सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ASHWAGANDHA । अश्वगंधा के फायदे। indian ginseng

अश्वगंधा



अश्वगंधा आयुर्वैद चिकित्सा में सेकड़ों वर्षों से अपना अनुपम स्थान रखता आया हैं,और वर्तमान समय में भी आधुनिक चिकित्सा शास्त्रीयों से लेकर अनुसंधान अघ्येताओं ने इसे महत्वपूर्ण बल्य ( strength) रसायन माना हैं .इसका  बायोलाजिकल नाम    withania somnifera हैं. यह ज़मीन मे कन्द रूप में मिलता हैं.


अश्वगंधा पौधा
 अश्वगंधा 




दंशोमणि वाल्मिक इसके बारे में लिखते हैं-:
   
   गन्धान्ता वाजिनामादिरश्वगन्धा हयाहर्या 
             वराहकर्णी वरदा बलदाकुष्ठगन्धिनी
            अश्वगंधानिलश्लेष्मश्विशोधगयापहा.
             बल्या रसायनी तिक्ता कषाग्रोष्णतिशुकला.



अर्थात सार रूप में स्वाद में कषाय तिक्त( bitter) यह बल,बुद्धि, बाजीकरण देने वाला,शोथ और कुष्ठ को हरने वाला हैं.


अश्वगंधा के फायदे




१.मानसिक तनाव होनें पर अश्वगंधा चूर्ण को एक चम्मच सुबह शाम शहद के साथ सेवन करें.



२. यदि शारिरीक सम्बंधों में कमी महसूस हो तो गोघ्रत के साथ सेवन करें.


३.गठिया वात में योगराज गुग्गल के साथ सम भाग मिलाकर अदरक रस के साथ सेवन करें.


४.चर्म रोगों में हल्दी के साथ एक-एक चम्मच मिलाकर लें.


५.माहवारी के समय कमर व पेडू में दर्द हो तो एक चम्मच चूर्ण को गोघ्रत से लें.


६.वीर्य में शुक्राणु की कमी होनें ( spermotorrhoe) पर बबूल बीज सम भाग लेकर दूध के साथ सेवन करें.


७. स्मरण शक्ति कम होनें पर ब्राम्ही वटी के साथ लें.


९. बुखार के बाद की कमज़ोरी में मांस रस के साथ सेवन करें.


१०.अश्वगंधा चूर्ण को मिश्री के साथ मिलाकर लेनें से मोतियाबिंद से बचाव होता है ्््््््््््््््््््््््््््््््््््््््््््््््््।


११.अश्वगंधा में पाये जानें वाला फ्लेवोनाइड़ मस्तिष्क रोगों में बहुत फायदा करता हैं ।

० अरहर के औषधीय प्रयोग


० नीम के औषधीय उपयोग



० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण



कैशोर गुग्गुल,त्रयोदशांग गुग्गुल



वास्तव में अश्वगंधा हर प्रकार के रोगों में चिकित्सको द्वारा उपयोग किया जाता हैं और इसके परिणाम भी चिकित्सको की प्रतिष्ठा को बढ़ाता हैं.परन्तु यह देखनें मे आ रहा है कि कई लोग इसके नाम पर नकली अश्वगंधा चूर्ण बनाकर लोगों को बेवकूफ बनाते हैं ,अत: अश्वगंधा लेते समय इसकी प्रामाणिकता की जाँच आवश्यक रूप से कर लें. 






आयुष रिसर्च टास्क फोर्स का मानना हैं कि अश्वगंधा में  मोजूद तत्व शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मज़बूत करता हैं जिससे कोरोना वायरस जैसी महामारी से निपटनें में मदद मिल सकती हैं ।
कोविड 19 का उपचार
 अश्वगंधा



टास्क फोर्स के चेयरमेन और साइंस जर्नल में प्रकाशित शोध के सह लेखक भूषण पटवर्धन का कहना हैं कि



" 25 सालों से कियें जा रहें अध्ययनों का  निष्कर्ष हैं कि अश्वगंधा,शतावरी,गुडुची,यष्टीमधु और आमलकी में यह क्षमता हैं कि यह औषधीयाँ कोविड़  - 19 जैसी वायरस जनित बीमारीयों के विरूद्ध शरीर को एक मज़बूत प्रतिरक्षा प्रणाली  प्रदान कर सकती हैं "


 डाँ .भूषण पटवर्धन जो कि यू.जी.सी.के वाइस चेयरमेन भी हैं ने आगे बताया कि अश्वगंधा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करतें हुये शोधजनित बीमारी जैसें Rhumetoid arthritis में हाइड्राक्सीक्लोरोक्विन HCQ के समान फायदा पहुँचाता हैं । 



एक तरफ  हाइड्राक्सीक्लोरोक्विन  के लगातार प्रयोग के अपनी तरह के कई दुृष्प्रभाव हैं जबकि अश्वगंधा पूर्णत : प्राकृतिक  और  हानिरहित औषधि हैं ।


साइंस जर्नल में  प्रकाशित  पत्र के सह लेखकों ने भी अपनें शोध में यही बात प्रस्तुत की हैं कि यष्टीमधु,शतावरी,आमलकी और गुडुची भी कोरोना वायरस के विरूद्ध शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मज़बूत करती हैं ।




शोध
 Research 




अश्वगंधा के गुणों के बारें में जब हमनें उज्जैन जिले के आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी     "डाँ.ओ.पी.पालीवाल" से बात की तो उन्होनें भी बताया कि 



"अश्वगंधा में सोमनिफेरन ,विटानिओल,वासिमिन, हेन्ट्रीकानटेन,फाइटोस्टेराल ,अमीनों एसिड़ और आवश्यक तेल होतें हैं जो  शरीर के तंत्रिका तंत्र को मज़बूत करतें हैं और अंतत : यह मजबूत तंत्रिका तंत्र शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं । जिससे वायरस जनित बीमारियों से शरीर की रक्षा होती हैं "




आधुनिक शोध के अतिरिक्त प्राचीन आयुर्वेद चिकित्सा ग्रंथ भी अश्वगंधा के बारें बहुत कुछ कहतें हैं जैसें एक जगह लिखा हैं ।




गन्धान्ता वाजिनामादिरअश्वगंधा हयाहर्या।अश्वगंधाअनिलश्लेष्मश्वित्रशोथज्ञयापहा।बल्या रसायनी तिक्ता कषाग्रोष्णाअतिशुकला  ।।


अश्वगंधा बल देने वाला शोधहर के अतिरिक्त रसायन भी हैं । जो मानसिक शाँति प्रदाता के साथ शरीर की उपापचय क्रियाओं को नियमित और संतुलित करता हैं ।


• न्यूट्रेला वेट गेन के फायदे और साइड इफेक्ट्स




















टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी