सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के फायदे और रिव्यू

PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाले शेम्पू उत्पाद में से एक हैं जो कि पतंजलि आयुर्वेद के सबसे महत्वपूर्ण उत्पादों में से एक हैं।
PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO, पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू
केश कांति शेम्पू


पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू आयुर्वेदिक औषधि हैं किन्तु यह बिना किसी चिकित्सकीय परामर्श के खरीदा जानें वाला उत्पाद हैं।

तो आईए जानतें हैं पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के के फायदे और उसमें मौजूद तत्वों के फायदे के बारें में

PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR SHAMPOO INGREDIENTS AUR PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO KE FAYDE


1.रीठा Sapindus trifoliatus 


पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर शेम्पू के 10 ml शेम्पू में 5 मिली ग्राम रीठा फल होता हैं।

• रीठा में में serotonin नामक एक नेचुरल न्यूरो ट्रांसमीटर तत्व पाया जाता हैं जो मस्तिष्क की कोशिकाओं की मालिश करता हैं। मस्तिष्क को शांत रखता है।

• रीठा सिर की त्वचा में खुजली पैदा करने वाले तत्वों को नियंत्रित करता हैं।

• रीठा में मौजूद Zymosan वर्षों से वैज्ञानिक शोधों में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण प्रदर्शित करने वाला सिद्ध हुआ है। यह सिर की त्वचा पर डेंड्रफ की परत जमने रोकता हैं।

• रीठा में Cynolipid नामक तत्व मौजूद रहता हैं जो सिर की जुएं मार देता हैं।

• रीठा में oleic acid मौजूद रहता हैं जो फैटी एसिड होता हैं यह बालों को पोषण प्रदान करता हैं और रुखे बाल को चमकदार बनाता हैं।

• रीठा में histamine रासायनिक तत्व मौजूद होता हैं जो सिर में खून का प्रवाह बढ़ाता है जिससे बालों की कोशिकाओं की उम्र लम्बी होती हैं।

• रीठा में एक अन्य तत्व Carrageen मौजूद होता हैं जो सिर में मौजूद डेंड्रफ की मोटी परत को घटाकर उसे समाप्त कर देता हैं। 

• रीठा में Arachidic acid पाया जाता हैं जो टूटे बालों को पुनः नया कर देता हैं और उनको बढ़ाता है।

2.आंवला Emblica Officinalis नन


पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू 10 Ml शेम्पू में 5 मिली ग्राम आंवला फल होता हैं।

• आंवला में प्रोटीन बहुतायत में पाया जाता हैं हमारे बाल भी प्रोटीन से बने होते हैं अतः बालों के विकास हेतु प्रोटीन आवश्यक हैं जो पतंजलि केश कांति शेम्पू में पाया जाता हैं।

• आंवला में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता हैं जो बालो के प्रोटीन कोलोजन के निर्माण में मददगार होता हैं जिससे बाल टूटने और झड़ने से बचें रहते हैं।

3.भृंगराज Ecilpta Alba 


भृंगराज आयुर्वेद चिकित्सा में प्राचीन काल से बालों को लम्बा,घना, चमकदार और काला बनाने के लिए उपयोग किया जा रहा हैं। पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के फायदे में भृंगराज का महत्वपूर्ण योगदान हैं ‌‌।

• भृंगराज में विटामिन ई प्रचुरता से पाया जाता हैं जो बालों की जड़ों को पोषण प्रदान करता हैं जिससे बाल असमय सफेद नहीं होते हैं।

• भृंगराज में आर्गेनिक केमिकल Wedelolactone पाया जाता हैं यह तत्व एंटी कैंसर गुण दर्शाता हैं जो सिर की त्वचा पर जमने वाली पपड़ी को बनने से रोकता हैं।

• भृंगराज में मौजूद Eclalbasaponins एंटी माइक्रोबियल गुणधर्म वाला तत्व है जो सिर में जुएं‌ पैदा नहीं होने देता।


•भृंगराज में Ursolic acid नामका फाइटोकेमिकल पाया जाता हैं जो बालों को मोटा बनाता हैं।

• भृंगराज में मौजूद Oleanolic acid एप्लोसिया को नियंत्रित करता हैं। और नष्ट हो चुके hair follicles का पुनर्निर्माण करता हैं।

• भृंगराज में मौजूद luteolin एंटी हिस्टामाइन गुण दर्शाता हैं जिससे सिर में खुजली और एलर्जी नियंत्रित होती हैं।

• भृंगराज में apigenin होता हैं जो मस्तिष्क को शांति प्रदान करता हैं।और मस्तिष्क का भारीपन कम कर देता हैं।


4.हिना [मेंहदी] Lawsonia Inermis


हिना या मेंहदी हजारों वर्षों से प्राचीन आयुर्वेद चिकित्सा में औषधि के रूप में प्रयोग की जा रही हैं।

पतंजलि केश कांति शेम्पू के 10 ml भाग में 5 मिली ग्राम मेंहदी पत्ते मिले होते हैं।

• हिना में lawsone नामक तत्व मौजूद रहता हैं जो सिर की त्वचा और बाल को सूर्य की पराबैंगनी किरणों से सुरक्षा प्रदान करता हैं।

• हिना में मौजूद agrimonolide बायो एक्टिव तत्व है जो सिरदर्द और तनाव को समाप्त कर मस्तिष्क को शांत रखता है।

• मेंहदी के पत्तों में 2- hydroxy -1,4-naphthoquinone तत्व मौजूद रहता है जो मेंहदी को त्वचा के संपर्क में आने पर लाल रंग प्रदान करता हैं यह तत्व बालों को चमकदार और मुलायम भी बनाता हैं।


5.शिकाकाई Acacia Concinna


• केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के 10 एमएल में 5 मिलीग्राम शिकाकाई के फल मिले रहते हैं।

• शिकाकाई बालों की सफाई के लिए प्राचीन काल से उपयोग हो रहा है यह बालों और सिर की त्वचा में जमें धूल, मिट्टी की बहुत अच्छी तरह सफाई करता हैं। 

• शिकाकाई में मौजूद saponin नामक बायो केमिकल साबुन की तरह झाग पैदा करता हैं जिससे बालों और त्वचा पर छिपे बैक्टीरिया साफ हो जातें हैं।

6.नीम Azadirachta Indica

पतंजलि केश कांति शेम्पू के 10 एम एल में 5 मिली ग्राम नीम की पत्तियों का रस मिला होता हैं। पतंजलि नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के फायदे में नीम महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

• नीम की पत्तियों में Azadirachtin नामक बायो केमिकल होता हैं जो एंटी फंगल, एंटी बेक्टेरियल होता हैं जो सिर की जुएं,किल्लियों और सिर की त्वचा के संक्रमण को समाप्त कर देता हैं।

• आयुर्वेद में नीम की पत्तियों की प्रकृति शीतल मानी गई हैं जो सिर में ठंडक पहुंचाती हैं।

• नीम की पत्तियों में Azadirone  नाम का बायो एक्टिव तत्व होता हैं यह तत्व Tetracycline नामक एंटी बायोटिक के समान गुणधर्म प्रदर्शित करता हैं जिससे सिर में सभी प्रकार का संक्रमण समाप्त हो जाता हैं।

7.तुलसी Ocimum Sanctum


पतंजलि केश कांति शेम्पू में 5 मिली ग्राम तुलसी पत्र होता हैं।

• तुलसी में मौजूद Eugenol oil मौजूद होता हैं जो मस्तिष्क को अपनी विशेष गंध से शांत और तनावमुक्त रखता है।

• पतंजलि केश कांति शेम्पू में मौजूद तुलसी पत्र Urosolic acid बालों को मोटा बनाता हैं।

• तुलसी में Caryophyllene मौजूद होता हैं जो एंटी स्ट्रैस एजेंट माना जाता हैं। 

• तुलसी में मौजूद Apigenin तत्व सिर की त्वचा को Relax करता हैं।

• तुलसी में मौजूद Luteolin स्मरण शक्ति बढ़ाता है।

8.बाकुची Psoralea corylifolia 

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के 10 एमएल में 5 मिली ग्राम बाकुची के बीज होते हैं।

• बाकुची में Raffinose होता हैं जो त्वचा को माश्चर और स्मूद बनाता हैं।

• तुलसी में Isopsoralen होता हैं जो सिर की त्वचा से खुजली कम करता हैं।

9.हल्दी Curcuma longa

पतंजलि केश कांति शेम्पू के 10 एमएल में 5 मिली ग्राम हल्दी मिली रहती हैं।

• हल्दी में curcumin oil होता हैं जो बालों की जड़ों को मजबूत करने के साथ क्षतिग्रस्त बालों की जड़ों की मरम्मत करता हैं।

10.गिलोय Tinospora cordifolia 

केश कांति शेम्पू में 5 मिली ग्राम गिलोय का तना मिला होता हैं।

• गिलोय बालों को नरम मुलायम और असमय सफेद होने से बचाता हैं।

• गिलोय बालों को चमकदार और काले रखता हैं।

11.घृतकुमारी Aloe barbadensis

केश कांति शेम्पू में 5 मिली ग्राम ऐलोवेरा का गुदा मिला होता हैं।

• ऐलोवेरा बालों को झड़ने से बचाता हैं।

• ऐलोवेरा जेल में Mallic Acid मौजूद रहता हैं जो सिर की त्वचा और बालों के रूखेपन को समाप्त करता हैं।

• ऐलोवेरा बालों के नेचुरल शेम्पू होता हैं।


12.आमा हल्दी Curcuma amada

पतंजलि केश कांति शेम्पू के 10 एमएल में 5 मिली ग्राम आमा हल्दी होती हैं।

• आमा हल्दी भी हल्दी की तरह सिर की त्वचा को स्वस्थ्य रखती हैं।

Base Ingredients

• Aqua

• Surfactant base

• Vitamin E

• Sun Flower Seed helianthus annuus  

पतंजलि केश कांति शेम्पू में सूर्यमुखी बीज का उपयोग किया गया है सूर्यमुखी बीज में सूर्यमुखी तेल उपस्थित होता हैं जो बालों को घना और काला रखता है।

पतंजलि केश कांति शेम्पू में विटामिन ई अतिरिक्त रुप से मिलाया जाता हैं। विटामिन ई बालों को पोषण प्रदान करने और बालों के लिए आवश्यक विटामिन हैं।

• diazolidinyl urea and Ipbc

• सुगंधित द्रव्य qs

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के साइड इफेक्ट्स

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू एक आयुर्वेदिक औषधि हैं, आयुर्वेदिक औषधि पूरी तरह से हानिरहित और सुरक्षित होती हैं ‌। किंतु जिन लोगों को त्वचा संबंधी एलर्जी हैं और उन्हें पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू लगाने के बाद सिर में खुजली,चकते, आदि होते हैं वह शेम्पू लगाने से पूर्व अपने डर्मेटोलॉजिस्ट से संपर्क करें।

PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO REVIEW

पतंजलि केश कांति शेम्पू अन्य केमिकल बेस्ड शेम्पू के मुकाबले बहुत अच्छा उत्पाद हैं।

कीमत के दृष्टिकोण से भी पतंजलि केश कांति शेम्पू आपके पैसों की पूरी कीमत वसूल देता हैं।

पतंजलि केश कांति नेचुरल हेयर क्लींजर शेम्पू के एक 5 एम एल पाऊच की कीमत मात्र एक रुपया हैं। इसमें 0.5 एम एल फ्री मिलता है।

PATANJALI KESH KANTI NATURAL HAIR CLEANSER SHAMPOO PRICE

450 ML Bottle price 180 Rs.

How to use

2 से 5 ग्राम धूले हुए बालों पर लगाकर दो मिनट तक मसाज करें और साफ पानी से धो लें।

क्या बालों में रोज रोज शैम्पू लगाना सही है

बालों में शैंपू रोज रोज नहीं लगाना चाहिए रोज रोज शैम्पू लगाने से बाल रुखे और बेजान होकर जल्दी टूटते झड़ते हैं।

बालों में शैंपू सप्ताह में एक बार ही लगाना चाहिए।

• माइग्रेन का होम्योपैथिक उपचार

• पतंजलि दंत कांति टूथपेस्ट vs विको वज्रदंती टूथपेस्ट

• गेरू के औषधीय प्रयोग

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी