सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्पांडिलाइटिस क्या हैं स्पांडिलाइटिस के कितने प्रकार होतें हैं स्पांडिलाइटिस के लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

स्पाँन्डिलाइटिस क्या हैं::-



स्पाँडिलाइटिस रीढ़ की हड्डी से सम्बंधित बीमारीं हैं,जिसमें vertebrae column के जोड़ में सूजन, तनाव, दर्द, होता हैं. कई  केसो में एक से अधिक vertebrae सम्मिलित होते हैं.


प्रकार::-


१.potts disease SPONDYLITIS ::- यह एक tuberculosis हैं.


2.Ankylosing SPONDYLITIS::-यह auto immune SPONDYLITIS हैं, जो रीढ़ की हड्डी और socroiliac जोंड़ों के बीच होता हैं.

इसे 
spondylarthritis भी कहतें हैं. एक सँयुक्त प्रकार का भी SPONDYLITIS होता हैं जो जिसमें intervertebra disc के बीच में सूजन आ जाता है.

Symptoms::-


१.गर्दन के आस पास तेज असहनीय दर्द जो लगातार बढ़ता रहता हैं.


२.चक्कर ,आँखों के आगे अँधेरा छाना.


३.उल्टी होना.


४.सूजन का लगातार गर्दन,पीठ,lumber के आसपास बने रहना.


उपचार::-



आयुर्वैद चिकित्सा पद्धति में इस बीमारीं का वर्णन मुख्यत: वात रोगों के अन्तर्गत आता हैं.और वात व्याधि का पूर्णत:उन्मूलन भी आयुर्वैद चिकित्सा की विशेषता हैं.आईयें जानें उपचार


१.सर्वप्रथम पंचकर्म से शुरूआत करतें हैं ,इसके अन्तर्गत वमन,विरेचन,स्नेहन,स्वेदन और बस्ति के द्वारा शरीर को डीटाँक्सीफाई किया जाता हैं.


२.महावात विध्वसंन रस,वगजाकुंश रस,व्रहतवात चिन्तामणि रस को विशेष अनुपात में मिलाकर रोगी को देते है.
२.महारास्नासप्तक क्वाथ को रोग की तीव्रतानुसार सेवन करवाते हैं.


३.महायोगराज गुग्गल, एकांगवीर रस एँव लाछादि गुग्गल को विशेष अनुपात में सेवन करवातें हैं.


४.स्वर्ण भस्म, लोह भस्म, मुक्ता पिष्टी,को विशेष अनुपात में मिलाकर सेवन करवातें हैं.


५.महानारायण तेल का सेवन करवाते हैं.
योगिक क्रियाएँ इस रोग के लिये वरदान सिद्ध हुई है इस बात की पुष्टि आधुनिक शोधों से हो चुकी हैं, विशेष रूप से कमरबंधासन, सूर्यनमस्कार,अनुलोम-विलोम करते रहनें से रोगी शीघ्र स्वस्थ होता हैं.


६.तेरना इस रोग का एक अन्य महत्वपूर्ण व्यायाम हैं, जिससे रोगी के शरीर का सम्पूर्ण तंत्रिका तंत्र लचीला हो जाता हैं,और रक्त का प्रवाह रोगग्रस्त अंगों तक सामान्य बना रहता हैं.

SPONDYLITIS के लिये ट्रेक्सन[Traction] पद्धति ::



स्पांडिलाइटिस के उपचार में ट्रेक्सन पद्धति काफी उपयोगी साबित होती हैं, जिसके अन्तगर्त प्रभावित हिस्सों पर दबाव डालकर उपचार किया जाता हैं,यह ट्रेक्सन दो प्रकार का होता हैं.


१.सर्वाइकल ट्रेक्सन इस पद्धति में रोगी की गर्दन पर  उपकरण की सहायता से दबाव डालकर ऊँगलियों की सहायता से मसाज की जाती हैं.


२.लम्बर ट्रेक्सन इस प्रणाली में  कूल्हे के ऊपरी हिस्सों में दबाव डालकर स्पाइनल को एक सीध में लानें का प्रयास किया जाता हैं.


० पंचकर्म क्या हैं


नोट- वैघकीय परामर्श आवश्यक
Svyas845@gmail.com






x

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी