सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गाय 😊 स्वास्थ कृषि और पर्यावरण cow health agricultural and environment

गाय 😊 स्वास्थ कृषि और पर्यावरण cow health  agricultural and environment 

गोमाता
 गाय
दुनिया के आधे से अधिक राष्ट्र कृषि अर्थव्यवस्था
की प्रधानता वाले हैं, भारत भी अपनी कृषि प्रणाली के साथ सदियों से विश्व का सर्वप्रमुख राष्ट्र था,इसका मूल कारण रासायनिक नहीं बल्कि आर्गेनिक (organic) कृषि थी.

और इस आर्गेनिक खेती के मूल में गाय (cow) का स्थान प्रमुख था.आईयें जानतें हैं,किस प्रकार से गाय के योगदान से स्वास्थ,पर्यावरण और कृषि को उन्नत बना सकतें हैं.

#स्वास्थ्य :::

गाय का दूध अमृततुल्य होता हैं,ये बात सदियों से हमारी रिषी - मुनि कहतें आयें हैं,किन्तु हमनें इस बात को विस्मृत कर दिया और जब अनेक शोधों में यह बात प्रमाणित हुई तब हमनें इसको माना.


शोधों के अनुसार गाय के दूध में जो पीलापन होता हैं वह इसमें उपस्थित सोने की वज़ह से होता हैं. और आयुर्वेदानुसार सोना सुरक्षित और सुदृढ़ शरीर के लिये आवश्यक हैं.


यदि शिशु को 6 माह से प्रतिदिन 300 ग्राम दूध पिलाया जावें तो बालक कभी कुपोषित नही होगा.

गाय का दूध अन्य पशुओं के दूध के मुकाबले हल्का और सुपाच्य होता हैं,जिसकी वजह से ये तुरन्त शरीर द्धारा ग्रहण कर लिया जाता हैं, तथा ग्लूकोज की भाँति तुरन्त शरीर को ऊर्जा प्रदान करता हैं.

इसी प्रकार गाय के पंचगव्य से अनेक असाध्य बीमारियों का इलाज संभव हैं.जैसे यदि नियमित वैघकीय मार्गदर्शन में गौमूत्र Gomutra का सेवन किया जावें तो कैंसर, गठिया, lucoderma,मधुमेह, मोटापा ,pH level का असंतुलन जैसें सेकड़ों रोगों को जड़ से ठीक किया जा सकता हैं.


काउ योग cow yoga

पश्चिमी देशों में काउ योग बहुत तेजी से लोकप्रिय हो रहा है ।‌‌‌‌इस योग को गायों के चारागाह में गायों के बीच किया जाता हैं । काउ योग के माध्यम से डिप्रेशन माइग्रेन, मिर्गी,का बहुत प्रभावी इलाज किया जाता हैं ।

#पर्यावरण और कृषि :::


गाय पर्यावरण मित्र पशु हैं,गाय कभी चारें को जड़ से उखाड़कर नहीं खाती हैं,जिससे भू - क्षरण और मिट्टी कटाव की समस्या नहीं होती हैं.

रासायनिक कीट़नाशकों ने न केवल कृषि को बर्बाद किया हैं,बल्कि पर्यावरण और किसानों की आर्थिक हालात को भी प्रभावित किया हैं.

यदि इन किट़नाशको की बजाय गौमूत्र से निर्मित आर्गेनिक कीट़नाशक का प्रयोग कृषि में किया जावें तो न केवल पर्यावरण संतुलित रहेगा बल्कि फसलों के मित्र पक्षी और किसान की जेब भी सुरक्षित रहेगी.

भारत दुनिया का प्रमुख खाद आयातक राष्ट्र हैं,तथा प्रतिवर्ष अरबों रूपये भारत द्धारा विदेशो को खाद खरीदनें के लिये दिये जातें  हैं.

यदि हम किसानों को गाय पालन के लिये प्रोत्साहित कर उसके गोबर को खेत में डालनें का समुचित प्रशिक्षण दे तो किसानों का न केवल पैसा बचेगा वरन अनेक बीमारी से भी जनमानस बचा रहेगा,क्योंकि शोधों से प्रमाणित हुआ हैं,कि जिन फसलों में रासायनिक खाद और कीट़नाशकों का प्रयोग किया जाता हैं उनमें अनेक कैंसरकारक तत्व मोजूद रहते हैं. 

मृत्यु से अमरता की ओर विमर्श


देशी खाद और गौमूत्र युक्त कीट़नाशकों के प्रयोग से मिट्टी की जलधारण क्षमता बढ़ती हैं,और केचुएँ जैसें कृषि मित्र के लियें आदर्श आवास परिस्थितियों का निर्माण होता हैं.

दुनिया में प्रतिवर्ष चार करोड़ लोगों की मोंत वायु प्रदूषण की वज़ह से होती होती हैं,यदि हम छोटे़ किसानों को ट्रेक्टर के विकल्प के रूप में बैल आधारित टेक्नालाजी वालें उपकरण उपलब्ध करवानें में सफल हो गये तो पर्यावरण संरक्षण के साथ खेती की लागत कम करनें में मदद मिलेगी.और लागत कम होनें से किसानों का मुनाफा बढे़गा जो अन्तत : किसान आत्महत्या को रोकेगा.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी