सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मनुष्य की प्रतिरक्षा प्रणाली immune system

मनुष्य की प्रतिरक्षा प्रणाली immune system

 प्रतिरक्षा तंत्र क्या हैं ?


मनुष्य शरीर अनेक जट़िल संरचनाओं का तंत्र हैं.ये संरचनाएँ एक दूसरे पर आश्रित रहकर कार्य करती रहती हैं.

वेसे तो मनुष्य शरीर के अन्दर और बाहर करोड़ों जीवाणु निवास करतें हैं ,इनमें से कुछ मनुष्य के मित्र होतें हैं,जबकि कुछ मनुष्य के लिये हानिकारक होतें हैं,इन हानिकारक जीवाणुओं से हमारा प्रतिरक्षा तंत्र निपटता हैं और इनको नष्ट कर शरीर को रोगों से बचाता हैं.

प्रत्येक व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता उसके स्वास्थ के अनुसार अलग - अलग होती हैं.


प्रतिरक्षा प्रणाली कैसे काम करती हैं ?


हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली दो प्रकार की होती हैं .


1.बाह्य प्रतिरक्षा प्रणाली  बाहरी रोगाणुओं से हमारी रक्षा करती हैं जैसें त्वचा पर पसीनें के माध्यम से बेक्टेरिया रोधी पदार्थ निकलतें रहतें हैं,जो अनेक हानिकारक बेक्टेरिया को नष्ट कर त्वचा की सुरक्षा करती हैं.


हमारें मुख की लार भी बेक्टेरिया को नष्ट कर हानिकारक जीवाणुओं को शरीर में प्रवेश करनें से रोकती हैं.इसी प्रकार नाक और फेफडों पर म्युकस का स्तर चढ़ा रहता हैं,जो रोगाणु तुरन्त नहीं मरतें वे म्युकस से चिपककर मर जातें हैं.


आँखों में 'लाइसोज़ाइम' नामक एन्जाइम होता हैं,जो प्रतिरक्षा कवच का काम करता हैं.


2. आंतरिक प्रतिरक्षा प्रणाली का जिम्मा हमारें शरीर की श्वेत रक्त कणिकाओं या lucocytes के पास होता हैं,ये ही शरीर की वास्तविक immune cells होती हैं.


ये दो प्रकार की होती हैं,B - lymphocytes जो कि Bone marrow में बनती हैं.और T - lymphocytes जो कि थाइमस में बनती हैं.जब बाहरी एण्टीजन शरीर पर आक्रमण करतें हैं तो B - lymphocytes antibody का निर्माण करती हैं,जो शरीर में आनें वालें antigen को नष्ट कर देती हैं.T - lymphocytes का प्रमुख कार्य उन कोशिकाओं को पहचान कर नष्ट करना होता हैं,जो अचानक असामान्य व्यहवार कर शरीर को नुकसान पहुँचाती हैं. जैसें कैंसर कोशिकाएँ.
हमारें शरीर पर संक्रमण की अवस्था में श्वेत रक्त कणिकाएँ उसी प्रकार से उस स्थान पर खींची चली आती हैं जैसें लोहे के पास चुम्बक खींचा चला आता हैं.


हमारें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर नयें - नयें शोध प्रतिदिन हो रहे हैं,जिसके अनुसार हमारा शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र  बाह्य कारकों जैसें प्रदूषण,अनियमित जीवनशैली, शराब ,अत्यधिक जंक फूड़ का इस्तेमाल से अपनी संरचना बदल कर बाह्य जीवाणुओं की अपेक्षा स्वंय के शरीर को दुश्मन मान लडनें लगता हैं,फलस्वरूप नयी-नयी बीमारीयाँ पैदा हो रही हैं,जैसे एलर्जी, अस्थमा, गठिया ( Rumetoid arthritis),चर्म रोग,मधुमेह,पर्किसंन,आदि .


प्रतिरक्षा प्रणाली को कैसें बढ़ायें ?



कुछ लोग एक जैसी परिस्थितियों में काम करतें हैं,इनमें से कुछ लोग स्वस्थ रहतें हैं,जबकि कुछ लोग अस्वस्थ हो जातें हैं,क्योंकि स्वस्थ व्यक्ति का प्रतिरक्षा तंत्र अस्वस्थ व्यक्ति की अपेक्षा मज़बूत होता हैं तो प्रतिरक्षा प्रणाली को कोंन मज़बूत करता हैं ? 


प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनानें के कुछ उपाय


० नियमित व्यायाम, योग,प्राणायाम,और सकारात्मक चिंतन.



० पर्याप्त मात्रा में पानी का स्तर शरीर में बनायें रखें .


० फास्ट फूड़़ की जगह fresh food लें.



० अँकुरित अनाज,फल,और सलाद का भोजन में समावेश.


० पर्याप्त नींद लेनें से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र मज़बूत होता हैं,और अच्छी गहरी नींद  खूब शारीरिक मेहनत से आती हैं.अत : खूब शारीरिक मेहनत करें.








टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट