सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

PATANJALI LIPIDOM KE FAYDE,SIDE EFFECTS

PATANJALI LIPIDOM KE FAYDE SIDE EFFECTS

पतंजलि LIPIDOM दिव्य फार्मेसी हरिद्वार और पतंजलि आयुर्वेद का उत्पाद हैं।

पतंजलि आयुर्वेद के अनुसार LIPIDOM, पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट के टेस्ट में पूरी तरह से प्रमाणित औषधी हैं।


PATANJALI LIPIDOM INGREDIENTS

पतंजलि लिपीडोम में निम्नलिखित आयुर्वेदिक तत्व पाएं जातें हैं

1.अर्जुन छाल चूर्ण (Terminalia Arjuna)


3.लौकी

4.दालचीनी (Cinnamomum zeylanicim)

5.गुग्गुल (Commiphora mukul)
LIPIDOM, PATANJALI LIPIDOM, पतंजलि लिपीडोम


Other Ingredients


1.Croscarmellose Sodium

2.बबूल गोंद

3.पावडर (Talcum)


PATANJALI LIPIDOM KE FAYDE


1. PATANJALI LIPIDOM में मौजूद अर्जुन छाल आयुर्वेद में ह्रदय रोगियों के लिए बहुत उत्तम टानिक की तरह काम करता हैं।

2.अर्जुन छाल में Arjuneic acid,Glycosides acid और Beta - Sistosterol प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

3.अर्जुन छाल ह्रदय की असामान्य धड़कन को नियंत्रित करता हैं।

4.अर्जुन छाल ह्रदय की धमनियों में कोलेस्ट्रोल के जमाव को नियंत्रित कर खून को पतला करता हैं।

5.LIPIDOM में मौजूद अर्जुन छाल मस्तिष्क को शांत रखकर Cardiovascular Stress को कम करता हैं जिससे उच्च रक्तचाप नियंत्रित रहता हैं।

6.LIPIDOM में मौजूद अर्जुन छाल विटामिन ए ई के समान एन्टीआक्सीडेंट गुण दर्शाता हैं जिससे शरीर स्वस्थ्य रहता हैं।

7.LIPIDOM में मौजूद अर्जुन छाल में Beta- Sistosterol Metabolism Rate को बढ़ाता हैं जिससे कोलेस्ट्रॉल कम होकर शरीर का फेट कम होता हैं।

8.आयुर्वेद चिकित्सा में लहसुन खून को पतला करने वाला, कोलेस्ट्रॉल कम करने वाला और त्वचा संबंधी विकारों में बहुतायत से प्रयोग किया जाता हैं।

9.लहसुन रक्त नलिकाओं को फैला देता हैं जिससे शरीर और ह्रदय की धमनियों में खून आसानी से बिना रुकावट के घूमता हैं।

10.LIPIDOM में मौजूद दालचीनी में Eugenol,Cinamaldehyde,Cinnazelamine, Camphor जैसे रासायनिक तत्व पाए जातें हैं।

11.दालचीनी में मौजूद ये रासायनिक तत्व शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाते हैं जिससे मधुमेह नियंत्रण रहता हैं फलस्वरूप ह्रदय की कार्यप्रणाली सुचारू बनी रहती हैं।

12.LIPIDOM में मौजूद लौकी में विटामिन और खनिज तत्व प्रचुरता से मिलते हैं इसमें मौजूद मैग्नीशियम टैकीकार्डिया नियंत्रित करता हैं।

13.लौकी ह्रदय की धड़कन को नियमित करती हैं।

14.LIPIDOME में गुग्गुल में Oleoresin, Z-guggulsterone,E-guggulsterone,Gum-guggullignas,Guggulu tetrols पाएं जातें हैं।

15. गुग्गुल में मौजूद Oleoresin मस्तिष्क को शांत रखता हैं।

16.गुग्गुल में मौजूद अन्य तत्व जैसे guggulsterone Hyperlipidemia में बहुत उपयोगी मानें जातें हैं।

17.गुग्गुल आयुर्वेद में शरीर को Detoxification करने में प्रयोग किया जाता हैं इसके उपयोग से शरीर की अशुद्धियां बाहर निकल जाती हैं।

PATANJALI LIPIDOM PRICE

पतंजलि लिपीडोम के 60 गोली वाले एक पेट की कीमत 300 रुपए हैं।

Patanjali lipidom online buy के लिए आप पतंजलि आयुर्वेद के वेबसाइट, अमेजान और फ्लिपकार्ट पर जा सकते हैं।

LIPDOME KE SIDE EFFECTS

पतंजलि लिपीडोम पूर्णतः आयुर्वेदिक औषधि हैं । आमतौर पर आयुर्वेद औषधियां हानिकारक प्रभावों से मुक्त होती हैं। किंतु LIPIDOM के उपयोग से पूर्व आयुर्वेद चिकित्सक से परामर्श अवश्य करें।

PATANJALI LIPIDOM DOSAGES

एक गोली सुबह शाम भोजन के बाद गुनगुने जल या शहद के साथ या चिकित्सक के परामर्श से सेवन करें।



लेखक: डाक्टर पी.के.व्यास
      बीएएमएस, आयुर्वेद रत्न











टिप्पणियाँ

बेनामी ने कहा…
Very nice information
Devyansh ने कहा…
Bahut badhiya jankari hai
विजय वर्मा ने कहा…
Croscarmellose Sodium यह कौन सी एलोपैथी मेडिसिन है जिसका उल्लेख लिपीडोम के निर्माण में किया गया है, इसके साइड इफेक्ट्स क्या हैं
Healthy Lifestyle news ने कहा…
वर्मा जी Croscarmellose Sodium से गोली का बेस बनता है , इसके सीमित मात्रा में कोई साइड इफेक्ट नहीं है।यह तत्व अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से अप्रूव हैं और स्टार्च से बनता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी