सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रोस्टेट कैंसर क्या है। what is prostate cancer in hindi

प्रोस्टेट कैंसर क्या हैं। what is prostate Cancer in hindi

प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer) पुरूषों के प्रजनन तंत्र से सम्बधित बीमारी हैं.जो प्रोस्टेट ग्लेंड़ को प्रभावित करती हैं.यह बीमारी धीरें - धीरें बढ़ती हैं,और बढ़ती उम्र के साथ इसका खतरा अधिक बढ़ जाता हैं.

प्रोस्टेट कैंसर से सम्पूर्ण विश्व में मरने वालो का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा हैं.इसका अन्दाजा इस बात से लगा सकतें हैं,कि जितने भी प्रकार के कैंसर होते हैं उनमें प्रोस्टेट कैंसर का प्रतिशत लगभग 25 हैं.
प्रोस्टेट कैंसर
prostate cancer affected cells
         

प्रोस्टेट कैंसर के कारण :::


० टेस्टोस्टेराँन हार्मोंन का असंतुलित होना.


० शारिरिक गतिविविधियों में कमी.


० मोटापा.


० उच्च वसायुक्त खाद्य पदार्थों का लगातार सेवन


०  बीमारी का आनुवांशिक रूप से स्थानानंतरण.


० हार्मोंनल दवाईयों का अनियमित रूप से प्रयोग


० आक्सीटोसीन हार्मोंन युक्त दूध या माँस के लगातार प्रयोग से.


० तम्बाकू, शराब के सेवन से.


० डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों और लाल मांस का अत्यधिक सेवन.

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण:::


० बार - बार पेशाब होनें के साथ तीव्र दर्द.


० खून मिश्रित पेशाब होना.


० पेशाब की धार या urine Flow का कम होना.


० पीठ के निचले हिस्सों में दर्द.


० हड्डीयों में कडापन आना जिससे शरीर थका,और चेहरा कांतिहीन लगता हैं.


० योन सुख का आनंद नहीं ले पाना.


० पैरों में सूजन होना


० भूख नहीं लगना



० वीर्य में खून आना

prostate Cancer का प्रबंधन :::


प्रोस्टेट कैंसर की पहचान शुरूआती स्तर पर हो जावें तो रेडियोथेरेपी,हार्मोंन थेरेपी(harmone therapy) द्धारा प्रभावी लाभ होता हैं,और बीमारी खत्म हो जाती हैं,किन्तु द्धितीय और तृतीय स्तर का कैंसर का उपचार करना असंभव सा हो जाता हैं.

इसलिये प्रत्येक व्यक्ति जो 45 उम्र पार कर रहा हैं,अपने स्वास्थ के प्रति सजगता बरतें और प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए psa test या psa test full form prostate specific antigen test करवाते रहें.

• इम्यूनोथेरेपी कैंसर उपचार की नई तकनीक

• लेप्रोस्कोपिक सर्जरी बेस्ट होती हैं या ओपन सर्जरी


बीमारी की आनुवांशिकता होनें पर  व्यायाम और यौगिक क्रियाओं जैसे कपालभाँति, मण्डूकासन करतें रहना चाहियें. भोजन में ओमेगा 3 फेटीएसिड़, एन्टी आक्सीडेन्ट,विटामिन E, युक्त आहार और हरी पत्तियों वाली सब्जी का नियमित सेवन करें.इसके अलावा हमेशा सकारात्मक,प्रसन्न और शांत रहें.


मैदा, अधिक शक्कर,जंक फ़ूड और शराब से दूर रहें ।

////////////////////////////////////////////////////////////////////////


/////////////////////////////////////////////////////////////////////////




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह