सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mushroom मशरूम एक उपयोगी पौधा

 Mushroom कुकुरमुत्ता एक उपयोगी पौधा :::


आपनें बरसात के मौसम में पेड़ों,कुड़े - कचरें के ढ़ेर के ऊपर या भूसे  पर सफेद,मट़मेला या पीलापन लिये छतरीनुमा मखमली पौधा अवश्य देखा होगा, यही पौधा मशरूम कहलाता हैं.मशरूम की किस्में mashrum ki kishme भी कई होती हैं जो भारत और दुनिया भर में उगती हैं, परन्तु खाद्य फसल के रूप में सीप मशरूम या oyster mushroom अत्यन्त लोकप्रिय हैं. oyster mushroom की  भी अनेक किस्में दुनियाभर में उगाई जाती हैं.जैसे भारत में प्लूटोरस सजोरकाजू,चीन में प्लूटोरस एबोलनस तथा प्लूटोरस सिस्टीडिओसस,यूरोप में प्लूटोरस औस्ट्रिएटस प्रमुख हैं.
कुकुरमुत्ता
 Oyster mushroom

मशरूम में पाए जाने वाले पोषक तत्व :::



थायमीन.          | 4.8 mg

राइबोफ्लेविन    | 4.7 mg

नियासीन.         | 108 .8 mg

कैल्सियम.        | 34 mg

फाँस्फोरस.       | 1347 mg

सोड़ियम.         | 837 mg

पोटेशियम.       | 3793 mg. 

                       (per 100 gm mushroom)


इसके अतिरिक्त मशरूम में पर्याप्त मात्रा में पानी,लगभग 9 प्रकार के अमीनों एसिड़ खनिज़ लवण,  फ्रक्टोज ,कार्बोहाइड्रेट,साइलोसाइबिन कंपाउँड़ और प्रोटीन पायी जाती हैं.


•मशरूम के फायदे  :::

#थकावट (fatigue) में ::

यदि सम्पूर्ण शरीर पर्याप्त मात्रा में भोजन लेनें के बाद भी थका हुआ लगता हैं, चेहरा निस्तेज और कांतिहीन लगता हो तो सुबह के नाश्ते में मशरूम सोयाबीन के साथ लें दिनभर तरोताजा महसूस करेगें.इसके अलावा मशरूम को सुखाकर पावड़र बना ले इस पावड़र को चाय काँफी या दूध में एक चम्मच ड़ालकर पीतें रहें.

#हार्मोंनल समस्याओं में :::


यदि स्त्रीयों में मासिक धर्म की अनियमितता हो,शरीर पर अनचाहे बाल आ गये हो,थायरड़ कम या ज्यादा होता हो,पुरूषों में शुक्राणु की कमी हो तनाव रहता हो तो नियमित रूप से आलिव आइल के साथ मशरूम का सेवन करतें रहें,सारी समस्याओं में बहुत फायदा होगा.

#ह्रदय (heart problem) रोगों में :::


मशरूम में उपस्थित अमीनों एसिड़ शरीर में HDL कोलेस्ट्राल का स्तर बनाये रखतें फलस्वरूप ह्रदय रोग होनें की सम्भावना नहीं होती हैं.

#टाइफाइड (Typhoid)में :::


यदि टाइफाइड फीवर में दवाईयों के सेवन से भूख लगनें की इच्छा समाप्त हो गई हो,उल्टी की इच्छा बार - बार होती हो तो मशरूम को घी के साथ सेवन करवायें .इसके लिये इसकी सब्जी बनाकर खायें.

#कब्ज और अल्सर में :::

इसमें फायबर प्रचुरता में उपलब्ध रहता हैं,जिससे आंतो की बेहतर सफाई होती हैं.जो लोग कब्ज से परेशान रहते हैं उन्हे मशरूम सलाद के रूप में कच्चा सेवन करते रहना चाहियें.
यदि पेट़ में अल्सर हैं तो मशरूम रात को पानी में भीगोंकर सुबह इस पानी को पीयें,बचें हुये मशरूम को कोकोनट़ आइल के साथ सब्जी बनाकर खायें.

#पीलिया (jaundice)में ::


इसका ताजा रस निकालकर पीतें हैं,क्योंकि इसमें उपस्थित फ्रक्टोज और पानी लीवर में उपस्थित हानिकारक पदार्थों की सफाई कर शरीर को एनर्जी देता हैं.


#रक्तचाप (blood pressure) में ::


इसमें सोड़ियम और पोटेशियम प्रचुरता में पायें जातें हैं, जो रक्तचाप का संतुलन बनाते हैं.


#रोगप्रतिरोधक (immunity)क्षमता बढ़ानें में ::

मशरूम में सेलिनियम और एंटीऑक्सीडेंट तत्व शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं, इसके लिए मशरूम का एलोवेरा, आंवला के साथ मिलाकर रस निकाल लें और सुबह पीएं।

#अनिद्रा में :::

मशरूम में उपस्थित कैल्सियम गहरी नींद लाता हैं, इसके लिये मशरूम को रात को सोते समय सब्जी या सलाद की तरह ले .

#डीमेंसिया (Dementia) में :::

यदि स्मृतिलोप की समस्या हो,किसी का नाम तक भूल जातें हो तो मशरूम को मिस्री और आंवला मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे रोटी या ब्रेड़ के साथ मक्खन की तरह सेवन करें.मलाया यूनिवर्सिटी में हुए शोध के अनुसार जो लोग नियमित रूप से मशरूम का सेवन करतें हैं उनके दिमाग में ग्रे मेटर का स्तर बढ़ा हुआ रहता है यह ग्रे मेटर मस्तिष्क को स्वस्थ रखता है जिससे डिमेंशिया का खतरा कम हो जाता है।


#मानसिक अवसाद में :::


ब्रिट़ेन के इंपीरियल कालेज में मशरूम पर हुये शोध में पता चला कि इसमें मौंजूद साइलोसाइबिन कंपाऊँड़ मानसिक अवसाद होनें की संभावना नगण्य कर देता हैं.

मानसिक अवसाद से बचनें के लियें कच्चें मशरूम का सेवन स्वादानुसार नमक मिर्च मिलाकर किया जा सकता हैं.



मशरूम की प्रकृति शीत होती हैं अत : एलर्जी, अस्थमा ,और शरीर शीत प्रकृति का होनें पर वैघकीय परामर्श अवश्य लें.









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी