सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रोस्टेट कैंसर क्या है prostate cancer

 

प्रोस्टेट कैंसर क्या हैं :::




प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer) पुरूषों के प्रजनन तंत्र से सम्बधित बीमारी हैं.जो प्रोस्टेट ग्लेंड़ को प्रभावित करती हैं.यह बीमारी धीरें - धीरें बढ़ती हैं,और बढ़ती उम्र के साथ इसका खतरा अधिक बढ़ जाता हैं.इस बीमारी से सम्पूर्ण विश्व में मरने वालो का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा हैं.इसका अन्दाजा इस बात से लगा सकतें हैं,कि जितने भी प्रकार के कैंसर होते हैं उनमें प्रोस्टेट कैंसर का प्रतिशत लगभग 25 हैं.
प्रोस्टेट कैंसर
prostate cancer affected cells
         

कारण :::


० टेस्टोस्टेराँन हार्मोंन का असंतुलित होना.


० शारिरिक गतिविविधियों में कमी.


० मोटापा.


० उच्च वसायुक्त खाद्य पदार्थों का लगातार सेवन


०  बीमारी का आनुवांशिक रूप से स्थानानंतरण.


० हार्मोंनल दवाईयों का अनियमित रूप से प्रयोग


० आक्सीटोसीन हार्मोंन युक्त दूध या माँस के लगातार प्रयोग से.


० तम्बाकू, शराब के सेवन से.


० डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों और लाल मांस का अत्यधिक सेवन.


लक्षण :::



० बार - बार पेशाब होनें के साथ तीव्र दर्द.


० खून मिश्रित पेशाब होना.


० पेशाब की धार या urine Flow का कम होना.


० पीठ के निचले हिस्सों में दर्द.


० हड्डीयों में कडापन आना जिससे शरीर थका,और चेहरा कांतिहीन लगता हैं.


० योन सुख का आनंद नहीं ले पाना.


० पैरों में सूजन होना


० भूख नहीं लगना



० वीर्य में खून आना

प्रबंधन :::




प्रोस्टेट कैंसर की पहचान शुरूआती स्तर पर हो जावें तो रेडियोथेरेपी,हार्मोंन थेरेपी(harmone therapy) द्धारा प्रभावी लाभ होता हैं,और बीमारी खत्म हो जाती हैं,किन्तु द्धितीय और तृतीय स्तर का कैंसर का उपचार करना असंभव सा हो जाता हैं.इसलिये प्रत्येक व्यक्ति जो 45 उम्र पार कर रहा हैं,अपने स्वास्थ के प्रति सजगता बरतें और पीएसए (prostate specific antigen test) करवाते रहें.



• लेप्रोस्कोपिक सर्जरी बेस्ट होती हैं या ओपन सर्जरी




बीमारी की आनुवांशिकता होनें पर  व्यायाम और यौगिक क्रियाओं जैसे कपालभाँति, मण्डूकासन करतें रहना चाहियें. भोजन में ओमेगा 3 फेटीएसिड़, एन्टी आक्सीडेन्ट,विटामिन E, युक्त आहार और हरी पत्तियों वाली सब्जी का नियमित सेवन करें.इसके अलावा हमेशा सकारात्मक,प्रसन्न और शांत रहें.


मैदा, अधिक शक्कर,जंक फ़ूड और शराब से दूर रहें ।

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////



यह भी पढ़े 👇👇👇






३ तुलसी


४.पलाश वृक्ष के औषधीय गुण




० शास्त्रों में लिखे तेल के फायदे




० अमरुद में पाए जाने वाले पौषक तत्व


/////////////////////////////////////////////////////////////////////////




























टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट