सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीन संवर्धित फसल और हमारा स्वास्थ,Gm

जीन संवर्धित (Genitcally modified)


फसल क्या हैं ? :::


जीन संवर्धन या Genitacally modified फसलें ऐसी फसलें होती हैं,जो परंपरागत फसलों के मुकाबले अधिक कीट़रोधी,तापरोधी,सूखारोधी और बाढ़रोधी होती हैं, इन फसलों का उत्पादन भी सामान्य फसलों के मुकाबलें अधिक होता हैं.
ऐसा परिवर्तन इन फसलों के बीजों में डी.एन.ए.परिवर्तन के जरियें होता हैं.दुनिया में जीन संवर्धित फसलों की अनेक किस्में उगाई जा रही हैं जैसें -- भारत में कपास,अमेरिका(U.S.A) में कपास,मक्का,सोयाबीन,चुकंदर,पपीता,और आलू अर्जेंटीना(Argentina) में सोयाबीन,मक्का,कपास चीन(China) में पपीता,कपास बांग्लादेश(Bangladesh) में बैंगन अफ्रीका(Africa) में कपास और मक्का .
जीन संवर्धित फसल का फोटो
 Gm फसल का दृश्य

Gm फसलों का स्वास्थ पर प्रभाव :::



विश्व के अनेक विकसित और विकासशील देशों में Gm फसलों के स्वास्थगत एँव पर्यावरणीय प्रभाव को लेकर व्यापक शोध चल रहें हैं.लेकिन इन फसलों के स्वास्थ पर होनें वालें प्रभाव को लेकर शोधगत बातों की अपेक्षा आशंकापूर्ण बातें ज्यादा की जा रही हैं जैसे बीटी बैंगन को लेकर कहा जा रहा हैं,कि इससे शरीर की प्रतिरोधकता कम हो जाती हैं,और कैंसर, मधुमेह की संभावना बढ़ जाती हैं.




लेकिन इंडियन इंस्टीट्यूट आँफ साइंस के शोधकर्ताओं के अनुसार ये बातें भ्रामक और तर्कहीन तथ्यों पर आधारित हैं,


जिन देशों में बीटी बैंगन पैदा और खाया जा रहा हैं वहाँ इस तरह की कोई स्वास्थगत समस्या नही पैदा हुई हैं,बल्कि बीटी बैंगन खानें वाले लोगों का स्वास्थ उन्नत ही हुआ हैं बांग्लादेश जो कि बीटी बैंगन उगाता और खाता हैं के लोगों का स्वास्थ सूचकांक भारत,चीन और अफ्रीका के कई देशों से बेहतर हुआ हैं.


भारत लम्बें समय से बीटी काँटन उगा रहा हैं और इसके बीनोले से निकलने वाला तेल उपयोग कर रहा हैं,इसी प्रकार इससे बनने वाली खल पशु खा रहे हैं,क्या इसका कोई दुष्प्रभाव मनुष्य पर देखा गया हैं ? नही बिल्कुल नहीं बल्कि पशु स्वास्थ में सुधार ही हुआ हैं जिससे दूध और मांस की गुणवत्ता बढ़ी हैं,इसके फलस्वरूप भारत विश्व में दूध और मांस का अग्रणी उत्पादनकर्ता राष्ट्र बन गया हैं.


इसी प्रकार अमेरिका और कनाड़ा जैसें देशों में जीन संवर्धित मक्का मानव और पोल्ट्री दोनों के खाद्य पदार्थ के रूप में प्रयोग हो रही हैं, 


क्या इस मक्का को खानें वालें व्यक्तियों या मक्का खाकर बढ़े हुये पोल्ट्री उत्पादन खानें वालें व्यक्तियों पर इसका कोई दुष्प्रभाव देखा गया हैं ? नहीं बिल्कुल नही .


तो फिर जीन संवर्धित फसलों को लेकर इतनी हायतोबा क्यों ? विश्व स्वास्थ संगठन (w.h.o.)और विश्व सरकारों को चाहियें की जीन संवर्धित फसलों को लेकर पलनें वाली भ्रान्तियों का समाधान करें ताकि विश्व के अल्पविकसित और विकासशील राष्ट्रों में होनें वाली भूख और कुपोषण (malnutrition) से होनें वाली मौंतों पर अंकुश लगाया जा सकें.


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

यह भी आपके पढ़ने योग्य हैं 👇👇👇


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी