक्रमा:तीक्ष्णाग्नय:प्रभूताशनपाना:क्लेशसहिष्णवोदन्दशूका:द्रवत्वाच्छिथिलमृदुसन्धिबन्धमांसा:प्रभूतसृष्टस्वेदमूत्रपुरीषाश्चविस्नत्वात।प्रभूतपूतिवक्ष:कक्षस्कन्धास्यशिर:शरीरगन्धा:कटुम्लत्वादल्पशुक्रव्यवायापत्या: ।तयवंणुणयोगात्पित्तलामध्बलामध्यायुषोमध्यज्ञानविज्ञानवित्तोपकरणवन्तश्चभवन्ति।।




आयुर्वेद ग्रंथों में पित्त प्रकृति के व्यक्तियों वर्णन करते हुए कहा गया है कि पित्त प्रकृति का व्यक्ति स्वभाव में गुस्सैल प्रकृति का,तेज और जल्दी ही उत्तेजित होने वाला होता हैं । ऐसे व्यक्तियों को गर्मी सहन नहीं होती हैं । 



रोगों की बात करें तो ऐसे व्यक्तियों को खुजली होना,असमय बाल सफेद होना , गंजापन जैसी समस्या अधिक होती हैं । 




पित्त के अधिक गुण होने से ऐसे व्यक्ति पराक्रमी होते हैं, ये अधिक भोजन और जल ग्रहण करने वाले होते हैं । और अधिक अन्न खाने के बाद शीघ्रता से पचाने वाले होते हैं । इन्हें मल मूत्र और पसीना बहुत अधिक आता हैं ।


पित्त प्रकृति के व्यक्ति बुद्धिमान, एकाग्रता से कार्यों को संपन्न करने वाले और न्यायप्रिय होते हैं । ऐसे व्यक्ति





कफ प्रकृति के लक्षण



श्लेेष्मा्मााहििस्नि्नििग्ध्धश्लक्ष्णमृदुमधुरसारसान्द्रमंदस्तिमितगुरूशीतविज्जलाच्छ:अस्यस्नेहाच्छेष्मला:स्निग्धाग्डा:श्लक्ष्णत्वाच्छक्ष्णाग्डा:मृदुत्वादृष्टिसुखसुकुमारावदातशरीरा:माधुर्य्यात्परभूतशुक्रव्यवायापत्या:सारत्वात सारसंहतस्थिरशशीरासान्द्रत्वादुपचितपरिपूर्णसर्वगात्रा:मन्दत्वान्मन्दचेष्टाहारविहारा:स्तैमित्यादशीघ्रारम्भक्षोभविकारा:गुरूत्वात्साराधिष्ठितगतय:शैत्यादल्पक्षुतृष्णासन्तापस्वेददोषा:विज्जलत्वातसुश्लिष्टसारबन्धसन्धाना:तथाच्छत्वात्प्रसन्नदर्शनाननना:प्रसन्नस्निग्धवर्णस्वरश्चभवन्ति।तयेवंगुणयोगाचष्मलाबलवन्तोवसुमन्तोविधावन्तऒजस्विन:शान्ताआयुष्मन्तश्चभवन्ति



कफ प्रकृति का व्यक्ति शीतल प्रकृति का स्वभाव में शांतचित्त और बलवान होता हैं । कफ प्रकृति के शीतल होने से कफ प्रकृति का व्यक्ति शीत जनित रोगों से आसानी से ग्रस्त हो जाता हैं । ऐसे व्यक्ति तनाव को आसानी से झेल लेते हैं और बहुत अच्छे नेतृत्वकर्ता होते हैं।


कफ प्रकृति के व्यक्तियों की आवाज़ भारी, गंभीर और स्पष्ट होती हैं । कफ प्रकृति के व्यक्ति निशानेबाज, पहलवान, शतरंज तथा ऐसे खेल जिसमें धैर्य और ताकत के संतुलन की जरूरत होती हैं के उत्तम खिलाड़ी होते हैं।



आयुर्वेद चिकित्सा ग्रन्थों में इन्हीं तीनों प्रकृतियों के आधार पर रोगों की परीक्षा कर किसी विशेष प्रकृति के असंतुलन का निर्णय किया जाता हैं । वात पित्त और कफ के असंतुलन या साम्यावस्था का निर्णय नाडी परीक्षा द्वारा किया जाता हैं। कुशल वैध नाड़ी पकड़ कर तुरंत ही निर्णय कर लेते हैं कि रोगी में किस प्रकृति का असंतुलन हैं। 





० हर्ड इम्यूनिटी क्या है



० सर्दीयों में खानपान कैसा होना चाहिए





आयुर्वेद मतानुसार ज्वर के प्रकार






टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट