सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Dabur stresscom ke fayde aur side effects

 Dabur stresscom ke fayde aur side effects 

डाबर stresscom capsule विश्व प्रसिद्ध आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनी डाबर का उत्पादन हैं। कंपनी के अनुसार यह उत्पाद न केवल आयुर्वेद चिकित्सकों में बल्कि ऐलोपैथिक चिकित्सकों में भी लोकप्रिय हैं।

डाबर के अनुसार डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल Most trusted brand in stress management का 9 th cims healthcare excellence award 2021 प्राप्त हैं।
डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के फायदे और साइड इफेक्ट्स, Dabur stresscom capsule ke fayde aur side effects
डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल 


डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में मौजूद तत्व 

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में अश्वगंधा की जड़ का सत होता हैं एक केप्सूल में यह 300 मिली ग्राम होता हैं।

इसके अलावा Dabur stresscom capsule में Presarvative के रूप में methylparaben,propyleparaben आदि मौजूद रहते हैं।

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के फायदे

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के क्लिनिकल ट्रायल के दौरान यह सामने आया कि लगातार दो महिने के सेवन से डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल

• तनाव को 64.2% कम कर देता हैं।

• चिंता और घबराहट में 75.6% कमी ला देता हैं।

• अवसादग्रस्त अवस्था को 77% तक ठीक कर देता हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल serum cortisol के स्तर में उल्लेखनीय कमी लाता हैं।

• शरीर के सामान्य क्रियाकलाप को बनाए रखता हैं।

• सबसे बड़ी और उल्लेखनीय बात यह है कि डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल को लम्बे समय तक लेने के बावजूद इसकी लत नहीं लगती।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल में कोई मादक पदार्थ भी नहीं मौजूद होता हैं।

• इसमें किसी भी प्रकार के निद्राजनक पदार्थ नहीं होते हैं लेकिन फिर भी डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से अच्छी नींद आती हैं ‌।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं।

• Dabur stresscom capsule oil based softgel capsule  होते हैं जो सेवन करने में आसान और पेट में जानें के बाद तुरंत घुलनशील हो जातें हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल उच्च रक्तचाप और तनाव के कारण होने वाले चक्कर पर नियंत्रण रखता हैं।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल तनाव के कारण होने वाली पेट की समस्याओं जैसे एसिडिटी,अपच, हिचकी आदि पर नियंत्रण रखता हैं।

Dabur stresscom capsule ke side effects 

• Dabur stresscom capsule पूर्णतः आयुर्वेदिक और हानिरहित हैं लेकिन फिर इसके सेवन से पूर्व निम्न सावधानी रखनी चाहिए वरना नुकसान हो सकता हैं 

• जिन लोगों को एलर्जी हैं उन्हें डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से पूर्व चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए।

• जिन लोगों को उच्च रक्तचाप, किडनी संबंधी परेशानी या एसिडिटी की समस्या हैं उन्हें भी डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल लेने से पूर्व चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए।

• डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के लेते समय हुए बहुत अधिक मिर्च मसाला, अधिक नमकयुक्त और खट्टा भोजन नहीं करना चाहिए।

स्ट्रैस कम करने के लिए bhringraj hair oil इस लिंक पर क्लिक पर क्लिक करें

Dabur stresscom capsule Dosage

एक केप्सूल सुबह शाम भोजन के बाद गुनगुने दूध के साथ या चिकित्सक के परामर्श अनुसार

Dabur stresscom capsule price

डाबर स्ट्रैसकाम केप्सूल के दस केप्सूल के स्ट्रिप की क़ीमत 50 रूपए हैं जबकि 12 स्ट्रिप के एक बाक्स की कीमत 695 रुपए होती हैं।

यह भी पढ़ें 👇👇👇







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू  आयुर्वेद की विशिष्ट औषधि हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके ल

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER  पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी। अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी। तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें BPGRIT INGREDIENTS 1.अर्जुन छाल चूर्ण ( Terminalia Arjuna ) 150 मिलीग्राम 2.अनारदाना ( Punica granatum ) 100 मिलीग्राम 3.गोखरु ( Tribulus Terrestris  ) 100 मिलीग्राम 4.लहसुन ( Allium sativam ) 100  मिलीग्राम 5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम 6.शुद्ध  गुग्गुल ( Commiphora mukul )  7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम 8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम 9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम 10. Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम 11. Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS 1.गजवा  ( Onosma Bracteatum) 2.ब्राम्ही ( Bacopa monnieri) 3.शंखपुष्पी (Convolvulus pl

होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर #1 से नम्बर #28 तक Homeopathic bio combination in hindi

  1.बायो काम्बिनेशन नम्बर 1 एनिमिया के लिये होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर 1 का उपयोग रक्ताल्पता या एनिमिया को दूर करनें के लियें किया जाता हैं । रक्ताल्पता या एनिमिया शरीर की एक ऐसी अवस्था हैं जिसमें रक्त में हिमोग्लोबिन की सघनता कम हो जाती हैं । हिमोग्लोबिन की कमी होनें से रक्त में आक्सीजन कम परिवहन हो पाता हैं ।  W.H.O.के अनुसार यदि पुरूष में 13 gm/100 ML ,और स्त्री में 12 gm/100ML से कम हिमोग्लोबिन रक्त में हैं तो इसका मतलब हैं कि व्यक्ति एनिमिक या रक्ताल्पता से ग्रसित हैं । एनिमिया के लक्षण ::: 1.शरीर में थकान 2.काम करतें समय साँस लेनें में परेशानी होना 3.चक्कर  आना  4.सिरदर्द 5. हाथों की हथेली और चेहरा पीला होना 6.ह्रदय की असामान्य धड़कन 7.ankle पर सूजन आना 8. अधिक उम्र के लोगों में ह्रदय शूल होना 9.किसी चोंट या बीमारी के कारण शरीर से अधिक रक्त निकलना बायोकाम्बिनेशन नम्बर  1 के मुख्य घटक ० केल्केरिया फास्फोरिका 3x ० फेंरम फास्फोरिकम 3x ० नेट्रम म्यूरिटिकम 6x