सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

14 औषधीय गुण थूहर के

 

14 औषधीय गुण थूहर के


थूहर आयुर्वेद चिकित्सा में बहुत महत्व का पौधा है,इसका पौधा दस फ़ीट तक ऊंचा होता है । थूहर में लगने वाली लम्बी लम्बी डंडे के समान होती हैं ,जिन पर तीखे कांटे निकले रहते हैं ।

थूहर के पत्ते 6 इंच तक लम्बें और ढाई इंच तक चोडे होते हैं । थूहर का कोई भी भाग तोड़ने पर सफेद दूध निकलता है

14 औषधीय गुण थूहर के
थूहर


थूहर का संस्कृत नाम 


थूहर को संस्कृत में स्नूही,सुधा,समन्त दुग्धा,वज्रा नाम से जाना जाता हैं ।


थूहर का लेकिन नाम


थूहर को लेटिन भाषा में fuphorbia nerifolia (यूफोर्बिया नेरिफोलिया) के नाम से जानते हैं ।

थूहर का हिन्दी नाम


थूहर को हिन्दी में सेहुंड,कांटा थूहर, थूहर छोटा के नाम से जाना जाता हैं ।


आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति


आयुर्वेद मतानुसार थूहर गर्म, कड़वी,भारी,होती हैं, थूहर का दूध भी गर्म,तीखा और रेचक होता है ।


थूहर के औषधीय गुण




1.दस्त लगानें में


यदि किसी को बहुत दिनों से दस्त नहीं हो रहें हैं तो थूहर के दूध में हरड़,पीपल और निशोंध पीसकर चटा दें , बहुत तेज दस्त लगेंगे ‌।


2.बिच्छू का विष उतारने में 


थूहर की जड़ को कालीमिर्च के साथ पीसकर बिच्छू काटने वाली जगह पर लगाने से बिच्छू का जहर उतर जाता हैं। 



3.मस्सों को हटाने में


शरीर पर मौजूद मस्से , गांठें और फोड़े फुन्सी पर थूहर का दूध लगाने से मस्से, फोड़े फुन्सी मिट जाते हैं ।

4.खांसी में थूहर के पत्तों का उपयोग


थूहर के दो पत्तों को आग पर गर्म कर लें, इसके पश्चात इन पत्तों का रस निकालकर इसमें थोड़ा सा सैन्धा नमक मिलाकर पीएं।  खांसी  बंद हो जाती हैं ।


5.अस्थमा में थूहर के औषधीय फायदे

थूहर के दूध को ,अदरक रस,हल्दी,शहद और कालीमिर्च के साथ मिलाकर प्रतिदिन सुबह शाम खाने से अस्थमा में बहुत आराम मिलता हैं।


6.कानदर्द में थूहर के फायदे


थूहर के पत्तों का रस निकालकर एक दो बूंद कान में डालने से कानदर्द बंद हो जाता हैं ।


7.पेटदर्द में


थूहर के दो तीन पत्तों का रस निकालकर , इसमें थोड़ा सा निम्बू का रस मिला लें,पेटदर्द में दो तीन बार सेवन करें । आराम मिलेगा।


8.आफारा में थूहर के फायदे


थूहर के दूध में थोड़ी सी अजवाइन मिलाकर पीस लें, यदि आफारा (पेट फूलने में) हो गया है तो आधा चम्मच मिश्रण खिलाएं बहुत आराम मिलता हैं ।

9.सूजन उतारने में


थूहर के पत्तें और थूहर का दूध गर्म कर सूजन वाले स्थान पर लगाकर कुछ देर गर्म पानी से सेंकने से बहुत शीघ्र आराम मिलता हैं।


10.बेहोशी में थूहर के फायदे

यदि व्यक्ति बेहोश हो जाता हैं तो थूहर का दूध एक चम्मच शहद में मिलाकर बेहोश व्यक्ति की जीभ पर डाल दें,ऐसा करने से बेहोश व्यक्ति होश में आने लगेगा ।

11.गेंग्रीन में थूहर के फायदे

थूहर के तने का गुदा , अदरक रस,और हल्दी समान मात्रा में मिलाकर एक चम्मच सुबह एक चम्मच शाम को खिलाएं मधुमेह के कारण हुआ गेंग्रीन ठीक होता है ।

12.आंखो के रोग


थूहर का दूध घी में मिलाकर रूई के फुए की सहायता से आंखों पर रखें,ऐसा करने से आंखों से संबंधित परेशान जैसे आंखों का दर्द, आंखों का सुखापन, आंखों से कम दिखाई देना आदि में आराम मिलता हैं ।


13.वजन घटाने में


थूहर का दूध तना और पत्ता बहुत उष्ण होता है। इसके सेवन से शरीर की चर्बी बहुत तेजी से पिघलती है। 

थूहर के दूध को शहद के साथ मिलाकर सुबह-शाम एक चम्मच चाटने से वजन बहुत तेजी से कम होता है ।

इसी प्रकार थूहर के तने का चूर्ण एक चम्मच सुबह शाम सेवन करने से वजन कम होता है ।


14.अर्श में


अर्श में यदि गुदा मार्ग से मस्से लटक रहें हैं तो थूहर का दूध इन मस्सों पर विशेषज्ञ की देखरेख में लगाएं,मस्से बहुत आसानी से निकल जाएंगे। 




थूहर के नुक़सान

थूहर का पेड़, दूध,तना बहुत ही गर्म प्रकृति के होते हैं,इसकी अधिक मात्रा सेवन करने से बहुत तेज दस्त लग सकतें हैं।

इसी प्रकार इसके सेवन से पेट में मरोड़,उल्टी, चक्कर आना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

[नोट :- थूहर के सेवन से पूर्व वैद्यकीय परामर्श  अवश्य पर्याप्त करें]


० नीम के औषधीय गुण

 









  


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट