सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शास्त्रों में लिखे तेल के फायदे जानकर हेरान हो जायेंगें Tel ke fayde jankar heran ho jayenge

तेल के फायदे

प्राचीन चिकित्सा पद्धति में तेल के माध्यम से व्यक्ति को निरोग रखा जाता था । ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण तेलों का वर्णन चरक संहिता में किया गया हैं आईये जानतें हैं इन तेलों के फायदे के बारें में , तेल के फायदे जानकर आप भी आश्चर्यचकित रह जायेंगे ।


तिल के तेल के फायदे :::




कषायानुरसंस्वादुसूक्ष्ममुष्णंव्यवायिच।   पित्तलंबद्धविण्मूत्रंन चश्लेष्माभिवर्द्धनम् ।।वातन्घेषूत्तमंबल्यंत्वच्यंमेधाग्निवर्धनम् तैलसं। तैलंसंयोगसंस्कारात्सर्वरोगापहंमतम्।।

अर्थात  तिल का तेल स्वाद में कषाय ,स्वादिष्ट और हल्का होता हैं । तिल के तेल के अणु बहुत सूक्ष्म होतें हैं जिससे यह शरीर के जिस अंग पर लगता हैं उस अँग के अंदर तक पहुँचकर फायदा पहुँचाता हैं ।

तिल
 तिल के तेल के फायदे

तिल का तेल गर्म प्रकृति का होता हैं इसके सेवन से पित्तवर्धन होता हैं । और भूख खुलकर लगती हैं ।


तिल का तेल मल और मूत्र को रोकता हैं अर्थात  इसके सेवन से मूत्राशय और मल संस्थान मज़बूत बनते हैं । 

कफ प्रकृति के लोग तिल का तेल सेवन करते हैं तो उन्हें सर्दी खाँसी आदि की समस्या नही होगी । 

तिल का तेल वात रोगों गठिया,जोड़ो का दर्द आदि को प्रभावी रूप से शमन करता हैं ।

तिल का तेल सेवन करनें से बल,बुद्धि और शरीर का तेज बढ़ता हैं । यह बुढ़ापा रोकता हैं ।


तिल का तेल जिस बीमारी की औषधीयों से   संतृप्त होता हैं उस बीमारी को नष्ट़ कर देता हैं ।

तिल के तेल को लिंग पर लगाकर मालिश करनें से लिंग से सम्बधिंत समस्त प्रकार की कमज़ोरी दूर होती हैं ।

 



ऐरण्ड़ तेल ::




ऐरण्ड़तैलंमधुरंगुरूशलेषमाभिवर्धनम् ।वातासृग्गुल्मह्रदरोगजीर्णज्वरहरंपरम् ।।

ऐरण्ड़ का तेल प्रकृति में भारी ,मधुर और कफ को बढ़ाता हैं ।

ऐरण्ड़ का तेल सेवन करनें से वातकारक बीमारीयाँ जैसें पेट में गैस,गठिया संधिवात आदि शांत होता हैं ।

ऐरण्ड़ तेल की मालिश या इसका निश्चित अनुपान   में सेवन पुरानें बुखार को नष्ट़ कर देता हैं ।

औषधीयों से सिद्ध ऐरण्ड़ तेल ह्रदयरोग ,शरीर की गाँठे तथा रक्तविकार की उत्तम औषधी माना गया हैं । 






सरसो का तेल ::


कटूष्णंसार्षपंतैलंरक्तपित्तप्रदूषणम् ।कफशुक्रानिलहरंकण्डूकोठविनाशनम् ।।



सरसो का तेल स्वाद में तीखा कटू और प्रकृति में गर्म होता हैं । इसके सेवन से कफ रोग समाप्त हो जातें हैं ।

त्वचा रोगों जैसें कुष्ठ खुजली में यह आरामदायक होता हैं ।

वायुविकारों को यह तेल तेजी से समाप्त करता हैं ।   




चिरोंजी का तेल ::





पियालतैलंमधुरंगुरूशलेषमाभिवर्धनम् । हितमिच्छन्तिनातयौष्ण्यातसंयोगेवातपित्तयो : ।।


चिरोंजी के तेल को पियाल का तेल भी कहतें हैं ,यह तेल ऐरण्ड़ तेल के समान मीठा और भारी होता हैं ।


चिरोंजी का तेल कफ की वृद्धि करनें वाला होता हैं । यह तेल न तो ज्यादा गर्म होता है और ना ही ज्यादा ठंडा होता हैं इसके इसी गुण के कारण यह औषधीयों के साथ मिलकर वात और पित्त को नष्ट़ कर देता हैं ।

 

अलसी का तेल ::



आतस्यमधुराम्लनतुविपाकेकटुकंतथा  । उषणवीर्य्यहितंवातरक्तपित्तप्रकोपनम् ।।


अलसी का तेल मीठा ,अम्लीय और कड़वा होता हैं । यह प्रकृति में गर्म और रक्तपित्त रोगों को बढ़ानें वाला और वातरोगों को नष्ट़ कर देता हैं । 



कुसुम का तेल :: 


कुसुम्भतैलमुष्णश्चविपाकेकटुकंगुरू ।विदाहिचविशेषेणसर्वरोगप्रकोपनम्।।



कुसुम का तेल गर्म प्रकृति का कटु ,और भारी होता हैं । यह सर्वरोगों को नष्ट़ कर देता हैं ।


उपरोक्त तेल अपने गुणों और प्रकृति के कारण आयुर्वेद चिकित्सा में बहुत लोकप्रिय हैं ।

तेल की मालिश करनें से ही इसके अधिक गुण प्राप्त होतें हैं । परंतु आजकल तेलों का सेवन करनें की प्रवृत्ति ही भारतवर्ष में प्रचलित हैं यही कारण हैं कि उच्च रक्तचाप ,ह्रदयरोग ,मधुमेह और अल्प जीवन प्रत्याशा  हमारे देश की राष्ट्रीय समस्या बन गई हैं ।
 

  प्रकृति अनुसार तैल की मालिश करनें से व्यक्ति बलशाली , निरोगी,बहुत श्रम करने के बाद भी  न थकनेवाला और दीर्घायु  प्राप्त करनें वाला  होता हैं।
   

० एड्स के बारें में जानकारी यहाँ दी गई हैं कृपया अवश्य पढ़े  


० बैंगन के फायदे


० सालिड़ बनों इंड़िया


० ह्रदयघात के प्रकार और उपचार


० पंचनिम्ब चूर्ण


० निर्गुण्डी


०१०० साल जीने की गारंटी


० आयुर्वेदिक औषधी सूचि


० बाजरा



० लक्ष्मीविलास रस नारदीय के फायदे




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह