सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Nail health :: नेल पॉलिश रिमूव करें और देखे कैसी है आपकी सेहत

 Nail health

नेल पॉलिश आजकल हर स्त्री के नख श्रृंगार की अभिन्न वस्तु बन चुकी है। बाजार में इतनी तरह की नेल पॉलिश और नेल आर्ट मौजूद हैं कि हर समय स्त्री के नेल पर नेल पॉलिश लगी रहती हैं। 


लेकिन क्या आप जानते हैं आपके नेल या नाखून आपकी स्वास्थ्य समस्या को अर्ली स्टेज में डायग्नोसिस करने वाले बहुत ही महत्वपूर्ण स्वास्थ संकेतक हैं। अतः हर स्त्री को समय-समय पर नेल पॉलिश रिमूवर की मदद से नेल पॉलिश रिमूव करके नेल को देखते रहना चाहिए ताकि किसी बीमारी का संकेत होने पर तुरंत अगली डायग्नोसिस करवाकर उपचार शुरू किया जा सके।


तो आईए जानतें नेल के रंग के आधार पर बीमारी की पहचान कराने वाले कुछ health parameter को 

 
 
नेल पॉलिश, गुलाबी नेल पॉलिश




नाखून का पीला होना कौन सी बीमारी का संकेत होता है

नाखून या नेल का गहरा पीला होना पीलिया, हेपेटाइटिस और शरीर में खून की कमी होने का संकेत होता है। 

यदि नाखून हल्का-सा पीला हो रहा है तो यह अस्थमा, मधुमेह, हाइपोथायरायडिज्म का संकेत हो सकता हैं।

नाखून पीला होने के साथ मोटा हो रहा हो, नाखून की जड़ों और आगे के भाग में पपड़ी जमना फंगल इन्फेक्शन का संकेत हो सकता है। 

नाखून पीला होने के साथ यदि नाखून की चमक फीकी पड़ गई है तो यह शरीर में विटामिन और खनिज पदार्थों की कमी का संकेत हो सकता है।

नाखून यदि आगे से पीले और पीछे से हल्के गुलाबी होते हैं तो इसका मतलब है नाखून में कोई इंन्फेक्शन मौजूद हैं।
Nail health, नाखून पीला होना किस बीमारी का संकेत है


नाखून का नीला होना किस बीमारी का संकेत हो सकता है

नाखून का नीला रंग शरीर में आक्सीजन लेवल की कमी दर्शाता हैं। यदि नाखून नीले होने के साथ आगे से नीचे की ओर बढ़ने लगते हैं तो यह फेफड़ों के कमजोर होने या फेफड़ों की वायु कोशों में सूजन होने का संकेत हो सकता है।

नीला नाखून शरीर के बहुत अधिक ठंडे होने का संकेत भी हो सकता है ऐसा बहुत अधिक ठंडी जगहों पर रहने से हो सकता हैं। 

नाखून नीले होने के साथ पतले होना और नाखून की ग्रोथ कम होना शरीर में इंसुलिन कम बनने का संकेत भी होता हैं।


सफेद नाखून किस बीमारी का संकेत हो सकते हैं

सामान्य सफेद और हल्के गुलाबी नाखून एक स्वस्थ व्यक्ति की निशानी मानी जाती है किंतु यदि नाखून बहुत अधिक सफेद दिखाई देते हैं तो इसका मतलब है शरीर में खून की कमी है।

बहुत अधिक सफेद नाखून शरीर में जिंक और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की कमी का संकेत भी हो सकतें हैं।

नाखूनों पर जगह-जगह सफेद चकते होना शरीर के इम्यूनिटी सिस्टम का कमजोर होना दर्शाता हैं। 

नाखून पर सफेद निशान बहुत बड़े मैदान के आकार में फैले हुए हो तो इसका मतलब है शरीर में त्वचा संबंधी बीमारी जैसे दाद खाज खुजली हो सकती हैं। 

लम्बें समय तक हाथ यदि पानी के सम्पर्क में रहते हैं तो भी नाखून सफेद हो सकतें किंतु यह परिस्थिति कुछ ही समय के लिए रहती हैं कुछ समय पश्चात नाखून फिर सामान्य रंग रुप में आ जातें हैं।

काले धब्बें या काली धारियों वाले नाखून


 नाखून के आगे के भागों में हल्के काले धब्बें दिखाई देना शरीर में आक्सीजन की कमी होने का संकेत होता है।

यदि नाखून के बीचों बीच से एक गहरी काली लाइन निकलकर सीधे खड़ी दिशा में बढ़ती है तो इसका मतलब है कि यह त्वचा संबंधी कैंसर की शुरुआत हैं। यदि इस प्रकार की कोई चीज दिखाई देती हैं तो तुरंत जांच करवाना चाहिए।

नाखून का पूरा एक साथ काला होना  नाखून में संक्रमण की वजह से भी हो सकता है।


उभरते हुए टेढ़े मेढे भद्दे नाखून

उभरे हुए टेढ़े मेढे और भद्दे नाखून जिनको हाथ लगाने पर उभरा हुआ भाग महसूस किया जा सकता है और जो देखने में प्राकृतिक गंदे दिखाई देते हो ऐसे नाखून शरीर में आर्थराइटिस होने का संकेत देते हैं।

नाखून में इस प्रकार की समस्या नाखूनों के ऊतकों में खराबी की वजह से भी हो सकता है।

किडनी संबंधित बीमारी होने पर भी नाखून भद्दे और टेढ़े मेढे दिखाई देते हैं।

लाल नाखून होना किस बीमारी का संकेत हो सकता है

लाल नाखून और उसमें सूजन होना नाखून में संक्रमण होने की वजह से हो सकता हैं।

यदि नाखून पर बहुत अधिक दबाव डाला जाए तो भी नाखून लाल हो सकतें हैं।

गुलाबी नाखून जो ऊपर की ओर मुढे हुए हो 


ऐसे नाखून जो बहुत गुलाबी हो और आगे से ऊपर की ओर मुढ रहें हों इनसे पता चलता है कि ह्रदय संबधी कोई बीमारी  है। ऐसा शरीर में अधिक लोह तत्व के अवशोषण यानि हीमोक्रोमेटोसिस की वजह से भी हो सकता हैं।

नाखून के आगे वाले भाग पर गुलाबी लाइन जो संकरी दिखाई देती है इसका मतलब है यह टेरीज नेल है और ऐसा किडनी संबंधित बीमारी होने का संकेत हो सकता हैं।

नाखून घीसना 

नाखून यदि कोई वजह से घीस रहें हैं तो कोई बात नहीं किंतु अकारण नाखून घीस रहें हैं तो ऐसा प्रोटीन की कमी से हो सकता है। 

आप जानते हैं कि हमारे नाखून केरोटीन से बने होते हैं और यदि इसकी कमी होती है तो नाखूनों की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है।

हेल्दी नाखून

जो नाखून हल्के गुलाबी, सफेद और चमकीले होते हैं, जिन्हें  दबाकर छोड़ने पर खून तेजी से वापस उसी स्थान पर भर जाएं और नाखूनों की जड़ से लगता अर्धचंद्राकार निशान स्पष्ट दिखाई दे इस प्रकार के नाखून हेल्दी होते हैं।

• जीवनसाथी के साथ नंगा होकर सोना चाहिए या नहीं

• weight loss कैसे करें

• महिलाओं की कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह