सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

13 अचूक गुण अरहर के [ 13 Great Benefit of pigeon pea ]

13 अचूक गुण अरहर के [ 13 Great Benefit of pigeon pea ]

#1.परिचय :::

अरहर या तुवर (Tuvar) विश्वभर में खाई जानें वाली दलहन हैं,यह शाकाहारी लोगों के लियें प्रोटीन प्राप्ति का उत्तम स्रोंत हैं.

अरहर या तुवर शुष्क क्षेत्रों में बहुतायत में बोई जाती हैं,इसका पौधा भूमि के लिये नाइट्रोजन स्थिरीकारक हैं.अरहर की दाल से अनेक व्यंजन बनायें जातें हैं.

भारतीय अरहर के औषधिय गुणों को वर्षों से पहचानतें हैं,यही कारण हैं,कि भारतीय भोजन अरहर की दाल के बिना अधूरा हैं.


#2.पोषणीय संगठन :::

कार्बोहाइड्रेट.     कैल्सियम.       फाँस्फोरस

  57.3%.             178mg.       376mg.  

 प्रोटीन.             खनिज लवण.      फायबर 

20.2%.               3.8%.                8.1%

  वसा              पानी                  आयरन

1.5%.            10.2%.               16.6%

 एनर्जी

383 mg.                               [प्रति १०० ग्राम]

अरहर के गुण
अरहर पर लदी फलियाँ

चने की खेती और उपयोग के बारें में जानें


#3.अरहर के गुण :::

१.कब्ज होनें पर छिलकेयुक्त अरहर को  उबालकर  रात के समय सेवन करते रहना चाहियें. इसमें उपस्थित फायबर आंतों की गहरी सफाई कर दूषित मल को बाहर निकाल देता हैं.

२.अर्श रोग में साबुत अरहर को उबालकर छाछ या दही के साथ कद्दूकस कर खानें से अर्श खत्म हो जाता हैं.

३. जब अरहर पौधे पर हरी अवस्था में होती हैं,उस समय इसे खानें से कुपोषण समाप्त होता हैं.

४.अरहर की दाल बनातें वक्त निकला छिलका उबालकर प्रसूता को खिलानें से दूध पर्याप्त मात्रा में आता है.

५.इसकी फलियों के छिलके में आयोडीन उपस्थित रहता हैं,अत :हायपोथाइराड़िज्म (hypothyroidism) से पीड़ित व्यक्ति को इसकी फली को चूसना चाहियें.

६.इसमें उपस्थित पानी डायरिया रोग की उत्तम रोकथाम करता है,साथ ही शरीर को  ऊर्जा प्रदान करता हैं.तुवर की दाल में घी मिलाकर सूप की तरह पीनें से रोगी जल्दी ठीक होता हैं.

७.हड्डीयों से संबधित समस्या जैसे हड्डी कमज़ोर होना,अस्थिभग्न होना आदि में तुवर दाल का सेवन फायदेमंद होता हैं.

८.अरहर की पत्तियों का पेस्ट बनाकर रोज मुहँ पर लगाते रहनें से रूखी त्वचा पर नमी आ जाती हैं.गोरी सुन्दर त्वचा हो जाती हैं.

९.गठिया रोग में अरहर खानें से हड्डीयों का दर्द कम हो जाता हैं.

१०.त्वचा रोगों में अरहर के पोधें को पीसकर उसमें नीम तेल मिलाकर लगानें से आराम मिलता हैं.

११.इसमें उपस्थित लोहा गर्भवती स्त्रीयों तथा एनिमिया ग्रसित व्यक्तियों के लियें बहुत फायदेमंद होता हैं,अत: तुवर दाल का सेवन इन लोगों को अवश्य करना चाहियें.

१२.मेनोपाँज की अवस्था में साबुत अरहर का सेवन शरीर में कैल्सियम का स्तर बनायें रखता हैं.

१३.अरहर रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं,अरहर में मौजूद जिंक मानव शरीर के लिए बहुत उत्तम रोग-प्रतिरोधक पदार्थ है, इसके लिये अरहर की दाल में अश्वगंधा पावड़र मिलाकर प्रतिदिन पीना चाहियें।


#4.आयुर्वेद ग्रंथों में अरहर के गुणों का वर्णन 


आयुर्वेद ग्रंथों में अरहर के गुणों के बारें में बहुत विस्तार से वर्णन हैं एक जगह लिखा हैं

आढकीकफपित्तन्घीवातलाकफवातनुत्।अवलगुज:सैडगजोनिष्पावावातपित्तला:।।काकाण्डोलात्मगुप्तानांमाषवत्फलमादिशेत्।द्धितीयोअयंशमीधान्यवर्ग:प्रोक्तोमहर्षिणा ।।

उपरोक्त श्लोक के अनुसार अरहर कफ और पित्त को नष्ट करनें वाली होती हैं,अरहर शरीर में वायु या गैस का प्रभाव बढा देती हैं, यह शरीर को पुष्ट करने वाली और पेट के लिए हितकारक मानी गई हैं । 

यह भी पढ़ें 👇









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह