सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धनिया के फायदे DHANIYA KE FAYDE

धनिया के फायदे Dhaniya ke fayde :::


#१.धनिया का संस्कृत नाम क्या हैं ?


धनिये को संस्कृत में धन्याक,धनिक, धन्य,कुस्तुम्बरू,तथा ध्यगन्धा नामों से जानतें हैं।
 

#२.धनिया का लेटिन नाम क्या हैं ?


coriandrum sativum

३.धनिया का अँग्रेजी नाम क्या हैं ?


Coriander 

४.धनिया की प्रकृति 


आयुर्वेद मतानुसार धनिया स्निग्ध,कसैला,उष्णवीर्य,जठराग्नि को बढ़ानें वाला और त्रिदोष नाशक होता हैं। 


धनिया विटामीन‌ ए, विटामीन C,विटामीन K,फोलेट पोटेशियम, मैंगनीज और बीटा केरोटिन का बहुत उत्तम स्रोत हैं ।



धनिया के फायदे




धनिया के बारें संस्कृत  में श्लोक है -

धान्यकंचाजगन्धासुमुखाश्वेतिरोचना: ।सुगन्धानातिकटुकादोषानुत्क्लेशयन्तितु  ।।

अर्थात धनिया सुगन्धित और त्रिदोष को उखाड़ने वाला हैं।

५.आँखों के रोग में धनिया के  फायदे Dhaniya KE fayde :::



आँखों में जलन होनें और आँखें दर्द करनें पर साबुत धनिया के बीजों को कूट ले और इन्हें पानी में उबालकर कपड़ें से छान लें ।इस पानी से आँखों को धोयें इस प्रकार  आँखों को धोनें से उपरोक्त समस्या में बहुत आराम मिलता हैं ।

धनिया में विटामीन A प्रचुरता में मिलता हैं,इसकी हरी पत्तियों को कच्चा खानें से  आँखों की रोशनी बढ़ती हैं।

६.बवासीर में धनिया के फायदे :::



साबुत धनिया के बीजों को मिश्री मिलाकर खिलानें से बवासीर में निकलनें वाला खून बंद हो जाता हैं ।

७.दस्त में धनिया के फायदें :::



दस्त होनें पर धनिया बीज १०० ग्राम  की मात्रा में लेकर इन्हें भून लें ,इस तरह भूनें हुये धनियें को ३ - ४ बार तब तक दें जब तक दस्त में राहत न मिलें ।     

८.गले की खराश में धनिया के फायदें :::



साबुत धनिया के बीजों को चबानें और इसके बीजों को कूटकर मिश्री के साथ खानें से गले की खराश समाप्त हो जाती हैं ।


९.गंजापन में धनिया के फायदे :::



धनियें के सूखे  पत्तों का चूर्ण बनाकर इसे सिरके के साथ मिलाकर सिर पर लेपन करनें और सिर पर लेपन के १५ मिनिट बाद स्नान करने  से गंजापन की समस्या दूर होती हैं ।


१०. ज्वर में धनिया के फायदे :::



साबुत धनिया के बीजों को सादे पानी में डालकर कुछ घँटों के लियें रख दें और यह पानी ज्वर प्रभावित व्यक्ति को पीलायें ।ऐसा करनें से ज्वर  में होनें वाली शरीर की जकड़न दूर होती हैं ।और ज्वर में ली जानें वाली गर्म  दवाईयों का दुष्प्रभाव समाप्त होकर एँटासिड़ दवाईयों की जरूरत नहीं पड़ती हैं ।

 ११. सिरदर्द में धनिया के फायदें ::: 



धनिया के बीजों और आँवलें के चूर्ण को भीगोंकर कपड़े से छान ले इस प्रकार इसका पानी थोड़ी - थोड़ी मात्रा में पीतें रहनें से पुरानें से पुराना सिरदर्द कुछ ही दिनों में बंद हो जाता हैं । 

१२.गर्भावस्था की उल्टी में धनिया के फायदें :::



१०० ग्राम  धनिया बीज को आधा लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक की पानी एक चौथाई रह जायें ।इस मिश्रण में चावल का माँड़ और मिश्री मिलाकर थोड़ी - थोड़ी मात्रा में गर्भवती  स्त्री को पीलानें से गर्भावस्था की उल्टी में आराम मिलता हैं । 

१३.जोड़ों के दर्द में  धनिया के फायदे :::



धनिया बीजों के चूर्ण चार चम्मच  लेकर उसमें हल्दी एक चम्मच  मिलाकर रात को खानें से जोड़ों का दर्द समाप्त हो जाता हैं ।

१४.पाचनशक्ति बढ़ानें में धनिया के फायदे :::



३ चम्मच  धनिया और एक चम्मच   सोंठ पावड़र मिलाकर 250 मिलीलीटर  पानी में रातभर भीगों दे, इस मिश्रण को छानकर सुबह - शाम 50 - 50 मिलीलीटर लें । यह पाचनशक्ति बढ़ानें वाली अचूक   दवा हैं ।


१५.नकसीर में धनिया के फायदे :::



हरे धनिया की पत्तियों को पीसकर इसका रस निकाल लें इस तरह इस रस को नकसीर होनें पर एक दो बूँद नाक में टपकानें से नकसीर में राहत मिलती हैं ।


१६.पेट की गैस में धनिया के फायदें :::


धनिया की चटनी बनाकर इसमें सैंधा नमक मिलाकर खानें से पेट की गैस समाप्त हो जाती हैं । 




१७.थायराइड़ में धनिया के फायदे 


थायराइड़ आजकल की जीवनशैली की एक आम बीमारी हैं । थायराइड़ चाहें हाइपो हो या हाइपर दोनों प्रकार में धनिया आशातीत लाभ प्रदान करता हैं । धनिया थायराइड़ ग्रन्थी की कार्यप्रणाली को सुधारकर व्यक्ति को स्वस्थ्य बनाये रखता हैं ।


धनिये की चटनी बनाकर खानें से थायराइड़ ग्रंथि की कार्यप्रणाली सुधर जाती हैं ।





इसी प्रकार एक छोटा चम्मच साबुत धनिया बीज रात को पानी में भिगोकर रख दें सुबह खाली पेट इस पानी को पीनें से थायराइड़ ग्रंथि ठीक होकर सही मात्रा में थायराक्सिन हार्मोन का उत्सर्जन करती हैं ।



धनिया इसके अतिरिक्त शरीर से उत्सर्जित हार्मोन को नियंत्रित करने का काम करता हैं ।




   

  

० पंचनिम्ब चूर्ण  


० गौमुखासन


० कद्दू के औषधीय गुण



० शास्त्रों में लिखे तेल के फायदे





० एलर्जी क्या होती हैं




० गंधक के औषधीय गुण



० लक्ष्मी विलास रस के फायदे

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट