सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

YO YO TEST KYA HOTA HAI

फिटनेस मापने का यो यो टेस्ट क्या होता हैं, भारतीय क्रिकेटर के लिए यो यो टेस्ट पास करने का स्कोर कितना होता हैं 


यो यो टेस्ट (YO YO TEST) दौड़ आधारित फिटनेस लेवल जांच करने का तरीका हैं। यो यो टेस्ट पूर्णतः कम्प्यूटर साफ्टवेयर आधारित फिटनेस टेस्ट होता हैं।

शुरुआत में यह टेस्ट फुटबॉल खिलाड़ियों के लिए बनाया गया था किन्तु जिन खिलाड़ियों ने यो यो टेस्ट पास किया उनके फिटनेस के उच्च लेवल और खेलों में उच्च प्रदर्शन को देखते हुए धीरे-धीरे सभी खेलों के खिलाड़ीयों के फिटनेस का पैमाना बन गया।

यो यो टेस्ट की खोज किसने की थी 


यो यो टेस्ट YO YO TEST की खोज सन् 1990 के दशक में डेनमार्क के एक फुटबॉल टीम के फिजियोलाजिस्ट जेन्स बैंग्सबो ने की थीं।


यो यो टेस्ट कैसे किया जाता हैं

यो यो टेस्ट में 25 मीटर की दूरी पर  तीन कोन A,B,C रखें जातें हैं जिसमें कोन A से कोन B की दूरी 5 मीटर,कोन B से कोन C की दूरी 20 मीटर होती हैं।

जब कम्प्यूटर आधारित साफ्टवेयर बीप की आवाज देता है तब व्यक्ति को कोन B से दौड़ना शुरू करना होता हैं, और अगली बीप की आवाज तक कोन C तक पहुंचना पड़ता हैं।

कोन C से पुनः अगली बीप की आवाज तक कोन B तक पहुंचना पड़ता हैं।

कोन B से कोन A तक पैदल पंहुचना पड़ता हैं,और इस दौरान 10 सेकंड का समय आराम के लिए मिलता हैं।

यो यो टेस्ट में कुल 23 राउंड होते हैं जैसे जैसे राउंड आगे बढ़ते हैं वैसे वैसे दौड़ने की गति और B कोन से C कोन के बीच दौड़ने के चक्कर बढ़ जाते हैं।

यो यो टेस्ट में पांचवें और नवें राउंड में चक्करों की संख्या एक होती हैं जबकि 11 राउंड में चक्करों की संख्या दो बारहवें  में चक्करों की संख्या 3,तेरहवें राउंड में 4 जबकि 14 वें राउंड से
23 वें राउंड तक चक्करों की संख्या आठ तक पंहुच जाती हैं।

यदि कोई खिलाड़ी कोन B से कोन C और पुनः कोन C से कोन B की 40 मीटर की दूरी साफ्टवेयर द्वारा निर्धारित समय में तय नहीं कर पाता हैं तो उसे पहली बार चेतावनी दी जाती हैं और जब वह दूसरी बार भी तय समय में दूरी तय नहीं कर पाता तो उसे यो यो टेस्ट से बाहर कर दिया जाता हैं। अर्थात वह व्यक्ति यो यो टेस्ट में असफल हो जाता हैं।
यो यो टेस्ट क्या होता हैं, what is yo yo test,yo yo test in cricket



खिलाड़ियों के लिए यो यो टेस्ट

खिलाड़ियों के लिए यो यो टेस्ट का लेवल पांचवें राउंड से शुरू होता हैं जबकि साधारण व्यक्ति को प्रथम चरण से यो यो टेस्ट देना होता हैं।

भारतीय क्रिकेटरों का यो यो टेस्ट कहां होता हैं

भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो यो टेस्ट का साफ्टवेयर NATIONAL CRICKET ACADEMY बेंगलुरु में स्थापित हैं।

क्रिकेट में यो यो टेस्ट (YO YO TEST) की शुरुआत कहां हुई थी

क्रिकेट के क्षेत्र में यो यो टेस्ट की शुरुआत सबसे पहले आस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड ने की थीं इसके बाद लगभग सभी क्रिकेट बोर्ड ने यो यो टेस्ट को अपना लिया।

भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो यो टेस्ट कब से लागू हुआ


भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो यो टेस्ट सन् 2017 में श्री लंका दौरें के समय उस समय के भारतीय क्रिकेट टीम के Strength And Conditioning कोच‌‌ शंकर बासु ने लागू किया था।

भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो यो टेस्ट (YO YO TEST) पास करने का स्कोर कितना होता हैं


यो यो टेस्ट में पास होने के लिए मापदंड अलग अलग टीमों ने अलग अलग तय कर रखें हैं उदाहरण के लिए भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए यो यो टेस्ट में 17 वें लेवल तक निर्धारित समय में 2210 मीटर की दूरी तय करनी पड़ती हैं।

आस्ट्रेलियाई क्रिकेटर के लिए  21.1 लेवल पर निर्धारित समय में 2400 मीटर की दूरी करने पर खिलाड़ी को पास माना जाता हैं।

भारतीय क्रिकेटर मनीष पांडे का यो यो स्कोर 19.2 हैं जबकि विराट कोहली का यो यो टेस्ट स्कोर 19 हैं।

रोहित शर्मा का यो यो टेस्ट स्कोर 16 से ऊपर रहता हैं।

यो यो स्कोर कैसे प्राप्त होता हैं


यो यो स्कोर राउंड और कोन के बीच तय दूरी के आधार पर निकाला जाता हैं उदाहरण के लिए 16 वें राउंड में यदि कोई खिलाड़ी निर्धारित समय में 7 चक्कर लगाता है लेकिन 8 वें चक्कर में फैल हो जाता हैं तो इसका मतलब होता हैं खिलाड़ी का स्कोर 16.7 हैं।



लेवल      चक्कर      गति(किमी/घंटा)      समय(40मीटर)
5              1            10                          14 सेकंड

9             1            12                             12 सेकंड

11            2          13                            11.5 सेकंड

12            3         13.5                          10.6 सेकंड

13           4          14                            10.25 sec

14             8         14.5                            9.88 s

15             8          15                              9.6 s

16             8        15.5                             9.25 s

17             8          16                              9 s

18             8          16.5                           8.75 s

19             8          17                               8.5 s

23  वें लेवल तक समय कम होता जाता हैं।


यो यो टेस्ट (YO YO TEST) और क्रिकेट

ऐसा नहीं हैं कि यो यो टेस्ट को सभी क्रिकेटरों और क्रिकेट समीक्षकों का समर्थन हैं। इस टेस्ट के साथ विवाद भी बहुत हैं उदाहरण के लिए क्रिकेटर युवराज सिंह और सुरेश रैना यो यो टेस्ट में फैल होने के कारण भारतीय टीम में सिलेक्ट नहीं हो पाए जबकि पाकिस्तानी क्रिकेटर शान मसूद और बांग्लादेश के क्रिकेटर अल आमिन हुसैन यो टेस्ट में 22.1 का स्कोर कर चुके हैं।

अब क्रिकेट में युवराज सिंह और सुरेश रैना को कौंन नहीं जानता जबकि शान मसूद और अल आमिन का क्रिकेट में कितना योगदान हैं। यह बात सब जानते हैं।

अनेक क्रिकेट समीक्षकों ने कहा हैं कि यो यो टेस्ट मूलतः फुटबॉल खिलाड़ियों के बनाया गया था और फुटबॉल जैसे खेल में जहां खिलाड़ी को लगातार भागना पड़ता हैं वहां यो यो टेस्ट पास करना फिटनेस का पैमाना हो सकता हैं, किंतु क्रिकेट जैसे खेल में जहां फुटबॉल खेल के मुकाबले मात्र 50 प्रतिशत ही भागना पड़ता हैं वहां इसे ज्यों का त्यों लागू करना क्रिकेट खेल और क्रिकेट खिलाड़ी के साथ न्याय नहीं होगा।

जानें मानें क्रिकेटर सुनील गावस्कर कह चुके हैं कि मेरे समय यो यो टेस्ट टीम में चयन का मापदंड होता तो वह कभी यो यो टेस्ट पास नहीं कर पाते।

पूर्व भारतीय आलराउंडर कपिल देव का कहना है कि क्रिकेट खिलाड़ी का चयन मैदान में उसके प्रदर्शन के आधार पर तय होना चाहिए उसमें किसी एक विशेष फिटनेस टेस्ट की अनिवार्यता नहीं होना चाहिए।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड क्रिकेट में यो यो टेस्ट लागू करने के पीछे तर्क देता हैं कि यो यो टेस्ट के माध्यम से क्रिकेट में ऐसे खिलाड़ी का चयन आसान हो जाता हैं जो लम्बें समय तक चोट रहित क्रिकेट खेल सकें और यो यो टेस्ट यही काम आसान कर देता हैं।

अतः इसे क्रिकेट खेल के हिसाब से मोडिफाइड कर लागू करना चाहिए। 

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यो यो टेस्ट के साथ एक अन्य फिटनेस टेस्ट को खिलाड़ियों की फिटनेस का पैमाना बनाना तय किया हैं।

इस टेस्ट का नाम हैं 2KM RUN FITNESS TEST

2KM RUN FITNESS TEST में बल्लेबाज,स्पीनर और विकेटकीपर को 8 मिनट 30 सेकंड में 2 किलोमीटर दौड़ना पड़ता हैं जबकि तेज़ गेंदबाज को 8 मिनट 15 सेकंड में 2 किलोमीटर दौड़ना पड़ता हैं।

लेखक: healthylifestyehome

• वजन घटाने की आधुनिक तकनीक

• डी डायमर टेस्ट क्या होता हैं

•Narendra modi fitness secrets

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी