सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Narendra Modi Fitness Secret : रोज सुबह उठकर ये काम करते हैं मोदी

Narendra Modi fitness secrets

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उम्र 71 वर्ष हो चुकी हैं लेकिन Narendra Modi Fitness को देखकर यह कोई नहीं बोल सकता कि नरेंद्र मोदी उम्र के 70 वसंत देख चुके हैं।

नरेंद्र मोदी 18 घंटे काम करते हैं और 3 से 4 घंटे सोकर सुबह 5 बजें बिस्तर छोड़ देते हैं।

पिछले साल नरेंद्र मोदी ने विडियो शेयर कर अपनी फिटनेस का राज बताया था तो आईए जानतें हैं NarendraModi Fitness Secret


नरेन्द्र मोदी सुबह कितनी बजें उठते हैं

नरेन्द्र मोदी नियम के सख्त पाबंद हैं वह रात को चाहें कितने बजें सोएं लेकिन सुबह 5 बजें बिस्तर छोड़ देते हैं। ऐसा करने से उनकी Biological Clock शरीर सुबह जल्दी उठने की अभ्यस्त हो गई हैं।

सुबह की ताजी स्वच्छ आक्सीजन उनके शरीर में प्रवेश कर जाती हैं जिससे उन्हें दिनभर की काम करने की ऊर्जा मिलती हैं और दिमाग तरोताजा और मन प्रसन्न रहता हैं।

Narendra Modi Fitness Secret


योगासन

Narendra Modi Yoga को अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा मानते हैं उनका मानना हैं कि सुबह योग करने से उनके जीवन में चमत्कारिक बदलाव आया हैं जब नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब भी वह नियमित योग करतें थे।

सूर्य नमस्कार, कपालभांति, अनुलोम-विलोम, भस्त्रिका प्राणायाम नरेन्द्र मोदी जी की नियमित दिनचर्या का हिस्सा हैं।

प्राणायाम अनुलोम-विलोम भस्त्रिका करने से मोदी जी शांत और संतुलित बनें रहते हैं।

इन योगासन से मोदी जी का शरीर लचीला और निरोगी बना रहता हैं। 

जैसा कि आप जानतें हैं नरेन्द्र मोदी जी सियाचीन में सेना के जवानों के साथ दीपावली मनाने चलें जातें हैं, घंटों की हवाई यात्रा करते हैं लेकिन बिना थकावट के बिना छुट्टी के पुनः अपने काम में लग जाते हैं ऐसा नियमित योगाभ्यास से ही संभव हो पाता है।


 Narendra Modi Fitness Secret पंचतत्व योगासन

पिछले दिनों नरेन्द्र मोदी जी द्वारा सोशल मीडिया पर शेयर विडियो में आपने देखा होगा कि नरेन्द्र मोदी जी ने प्रधानमंत्री आवास में जल, प्रथ्वी, अग्नि,आकाश और वायु का प्रतिनिधित्व करने वाली एक संरचना बनाई हैं।

नरेन्द्र मोदी इस पंचतत्व संरचना में नियमित टहलते हैं ऐसा करने से मोदी जी इन पांच महाभूत तत्वों के साथ अपने मन, शरीर और आत्मा को एकाकार कर पातें हैं।

नरेन्द्र मोदी जी पिछले तीन दशकों से महत्वपूर्ण पदों पर काबिज हैं और इतनें वर्षों के सार्वजनिक जीवन के बावजूद वह बहुत विनम्र स्वभाव के और अपने आपको सृष्टि का एक सूक्ष्म शरीर ही मानते हैं ऐसा प्रतिदिन इन पांच महाभूत से संबंधित रहने के कारण ही संभव हो पाया है।

जब व्यक्ति प्रतिदिन यह सोचता है कि हमारा शरीर प्रथ्वी, जल, अग्नि आकाश और वायु से मिलकर बना हैं और इसी में मिल जाएगा तो व्यक्ति समाज के कितने भी बड़े पद पर हो उसे घमंड छू भी नहीं पाएगा।

नरेन्द्र मोदी जी के आत्मनियंत्रण का कारण भी पंचतत्व योगासन हैं। वह महत्वपूर्ण बैठकों में बहुत कम बोलते हैं और ज्यादा सुनना पसंद करते हैं। इसी कारण उनके निर्णय और फ़ैसले बहुत सटीक और स्पष्ट होते हैं।

एक्यूप्रेशर पाथवे 

नरेन्द्र मोदी जी प्रतिदिन सुबह एक्यूप्रेशर पाथवे पर घूमते हैं ऐसा करने से मोदी जी के सभी Accupressur Point समान दाब से दबते हैं फलस्वरूप तनाव, गुस्सा, रक्तचाप नियंत्रित रहता हैं और उनका शरीर प्रथ्वी पर गुणवत्तापूर्ण जीवन व्यतीत कर रहा है।

प्रकृति के समीप

नरेन्द्र मोदी जी सुबह उठकर मात्र योगासन और सूक्ष्म व्यायाम करके निवृत्त नहीं हो जातें बल्कि वे प्रतिदिन पेड़ पौधों और जीव जन्तुओं के समीप जाकर उनकी देखभाल करते हैं।

ऐसा प्रतिदिन करने से मन में जीवात्मा के प्रति करुणा और प्रेम उपजता है और व्यक्ति का शरीर Oxidative Stress से से मुक्त रहता हैं।

व्यक्ति के शरीर में Oxidative Stress नहीं होने से Lifestyle Disease जैसे मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हार्मोन असंतुलन से मुक्त रहता हैं।


उपवास

Narendra Modi Fitness Secret के पीछे व्यायाम,योगा के साथ उनके द्वारा किए जानें वाले उपवास का भी महत्वपूर्ण योगदान हैं। 

मोदी जी साल में दो बार आनें वाले नवरात्र के नौ दिन बिना कुछ खाए सिर्फ गर्म नींबू पानी पीकर रहते हैं।

ऐसा करने से शरीर का सम्पूर्ण Detoxification हो जाता हैं और शरीर में मौजूद अनियंत्रित कोशिकाओं की वृद्धि रुक जाती हैं। फलस्वरूप शरीर पुनः नव ऊर्जा के साथ जैविक गतिविधियों में संलग्न हो जाता हैं।

ऐसा करने से नरेन्द्र मोदी जी बीमारियों से बचें रहते हैं।

क्या नरेन्द्र मोदी क्या खाते हैं 

Narendra Modi Fitness Secret के पीछे उनके द्वारा किए गए भोजन का महत्वपूर्ण योगदान हैं। मोदी जी बहुत सादा और हल्का भोजन करते हैं।

मोदी जी को गुजराती खिचड़ी,कढी, मशरूम और पराठा बहुत पसंद हैं और इसे वह अपने रात के भोजन में जरूर शामिल करते हैं।

नरेन्द्र मोदी जी को मीठे में ऊंट के दूध से बनी खीर बहुत पसंद हैं। लेकिन इसे भी वह विशेष अवसरों पर ही खाते हैं। इससे उनके शरीर में उतनी शक्कर पंहुचती हैं जो शरीर के लिए आवश्यक हैं।

मोदी जी सुबह अदरक वाली चाय जरूर पीते हैं जिससे शरीर में अनावश्यक कफ जमा न हो और शरीर फुर्तीला रहें।

सुबह के नाश्ते में मोदी जी दही जरूर लेते हैं जिससे उनका पेट सही रहें।

दोपहर के भोजन में भी मोदी जी सब्जी,दाल रोटी और सलाद पसंद करते हैं। जिसमें शरीर को पर्याप्त ऊर्जा और स्वास्थ्य मिलता रहें।


नरेन्द्र मोदी का मानसिक स्वास्थ्य कैसा है

Narendra Modi Mental health बहुत ही उच्च कोटि का हैं। इतने ऊंचे ओहदे पर होने के बावजूद वह बहुत शांत और संतुलित रहते हैं इसके पीछे ऊपर लिखित तत्वों के अलावा उनकी अध्ययनशील प्रवृत्ति का भी बहुत महत्वपूर्ण योगदान हैं।

नरेन्द्र मोदी जी दुनिया के सभी महापुरुषों और आध्यात्मिक गुरुओं की किताब पढ़ते हैं। 

लगातार पढ़ना उनके दिमाग का सर्वांगीण विकास करता हैं जिससे व्यक्ति परिस्थितियों के तुरंत अनूकूल होने की क्षमता पैदा कर लेता है।

आपने देखा होगा मोदी जी बड़ी से बड़ी विपरीत परिस्थितियों में विचलित नहीं होते उसका मुख्य कारण उनकी अध्ययनशील प्रवृत्ति ही हैं।


क्या नरेन्द्र मोदी शाकाहारी हैं

नरेन्द्र मोदी जी पूरी तरह से शाकाहारी हैं वह अपने पेट के लिए किसी निर्दोष जानवरों की बलि देना कतई उचित नहीं मानते हैं।

शाकाहारी भोजन करने के कारण मोदी का शरीर अनावश्यक फैट और अनावश्यक जीव हत्या के तनाव से मुक्त रहता हैं और वह ज्यादा प्रसन्नतापूर्वक जीवन व्यतीत कर रहे हैं।


नरेन्द्र मोदी अपनी फिटनेस का सीक्रेट भी आम लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से बताते रहते हैं कुछ दिनों पहले अनेक सेलेब्रिटी जैसे विराट कोहली और मिलिंद सोनम के साथ उन्होंने एक Fitness Slogan दिया था " Fitness ka Dose Addha Ghanta Roj"

Narendra Modi fitness secrets ke fayde for common people

नरेंद्र मोदी फिटनेस सिक्रेट के विषय पर चर्चा करने का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य यह हैं कि आम आदमी भी नरेंद्र मोदी के फिटनेस सिक्रेट से प्रेरणा ग्रहण कर अपनी लाइफस्टाइल को व्यवस्थित करें।

जिस तरह नरेंद्र मोदी 18 घंटे काम करके भी स्वस्थ्य और तनावमुक्त रहते हैं वैसे आप भी अपने जीवन अपनी लाइफस्टाइल को व्यवस्थित करें और देश के विकास में बीमारीमुक्त, तनावमुक्त जीवन जीकर योगदान दें।



Author: healthylifestyehome
Dr.S.K. Vyas


• भोजन करने के तरीके क्या हैं

• health insurance policy lene me kya Savdhani Rakhni chahiye

टिप्पणियाँ

Unknown ने कहा…
Narendra Modi fitness tycoon hai

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह