सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Dabur stresscom ke fayde aur side effects

 Dabur stresscom ke fayde aur side effects 

डाबर stresscom capsule विश्व प्रसिद्ध आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनी डाबर का उत्पादन हैं। कंपनी के अनुसार यह उत्पाद न केवल आयुर्वेद चिकित्सकों में बल्कि ऐलोपैथिक चिकित्सकों में भी लोकप्रिय हैं।

डाबर के अनुसार डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल Most trusted brand in stress management का 9 th cims healthcare excellence award 2021 प्राप्त हैं।
डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के फायदे और साइड इफेक्ट्स, Dabur stresscom capsule ke fayde aur side effects
डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल 


डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में मौजूद तत्व 

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में अश्वगंधा की जड़ का सत होता हैं एक केप्सूल में यह 300 मिली ग्राम होता हैं।

इसके अलावा Dabur stresscom capsule में Presarvative के रूप में methylparaben,propyleparaben आदि मौजूद रहते हैं।

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के फायदे

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के क्लिनिकल ट्रायल के दौरान यह सामने आया कि लगातार दो महिने के सेवन से डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल

• तनाव को 64.2% कम कर देता हैं।

• चिंता और घबराहट में 75.6% कमी ला देता हैं।

• अवसादग्रस्त अवस्था को 77% तक ठीक कर देता हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल serum cortisol के स्तर में उल्लेखनीय कमी लाता हैं।

• शरीर के सामान्य क्रियाकलाप को बनाए रखता हैं।

• सबसे बड़ी और उल्लेखनीय बात यह है कि डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल को लम्बे समय तक लेने के बावजूद इसकी लत नहीं लगती।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में कोई मादक पदार्थ भी नहीं मौजूद होता हैं।

• इसमें किसी भी प्रकार के निद्राजनक पदार्थ नहीं होते हैं लेकिन फिर भी डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से अच्छी नींद आती हैं ‌।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल oil based softgel capsule  होते हैं जो सेवन करने में आसान और पेट में जानें के बाद तुरंत घुलनशील हो जातें हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल उच्च रक्तचाप और तनाव के कारण होने वाले चक्कर पर नियंत्रण रखता हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल तनाव के कारण होने वाली पेट की समस्याओं जैसे एसिडिटी,अपच, हिचकी आदि पर नियंत्रण रखता हैं।

Dabur stresscom capsule ke side effects 

• Dabur stresscom capsule पूर्णतः आयुर्वेदिक और हानिरहित हैं लेकिन फिर इसके सेवन से पूर्व निम्न सावधानी रखनी चाहिए वरना नुकसान हो सकता हैं 

• जिन लोगों को एलर्जी हैं उन्हें डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से पूर्व चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए।

• जिन लोगों को उच्च रक्तचाप, किडनी संबंधी परेशानी या एसिडिटी की समस्या हैं उन्हें भी डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से पूर्व चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के लेते समय हुए बहुत अधिक मिर्च मसाला, अधिक नमकयुक्त और खट्टा भोजन नहीं करना चाहिए।

Dabur stresscom capsule Dosage

एक केप्सूल सुबह शाम भोजन के बाद गुनगुने दूध के साथ या चिकित्सक के परामर्श अनुसार

Dabur stresscom capsule price

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के दस केप्सूल के स्ट्रिप की क़ीमत 50 रूपए हैं जबकि 12 स्ट्रिप के एक बाक्स की कीमत 695 रुपए होती हैं।

यह भी पढ़ें 👇👇👇






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह