सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Keto Diet Ke Fayde Aur Nuksan | कीटो आहार के फायदे और नुकसान

Keto Diet Ke Fayde Aur Nuksan| कीटो आहार के फायदे और नुकसान

बीमारियों की रोकथाम के लिए आजकल सम्पूर्ण विश्व में keto diet का प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ रहा हैं। Keto Diet Therapy के नाम से पहचाने जानें वाली यह पद्धति सन् 1920 से लोकप्रिय हुई थी।

Keto Diet kya Hoti hai

कीटो डाइट में उच्च वसा,मध्यम प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन दिया जाता हैं। जब शरीर कार्बोहाइड्रेट के स्थान पर अधिक वसायुक्त भोजन ग्रहण करता हैं तो लीवर में कार्बोहाइड्रेट से बनने वाले ग्लूकोज के स्थान पर वसा का पाचन करता हैं जिससे Ketones उत्पन्न होते हैं और Metabolic Rate बढ़कर शरीर वसा को तेजी से पचाने लगता हैं।
कीटो डाइट के फायदे और नुकसान,Keto Diet Ke Fayde Aur Nuksan


कीटो डाइट चार्ट में शामिल वसायुक्त भोजन से शरीर को 75 प्रतिशत तक ऊर्जा मिलनी चाहिए,20 प्रतिशत ऊर्जा प्रोटीन से मिलनी चाहिए और 5 प्रतिशत ऊर्जा कार्बोहाइड्रेट से मिलनी चाहिए।

कीटो डाइट के फायदे Keto Diet Ke Fayde

√ कीटो डाइट मिर्गी के दौरों में बहुत तेजी से आराम दिलाती हैं क्योंकि दिमाग को कार्बोहाइड्रेट और ग्लूकोज के माध्यम से मिलने वाली ऊर्जा वसा से मिलने लगती हैं और इससे मिर्गी के दौरें नियंत्रित हो जातें हैं।

√ कीटो डाइट से शरीर में Anti Aging effect आ जातें हैं क्योंकि लो कार्बोहाइड्रेट से इंसुलिन नियंत्रित होता हैं और Oxidative Stress कम होता हैं।

√ लो कार्बोहाइड्रेट और हाई प्रोटीन लेने से शरीर में ग्लूकोज का स्तर कम हो जाता हैं फलस्वरूप मधुमेह नियंत्रण में रहती हैं।

√ कीटो डाइट के कारण शरीर में Inflammation कम हो जाती हैं।

√ कीटो डाइट से शरीर में HDL Cholesterol या गुड कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता हैं।

√ कीटो डाइट से मस्तिष्क में कम ग्लूकोज पंहुचता हैं फलस्वरूप हाइपर एक्टिव बच्चें सामान्य बच्चें बन जातें हैं।

√ वज़न कम करने में कीटो डाइट सबसे प्रभावशाली मानी जाती हैं क्योंकि इससे फेट का पाचन बहुत तेजी से होता हैं और बिना कमजोरी महसूस हुए व्यक्ति का वजन कम हो जाता हैं।

√ Body Tone करने में कीटो डाइट बहुत अधिक सहायता करता हैं, क्योंकि इससे अतिरिक्त बाड़ी फैट पिघल जाता हैं।

√ कैंसर की तीव्रता और कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि नियंत्रित करने में कीटो डाइट अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

√ कीटो डाइट मानसिक रोगों के दौरों को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। जिससे पार्किनसन्स, पागलपन और अल्जाइमर में फायदा मिलता हैं।

Keto Diet Ke Nuksan

√ कभी कभी शरीर कीटो डाइट को स्वीकार नहीं करता फलस्वरूप शरीर में थकावट,चेहरा मुरझा हुआ और चिड़चिड़ापन हो जाता हैं।

√ अधिक फैट कम कार्बोहाइड्रेट से व्यक्ति बैचेनी अनुभव करता हैं।

√ उच्च वसा लेने से शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो जाती हैं फलस्वरूप ह्रदयरोग होने की संभावना बनती हैं।

√ कम कार्बोहाइड्रेट के कारण शरीर कब्ज़ बनने लगता हैं जिससे पेट साफ नहीं हो पाता है।

√ शरीर में खनिज और पौषक तत्वों की कमी होती हैं फलस्वरूप इनसे संबंधित रोग होने की संभावना बनी रहती हैं।

√ मांसपेशियों की मजबूती और ऊर्जा के लिए उच्च कार्बोहाइड्रेट जरुरी होता हैं फलस्वरूप मांसपेशियों में खिंचाव और कमजोरी महसूस होती हैं।

√ अधिक मात्रा में फैट का पाचन करने से लीवर से संबंधित समस्या जैसे फैटी लीवर हो जाता हैं।

√ कीटो डाइट से इंसुलिन अधिक बनता हैं फलस्वरूप हाइपोग्लाइसिमिया हो जाता हैं।

√ कीटो डाइट के कारण कभी-कभी हार्मोन असंतुलन हो जाता है फलस्वरूप शरीर में बैचेनी, घबराहट,टैकीकार्डिया, आदि समस्या पैदा हो जाती हैं।

√ कभी कभी शरीर की मैटाबॉलिज्म नहीं बढ़ती हैं और शरीर फैट नहीं पचा पाता है फलस्वरूप उच्च रक्तचाप की बीमारी हो सकती हैं।

√ कीटो डाइट के कारण कभी कभी कुछ लोग डायरिया की समस्या से जूझते हुए पाए गए हैं। क्योंकि कीटो डाइट में फैट का पाचन अधिक होता हैं।

√ कीटो डाइट से मस्तिष्क में कम ग्लूकोज पंहुचता हैं जिससे मस्तिष्क एकाग्र नहीं रहता हैं।

Keto Diet Food List For Vegetarian


1.घी

2.मक्खन

3.दही

4.छाछ

5.पनीर

6.चीज

7.प्रोबायोटिक दही

8.दूध

9.सत्तू

10.लौकी

11.पालक 

12.कद्दू

13.बैंगन

14.अंगूर

15.सोयाबीन

16.मूंगफली

17.टमाटर

18.तरबूज

19.नारियल

20.चना

21.मूंग

22.बादाम

23.काजू

24.अखरोट

25.किशमिश

26.चुकंदर

27.मूली

28.गाजर

29.मशरूम

30.पत्तागोभी

31.अंकुरित दालें

32.ग्रीन टी (sugar free)

33.सोयाबीन तेल

34.मूंगफली तेल

35.ओलिव आइल

36.सरसो तेल

37.नारियल तेल

38.चिया सीड्स

39.अलसी

40.खीरा ककड़ी


Keto Diet Me kya Savdhani Rakhni chahiye

कीटो डाइट उम्र, लम्बाई,लिंग, बीमारी का पूर्व इतिहास के आधार पर निर्धारित होता हैं। अतः बिना विशेषज्ञ की सलाह कीटो डाइट मन से न लें। इससे Ketogenic Diet Ke Fayde की बजाय Keto Diet Ke Nuksan हो सकतें हैं।

Author:Dr.P.K.Vyas
B.A.M.S.आयुर्वेद रत्न
Dr.N.K.Nagar 
M.D.(Physician)


अन्य पढ़े

• Narendra Modi fitness secret

• ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

• मुंह का कैंसर कारण,और प्रबंधन

दही खाने के फायदे

• पालक खाने के फायदे

• दशमूल क्वाथ के फायदे







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी